Updated -

mobile_app
liveTv

जयपुर टाइम्स
मुंबई (एजेंसी)। एक रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार बीएसई 500 कंपनियों का रिटर्न पिछले 16 साल के न्यूनतम स्तर पर है। इक्विटी रिटर्न का इस्तेमाल कंपनियों की पूंजी आवंटित करने की क्षमता को जानने के लिए किया जाता है। रिपोर्ट के आधार पर ब्रोकरेज फर्म ने लार्ज कैप सेगमेंट में एक्सिस बैंक, भारती एयरटेल, हिंदुस्तान यूनीलिवर, इंफोसिस और अल्ट्राटेक सीमेंट को सबसे बेहतर स्टॉक बताया है। इसी तरह, मिड कैप सेगमेंट में फेडरल बैंक, जेएसडब्ल्यू एनर्जी, टाटा कैपिटल, ट्रेंट और वोल्टास को बेहतर स्टॉक बताया है। 
वित्तीय वर्ष 2007 में उच्चतम था इक्विटी रिटर्न : मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2003 में इक्विटी रिटर्न 16.8 प्रतिशत पर था जो वित्त वर्ष 2007 में 22.9 प्रतिशत पर पहुंच गया था। इक्विटी रिटर्न और कमाई में बढ़ोतरी मार्केट कैपटीलाइजेशन को बढ़ाने के लिए अच्छे माने जाते हैं। 2008-09 में आई वैश्विक वित्तीय मंदी के बाद से बीएसई 500 कंपनियों के इक्विटी रिटर्न में गिरावट आ रही है। वित्तीय वर्ष 2019 में यह 9.5 प्रतिशत पर रही जो पिछले 16 साल का न्यूनतम स्तर है। 2008 में आई मंदी से मैक्रो और माइक्रोइकोनॉमिक स्थितियां खराब हुईं और इसमें गिरावट देखने को मिली। हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि पब्लिक सेक्टर बैंक, टेलीकॉम और ऑटो सेक्टर को छोड़कर बाकी में वित्त वर्ष 2015 से सुधार देखने को मिल रहा है।  
इक्विटी रिटर्न बताता है कि मैनेजमेंट शेयरहोल्डर की पूंजी का इस्तेमाल कैसे कर रहा : इक्विटी रिटर्न लाभ को जानने का एक तरीका है जिससे यह गणना की जाती है कि शेयरहोल्डर इक्विटी के एक रुपए के बदले कंपनी के लाभ में कितने रुपए कमाए। आमतौर पर इक्विटी रिटर्न को लाभ से ज्यादा कंपनी की क्षमता जानने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह बताता है कि कंपनी मैनेजमेंट शेयरहोल्डर की पूंजी का इस्तेमाल कैसे कर रहा है। दूसरे शब्दों में कहें तो ज्यादा इक्विटी रिटर्न कंपनी के लिए बेहतर माना जाता है।  

Searching Keywords:

facebock whatsapp