Updated -

mobile_app
liveTv


जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली(एजेंसी)। अगर आप सोने की ज्वैलरी बनवाना चाहते हैं या गोल्ड में निवेश करना चाहते हैं तो ये समय सही हो सकता है। देश में कोरोना महामारी के बीच एक बार फिर सोना और चांदी महंगा होने लगा है। आज सोना 45 हजार के पास निकल गया है। 5 अप्रैल को सोना 257 रुपए महंगा होकर 45,176 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया है। वहीं अगर चांदी की बात करें तो ये 809 रुपए महंगी होकर 64,546 रुपए पर पहुंच गई है। बाजार में जब भी अनिश्चितता या अस्थिरता का माहौल बनता है तो सोना महंगा होता है। 5 मार्च को सोना 43,887 रुपए प्रति 10 ग्राम पर था। ऐसे में तब से अब तक सोना करीब 1,289 रुपए महंगा हो गया है। वहीं अप्रैल की बात करें तो 31 मार्च को सोना 44,190 रुपए पर था जो अब 45,176 रुपए पर है। यानी सोना 946 रुपए महंगा हुआ है। देश में सोने की खपत तेजी से बढ़ती जा रही है। पिछले साल की तुलना में इस साल मार्च में देश में सोने का इम्पोर्ट (आयात) 471 बढ़कर 160 टन हो गया है। ये सोने की बढ़ती मांग को बताता है। इस साल जनवरी-मार्च तिमाही में देश में कुल 321 टन सोने का आयात हुआ, जबकि पिछले साल इसी तिमाही में यह मात्र 124 टन था। भारत में हर साल 700-800 टन सोने की खपत है जिसमें से 1 टन का उत्पादन भारत में ही होता है और बाकी आयात किया जाता है। देश में सोने के इम्पोर्ट में 2020 में 344.2 टन रहा जो पिछले साल के मुकाबले 47त्न कम रहा। 2019 में ये 646.8 टन था।
कोरोना बढऩे का सोने के दाम पर होगा असर
पृथ्वी फिनमार्ट के डायरेक्टर मनोज कुमार जैन कहते हैं कि देश एक बार फिर कोरोना का कहर बढऩे लगा है ऐसे में साल के आखिर तक सोने के दाम 48 हजार रुपए पर पहुंच सकते हैं। इस ट्रेंड को इस तरह भी समझ सकते है कि मार्च की शुरुआत में सोना 44 हजार के नीचे आ गया था, लेकिन अब दाम एक बार फिर बढ़े हैं।
साल के अंत तक 50 हजार तक पहुंच सकता है सोना
केडिया एडवाइजरी के डायरेक्टर अजय केडिया के मुताबिक इस साल जून तक सोने का दाम 47 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम तक पहुंच सकता है। उन्होंने बताया कि सोना इस साल के आखिर तक 48 से 50 हजार के बीच रह सकता है। लेकिन अगर कोरोना मामलों में ज्यादा बढ़ोतरी है तो आने वाले दिनों में सोने के दामों में तेजी आ सकती है। सोने का भाव अगस्त 2020 में 56,200 रुपए के रिकॉर्ड स्तर पर भी पहुंचा था। 

उस समय कोरोना महामारी के कारण निवेशकों में डर का माहौल बना हुआ था। आमतौर पर देखा गया है कि जब भी शेयर बाजार में नुकसान की आशंका होती है और डॉलर की तुलना में अन्य मुद्रा कमजोर पडऩे की नौबत आती है, तो सोने के भाव में उछाल देखने को मिलता है, लेकिन वैक्सीन आने के बाद सोने की कीमतों में लगातार गिरावट देखी जा रही थी और ये एक समय 44 हजार के नीचे भी आ गई थी।

शेयर मार्केट में बढ़ी गिरावट
देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामलों ने सोमवार को शेयर बाजार का मूड बिगाड़ दिया। कई राज्यों में जगह-जगह लॉकडाउन से आर्थिक गतिविधियों पर भी असर पड़ा। नतीजा सेंसेक्स 870 पॉइंट गिरकर 49,159 बंद हुआ है। सेंसेक्स में शामिल 30 में से 25 शेयरों में गिरावट रही। निफ्टी भी 230 अंकों की गिरावट के साथ 14,637 पर बंद हुआ है।

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News