Updated -

mobile_app
liveTv

नईदिल्ली(एजेंसी)।
पिछले तीन सालों में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री की तस्वीर ही बदल गई है। पूरी इंडस्ट्री का असेट अंडर मैनेजमेंट (्ररू) जहां 23.40 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 26.60 लाख करोड़ रुपए हो गया है। हालांकि इस दौरान ञ्जढ्ढ, ष्ठस्क्क, फ्रैंकलिन टेंपल्टन और निप्पोन म्यूचुअल फंड के ्ररू में भारी गिरावट दिखी है। जबकि स्क्चढ्ढ, ॥ष्ठस्नष्ट ढ्ढष्टढ्ढष्टढ्ढ प्रूडेंशियल के एयूएम में अच्छी खासी बढ़त दिखी है। इसी कड़ी में अब कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड पांचवें नंबर का सबसे बड़ा फंड बनने के करीब पहुंच गया है। कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड ने तीन सालों में बहुत ही बेहतरीन ग्रोथ हासिल किया है। इसका ्ररू 1.27 लाख करोड़ रुपए से 64 हजार करोड़ रुपए बढ़कर 1.91 लाख करोड़ रुपए हो गया है। जबकि इसी दौरान निप्पोन का एयूएम 40 हजार करोड़ घटकर 2 लाख करोड़ रुपए हो गया है। उस समय निप्पोन से कोटक 1.13 लाख करोड़ रुपए पीछे था। लेकिन अब यह निप्पोन से महज 9 हजार करोड़ पीछे है। फंड जानकारों का मानना है कि अगली कुछ तिमाही में कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड देश में पांचवां सबसे बड़ा म्यूचुअल फंड बन जाएगा। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एंफी) के आंकड़े बताते हैं कि म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में तीन सालों में अच्छी बढ़त दिखी है। आदित्य बिरला म्यूचुअल फंड का ्ररू इसी अवधि में 11 हजार करोड़ घटकर 2.38 करोड़ रुपए रह गया है। आंकड़ों के मुताबिक, फ्रैंकलिन टेंपल्टन का ्ररू तीन सालों में करीबन 24 हजार करोड़ घट कर 79 हजार 197 करोड़ रुपए रह गया है। हालांकि पिछले साल की तुलना में इसमें करीबन 34 हजार करोड़ की गिरावट एयूएम में आई है। डीएसपी म्यूचुअल फंड के ्ररू में 7 हजार करोड़ की कमी आई है और यह 82 हजार 285 करोड़ रुपए रहा है। हाल में आईपीओ लाने वाले यूटीआई म्यूचुअल फंड के ्ररू में कोई बढ़त नहीं हुई है। यह 1.55 लाख करोड़ रुपए पर ही स्थिर है। 

जिन फंड हाउस के एयूएम में अच्छी खासी बढ़ोत्तरी दिखी है उसमें एसबीआई म्यूचुअल फंड का एयूएम 2.33 लाख करोड़ से 1.87 लाख करोड़ बढ़कर 4.20 लाख करोड़ रुपए हो गया है।

ढ्ढष्ठस्नष्ट का ्ररू 44 हजार करोड़ बढ़ा

आईडीएफसी म्यूचुअल फंड का ्ररू इसी दौरान करीबन 44 हजार करोड़ रुपए बढ़कर 1.14 लाख करोड़ रुपए हो गया है। तीन साल पहले इसका एयूएम 69 हजार 590 करोड़ रुपए था। एचडीएफसी म्यूचुअल फंड का एयूएम 3.06 लाख करोड़ से 69 हजार करोड़ बढ़कर 3.75 लाख करोड़ रुपए हो गया है। जबकि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड का एयूएम इसी अवधि में 3.10 लाख करोड़ से 50 हजार करोड़ रुपए बढ़कर 3.60 लाख करोड़ रुपए हो गया है।

फ्रैंकलिन टेंपल्टन को सबसे बड़ा झटका उसकी हाल में डेट की 6 स्कीम बंद होने से हुई है। इस घटना के बाद निवेशकों ने पैसे निकालने शुरू कर दिए थे।

Searching Keywords:

facebock whatsapp