Updated -

mobile_app
liveTv

सैन फ्रांसिस्को। विश्व की दिग्गज सर्च इंजन कंपनी गूगल ने अपने कर्मचारियों से चीन के लिए विशेष रूप से विकसित हो रहे सर्च इंजन से जुड़ी जानकारी वाले दस्तावेज (मेमो) को डिलीट करने के लिए कहा है।

इस संबंध में कर्मचारियों को ई-मेल भेजा गया है। मेमो में सर्च इंजन से जुड़ी कई अहम जानकारियां हैं जो गूगल नहीं चाहता कि सार्वजनिक हों। सर्च इंजन से जुड़े इस प्रोजेक्ट का कोडनेम 'ड्रैगनफ्लाई' है।

ऑनलाइन न्यूज पोर्टल 'द इंटरसेप्ट' के मुताबिक, गूगल की चीन में विशेष सर्च इंजन लाने की योजना है। गूगल ने चीनी सरकार के कहने पर सर्च इंजन में कुछ खास तकनीकी बदलाव किये हैं। 

चीन में यूजर को सर्च करने से पहले सर्च इंजन में लॉग इन करना पड़ेगा। साथ ही यूजर राजनीति, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, लोकतंत्र, मानवाधिकार और शांतिपूर्ण प्रदर्शन जैसे शब्दों को ब्लॉक कर देगा यानि यूजर चीन के लिए संवेदनशील मुद्दों से जुड़ी जानकारी नहीं ढूंढ़ पाएगा।

अगर यूजर ऐसा करने की कोशिश करता है तो यूजर की सारी जानकारी चीनी सरकार के पास चली जाएगी। कई मानवाधिकार कार्यकर्ता ऐसे सर्च इंजन का विरोध कर रहे हैं। गूगल कर्मचारी भी इस संबंध में अपना विरोध दर्ज करा चुके हैं।

चीन ने 4000 से ज्यादा पोर्न साइट बंद की

चीन ने गत तीन महीनों में चार हजार से ज्यादा अश्लील और अन्य हानिकारक जानकारियों वाली वेबसाइट बंद कर दी हैं। वेबसाइट बंद करने के अभियान की शुरुआत मई में संयुक्त रूप से नेशनल ऑफिस अगेंस्ट पोर्नोग्र्राफिक और इललीगल पब्लिकेशंस ने की थी।

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News