Updated -

mobile_app
liveTv

नई दिल्ली.(एजेसीं)। प्रियंका गांधी वाड्रा की सुरक्षा में तैनात एजेंसियों से घुसपैठ करने वाली गाड़ी को पहचानने में गफलत हुई थी। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और दिल्ली पुलिस ने घुसपैठ करने वाली गाड़ी को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और प्रियंका के भाई राहुल गांधी की कार समझ लिया था। हालांकि दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ दोनों ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध रखी है, लेकिन सूत्रों ने कहा- गाड़ी इसलिए बेरोक-टोक अंदर पहुंच गई, क्योंकि सुरक्षा टीमों ने इसे राहुल गांधी की कार समझा था।
     इस मुद्दे पर जहां राजनीति गर्मा रही है, तो वहीं दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ भी घटना के लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार बता रहे हैं। सीआरपीएफ सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने गाड़ी को अंदर आने की इजाजत दी, क्योंकि परिसर की सुरक्षा के लिए वही जिम्मेदार है। दूसरी तरफ, दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों का दावा है कि सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ जिम्मेदार है और उसकी टीम की मंजूरी के बाद ही वाहन को अंदर जाने दिया गया। पुलिस ने यह भी कहा कि अंदर तैनात सीआरपीएफ स्टाफ ने कार से बाहर निकलने पर भी यात्रियों की जांच नहीं की। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के कार्यालय ने सोमवार को सीआरपीएफ के पास इस घटना की शिकायत दर्ज कराई। शिकायत में कहा गया कि पिछले हफ्ते (नवंबर में) कुछ अज्ञात लोगों ने बिना इजाजत उनके घर में प्रवेश किया। इन लोगों ने प्रियंका गांधी के साथ सेल्फी खिंचवाने की मांग भी की। संसद में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा- इस मामले में तीन लोगों को निलंबित कर दिया गया है। वहीं, सीआरपीएफ भी घटना की जांच कर रहा है। सुरक्षा में चूक के मुद्दे पर उन्होंने कहा- सुरक्षाकर्मियों को सूचना मिली थी कि प्रियंका गांधी के घर राहुल गांधी आने वाले हैं। वह भी काले रंग की सफारी में सवार थे। यह एक संयोग था कि दोनों ही कारें एक ही रंग की थी, इसलिए यह घटना हुई। बावजूद इसके हमने जांच के आदेश दे दिए हैं। शाह ने बताया- एक ही समय में काले रंग की टाटा सफारी वहां पहुंचने पर सुरक्षाकर्मियों ने उसे नहीं रोका। गाड़ी बिना रोक-टोक के घर में प्रवेश कर गई।केंद्र सरकार ने हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा को दिए गए एसपीजी कवर को वापस ले लिया था। तीनों कांग्रेस नेताओं के सुरक्षा कवर की समीक्षा के बाद गृह मंत्रालय ने यह फैसला किया। सरकार ने उन्हें जेड प्लस सुरक्षा देने का फैसला किया है, जिसके तहत अब सीआरपीएफ के जवान गांधी परिवार के सदस्यों की सुरक्षा करते हैं।

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News