Updated -

mobile_app
liveTv

नई दिल्ली। हजारों करोड़ रुपए के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले में सरकार के लिए बुरी खबर है। इस घोटाले के मुख्य आरोपी मेहुल चोकसी ने भारतीय नागरिकता छोड दी है। एबीपी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार उसने अपने भारतीय पासपोर्ट को एंटीगुआ उच्चायोग में जमा करवा दिया है। इसका मतलब यह हुआ कि मेहुल को अब भारत लाना केंद्र सरकार के लिए मुश्किल हो गया है। चोकसी ने पासपोर्ट नंबर जेड 3396732 कैंसिल्ड बुक्स के साथ जमा कराया गया है। नागरिकता छोडऩे के लिए चोकसी को 177 अमेरिकी डॉलर का ड्राफ्ट जमा करना पड़ा है।

इस संबंध में विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव अमित नारंग ने गृह मंत्रालय को जानकारी दी है। नागरिकता छोडऩे वाले फार्म में चोकसी ने अपना नया पता जौली हार्बर सेंट मार्कस एंटीगुआ लिखा है। चोकसी ने हाई कमीशन को कहा कि उसने नियमों के तहत एंटीगुआ की नागरिकता ली और भारत की नागरिकता छोड़ी है।

दरअसल, चोकसी भारतीय नागरिकता छोडक़र प्रत्यर्पण की कार्रवाई से बचना चाहता है। चोकसी की इस बाबत एंटीगुआ की कोर्ट में 22 फरवरी को सुनवाई है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने विदेश मंत्रालय और जांच एजेंसियो से मामले की प्रगति रिपोर्ट मांगी है।
चोकसी ने साल 2017 में ही एंटीगुआ की नागरिकता ली थी। मुंबई पुलिस की हरी झंडी के बाद चोकसी को नागरिकता मिली थी। पीएनबी घोटाला खुलने की भनक के बाद मेहुल चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी फरार हो गया था। घोटाले की जांच सीबीआई और ईडी कर रही है। दोनों की अब तक साढ़े चार हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की चल अचल संपत्ति जब्त की जा चुकी है। चोकसी और मोदी के खिलाफ आर्थिक भगोड़ा अधिनियम के तहत भी कार्रवाई की जा रही है।

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News