Updated -

mobile_app
liveTv

 रात 12 बजे सूर्यदेव भरणी नक्षत्र में प्रविष्ट करने जा रहे हैं। 11 मई की शाम 06:13 तक यहीं पर वास करेंगे। सूर्य के घर बदलने का प्रभाव हर नामाक्षर और नक्षत्र वाले व्यक्तियों पर होगा। आईए जानें आपके नामाक्षर पर क्या शुभ प्रभाव पड़ेगा और अशुभता से बचने के लिए क्या करना होगा-


भरणी, कृतिका और रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक या जिनका नाम ल, अ, ई, उ, ए और व अक्षर से शुरू होता है, उन्हें 11 मई तक ज्वलंतशील चीजों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए अथवा उनका उपयोग करते हुए बेहद सतर्कता रखने की जरूरत है। यदि कोई नई प्रॉपर्टी लेने की सोच रहे हैं तो 11 मई तक इंतजार करें। सूर्य के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए 11 मई तक हर रोज सुबह घर के सभी खिड़कियां और दरवाजें खोल दें, जिससे सूर्य की सकारात्मकता घर में प्रवेश करेगी। कुछ देर के लिए सूर्य की रोशनी में भी बैठें।


मृगशिरा, आर्द्रा, पुनर्वसु और पुष्य नक्षत्र में जन्मे जातक या जिनका नाम व, क, घ, ङ, छ, ह और ड से आरंभ होेता है। उनके मिजाज कुछ बिगड़े-बिगड़े रहेंगे, बोरियत के चलते किसी काम में मन नहीं लगेगा। समय पर कोई भी काम पूरा नहीं कर पाएंगे। इस अशुभता से बचने के लिए रात को सोने से पहले अपने पिलो के पास 5 मूली या 5 बादाम रखें। सुबह शुद्ध होकर मूली-बादाम किसी भी धार्मिक स्थान पर रख आएं।

Searching Keywords:

whatsapp

Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.