Updated -

mobile_app
liveTv

जयपुर टाइम्स
महाराजा विश्वेन्द्र सिंह का जीवन परिचय:-
पिता का नाम:- महाराजा सवाई ब्रजेन्द्र सिंह 
माता का नाम:- महारानी विदेह कौर 
जन्म तिथि:- 23 जून 1962
जन्म स्थान:- भरतपुर
शिक्षा:- मैट्रिक सैन्ट्रल स्कूल भरतपुर
पत्नि नाम:- श्रीमती दिव्या सिंह
विवाह की तिथि:- 15.02.1989
संतान:- 1 पुत्र, कु. अनिरूद्व सिंह
व्यसाय:- सामाजिक कार्यकर्ता
राजनितिक अनुभव:- 
1989-90, 1999-2004, 04-2009:- सदस्य नौंवी, तेरहवी एवं चौदहवीं लोक सभा
1993-98:- सदस्य, दसवीं राजस्थान विधानसभा
1994-95:- सदस्य पुस्तकालय समिति
1999-2004:- सदस्य, विज्ञान एवं प्रौद्ययोगिनी तथा पर्यावरण एवं वन संबधी स्थायी समिति, लोकसभा
2004, 2007-09:- सदस्य कार्मिक एवं जन अभियान तथा विधि एवं न्याय संबधी स्थायी समिति, लोकसभा
2014-15:- सदस्य, प्राक्कलन समिति ख
2016-18:- सदस्य, नियम समिति, विधानसभा
अन्य अनुभव:-1988-89 जिला प्रमुख, जिला परिषद भरतपुर
2001:- कोषाध्यक्ष, राजस्थान राष्ट्र भाषा प्रचार समिति
2003:- सदस्य जिला अकाल रात एवं समीक्षा समिति
2008:- सलाहकार मुख्यमंत्री राजस्थान सरकार
पसंदीदा  काम:- वन्य जीव संरक्षण को प्रोत्साहन देना
पसंदीदा खेल:- टेनिस एवं स्क्वैश
विदेश यात्रा:-इंग्लैण्ड, स्वीडन, नार्वे, स्पेन व जापान
स्थाई पता:- मोती महल भरतपुर
वर्तमान पदनाम:- 11 दिसम्बर 2018 को पन्द्रहवीं राजस्थान विधानसभा के लिए सदस्य निर्वाचित
केबिनेट मंत्री राजस्थान सरकार 24 दिसम्बर 2018
पर्यटन विभाग, देवस्थान विभाग
वर्तमान पता:- 18 डी सिविल लाईन, जयपुर
विश्वेन्द्र सिंह ऐसे सरल स्वभाव के धनी है जिनसे जनता कभी भी इनसे बिना किसी की पहल के कभी भी मिल सकती है। कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह भरतपुर के विकास में कोई कमी नही छोडगें। उन्होंने अभी से बंद पडे उद्योग जीईडब्ल्यू, डालमिया, चिनार और अन्य बंद पडे उद्योगों को खुलवाने के लिए पहल शुरू कर दी है एवं अन्य प्रदूषित मुक्त उद्योग धंधे स्थापित करने के लिए योजना बना रखी है। जिससे भरतपुर मे पैसा आयेगा और यहां के नव युवक युवतियों को स्थानीय स्तर पर स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध होगें जिससे बेरोजगारों को रोजगार के लिए बाहर जाना नही पडेगा। 
कैबिनेट मंत्री महाराज विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि संभाग स्तर के अधिकारी भरतपुर में लगाये जायेगें जिससे लोगों की जयपुर के चक्कर के नही लगाने पडे। उन्होंने कहा कि भरतपुर एनसीआर में शामिल तो कर लिया लेकिन भाजपा सरकार ने अभी तक एनसीआर का जो लाभ भरतपुर को मिलना चाहिये था वो नही मिला है जबकि एनसीआर के बराबर के टैक्स भरतपुर की जनता को चुकाने पड रहे है। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि चम्बल लिफट परियोजना गहलोत सरकार ने चालू की थी लेकिन भाजपा सरकार के आने पर इस योजना को खटाई में डाल दिया जिससे भरतपुर शहर व गांवो को पानी उपलब्ध नही हो पाया था। उन्होनें कहा कि 6 माह के अंदर कस्बे व गांवो के अंदर चम्बल का पानी पहुचाया जायेगा। इसके लिए चम्बल परियोजना के कार्य में तेजी लाई जायेगी। उन्होंने जल महलो और किले को पर्यटन के रूप में विकसित करने की बात कही। धार्मिक पर्यटन के रूप में डीग कांमा को भी गोवर्धन, वृंदावन, मथुरा की तरह ही विकसित किया जायेगा। 

Searching Keywords:


Notice: Undefined index: slug_name in /home/jaipurtimes/public_html/details.php on line 87
facebock whatsapp

Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.

Similar News


    Notice: Undefined variable: Cat_id in /home/jaipurtimes/public_html/details.php on line 244