Updated -

घर की छत से लगाई छलांग लेकिन ग्रील पर जा अटका चोर


जयपुर

दुर्घटना दिल्ली के चांदबाग जगह की है जहां एक शातिर चोर करीब रात के दो बजे एक घर में जा घुसा था तभी घरवाले जग गए जल्दबाजी में चोर गली में कूद गया इसी दौरान वह एक दीवार में लगी ग्रील से टकराकर घायल हो गया। आरोपी चोर को पुलिस ने दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया है। दिल्ली में एक चोर ने रात केे वक्त छत से छलांग लगाई और दीवार पर लगी ग्रील पर जा अटका। इतना ही नहीं ग्रील पर गिरने के कारण चोर बुरी तरह से घायल हो गया है। पुलिस ने चोर को गिरफ्तार कर लिया है।
 
गोकलपुरी पुलिस ने बताया की, आरोपी चारी को इलाज के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है। जिसकी पहचान मोहम्मद गुफरान उर्फ इकबाल के तौर पर हुई है। वह मुस्तफाबाद का रहने वाला है। आरोपी के पास से चोरी का मोबाइल बरामद हुआ है। चांद बाग के रहने वाले अफजल की पुलिस ने बताया कि वह रात परिवार के साथ सोए थे। रात करीब 2 बजे खटपट की आवाजें सुनकर आंख खुली। उन्होंने देखा कि एक युवक घर में घुसा था। शोर मचाने पर पड़ोसी के मकान में कूद गया। वहां से गली में कूदा, लेकिन नीचे एमसीडी स्कूल की ग्रिल में फंस गया। घुटने में ग्रिल लगने से वहीं चित पड़ गया। 

आज है साल का पहला सूर्य ग्रहण 

साल 2017 का पहला सूर्यग्रहण 26 फरवरी रविवार को पड़ने जा रहा है। इस सूर्यग्रहण को भारत, दक्षिण अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका, प्रशांत, अटलांटिक, और हिंद महासागर में देखा जा सकेगा। भारतीय समयानुसार यह सूर्यग्रहण शाम 5 बजकर 40 मिनट पर शुरू होगा और रात 10 बजकर 1 मिनट तक चलेगा। लेकिन रात होने की वजह से इसका पूरा नज़ारा देख पाना मुमकिन नहीं होगा। आइये जानते हैं सूर्यग्रहण से जुड़े कुछ सवालों के जवाब
कब होता है सूर्यग्रहण?
सूर्यग्रहण एक खगोलीय घटना है, और ये घटना तभी होती है जब चन्द्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच से गुजरती है। पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण अथवा आंशिक रूप से चन्द्रमा द्वारा ढका हुआ प्रतीत दिखाई देता है।
कितने तरह के होते हैं सूर्यग्रहण?
सूर्यग्रहण तीन तरह के होते हैं। पूर्ण सूर्यग्रहण, आंशिक सूर्यग्रहण और वलयाकार सूर्यग्रहण। पूर्ण और आंशिक सूर्यग्रहण का अर्थ नाम से ही स्पष्ट हो जाता है। अब हम आपको वलयाकार सूर्यग्रहण के बारे में बताते हैं। वलयाकार सूर्यग्रहण वो खगोलीय घटना है जब पृथ्वी का उपग्रह चांद पूथ्वी से काफी दूर रहने के बावजूद पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है। इससे पृथ्वी से सूर्य की जो तस्वीर उभरती है उसमें सूरज का बीच का हिस्सा भी ढका हुआ नज़र आता है। और सूर्य का बाकी हिस्सा प्रकाशित होने की वजह से सूर्य की कंगन या वलय के आकार की तस्वीर उभरती है, इसलिए इसे वलयाकार सूर्यग्रहण कहते हैं।
नंगी आंखों से सूर्यग्रहण देखना नुकसानदायक?
नंगी आंखों से सूर्यग्रहण देखना आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है। ग्रहण के समय सूर्य से निकलने वाली हानिकारक किरणें आखों को ज्यादा नुकसान करती हैं। इसलिए सूर्यग्रहण देखने के लिए काले धूप वाले चश्मे या एक्सरे का उपयोग करें।
भ्रांतियां : पुरानी मान्यताओं के मुताबिक ग्रहण के दौरान भोजन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा ग्रहण के बाद स्नान भी जरुरी होता है। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान घर से बाहर निकलने और ग्रहण को देखने पर पाबंदी होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण के दौरान दान करने से पुण्य मिलता है। हांलाकि इन सब मान्यताओं के पीछे कोई वैज्ञानिक कारण नहीं हैं लेकिन कई लोग आज भी इनका अनुसरण करते हैं। 
सूर्य ग्रहण का कैसा होगा प्रभाव
इस ग्रहण के बाद साल 2017 में दो और ग्रहण पड़ेंगे। जिसमें एक चंद्र और दूसरा सूर्य ग्रहण होगा। ज्योतिषीय गणना के अनुसार 7-8 अगस्‍त को हमें भारत में आंशिक चन्द्रग्रहण देखने को मिलेगा। इसे यूरोप, अफ्रीका, एशिया और ऑस्‍ट्रेलिया से देखा जा सकेगा। जबकि 21 अगस्‍त को पूर्ण सूर्य ग्रहण लगेगा।

150 वर्ष बाद फिर धधका उठा देश का एक मात्र ज्वालामुखी 

पोर्ट-ब्लेयर. भारत का एकमात्र जिंदा ज्वालामुखी फिर सक्रिय हो गया है। अंडमान और निकोबार द्वीप समुह क्षेत्र में पडऩे वाला देश के इकलौते ज्वालामुखी ने फिर से लावा उगलना शुरु कर दिया है। इससे पहले द्वीप पर वर्ष 1991 में 150 साल बाद ज्वालामुखी की सक्रियता देखी गई थी। अब वैज्ञानिकों ने फिर उसे लावा उगलते पाया है। गोवा स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओसनोग्राफी (एनआईओ) के शोधकर्ताओं ने कहा कि इससे राख निकल रहा है।
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वैज्ञानिक का कहना है कि यह ज्वालामुखी हर 5 से 10 मिनट की अवधि में भभक रहा है। जिससे इलाके में दिन के समय आसमान में केवल राख का गुबार ही दिखाई दे रहा है। इसके साथ ही जब सूर्यास्त हुआ तो वैज्ञानिकों ने देखा कि इसके क्रेटर से लाल लावे का फव्वारा फूटा और ज्वालामुखी की ढलान के साथ बहते हुए नीचे की ओर आने लगा।
वैज्ञानिक रख रहे हैं पैना नजर
इस संबंध में वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) और राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान (एनआईओ) ने एक संयुक्त बयान जारी किया है। इसमें कहा गया है कि अंडमान-निकोबार पर जिंदा ज्वालामुखी फिर से भड़क गया है। पोर्ट ब्लेयर से 140 किलोमीटर दूर उत्तर-पूर्व स्थित ज्वालामुखी 150 साल से शांत था, जो पहले 1991 में सक्रिय हुआ था और उसके बाद से इसमें रुक-रुक कर गतिविधि देखी जा रही है। अभय मुधोल्कर के नेतृत्व वाली एसआईआर-एनआईओ के वैज्ञानिकों की टीम ने बताया कि ज्वालामुखी फिर सक्रिय हुआ है और इससे धुआं तथा लावा निकल रहा है। एनआईओ ने कहा कि 23 जनवरी 2017 की दोपहर एसआईआर-एनआईओ के जहाज पर बैठे शोधकर्ताओं ने बैरन ज्वालामुखी के नजदीक समुद्र तल से उस वक्त नमूने लिए जब इससे अचानक राख निकलना शुरू हुआ।
पूरी तरह बंजर है यह द्वीप
यह बैरन (बंजर ) द्वीप दक्षिण एशिया का एकमात्र सक्रिय ज्वालामुखी है। तीन किलोमीटर में फैला बैरन द्वीप अंडमान द्वीपों का पूर्वी द्वीप है। यहां न कोई आबादी नहीं है और जंगल भी बहुत कम है। यहां नाममात्र के पशु-पक्षी ही देखे जाते हैं। इसके बारे में 1787 से रिकॉर्ड उपलब्ध हैं और तब से अब तक करीब 10 बार ज्वालामुखी फट चुके हैं। ज्वालामुखी वहां पाए जाते हैं जहां टेकटोनिक प्लेटों में तनाव हो या फिर पृथ्वी का भीतरी भाग बहुत गर्म हो।

