Updated -

घर में यदि टॉयलेट सही दिशा में हो, तो कई तरह की समस्याएं दूर हो जाती हैं। यह समस्याएं आपकी निजी जिंदगी से जुड़ी होती हैं। यदि आप इन जगहों से वास्तुदोष दूर करते हैं, तो आपकी यह समस्याएं दूर हो जाएंगी।

घर में टॉयलेट अगर वास्तु के लिहाज से सही जगह बनी हो, तो कई समस्याएं अपने आप ही दूर हो जाती है। इसलिए टॉयलेट को पूर्व-पश्चिम दिशा में नहीं बनवाना चाहिए।
टॉयलेट को अटैच नहीं बनवाना चाहिए। ऐसा करने पर घर में मानसिक तनाव और कई तरह की बीमारियां घर के किसी न किसी भी सदस्य को बनी रहती हैं।
बोरिंग को उत्तर-पूर्व या उत्तर दिशा में ही बनाएं। इससे घर के आर्थिक हालात सुधरेंगे। घर में समृद्धि लाने के लिए आप इस हिस्से में अंडरग्राउंड वॉटर टैंक भी बनवा सकते हैं।
यदि घर में पूजा घर और टॉयलेट्स बराबर में बने हुए हैं। यह वास्तु के हिसाब से बिल्कुल गलत है। इसे एक दूसरे के विपरीत ही बनवाएं।
घर के मंदिर में ऊर्जावान 91 ग्रिड पिरामिड रखना चाहिए। इसके अलावा मंदिर में मूर्ति का मुंह दक्षिण या पश्चिम की तरफ रखें, जबकि पूजा करते समय आपका मुंह पूर्व की तरफ होना चाहिए। बाथरूम में नमक का कटोरा रखें। इससे घर की नेगेटिव एनर्जी को ठीक करने में मदद मिलेगी।
रसोईघर की दीवार पर पूरब दिशा में एक बड़ा शीशा टांगने से घर में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां दूर होंगी। घर की बाहरी दीवार पर अष्टकोणीय शीशा इस तरह टांगें कि इसमें पेड़ों का अक्स दिखाई दे। इससे द्वार वेध दोष दूर होगा।
 

share on whatsapp

Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.

Give Us Rating :