Updated -

mobile_app
liveTv

परम्परा निभाने के लिए मंदिर में ही होगे कार्यक्रम
भगवान की रथयात्रा पर भारी हुआ कोरोना 
जयपुर टाइम्स
राजगढ(निसं.)। जन-जन के आराध्य देव भगवान श्री जगन्नाथ जी महाराज की रथ यात्रा इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण नहीं निकल पाएगी किंतु पारंपरिक तौर पर भगवान श्री जगन्नाथ जी महाराज के सम्पूर्ण कार्यक्रम मुख्य मंदिर चौपड़ बाजार स्थित मंदिर पर होंगे। मंदिर मंहत पूरणदास व पंडित मदनमोहन शास्त्री ने बताया कि इस समय भगवान जगन्नाथ जी महाराज की सेवा पूजा अर्चना गर्भ गृह में की जा रही है। जेष्ठ शुक्ल पूर्णिमा को भगवान जगन्नाथ जी महाराज को पंचामृत और 108 कलशों से स्नान कराया जाता है। स्नान के पश्चात भगवान को ज्वर हो जाता है और उन्हें गर्भ गृह में प्रवेश करा दिया जाता है और 15 दिनों तक गर्भ गृह में उनका इलाज किया जाता है। काढा औषधि से भगवान का गर्भ गृह में इलाज किया जाता है। गर्भगृह में भगवान की पूजा अर्चना आदि की जाती है। आषाढ़ शुक्ला प्रतिपदा को भगवान जगन्नाथ जी गर्भगृह से बाहर आकर अपने भक्तों को दर्शन देते हैं। दिनांक 22 जून को भगवान जगन्नाथ जी गर्भगृह से बाहर निकलेंगे ओर इसी दिन भगवान जगन्नाथ जी महाराज का नेत्रोत्सव का कार्यक्रम होगा 22 जून को ही सायंकाल जानकी मैया द्वारा मंदिर में गणेश पूजन का कार्यक्रम होगा दिनांक 23 जून को भगवान जगन्नाथ महाराज को प्रात: 7:30 बजे कंगन डोरे का कार्यक्रम होगा और ठाकुर जी को कंगन डोरा बांधा जाएगा। तथा अलौकिक शृंगार किया जायेगा उसके पश्चात दीप पूजन का कार्यक्रम प्रात: 9:00 बजे होगा।

 लेकिन इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण भगवान जगन्नाथ जी की रथ यात्रा नहीं निकलेगी लेकिन पारंपरिक तौर पर ठाकुर जी के  सम्पूर्ण कार्यक्रम चौपड़ बाजार स्थित मंदिर पर ही होंगे
 

Searching Keywords:

facebock whatsapp