नेपाल में मिला टाइगर श्रॉफ का हमशक्ल,सोशल मीडिया पर मचाई धूम...

सोशल मीडिया पर आये दिन कई तरह के वीडियो  देखने को मिलते रहते है। इनमें से कुछ ऐसे होते है जिन्हें देखकर हर कोई आश्चर्यचकित रह जाता है। बॉलीवुड के स्टंटमैन टाइगर श्रॉफ को उनका हमशक्ल मिल गया है। यूट्यूब पर एक लड़के का वीडियो वायरल हो रहा है जो बिल्कुल टाइगर श्रॉफ जैसा नजर आ रहा है...
ये नेपाल का है लड़का नेपाल का है और टाइगर श्रॉफ जैसा ही दिखता है। यह हमशक्ल टाइगर की ही एक फिल्म के गाने पर बिल्कुल उनकी की तरह ही अभिनय करता नजर आ रहा है। वह बिल्कुल टाइगर की तरह ही पानी से निकलता है और बिल्कुल टाइगर की तरह ही अभिनय करता है...
कोई भी इस वीडियो को देखकर आसानी से नहीं बता पाएगा कि यह टाइगर है या कोई और व्यक्ति है। ऐसे में इस लड़के ने अपना वीडियो बनाकर यूट्यूब पर शेयर किया है। इस वीडियो में वह फिल्‍म 'बागी' के गाने 'बिन तेरे...' पर परफॉर्म करता हुआ नजर आ रहा है। इस वीडियो को मॉडिफिकेशन धरन के नाम से एक फेसबुक पेज पर शेयर किया गया है...

वैलेंटाइन डे पर फिर छार्इ सोनम गुप्ता की बेवफार्इ, यहां दर्ज हुआ 'आशिकों का दर्द'

वैलेंटाइन डे पर फिजाओं में हर तरफ प्यार की खुशबू बिखरी है। प्रेम करने वाले लोग अपने मुलाकातों को यादगार बनाने के लिए पार्क या उद्यान के पेड़ पौधों पर अपने महबूब का नाम और प्यार की दास्तान लिख देते हैं। पेड़ों पर प्यार के इजहार के नजारे गुलाबी नगर में आम हैं, लेकिन इस बार प्रेम के इकरार के साथ बेवफाई के भी किस्से चर्चा में हैं।
बेवफाई भी कोई ऐसी वैसी नहीं बल्कि इंडिया फेमस सोनम गुप्ता की। जिन पेड़ पौधों पर प्रेमियों के नाम लिखें हैं, उन्हीं पर सोनम गुप्ता बेवफा है भी दर्ज है। 
आप देख सकते हैं कि प्रेम के इजहार के बीच कितने दिलस्प ढंग से सोनम गुप्ता की बेवफाई पेड़—पत्तों पर दर्ज हो गई है।
आपको याद हो कि सोनम गुप्ता की बेवफाई नोटबंदी के शुरूआती दौर में चर्चाओं में आई थी। सोनम गुप्ता बेवफा है का खुलासा पहले 10 रूपए के नोट पर हुआ था।
इसके बाद सोनम गुप्ता की बेवफार्इ बाद में 2 हजार रूपए के नोट तक पहुंच गई थी। 
नोटों पर सोनम गुप्ता की बेवफाई का असर ये हुआ कि इस नाम की कई लड़कियों की सगाई टूटने तक की खबरें आईं। 
बरहाल जयपुर के पेड़ पौधों पर प्यार के इकरार और इजहार के साथ सोनम गुप्ता की बेवफाई दर्ज हो गई। जो प्यार के इस मौसम का अलग रंग पेश कर रही है।
हालांकि कुछ वक्त बाद एेसी तस्वीरें भी आर्इं थीं। 

बजरंगबली से नाराज हैं इस गांव के लोग, नहीं करते पूजा

वैसे तो उत्तराखंड को देवभूमि कहा जाता है, जहां हिंदुओं के कई तीर्थ स्थल हैं, लेकिन इसी उत्तराखंड में ही एक गांव ऐसा भी है, जहां के लोग बजरंगबली से नाराज हैं और सदियों से इस गांव में हनुमान जी की पूजा नहीं जाती है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक रावण के साथ युद्ध के समय जब लक्ष्मण को शक्तिबाण लगा था और वे मूर्छित हो गए थे, तब उन्हें होश में लाने के लिए हनुमान जी संजीवनी पर्वत को उखाड़कर ले गए थे। दरअसल इसी घटना के कारण उत्तराखंड के द्रोणगिरी गांव के लोग आज भी नाराज हैं।  इस गांव में प्राचीन मान्यता है कि जिस स्थान पर फिलहाल यहां द्रोणगिरी गांव है, वहां पहले संजीवनी पर्वत का शेष बचा हुआ हिस्सा हुआ करता था, जिसे हनुमान जी उखाड़ कर ले गए थे। इस कारण गांव में हनुमान जी की पूजा नहीं की जाती है। गांव के लोगों ने सदियों से यहां हनुमान जी की पूजा करना भी छोड़ दिया है। गांव में ऐसी भी मान्यता है कि संजीवनी बूटी के लिए हनुमान जी ने संजीवनी पर्वत को खंडित कर दिया था, जिसे गांव वाले बड़ी आस्था के साथ पूजते थे। यहां गांव में आज भी जब परंपरागत जगर महोत्सव होता है, तो द्रोणगिरी पर्वत को देवप्रभात के नाम से पूजा जाता है। द्रोणगिरी पर्वत को देखने पर भी यही आभास होता है, जैसे दाहिनी भुजा उखाडकर खंडित कर दिया गया हो। गांववालों के अनुसार ये इस बात का प्रमाण है कि द्रोणगिरी पर्वत का अंग आज भी भंग है। यही कारण है कि हनुमान जी से नाराज गांव वाले आज भी जब रामलीला का आयोजन करते हैं, तो उसमें हनुमान जी को अनदेखा कर दिया जाता है।

