Updated -

जम्मू कश्मीर
 
कश्मीर के मुस्लमानों ने एक हिन्दु पंडित का अंतिम संस्कार किया जिससे हिन्दु मुस्लिम एकता का संदेश दिया मिला हैं। कश्मीरी पंडित 
के अंतिम संस्कार का हिन्दु रिति रिवाज से सारा कार्य मुस्लिम समाज के लोगों ने किया और दाह संस्कार में करीब तीन हजार मुस्लिम समुदाय के लोग पहुंचे। 

राज्य के पुलवामा गांव के मुस्लिम समाज ने दुनिया में धर्म समानता को लेकर उदाहरण पेश किया हैं। पचास वर्ष के पंडित तेज किशन की मौत त्रिचल पुलवामा में हो गयी। तेज किशन डेढ़ साल पहले से लकवा नामक बीमारी से झूझ रहे थे। उनके हालात अधिक बिगडने के कारण बुधवार को श्रीनगर के अस्पताल ले जाया गया, जहां आज सुबह उन्होंने आखिरी सांस ली।

कश्मीरी पंडित तेज किशन की मौत होने की बात फैलते ही उनके घर पर स्थानीय मुस्लिम समाज के लोगों का जमावड़ा शुरू हो गया। उनके अंतिम संस्कार के कार्य का प्रबंधन भी मुस्लिम लोगो ने किया। 

उनके आवास पर मौजूद कश्मीरी पंडितों ने कहा सहायता के लिये मुस्लिम भाईयों का धन्यवाद करते हैं, हम उनके भाईचारे के इस जुनून को कभी नहीं भूलेंगे और अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने वाले मुस्लिमों ने कहा कि सभी पंडित हमारे भाई हैं। कोई भी नियम हमें अलग नही कर सकता।

स्थानीय लोगों से ​मिली जानकारी के अनुसार जब कश्मीर के पंडितों ने घाटी को छोड़कर जाना शुरू किया तो उस समय पंडित तेज किशन ने अपना पैतृक स्थान छोड़ने का फैसला लिया था। 

share on whatsapp

Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.

Give Us Rating :