Updated -

mobile_app
liveTv

अगरतला। त्रिपुरा विधानसभा के लिए शनिवार को हो रही मतगणना में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शानदार प्रदर्शन करते हुए गठबंधन पार्टी इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के साथ मिलकर सरकार बनाने के लिए तैयार दिख रही है। इसके साथ ही वाममोर्चे का गढ़ त्रिपुरा भगवा रंग में रंगने जा रहा है। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा सिर्फ 1.5 फीसदी वोट ही बटोरने में कामयाब रही थी। लेकिन इस बार स्पष्ट बहुमत की ओर आगे बढ़ती दिखाई दे रही है और पार्टी के उम्मीदवार 60 सदस्यीय विधानसभा सीटों में से 32 सीटों पर आगे चल रहे हैं। 

हालांकि, चुनाव 59 सीटों पर ही हुए थे। माकर््सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के चारीलाम सीट से उम्मीदवार का 18 फरवरी को मतदान से एक सप्ताह पूर्व निधन होने की वजह से इस सीट पर चुनाव स्थगित हो गए थे। भाजपा की गठबंधन सहयोगी आईपीएफटी आठ सीटों पर आगे है। राज्य में बीते 25 वर्षो से सत्तारूढ़ वाममोर्चा 19 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। रुझानों के मुताबिक, भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन 40 सीटों पर जीत दर्ज कर सकता है, जो बहुमत की 31 सीटों से नौ ज्यादा है।
इस बार बीजेपी गठबंधन ने वोट शेयर में बड़ी बढ़त हासिल करते हुए 49.6 प्रतिशत वोट हासिल किए है। बीजेपी को खुद 42 फीसदी वोट मिले हैं, जबकि उसकी सहयोगी पार्टी पीपल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा को 8.5 फीसदी वोट मिले हैं। इस तरह दोनों दलों के गठबंधन को सूबे के करीब आधे वोटरों ने समर्थन दिया है। वहीं, कांग्रेस को 2013 के असेंबली इलेक्शन में 36 फीसदी वोट मिले थे, जो इस बार घटकर सिर्फ 2 फीसदी रह गया। 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में वाममोर्चे ने 50 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि बाकी बची 10 सीटों पर कांग्रेस जीती थी लेकिन इस बार कांग्रेस का खाता भी खुलता नहीं दिख रहा है।

राज्य में भाजपा की पहली जीत की संभावना को देखते हुए जश्न का माहौल है। अपनी सहयोगी आईपीएफटी के साथ मिलकर भाजपा पूर्वोत्तर भारत में असम, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश के बाद एक और राज्य पर कब्जा करने की ओर बढ़ रही है। राज्य में सत्तारूढ़ माकर््सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), भाकपा, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और निर्दलीयों सहित कुल 290 उम्मीदवार चुनावी मैदान में आमने-सामने हैं। इनमें कुल 23 महिलाएं भी हैं। राज्य में मतदान से एक सप्ताह पहले माकपा के उम्मीदवार रामेंद्र नारायण देबबर्मा के निधन के कारण चारीलाम सीट (जनजातियों के लिए आरक्षित) पर मतदान स्थगित कर दिया गया था, जहां 12 मार्च को मतदान होगा।

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News