रामलीला में सिर्फ रामलला का जन्म, भगवान राम की शादी और राज्यभिषेक को ही दिखाया जाता है। गांव में यह भी मान्यता है कि हनुमान यहां संजीवनी बूटी लेने के लिए छल से ब्राह्मण का वेश धारण करके आए थे और एक झटके में संजीवनी पर्वत को उखाड़कर ले गए थे। द्रोणगिरी पर्वत समुद्र की सतह से 11800 फीट की ऊंचाई पर बसा है। छल-कपट और आधुनिकता की चकाचौंध से दूर इस गांव तक पहुंचने के लिए जोशीमठ से जुम्माह तक लगभग 45 किलोमीटर की दूरी बस से तय करनी पड़ती है। इसके बाद आठ किलोमीटर की सीधी चढ़ाई चढ़नी होती है। सर्दियों में ये गांव बिलकुल खाली हो जाता है क्योंकि गांव के लोग निचले इलाके में लौट आते हैं। कई ग्लेशियर्स के पास बसे इस गांव के लोग जीवन-व्यापन के लिए पूरी तरह से प्रकृति पर निर्भर हैं।

 

नहीं है इन महिलाओं को नहाने की इजाजत, फिर भी मानी जाती हैं खूबसूरत

दुनिया में कई ऐसे आदिवासी क्षेत्र है जहां रहने वाले लोगों के रिवाज भी अनोखे होते हैं। अफ्रीका के नार्थ नामीबिया के कुनैन प्रांत में एक ऐसा ही आदिवासी समाज रहता है।यहां रहने वाले हिम्बा जनजाति की महिलाओं को नहाने की इजाजत नहीं है। फिर भी इन महिलाओं को अफ्रीका की सबसे खूबसूरत महिलाओं का दर्जा दिया जाता है।कुनैन प्रांत में रहने वाले हिम्बा जनजाति में कुल 20 हजार से 50 हजार लोग हैं। हिम्बा जनजाति की महिलाओं को अफ्रीका की सबसे खूबसूरत महिलाएं कहा जाता है। लेकिन आपको बता दें, कि इस जनजाति की महिलाओं को नहाने की इजाजत नहीं है। इतना ही नहीं, ये महिलाएं हाथ तक धोने के लिए पानी का इस्तेमाल नहीं कर सकती हैं। हालांकि, खुद को साफ-सुथरा रखने के लिए इन महिलाओं का अपना एक खास तरीका है।

 हिम्बा जनजाति की महिलाएं नहाने की बजाय खास जड़ी-बूटियों को पानी में उबालकर उसके धुंए से अपनी बॉडी को तरोताजा रखती हैं। वे ऐसा इसलिए करती हैं ताकि उनसे बदबू ना आए।  इन जड़ी-बूटियों की खुशबू की वजह से कभी ना नहाने के बाद भी उनके शरीर से बदबू नहीं आती है।  इस समाज की महिलाएं अपनी बॉडी स्किन को धूप से बचाने के लिए एक खास तरह का लोशन लगाती हैं। ये लोशन जानवर की चर्बी और हैमाटाइट के धूल से तैयार किया जाता है।  हैमाटाइट के धूल की वजह से उनके शरीर की त्वचा का रंग लाल हो जाता है।  ये खास लोशन उन्हें कीड़ों के आक्रमण से भी बचाता है।  इन महिलाओं को रेड मैन के नाम से भी जाना जाता है।

100 दिनों में इंसानी आबादी को खत्म कर सकते हैं जॉम्बी

लंदन। अगर काल्पनिक माना जाने वाल जॉम्बी वायरस फैला, तो वह सिर्फ 100 दिन में जॉम्बीज पूरी दुनिया पर कब्जा कर लेंगे और वह महज 300 लोगों की आबादी को ही छोड़ेंगे। यह बात एक नए अध्ययन में बताई गई है। ब्रिटेन में लीसेस्टर विश्वविद्यालय में किए गए अध्ययन के अनुसार, छात्रों ने माना कि यदि एक जॉम्बी एक व्यक्ति को रोजाना अपना शिकार बनाता है और उसके संक्रमित होने के 90 फीसद मौके हों, तो 100 दिन में महज 273 लोग ही शेष बचेंगे। टीम ने छात्रों के जर्नल ऑफ फिजिक्स स्पेशल टॉपिक्स में अपने शोध के निष्कर्ष दिए हैं। उन्होंने काल्पनिक जॉम्बी वायरस के प्रसार की जांच की। महामारी वाले इस मॉडल में बताया गया है कि यह बीमारी पूरी आबादी में फैलती है।  मॉडल में आबादी को तीन श्रेणियों में बांटा गया है। पहला, जिनके संक्रमित होने की आशंका है, दूसरे वे जो संक्रमित हैं और तीसरे वे जो या तो मर गए हैं या ठीक हो गए हैं।लीसेस्टर के भौतिकी और खगोल विज्ञान विभाग में प्राध्यापक मर्विन रॉय ने कहा, कि हर साल हम छात्रों से जर्नल ऑफ फिजिक्स स्पेशल टॉपिक्स पर शॉर्ट पेपर्स लिखने के लिए कहते हैं। इससे छात्रों को अपने रचनात्मक पक्ष को दिखाने और भौतिकी की समझ का उपयोग करने का मौका मिलता है।

 

8 साल की बच्ची दे रही क़ुरान की तालीम !

लंदनः 8 साल के किसी बच्चे के लिए एक अच्छी-ख़ासी मोटी किताब पढ़कर ख़त्म करना एक बेहद मुश्किल काम है, लेकिन ल्युटॉन की एक 8  साल की मुस्लिम बच्ची मारिया असलम ने पूरा क़ुरान ही ज़बानी याद कर रखा है और अब वो दूसरों को क़ुरान की तालीम देती हैं । मारिया ने 5 साल की उम्र से क़ुरान पढ़ना शुरू किया था।

मारिया असलम को 'इजाज़ा' से नवाज़ा गया है।इजाज़ा से नवाजे जाने का मतलब हुआ कि उन्हें पाक किताब को याद करने और उसे सुनाने में महारत हासिल है। क़ुरान में 114 चैप्टर और 75000 शब्द हैं। सोशल मीडिया पर मारिया के प्रशंसकों की लंबी तादाद है। अब मारिया ऑनलाइन ट्यूटोरियल शुरू करने जा रही हैं।मारिया इस बारे में कहती हैं, "मैं बहुत ख़ुश हूं. मेरे ऊपर एक बड़ी ज़िम्मेदारी दी गई है।मैं अपनी योग्यता के मुताबिक़ इसे पूरा करने की भरपूर कोशिश करूंगी। "

मारिया कहती हैं, "एक मुस्लिम होने के नाते हमें क़ुरान पढ़ना होता है इसलिए मैंने क़ुरान पढ़ना शुरू किया. मुझे यह आसान लगा और इसके बाद मैंने इसे याद करना शुरू किया." मारिया की अम्मी के लिए यह फ़ख़्र की बात है. मारिया को इस मुक़ाम तक पहुंचाने में उनका हमेशा साथ रहा है। मारिया को पहले से ही फ़ेसबुक पर तकरीबन 90,000 लोग फॉलो करते हैं।दर्जनों लोग क़ुरान को समझने के लिए उनसे नियमित रूप से संपर्क करते हैं। 
 

OMG!यहां लाश से करवाई जाती है शादी

बीजिंग:दुनिया भर में अजीबोगरीब शादियों के बारे में सुना होगा।लेकिन एेसी शादी के बारे में आप पहली बार सुनेंगे।दरअसल चीन के ग्रामीण इलाकों में भुतिया शादी का प्रचलन है।इस खौफनाक शादी में दुल्हन की लाश को कब्रिस्तान से निकाल कर कुंवारे लड़के से शादी करवाई जाती है।

