Updated -

mobile_app
liveTv

नईदिल्ली(एजेंसी)।
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में एक सप्ताह से भी कम समय बचा है। इससे पहले ही सोशल मीडिया कंपनियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। खबर है कि ट्विटर, फेसबुक और गूगल के सीईओ से पूछताछ की जाने वाली है। इन्हें सिनेट में बुलाया गया है।
रिपब्लिकन सांसदों का आरोप
जानकारी के मुताबिक, रिपब्लिकन सांसदों द्वारा आरोप लगाया गया है कि टेक कंपनियाँ कंजर्वेटिव विरोध की ओर झुकाव दिखाते हैं। अब उनसे पूछताछ की जाने वाली है। डेमोक्रेट पार्टी स्थानीय समाचारों पर कंपनियों के प्रभाव जैसे मुद्दों को शामिल करना चाहते हैं और इस पर चर्चा को आगे बढ़ाना चाहते हैं।सीनेट की कॉमर्स कमिटी ने ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी, फेसबुक के मार्क जुकरबर्ग और गूगल के सुंदर पिचाई को बुधवार को सुनवाई के लिए गवाही देने के लिए बुलाया है। समन के साथ धमकी दिए जाने के बाद अधिकारी दूर से अपीयर होने के लिए सहमत हो गए हैं।
टेक कंपनियों के खिलाफ शिकायतों की बौछार
चुनाव के माहौल में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व में रिपब्लिकन ने बड़ी टेक कंपनियों के खिलाफ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर शिकायतों की बौछार कर दी है, जिस पर वे जानबूझकर रूढि़वादी, धार्मिक और गर्भपात विरोधी विचारों को दबाने के सबूत के बिना आरोप लगाते हैं। विरोध तब शुरू हुआ जब इसी महीने फेसबुक और ट्विटर ने कंजर्वेटिव की ओर झुके हुए न्यूयॉर्क पोस्ट से डेमोक्रेटिक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन के खिलाफ एक राजनीतिक स्टोरी के प्रसार को सीमित कर दिया।
कहते हैं कि यह एक ऐसी स्टोरी थी जिसे किसी अन्य पब्लिकेशन ने प्रकाशित नहीं किया। इसे बाइडिंग के बेटे हंटर ने ई-मेल किया था। इसके बारे में कहा जाता है कि ट्रंप के सहयोगियों ने यह ईमेल कराया था। जब इस बारे में ट्रंप से मंगलवार को पत्रकारों ने पूछा तो उन्होंने कहा कि उनके विरोधी जो बाइडेन के 'भ्रष्टाचार' के खुलासे को दबाने की कोशिश कर रहे हैं। वे भ्रष्टाचार नहीं दिखाना चाहते हैं। ऐसा लगता है जैसे आप बाइडेन के साथ है। ट्रंप ने कहा कि यह पूरी तरह से भ्रष्टाचार है और हर कोई इसे जानता है। यह बहुत अनुचित है।


 क्या किसी ने भी कभी ऐसा कुछ नहीं देखा। यह प्रेस की स्वतंत्रता नहीं है, यह इसके विपरीत है।

सोशल मीडिया के दिग्गज जांच के घेरे में

चुनाव के बारे में गलत सूचना फैलाने के प्रयासों के लिए सोशल मीडिया के दिग्गज भी जांच के घेरे में हैं। ट्विटर और फेसबुक ने राष्ट्रपति के कंटेंट पर एक गलत सूचना लेबल लगाया है, जिसके करीब 8 करोड़ फॉलोअर्स हैं। ट्रंप ने वोट-बाय-मेल प्रक्रिया में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी की संभावना जताई है। मंगलवार से फेसबुक किसी भी नए राजनीतिक विज्ञापन को स्वीकार नहीं कर रहा है। हालांकि पहले बुक किए गए राजनीतिक विज्ञापन अगले मंगलवार को चुनाव बंद होने तक चल सकेंगे।

गूगल ने भी नए विज्ञापन बंद किए

यूट्यूब का मालिक गूगल भी चुनाव बंद होने के बाद राजनीतिक विज्ञापनों को रोक रहा है। ट्विटर ने चुनाव बंद होने के बाद सभी राजनीतिक विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगा दिया है। ट्विटर ने पिछले साल भी सभी राजनीतिक विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगा दिया था। मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) से पूछताछ के अलावा सांसद ऑनलाइन भाषण के लिए लंबे समय से लंबित पड़े कानूनी सुरक्षा की भी जांच करेंगे।

कंपनियों को जिम्मेदारी से भागने का मौका मिलता है

इसके बारे में दोनों दलों में आलोचकों का कहना है कि कंपनियों को निष्पक्ष रूप से उदारवादी सामग्री के लिए अपनी जिम्मेदारी से भागने का मौका मिल जाता है। टेक प्लेटफॉर्म ऑनलाइन न्यूज के गेटवे होते हैं। आलोचकों का कहना है कि विज्ञापन बाजार में टेक प्लेटफॉर्म की जबरदस्त उपस्थिति ने अमेरिकी समाचार उद्योग को कुचल कर रख दिया है।

Searching Keywords:

facebock whatsapp