Updated -

mobile_app
liveTv


नई दिल्ली। दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट दुनियाभर के अपने सभी रिटेल स्टोर्स बंद करने जा रही है। कंपनी ने हाल ही में इसकी घोषणा की। इस फैसले का मतलब यह भी है कि महामारी के कारण बंद हुए माइक्रोसॉफ्ट के 80 से ज्यादा रिटेल स्टोर्स अब दोबारा नहीं खुलेंगे। इनके बंद होने के बाद कंपनी की रिटेल टीम मेंबर्स कस्टमर्स सर्विस, सेल्स, ट्रेनिंग और सपोर्ट जैसी सर्विसेज से जुड़े रहें।  हालांकि कंपनी ने यह जानकारी नहीं दी कि रिटेल स्टोर्स कब से बंद होंगे।  माइक्रोसॉफ्ट ने बताया कि वे अब डिजिटल स्टोर्स पर फोकस करेगी। कंपनी का कहना है कि वह केवल उन चार जगहों के स्टोर्स को खुले रखेगी जिनमें अब प्रोडक्ट्स की सेल नहीं होती और इनका उपयोग केवल एक्सपीरियंस सेंटर के तौर पर ही होता है। 
छोटे कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों से मिल रहे रिकवरी के संकेत, एफएमसीजी कंपनियों ने शुरू की हायरिंग
नई दिल्ली। फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) कंपनियों और उनके भागीदारों ने छोटे कस्बों और ग्रामीण क्षेत्र में हायरिंग शुरू कर दी है। इसका कारण यह है कि इन क्षेत्रों में रिकवरी के संकेत दिख रहे हैं। हायरिंग प्रक्रिया देखने वाली कंपनियों रैंडस्टैड इंडिया और टीमलीज के अधिकारियों का कहना है कि एफएमसीजी कंपनियों ने ग्रामीण क्षेत्रों पर फोकस बढ़ा दिया है।  इसके विपरीत, ऑटो कंपनियों और उनके डीलर्स को हायरिंग की कोई जल्दी नहीं है। ऑटो सेक्टर में मई महीने में ट्रैक्टर को छोड़कर सभी वाहन सेगमेंट में बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है। ऑटो सेकटर में स्किल्ड मैनपावर की आवश्यकता होती है, जबकि एफएमसीजी मार्केट में सेमी स्किल्ड मैनपावर की हायरिंग होती है। ऑटोमोटिव स्किल्स डवलपमेंट काउंसिल के प्रेसीडेंट निकुंज सांघी ने कहा कि एफएमसीजी कंपनियों को स्किल्ड लोगों की जरूरत नहीं होती है, जबकि ऑटो डीलरशिप्स के लिए ये जरूरी हैं। निकुंज के मुताबिक, ऑटो सेक्टर दो से तीन सप्ताह में लोगों को नौकरी देने के लायक हो जाएगा।


 रैंडस्टैड इंडिया के यशाब गिरी का कहना है कि पिछले एक महीने में देश के कुछ हिस्सों में लॉकडाउन खत्म होने के बाद एफएमसीजी कंपनियां लोगों की हायरिंग कर रही हैं।

 एफएमसीजी कंपनियों की ओर से ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सेल्स और डिस्ट्रीब्यूशन से जुड़े लोगों की मांग की जा रही है। टीमलीज के सुदीप सेन का कहना है कि कंपनियां हायरिंग के समय छोटे कस्बों की जरूरतों को समझना चाहती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि रिवर्स माइग्रेशन और मनरेगा योजना के तहत फंड आवंटन में बढ़ोतरी के कारण एफएमसीजी कंपनियों ने हायरिंग तेज की है।

ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार बढऩे से खपत बढऩे की उम्मीद

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) का डाटा बताता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार बढऩे के कारण 21 जून को खत्म हुए सप्ताह में बेरोजगारी दर गिरकर 7.3 फीसदी पर आ गई है। हालांकि, इस अवधि में शहरी बेरोजगारी दर 11.2 फीसदी पर रही है। इन संकेतों से कंपनियों को ग्रामीण क्षेत्रों

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News