इस खौफनाक शादी में दुल्हन की लाश को कब्रिस्तान से निकाल कर कुंवारे लड़के से शादी करवाई जाती है।ये प्रथा चीन में 3000 सालों से चल रही है।लेकिन इस प्रथा की शिकार कब्र में दफन महिलाएं हो रही हैं।ऐसा इसलिए क्योंकि चीन में शादीशुदा मृत महिलाओं के शव की बोली लगाई जाती है।
एक रिपोर्ट के अनुसार एक मृत महिला के शव की कीमत 20 हजार डॉलर तक पहुंच गई है।लेकिन हाल में ही एक मृत महिला के परिजनों ने इस शादी के लिए लड़के वालों से करीब एक लाख 80 हजार युआन(18 लाख रुपए) लिए। इस प्रथा को चीन की सरकार गैरकानूनी घोषित कर चुकी है।लेकिन इसके बावजूद भी लोग चोरी छुपे इस भुतिया शादी को करवा रहे हैं।

ब्वायफ्रैंड को बर्थडे विश करने के लिए टॉपलैस हुई ये मॉडल

वॉशिंगटनः 19 साल की रियलिटी स्टार और मॉडल काइली जेनर ने बहुत अनोखे अंदाज से अपने ब्वायफ्रैंड को बर्थडे विश किया है। उन्होंने ब्वायफ्रैंड Tyga और अपनी कुछ बोल्ड व सैक्सी फोटोज शेयर की हैं।  शेयर की गई फोटोज में काइली टॉपलैस  नजर आ रही हैं। उन्होंने सिर्फ ट्राऊसर पहन रखा है। साथ में उनके ब्वायफ्रैंड Tyga भी हैं। Tyga एक अमेरिकी रैपर हैं। दूसरी तस्वीरों में काइली काफी मोहक शॉट्स देती हुई नजर आ रही हैं। 

काइली जेनर ने हाल ही में अपना कैलिफोर्निया हिडन हिल्स में स्थित तकरीबन 40 करोड़ रुपए का मैंशन फैन्स को दिखाया। बता दें कि ये मैंशन 7000 स्क्वेयर फुट एरिया में फैला है। इस मैंशन में 6 लग्जरी बैडरूम हैं। काइली के पास 17 करोड़ रुपए से भी ज्यादा कीमत का मैंशन लॉस एंजिलिस में भी है। यह मैशन तकरीबन 4900 स्क्वेयर फुट एरिया में फैला है।  

इस टॉयलेट में जाने के लिए 2-2 घंटे लाइन में लग रहे लोग, लगता है 1000 रुपए चार्ज

न्यूयॉर्कः दुनियाभर में शनिवार (19 नवंबर) को वर्ल्ड टॉयलेट डे मनाया गया था। लोगों ने इस दिन को खास तरीके से मनाने के लिए 18 कैरेट गोल्ड से बने टॉयलेट का इस्तेमाल करना चाहा। आलम यह रहा कि सोने से बने इस टॉयलेट के लिए लोगों को 2-2 घंटे तक लाइन में लगना पड़ा। दरअसल यह टॉयलेट न्यूयॉर्क के मैनहेटन में पॉपुलर Guggenheim म्यूजियम में स्थित है।

एक अनुमान के मुताबिक, इसे बनाने में करीब 1 मिलियन डॉलर से 1.7 मिलियन डॉलर (6.8- 11 करोड़ रुपए) का खर्च आया है। जिस रैस्टरूम में इसे रखा गया है वहां पहले चीनी मिट्टी की बनी टॉयलेट सीट रखी हुई थी। बाद में उस रैस्ट रूम में ही इस गोल्ड सीट को रखकर यूनिसैक्स टॉयलेट बना दिया गया। म्यूजियम में रखे इस गोल्ड टॉयलेट को आम लोगों के तैयार किया है।

म्यूजियम की टिकट लेकर अंदर जाने वाला कोई भी शख्स इसका इस्तेमाल कर सकता है। इसका यूज करने के लिए 15 डॉलर (लगभग 1000 रुपए) की एंट्री फीस लगती है, हालांकि इसके लिए लोगों को करीब 2 घंटे तक इंतजार करना पड़ रहा है। टॉयलेट के लिए अलग से एक सिक्योरिटी गार्ड तैनात किया गया है, इसके अलावा एक सफाई कर्मचारी भी हर समय मौजूद रहता है जो हर इस्तेमाल के बाद इसकी सफाई करता है

कमियों के बावजूद इतनी फेमस हैं ये सुपरमॉडल्स

नई दिल्ली:फैशन इंडस्ट्री की चकाचौंध से कौन वाकिफ नहीं, सभी यही सोचते हैं कि इस दुनिया में सिर्फ खूबसूरती ही काम आती है लेकिन अब एेेसा बिल्कुल नहीं है।अब लुक्स से ज्यादा आपका कॉन्फिडेंस और लाइफ के प्रति पॉजिटिविटी इम्पॉर्टेंस रखती है।आज हम आपको ऐसी ही कुछ महिलाओं के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने अपनी कमियों के बावजूद फैशन इंडस्ट्री में काफी नाम कमाया है। 

-चैंटेले ब्राउन यंग या फिर विन्नी हर्लो, इस सुपरमॉडल को आप किसी भी नाम से पुकार सकते हैं।दरअसल विन्नी विटिलिगो नाम की बीमारी से ग्रस्त थी,जिसके कारण उनके स्किन का कलर दो शेड्स का हो गया लेकिन उसने अपनी लाइफ में कभी हार नहीं मानी और आज ये सुपरमॉडल दुनिया के टॉप ब्रांड्स के लिए मॉडलिंग करती हैं। 

- मेलानी गेडॉस भी एेसी सुपरमॉडल हैं जो एक एेसी बीमारी से ग्रस्त है जिससे लोगों के बाल और एडल्ट दांत ग्रो नहीं कर पाते।इस बीमारी का नाम एक्टोडर्मल डिस्प्लासिया है। 

- जिलियन मेरकैडो व्हीलचेयर पर होने के बावजूद भी आज टॉप सुपरमॉडल्स में गिनी जाती हैं।उन्होंने अपनी कमी को कभी अपनी सक्सेस के सामने आने नहीं दिया। 
 
- डिआंड्रा फोर्रेस्ट जो एल्बिनिस्म से पीड़ित थी जिसके चलते उनका स्किन कलर दूसरों से काफी अलग दिखाई देता था।लेकिन डिआंड्रा ने हिम्मत नहीं हारी।आज डिआंड्रा कई ब्रांड्स के लिए मॉडलिंग कर रही है।  

- ब्रुनेट मॉफी जो अपनी लंबी कद-काठी और अपने फीचर के कारण काफी फेमस हैं।उनकी आंखों को लोग उनकी कमी समझते रहे,आज वो उसकी वजह से इतनी सक्सेसफुल हैं और आज वो काफी गर्व से कहती हैं कि उन्हें उनकी आंखें काफी पसंद हैं।  

-रेन डोव दुनिया की टॉप सुपरमॉडल्स में से एक हैं।दरअसल, रेन लड़की की तरह पैदा हुई थीं,लेकिन इनका लुक लड़कों की तरह था। बाद में यही कमी इनकी ताकत बन गई।अब रेन महिलाओं और पुरुषों की तरह मॉडलिंग करती हैं।

