Updated -

mobile_app
liveTv

ठगी की रकम 8.59 लाख, खाकी वर्दी व बोलेरो जब्त
जयपुर टाइम्स
जयपुर(कासं.)। राजस्थान पुलिस के सीआईडी अपराध शाखा की स्पेशल टीम ने शनिवार देर रात सिंधी कैम्प थाना पुलिस के सहयोग से एक होटल के कमरे में रुपये दुगने करने का झांसा देकर ठगी कर रहे गिरोह के 07 जनों को रंगे हाथों पकड़ लिया। पकड़े गये बदमाश भवानीमण्डी झालावाड़ निवासी शिव शंकर पाटीदार (55), रामानन्द पाटीदार (30), सतीश बैरवा (29), नेपाल सिंह (32), धीरज सिंह (27) एवं राहुल नाथ (20) तथा मलसीसर झुंझुनूं निवासी विकास वर्मा (39) है। गिरोह के लोग फर्जी पुलिसकर्मी बन लोगो से लाखों रुपये की ठगी करते है।  गिरोह से ठगी की रकम 8.59 लाख रुपये, पुलिस की वर्दी व एक बोलेरो भी बरामद की गई है। फिलहाल पुलिस गिरोह से पूछताछ कर रही है। गिरोह से राजस्थान के अन्य शहरों में की गई वारदातों के खुलासा होने की संभावना है।
      महानिदेशक अपराध  एम एल लाठर ने बताया कि क्राइम ब्रांच को राजधानी में ठगी करने वाले गिरोह के सक्रिय होने की सूचना मिली थी। इस पर आईजी क्राइम ब्रांच  वी के सिंह के निर्देशानुसार डीवाईएसपी  पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ के नेतृत्व में सीआई राम सिंह व हेड कांस्टेबल दुष्यंत सिंह की टीम गठित की गई। क्राइम ब्रांच की टीम ने तकनीकी सहायता व आसूचना संकलन कर सिंधी कैम्प थानाधिकारी जुल्फिकार अली व उनकी टीम का सहयोग ले ठगी के इतने बड़े रैकेट का खुलासा किया।
      लाठर ने बताया कि राज्य अपराध शाखा की स्पेशल टीम को सिंधी कैम्प इलाके के एक होटल में रुपये दुगना करने के नाम पर ठगी की सूचना पर स्थानीय पुलिस के सहयोग से होटल में दबिश देकर थाना हरमाड़ा इलाके के नीँदड गांव निवासी बाबू लाल सैनी के साथ करीब 9 लाख की ठगी कर रहे सभी ठगों को पकड़ लिया गया। पीडि़त बाबू लाल की रिपोर्ट पर थाना सिंधीकैम्प में मुकदमा दर्ज किया गया है।
यूं करते है ठगी की वारदात
पूछताछ में गिरफ्तार आरोपितों ने बताया कि गिरोह दो टीम बना कर काम करती है। पहली टीम पैसे वाले भोले भाले लोगों को तलाश कर उन्हें रुपये दुगना करने का लालच देती है। शुरुआत में कम रकम को दुगना कर शिकार को फंसाते है। विश्वास में लेकर बाद में लाखों रुपये की राशि दुगना करने के लिए एकांत जगह पर मंगाते है। जहां रुपये दुगना करने की इनकी प्रक्रिया के दौरान दूसरी टीम फर्जी पुलिसकर्मी बन पहुंचती है, जो सारी रकम लेकर पीडि़त को धमका कर भगा देते है।

Searching Keywords:

ठगी की रकम 8.59 लाख, खाकी वर्दी व बोलेरो जब्त
जयपुर टाइम्स
जयपुर(कासं.)। राजस्थान पुलिस के सीआईडी अपराध शाखा की स्पेशल टीम ने शनिवार देर रात सिंधी कैम्प थाना पुलिस के सहयोग से एक होटल के कमरे में रुपये दुगने करने का झांसा देकर ठगी कर रहे गिरोह के 07 जनों को रंगे हाथों पकड़ लिया। पकड़े गये बदमाश भवानीमण्डी झालावाड़ निवासी शिव शंकर पाटीदार (55), रामानन्द पाटीदार (30), सतीश बैरवा (29), नेपाल सिंह (32), धीरज सिंह (27) एवं राहुल नाथ (20) तथा मलसीसर झुंझुनूं निवासी विकास वर्मा (39) है। गिरोह के लोग फर्जी पुलिसकर्मी बन लोगो से लाखों रुपये की ठगी करते है।  गिरोह से ठगी की रकम 8.59 लाख रुपये, पुलिस की वर्दी व एक बोलेरो भी बरामद की गई है। फिलहाल पुलिस गिरोह से पूछताछ कर रही है। गिरोह से राजस्थान के अन्य शहरों में की गई वारदातों के खुलासा होने की संभावना है।
      महानिदेशक अपराध  एम एल लाठर ने बताया कि क्राइम ब्रांच को राजधानी में ठगी करने वाले गिरोह के सक्रिय होने की सूचना मिली थी। इस पर आईजी क्राइम ब्रांच  वी के सिंह के निर्देशानुसार डीवाईएसपी  पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ के नेतृत्व में सीआई राम सिंह व हेड कांस्टेबल दुष्यंत सिंह की टीम गठित की गई। क्राइम ब्रांच की टीम ने तकनीकी सहायता व आसूचना संकलन कर सिंधी कैम्प थानाधिकारी जुल्फिकार अली व उनकी टीम का सहयोग ले ठगी के इतने बड़े रैकेट का खुलासा किया।
      लाठर ने बताया कि राज्य अपराध शाखा की स्पेशल टीम को सिंधी कैम्प इलाके के एक होटल में रुपये दुगना करने के नाम पर ठगी की सूचना पर स्थानीय पुलिस के सहयोग से होटल में दबिश देकर थाना हरमाड़ा इलाके के नीँदड गांव निवासी बाबू लाल सैनी के साथ करीब 9 लाख की ठगी कर रहे सभी ठगों को पकड़ लिया गया। पीडि़त बाबू लाल की रिपोर्ट पर थाना सिंधीकैम्प में मुकदमा दर्ज किया गया है।
यूं करते है ठगी की वारदात
पूछताछ में गिरफ्तार आरोपितों ने बताया कि गिरोह दो टीम बना कर काम करती है। पहली टीम पैसे वाले भोले भाले लोगों को तलाश कर उन्हें रुपये दुगना करने का लालच देती है। शुरुआत में कम रकम को दुगना कर शिकार को फंसाते है। विश्वास में लेकर बाद में लाखों रुपये की राशि दुगना करने के लिए एकांत जगह पर मंगाते है। जहां रुपये दुगना करने की इनकी प्रक्रिया के दौरान दूसरी टीम फर्जी पुलिसकर्मी बन पहुंचती है, जो सारी रकम लेकर पीडि़त को धमका कर भगा देते है।

Searching Keywords:

facebock whatsapp