6 साल के बाद बिस्तर से उठा दुनिया का सबसे मोटा आदमी

मेक्सिकोः दुनिया के सबसे मोटे शख्स 32 साल के जुआन पेड्रो फ्रेंको का वजन 500 किलो है। पिछले 6 साल से अपने वजन के कारण बिस्तर पर पड़े जुअान काे कई तरह के उपकरणों की मदद से अाखिरकार बिस्तर से उठाया गया। अब वजन घटाने के लिए उनका मेडिकल इलाज शुरू किया गया है, जिसके लिए मंगलवार रात उन्हें एक विशेष गाड़ी से मेक्सिको के केंद्रीय हिस्से में स्थित क्लिनिक ले जाया गया। 

मेरी जिंदगी की नई शुरुआत
जानकारी के मुताबिक, जुआन क कहना है कि यह उनकी जिंदगी की एक नई शुरुआत है। वजन घटाने का जो मौका मुझे मिल रहा है, उसके लिए मैं बहुत आभारी हूं और भविष्य को लेकर मेरी काफी उम्मीदें हैं। वह जानते थे कि अपनी मौजूदा स्थिति और इतने ज्यादा वजन के कारण उनके मरने का खतरा काफी ज्यादा था। उन्होंने बताया कि 15 साल की उम्र में मेरा वजन 200 किलो हो गया था। इसके बाद मेरा वजन बढ़ता रहा और मेरे काबू में नहीं रहा। मैं काफी साधारण परिवार से हूं और मुझे पता नहीं था कि इस तरह के मोटापे को रोकने के लिए क्या किया जाए।

ठीक हाेने में लगेंगे करीब 6 महीने
8,000 से ज्यादा मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर जोस ऐंटिनो और उनकी टीम सामाजिक कल्याण कार्यक्रम के तहत डॉक्टर ऐंटिनो जुआन का इलाज करेंगे। पेड्रो को अस्पताल लाए जाने से पहले भी डॉक्टर ऐंटिनो उनसे मिलने गए थे। पेड्रो को मोटापे के अलावा इससे जुड़ी कई और दिक्कतें भी हैं। उन्हें टाइप 2 डायबीटीज़, हाइपरटेंशन, खून में ग्लूकोज की उच्च मात्रा और कुछ और मेडिकल तकलीफें हैं। जुआन के इलाज में तकरीबन 6 महीने का समय लगेगा। इस दौरान ना केवल उनका वजन कम किया जाएगा, बल्कि उनकी बाकी बीमारियों का भी इलाज किया जाएगा।

लड़की ने अपने शव को करवाया फ्रीज, कहा 'क्या पता 100 साल बाद फिर जाग जाऊं'

लंदन: मौत एक दिन सबको आनी यह बात तो अटल है इसलिए कई लोग मरने से पहले अपना शरीर दान कर देते हैं तो कई अपने परिजनों को उनकी डेड बॉडी संभाल कर रखने को कह जाते हैं। ब्रिटेन की 14 साल की लड़की की एक गंभीर बीमारी से मौत हो गई लेकिन जाते-जाते उसने एक अभूतपूर्व अधिकार हासिल कर लिया। शुक्रवार को लंदन की एक अदालत ने इस लड़की के शव को फ्रीज़ (बर्फ में जमा) करने के फैसले पर मुहर लगा दी। दरअसल मरने से पहले लड़की ने जज को एक चिट्ठी में लिखा था कि वह कैंसर से पीड़ित है और वह 'लंबा जीने' के लिए एक और मौका चाहती है।

पीड़ित लड़की ने काफी रिसर्च के बाद क्रायोनिक्स से गुज़रने का फैसला किया था जिसके तहत मौत के बाद व्यक्ति के शरीर को फ्रीज़ कर लिया जाता है ताकि भविष्य में मैडीकल प्रगति की मदद से शरीर को जिंदा करने की उम्मीद रहती है। लड़की ने जज को लिखे पत्र में कहा था कि 'मैं सिर्फ 14 साल की हूं और मैं मरना नहीं चाहती लेकिन मैं जानती हूं कि मैं मरने वाली हूं।' 'मुझे लगता है कि क्रायो प्रक्रिया मुझे ठीक होने और वापस उठने का एक और मौका दे सकती है, फिर उसमें 100 साल का समय ही क्यों न लग जाए।' पीड़ित ने कानूनी कार्रवाई के तहत अपनी मां को यह अधिकार भी दिया है कि आने वाले वक्त में अगर वह चाहे तो अपनी बेटी का अंतिम संस्कार कर सकती है।

वैसे इस फैसले में मां ने अपनी बेटी का साथ ही दिया है। हालांकि लड़की के माता पिता तलाक लेकर अलग रहते हैं। लड़की के पिता ने इस फैसले पर आपत्ति जताई थी। पिता ने फैसले पर कहा था कि 'अगर यह इलाज सफल हो जाता है और मेरी बेटी लौट आती है, मान लीजिए 200 साल बाद तो उसे कौन मिलेगा और उसे क्या कुछ याद भी रहेगा। कोर्ट ने लड़की के पक्ष में फैसला अक्तूबर में लिया था जिसके बाद उसकी मौत हो गई और अब उसके शव को क्रायो प्रक्रिया के लिए ले जाया जाएगा। फैसला लेने वाले जज पीटर जैकसन का कहना है कि यह अपने आप में एक अद्भुत आवेदन है जो इस देश में क्या दुनिया में पहले कभी भी नहीं दिया गया होगा। जैकसन ने कहा कि 'विज्ञान जिस तरह कानून के सामने नए नए सवाल खड़ा करता है यह उसी की एक मिसाल है।

OMG! 35 साल से गर्भ में पल रहा था बच्चा

अलजीरिया: दुनिया में गर्भावस्था से जुड़े कई अजीबोगरीब किस्से देखने और सुनने को मिलते हैं। लेकिन अलजीरिया में सामने आए इस किस्से को सुन आप हैरान रह जाए।दरअसल किसी भी महिला की गर्भावस्था महज आठ या नौ से साढ़े नौ महीने होती है।लेकिन अलजीरिया की एक महिला 35 साल तक गर्भवती रही।यह महिला 1981 में  गर्भवती हुई थी।लेकिन इस साल कुछ दिन पहले पेट में अचानक दर्द के चलते उसे अस्पताल में एडमिट कराया गया।

73 साल की इस महिला का अल्ट्रा साउंड करने के बाद उसके पेट में भ्रूण दिखाई दिया। डॉक्टरों ने उसका ऑप्रेशन किया और 35 साल 7 महीने से मां के गर्भ में पल रहे भ्रूण को निकाला।डॉक्टरों के मुताबिक यह दुनिया का पहला ऐसा मामला है।हालांकि जब डाक्टरों ने इस महिला की गोद में बच्चे को दिया तो उसका वजन उस समय 2 किलो था,लेकिन न तो वो पूर्ण विकसित था और न ही दुनिया में आने के बाद सांस ले पाया।

सर्जरी से बदली इस 'मॉन्स्टर' बच्चे की लाइफ

फिलीपींस:फिलीपींस की रहने वाली एंजल(4)अजीबोगरीब बीमारी ब्रेन हार्निया की शिकार थी।जिसके कारण एंजल को लोग मॉन्स्टर (दैत्य) कहकर पुकारते थे।इस बीमारी के चलते उसकी नाक काफी बढ़ चुकी थी जिसके कारण वो रो भी नहीं पाती थी।

एंजल की मां साइप्रस सैलोन ने बताया कि जन्म देने के बाद मेरी बेटी बिल्कुल रोती नहीं थी फिर उसे देखने के बाद मुझे इस बात का अंदाजा हुआ कि उसके न रोने के पीछे का क्या कारण है। हमने एंजल को इलाज के लिए कई अलग-अलग हॉस्पिटल में दिखाया। 

एंजल की मां ने बताया कि सर्जरी के लिए हमनें 4 लाख से ज्यादा रुपए इकट्ठे कर लिए,तभी हमें न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के कुछ डॉक्टर्स ने चिल्ड्रन फर्स्ट फाउंडेशन के बारे में बताया।फिर एंजल को इलाज के लिए ऑस्ट्रेलिया ले जाया गया, जहां एडिलेड वुमेंस एंड चिल्ड्रन हॉस्पिटल में डॉ. वाल्टर फ्लैपर ने उसकी सर्जरी की।4 घंटे तक चली सर्जरी ने उसकी लाइफ बदल दी।एंजल की मां ने बताया कि सर्जरी से जैसे मेरी बेटी की लाइफ बदल गई वैसे चिल्ड्रन फर्स्ट के बारे में हम लोगों को बता रहे हैं, ताकि किसी भी बच्चे का इलाज बेहतर ढंग से हो सके।

सोशल मीडिया में छाईं ये मां-बेटी, जानिए क्यों

वॉशिंगटनः  ऐसा अक्सर होता है कि बच्चे की शक्ल अपने पैरेंट्स से मिलती जुलती है, लेकिन बालों का एक मामला सामने आया है जो किसी करिश्मे से कम नहीं।

अमरीका के साउथ कैरोलिना में इन दिनों एक बच्ची मीडिया की सुर्खियों में है। दरअसल इसकी वजह उसके बाल हैं, जो जन्म से ही अपनी मां पर गए हैं।  इस बच्ची का नाम मिलीआना है, जो अब 18 महीने की हो चुकी है।

मिलीआना के बाल जन्म से ही मां ब्रिएना पर गए हैं, जो अब पूरी तरह से ब्रिएना की तरह हो चुके हैं। 23 साल की ब्रिएना भी जब पैदा हुई थीं, तब उनके बाल भी ऐसे थे। यानी कि माथे के ऊपर के कुछ बाल सफेद और बाकी काले।  इस मामले में आश्चर्य करने वाली बात यह भी है कि यह परिवार में यह अजूबा तीसरी बार हुआ है। मिलीआना उनकी मां ब्रिएना की तरह ब्रिएना की दादी के बाल भी जन्म से ऐसे ही थे।

इस बारे में ब्रिएना बताती हैं कि मेरी मेरी दादी के बाल भी ऐसे ही थे, जिसकी वजह से अब यह बायोलॉजिकल हो चुका है।  इसके चलते मुझे अपनी बेटी मिलीआना को देखकर आश्चर्य नहीं होता, बल्कि खुशी होती है। मैं अपने बालों को लेकर हमेशा से ही केयरफुल रही हूं और यही सीख बेटी मिलीआना को भी दूंगी।

भारत ने तोड़ा चीन का रिकॉर्ड

नई दिल्लीः मेरठ वासियों  ने  1391.5 मीटर लम्बी पेंटिंग बनाकर विश्व कीर्तिमान रचा दिया है। महानगर वासियोंं और सैंकड़ों किलोमीटर दूर से आए कलाकारोंं ने इस क्रांतिधरा को नए आयाम दे मेरठ का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करा लिया है। इससे पहले चीन के नाम था रिकॉर्ड गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकाॅॅर्ड पर्यवेक्षक ऋषि नाथ बताया कि इससे पहले चीन ने 2009 में ऐसा रिकाॅॅर्ड बनाया था, लेकिन आज उसका रिकाॅॅर्ड तोडते हुए भारत ने इस पेंंटिंग को बना कर इतिहास रचा है।

इस विश्व रिकॉर्ड प्रतियोगिता के लिए पर्यवेक्षक के तौर पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड की ओर से ऋषि नाथ ने अधिकारिक तौर पर आयोजकोंं को एक सर्टिफिकेट देकर इसकी औपचारिक घोषणा की।  मेरठ के माल रोड पर इस पूरी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। मेरा शहर मेरी पहल संस्था द्वारा आयोजित इस विश्‍व रिकॉर्ड पेंंटिंग कार्यक्रम में दूर-दूर से आए कलाकारोंं ने हिस्‍सा लिया ।

इसके लिए 6 माह में लगभग 2500 टेबल पर ये कैनवास बनाया गया। कैनवास पर रंग बिखेरने के लिए 3500 प्रतिभागियोंं ने अपनी कला उकेरी। इस दौरान पूरे आयोजन को देखने के लिए 550 एक्सपर्ट की टीम भी मौजूद रही। इस पूरे कैनवास को 14 हाउसोंं में बांंटा गया था।  
कार्यक्रम के दौरान युवाओं के एंटरटेनमेंट की भी व्‍यवस्‍था की गई थी। सेल्फी प्वाइंट पर कलाकार लोगोंं का मनोरंजन करने के लिए मौजूद रहे। सेना के पाइन डिवीजन के जीओसी खुद अपने परिवार के साथ  इस आयोजन में शािमल हुए।  

दुनिया की सबसे आलीशान सुरंग बनाई चीन ने

चीन करामात करने में वैसे ही माहिर है।ऐसा ही कुछ कर दिखया चीन ने। सिचुआन-तिब्बत राजमार्ग पर करीब 17  करोड़ लागत से दुनिया की सबसे बड़ी सुरंग बनाई करीब करीब पूरी कर ली है। 

इससे तिब्बत तक पहुंचने में दो घंटे कम समय लगेगा। सात किलोमीटर लंबी सुरंग समुद्र स्तर से 6,168 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जो चोल पर्वत की मुख्य चोटी से होकर गुजरती है। इससे सिचुआन प्रांत की राजधानी चेंगदु से तिब्बत के नगकु तक की दूरी में दो घंटे की कमी आ जाएगी। साथ ही,सर्वाधिक खतरनाक राजमार्ग से होकर गुजरने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। 

आपको बता दें कि 1951 में बना सिचुआन-तिब्बत राजमार्ग तिब्बत में चीन का पहला राजमार्ग है। हाल ही में चीन ने शीशे का पुल बनाकर दुनिया को चौंकाया था। 

कभी न जाना यमलोक दरवाज़े के नज़दीक

कई लोग ऐसे होते है जो भूत प्रेत यकीन करते है। कुछ लोगो इससे कुछ लेना देना नहीं होता। मगर काफी हद्द तक ये बाते सच होती है। तभी तो इसका सबूत भी हमे देखने को मिलता  है। वैसी ही एक भूतिया कहानी हमारे पास भी है जो हम आपको बताने जा रहे है। क्या कभी  आपने  जीते जी मौत के दरवाज़े का दर्शन किया है। 

चीन के स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत में दारचेन से 30 मिनट की दूरी पर यह जगह बसी हुई है, जो कैलाश जाने वाले मार्ग पर आती है। हिंदू मान्यता अनुसार इसे यमराज के घर का दरवाजा माना जाता है। आए दिन यहां अनहोनी घटनाएं होती रहती है, जिससे जुड़ा रहस्य अभी तक सुलझ नहीं पाया है। आज भी कई ऐसे रहस्य भी हैं, जिसे विज्ञान भी नहीं सुलझा पाया है।

भारत में ऐसे कई इलाके हैं जहां भूतों और प्रेतों की कहानियां प्रचलित है, वहां कई ऐसे रहस्य है जो कभी सुलझ नहीं सके।

अरे वाह, दाड़ी के बाल से बना डाली इतनी खूबसूरत Paintings

नई दिल्ली : मन में अगर कुछ करने की चाह हो तो कुछ भी किया जा सकता है, ऐसे ही अपने बुलंद हौसले के दम पर हिमाचल के धर्मशाला के मुकेश थापा ने दाड़ी के एक बाल से पेंटिंग करने का कीर्तिमान स्थापित किया है। एक बाल से पेंटिंग करने वाले हिमाचल के धर्मशाला के मुकेश थापा को इस पेंटिंग को तैयार करने में एक साल लग गया। खास बात तो यह है कि बाल से पेंटिंग करने वाले मुकेश थापा विश्व के पहले इंसान हैं जिन्होंने इस तरह का काम किया है।

जानिए पूरा मामला
जानकारी के मुताबिक दाढ़ी के बाल को एक लकड़ी के आगे फंसा कर पेंटिंग करने वाले मुकेश थापा का नाम विश्व की नौ एंजेसियों के पास दर्ज है। इतना ही नहीं एशिया बुक ऑफ रिकार्ड और इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में नाम दर्ज करवा चुके मुकेश थापा ने बताया कि वे अभी कई इंटरनैशनल पेंटिंग कंपीटिशन में भाग ले रहे हैं और अपने देश नाम रोशन कर रहे हैं।

एक साल में तैयार होती है पेंटिंग
मुकेश थापा ने बताया कि वे पिछले 24 सालों से पेंटिंग करते आ रहे हैं। बाल से पेंटिंग तैयार करने का काम बेहद परिश्रम से भरा हुआ है। कैनवस पर तेलीय रंगों से बनाई जाने वाली इस पेंटिग को मुकेश ने अपनी दाढ़ी के एक बाल से बनाया है।

इस लड़की की फोटोज हो रही हैं VIRAL, जानें क्याें?

बीजिंगः चीन में इन दिनों मिर्च बेचने वाली एक लड़की चर्चा में है। सोशल मीडिया पर उसकी तस्वीर काफी वायरल हो रही हैं। लोग इस लड़की के खूबसूरती की तारीफ करते हुए कमेंट कर रहे हैं कि गांव की यह लड़की कई मॉडल्स को टक्कर दे सकती है। फिलहाल यह लड़की किस गांव की है, यह पता नहीं चल सका है। 

पाकिस्तानी चायवाला बना मॉडल
बता दें कि हाल ही में नेपाल की सब्जी बेचने वाली लड़की और पाकिस्तान के चाय बेचने वाले लड़के की भी फोटोज वायरल हुई थीं। जिसके बाद पाकिस्तान का एक चायवाला अरशद खान सोशल मीडिया पर छाया हुआ था। लड़कियां उसे सुपरमॉडल बता रही थीं और फैशन एजेंसीज से उसे हायर करने की सलाह दे रही थीं। सोशल मीडिया पर फोटोज वायरल होते ही अरशद को कई टीवी शो और मॉडलिंग का ऑफर मिल गया।

शक के चलते काट दिया मादा अजगर का पेट, दिखा बेहद चौंकाने वाला नजारा

नाइजीरिया:दुनियाभर में कई अजीबोगरीब किस्से देखने और सुनने को मिलते हैं। एेसा ही एक किस्सा नाइजीरिया से सामने आया हैं।दरअसल यहां रहने वाले एक शख्स ने शक के चलते एक मादा अजगर को काट दिया और काटने के बाद उसने जो देखा वो आप इन तस्वीरों में देख सकते हैं।

जानकारी मुताबिक,नाइजीरिया में रहने वाले एक शख्स के घर से बछड़ा लापता हो गया था। उसने अपने बछड़े को कई जगह ढूंढने की कोशिश की लेकिन उसका बछड़ा नहीं मिला।तभी उसकी नज़र झाडियों में छिपे एक अजगर पर पड़ी तो उसके होश उड़ गए।उस आदमी को लगा कि वो अजगर ही उसके बछड़े को खा गया है।शक के चलते उसने अजगर को झाड़ियों से बाहर निकालने के लिए लोगों की मदद ली और अजगर का पेट काट डाला।लेकिन पेट काटने के बाद उसने और वहां मौजूद लोगों ने जो देखा वो बेहद चौंकाने वाला नजारा था।

अजगर का पेट काटने के बाद पता चला कि उसका पेट बछड़े को खाने की वजह से मोटा नहीं हुआ था,बल्कि वो एक मादा अजगर थी, जो जल्द ही बच्चों को जन्म देने वाली थी।गांव के लोगों ने मिलकर अजगर के पेट से अंडों को एक-एक करके नष्ट कर दिया।बता दें कि यह एक African Rock Python प्रजाति की मादा अजगर थी जो बकरी, हिरण यहां तक कि मगरमच्छ जैसे बड़े जानवरों को सीधा निगल सकते हैं।

महिलाओं को तलाक से बचाने के लिए यहां किया जाता है रेप

तलाक से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है जिसके बारे में आप जानकर हैरान रह जाएंगे। यहां एक शख्स महिलाओं को तलाक से बचाने के लिए उनका रेप करता है। 42 वर्षीय एक महिला ने अपने पति के दोस्त पर रेप का आरोप लगाया। औरत ने पुलिस में जो शिकायत दर्ज करवाई उसमें लिखा है कि उसका पति एक प्रॉपर्टी डीलर है और जुए का आदी है। एक दिन जुए में अपनी पत्नी को हार आया। जिसके बाद उसके दोस्त ने पत्नी का रेप किया।

आरोपी से जब इस सदंर्भ में पूछा गया तो उसने अपना अपने बचाव करते हुए कहा, मैं तो औरत का ‘हलाला’ यानी ‘निकाह हलाला’ कर रहा था। 

शरिया के अनुसार अगर एक पुरुष ने औरत को तलाक दे दिया है, तो वो उसी औरत से दोबारा तब तक शादी नहीं कर सकता जबतक औरत किसी दूसरे मर्द से शादी कर तलाक न ले ले। औरत की दूसरी शादी को निकाह हलाला कहते हैं। लेकिन जितनी आसानी से उसने रेप को हलाला कह दिया उतनी आसानी से तो तलाक भी नहीं होता। भले ही तलाक, तलाक, तलाक बोलना हो।

क्या होता है ‘हलाला’ 
अगर निकाह के बाद जिंदगी में ऐसे हालात पैदा हो जाते हैं कि साथ रहना मुश्किल हो तो आपसी सहमति से तलाक लिया जाता है। अगर शौहर बीवी को तलाक देता है तो यह तीन चरण में होता है। पहले तलाक के बाद बीवी इद्दत करती है। मतलब वो शौहर से सेक्स नहीं करती। दोनों के घर वाले सुलह कराने की कोशिश करते हैं। अगर इसके बाद भी बात नहीं बनी तो दूसरा तलाक दिया जाता है पर वह भी दोनो की सहमति से ही, दूसरे तलाक के बाद गवाह वकील या सोसाइटी के बुजुर्ग बीच बचाव करते हैं और जिसकी भी गलती हो मामले को सुलझाने की पूरी कोशिश करते हैं। अगर समझौता हो जाता है तो फिर से दोनो का निकाह होगा। वो भी पहले की तरह पूरी रशम से और अगर इस बार बात बिगड़ती है तो तीसरा तलाक दिया जाता है। इस तीन तलाक में करीब 3 महीने लग जाते हैं।

तलाक के बाद लडक़ी अपने मायके वापस आती है और इद्दत का तीन महीना दस दिन बिना किसी पर आदमी के सामने आए पूरा करती है। ताकि अगर वो गर्भ से है तो जिस्मानी तौर पर सोसाइटी के सामने आ जाए। जिससे उस औरत के ‘चरित्र’ पर कोई उंगली न उठा सके। उसके बच्चे को ‘नाजायज’ न कह सके। क्योंकि धर्म कोई भी हो, हमारे समाज में तो लडक़ी ही अपनी छाती से लेकर गर्भ तक परिवार की इज्जत की ठेकेदार होती है।

खैर. इद्दत का समय पूरा होने पर वो लडक़ी आजाद है। अब उसकी मर्जी है वो चाहे किसी से भी शादी करे। आमतौर पर ये सब इतनी नाराजगी के बाद होता है कि दोबारा से उस आदमी से शादी करने की गुंजाइश ही नहीं बचती।

लेकिन अगर मर्द अब फिर से अपनी बीवी को पाना चाहे तो तब तक नहीं पा सकता जबतक उस औरत ने फॉर्मल तरीके से दूसरे मर्द से शादी (सेक्स) न किया हो। और उसके बाद उससे तलाक ले लिया हो। बेसिकली हमारे समाज में औरत मर्द की प्रॉपर्टी होती है। इसलिए जरूरी है कि मर्द को उसे खोने का एहसास दिलाया जाए। इसलिए एक मर्द को सजा देने के लिए औरत का नए मर्द के साथ सेक्स करना जरूरी हो जाता है। यही होता है ‘हलाला’।

इस्लाम में क्या होता है ‘हलाला’
लेकिन इस्लाम में असल हलाला का मतलब ये होता है कि एक तलाकशुदा औरत अपनी आजाद मर्जी से किसी दूसरे मर्द से शादी करे। और इत्तिफाक से उनका भी निभा ना हो सके। और वो दूसरा शोहर भी उसे तलाक दे-दे, या मर जाए, तो ही वो औरत पहले मर्द से निकाह कर सकती है। असल ‘हलाला’ है।

याद रहे यह महज इत्तिफाक से हो तो जायज है। जानबूझ कर या प्लान बना कर किसी और मर्द से शादी करना और फिर उससे सिर्फ इस लिए तलाक लेना ताकि पहले शोहर से निकाह जायज हो सके, यह साजिश नाजायज है। लेकिन इसका ये पहलू भी है कि अगर मौलवी हलाला मान ले, तो समझे हलाला हो गया।

पर औरत के अधिकार?
अगर सिर्फ पत्नी तलाक चाहे तो उसे शौहर से तलाक मांगना होगा। क्योंकि वो खुद तलाक नहीं दे सकती. अगर शौहर तलाक मांगने के बावजूद भी तलाक नहीं देता तो बीवी शहर काजी (जज) के पास जाए और उससे शौहर से तलाक दिलवाने के लिए कहे। इस्लाम ने काजी को यह हक दे रखा है कि वो उनका रिश्ता खत्म करने का ऐलान कर दे, जिससे उनका तलाक हो जाएगा। इसे ही ‘खुला’ कहा जाता है।

डॉल जैसा LOOK पाने की चाहत में करोड़ रूपए खर्च कर चुकी हैं ये महिला

लंदन:दुनियाभर में कई अजीबोगरीब लोग देखने को मिलते हैं जो दूसरों की तरह दिखने के चक्कर में अपनी बॉडी पर लाखों नहीं ब्लकि करोड़ों रूपए खर्च कर देते हैं।

एेसी ही ब्रिटेन के एसेक्स में रहने वाली केरी माइल्स(33)एक बच्चे की मां है,उसने बार्बी की तरह दिखाई देने के चक्कर में पिछले 6 साल में अपने ट्रीटमेंट में लगभग एक करोड़ रुपए(100,000)पाउंड खर्च कर चुकी है।उसने लिप्स में बदलाव करवाया है और ब्रेस्ट इम्प्लांट भी करवाया है।अभी भी उसका दिल नहीं भरा वो अभी और प्लास्टिक सर्जरी करवाना चाहती है।इतना ही नहीं पति द्वारा समझाने के बावजूद इस रियल लाइफ बार्बी ने अपने पति को भी धमकी दे दी कि अगर वह उसे बॉडी में चेंजेज लाने के लिए ऑपरेशन कराने से रोकेगा तो वह उसे तलाक दे देगी। 

इस देश में पुरुष पहनते हैं महिलाओं के अंडगारमैंट्स...!!

जापान: महिलाओं और पुरुषों के शरीर एक दूसरे से अलग होते हैं, यही वजह है कि उनके कपड़े एक दूसरे से अलग नजर आते हैं।  ये जानकर आप चौंक जाएंगे कि जापान में  पुरुषों में महिलाओं के अंडगारमैंट्स पहनने का क्रेज बढ़ गया है।  जापान में पुरुष महिलाओं के अंडगारमैंट्स पहनना पसंद कर रहे हैं।

जापान में इस तरह के कपड़ों की मांग इतनी बढ़ गई है कि यहां की कंपनिया पुरुषों के लिए महिलाओं के जैसे ही अंडगारमैंट्स बना रही है और तेजी से इस कपड़ो को मॉल और ऑनलाइन खरीद लिया जाता है। पुरुषों में इस तरह के कपड़े पहनने के पीछे हार्मोन्स का बदलाव बताया जा रहा है। लड़कों के कपड़े लड़कियों की तरह स्लिम होते जा रहे हैं। जिसकी वजह से कई कंपनियां मर्दों के लिए अलग तरह के अंडगारमैंट्स बनाना शुरू कर दिया है। 

ये महिला रोज पीती है पुरुषों का वीर्य, जाने क्यों ?

लंदन:  लोग बीमारी से बचने के लिए क्या कुछ नहीं करते । कोई बाजार से दवाई लेता है तो कोई आयुर्वेदिक उपचार का सहारा लेता है। लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि ये मोहतरमा बीमारी से बचने के लिए पुरूषों का वीर्य पीती है।  Buckinghamshire में रहने वाली Tracy Kiss दोस्तों के डोनेट हुए semen को हर सुबह ड्रिक में मिलाकर पीती है। उनका मानना है कि ऐसा करके उनके immunity system को ताकत मिलेगी।

29 साल की महिला की इससे पहले sperm को चेहरे पर मरहम लगाने के लिए भी यूज कर चुकी है। tracy कहती है कि मैं कुछ दिनों से थकावट और बीमार महसूस कर रही थी लेकिन इसका सेवन करने के बाद मेरे शरीर में जान आई है। इसका taste काफी अच्छा है। लेकिन ये भी पुरूषों पर निर्भर करता है कि वो कैसा खाना खा रहे हैं। tracy ने यह भी बताया वो इसको फल, दूध,नारियल में मिलाकर यूज करती है। 

भरी अदालत में जब ये शख्स हो गया न्यूड !