Updated -

mobile_app
liveTv

20MP फ्रंट कैमरा के साथ 8999 रुपए में आया इंफीनिक्स का Hot S3

नई दिल्ली (टेक डेस्क)। स्मार्टफोन निर्माता कंपनी इंफीनिक्स ने बरहत में अपना नया स्मार्टफोन पेश कर दिया है। स्मार्टफोन की खासियत की बात करें तो यह कम कीमत में बेहतरीन स्पेसिफिकेशन्स दे रहा है। इंफीनिक्स ने भारत में अपना नया सेल्फी फोकस्ड Hot S3 स्मार्टफोन पेश किया है। इंफीनिक्स उन कंपनियों में से है जो शाओमी जैसी कंपनियों को कड़ी टक्कर दे रही हैं। इस फोन की टक्कर शाओमी रेडमी Y1 से होगी। जानते हैं फोन में और क्या है खास:

कीमत और उपलब्धता: इंफीनिक्स Hot S3 एंड्रायड 8.0 ओरियो यानि लाटेस ऑपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करने वाला बजट फोन है। इसे दो वैरिएंट - 3GB रैम/32GB इंटरनल स्टोरेज और 4GB रैम/64GB इंटरनल स्टोरेज में पेश किया गया है। इनकी कीमत क्रमश: 8999 रुपये और 10999 रुपये है। फोन सैंडस्टोर और ब्रश गोल्ड कलर वैरिएंट में उपलब्ध होगा।

फोन की स्पेसिफिकेशन्स: कंपनी ने इस फोन में फुल व्यू बेजेललेस डिस्प्ले दिया है। इसका स्क्रीन साइज 5.65 इंच है। इस डिवाइस में 1.4Ghz ओक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रगन प्रोसेसर दिया गया है। कैमरे की बात करें तो इसमें एलईडी लाइट के साथ 13MP का रियर और 20MP का फ्रंट कैमरा दिया गया है। फोन को पावर देने का काम 4000 mAh की बैटरी करेगी।

लॉन्च हुआ सोनी एक्सपीरिया L2, वीवो V7 से मुकाबला

नई दिल्ली(टेक डेस्क)। स्मार्टफोन निर्माता कंपनी सोनी ने भारत में अपना नया फोन सोनी एक्सपीरिया L2 लॉन्च कर दिया है। इस फोन को कंपनी द्वारा कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक शो से ठीक पहले पेश कर दिया गया था। यह फोन 2013 में लॉन्च हुए एक्सपीरिया एल का अगला मॉडल है। भारत में इस हैंडसेट की कीमत 19990 रुपये रखी गई है। इस प्राइज सेगमेंट में इस फोन का मुकाबला मोटो X4 और वीवो V7 से हो सकता है। सोनी का यह फोन ब्लैक और गोल्ड दो कलर वैरिएंट में उपलब्ध होगा। जानते हैं फोन की स्पेसिफिकेशन्स के बारे में:

एक्सपीरिया L2 की स्पेसिफिकेशन्स:

इस हैंडसेट में कोर्निंग ग्लास के साथ 5.5 इंच का एचडी डिस्प्ले दिया गया है। इसमें Mali-T720 GPU के साथ 1.5GHz क्वॉड-कोर MediaTek MT6737T प्रोसेसर के साथ इसमें 3GB रैम दी गई है। ड्यूल सिम सपोर्ट करने वाला यह फोन एंड्रॉयड 7.1.1 नॉगट पर कार्य करता है। स्टोरेज की बात करें तो इसमें 32GB की इंटरनल मेमोरी दी गई है। इसे एसडी कार्ड की मदद से 256GB तक बढ़ाया जा सकता है। फोन को पावर देने का काम 3300mAh की बैटरी करेगी।

चीनी पर अब बढ़ सकती है कीमतें

नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने चीनी के आयात पर लगने वाले आयात शुल्क को मौजूदा शुल्क के मुकाबले दोगुना कर दिया है। खाद्य मंत्रालय की सिफारिशों को मानते हुए चीनी आयात पर अब 100 प्रतिशत इंपोर्ट ड्यूटी लगेगी। अबतक चीनी पर 50 प्रतिशत इंपोर्ट ड्यूटी का प्रावधान है। हालांकि इसको लेकर अभी तक सरकार की तरफ से किसी तरह की अधिसूचना नहीं आई है लेकिन सूत्रों का मानना है कि आयात शुल्क 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 100 प्रतिशत करने पर फैसला हो चुका है।

करीब 2 हफ्ते पहले देश में चीनी मिलों के संगठन इंडियन सुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) ने भी चीनी पर आयात शुल्क को बढ़ाकर 100 प्रतिशत करने की मांग रखी थी, ISMA की इस मांग के बाद ही खाद्य मंत्रालय ने आयात शुल्क बढ़ाने की सिफारिश की थी। ISMA ने आशंका जताई थी कि पाकिस्तान अपने यहां से चीनी निर्यात को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी दे रहा है, ऐसे में पाकिस्तान से भारत को चीनी आयात हो सकती है। ISMA के मुताबिक चीनी आयात होने से देश में कीमतें घट सकती है जिससे चीनी उद्योग पर खराब असर पड़ेगा और किसानों का गन्ने का भुगतान करने में भी परेशानी हो सकती है।

दाम बढ़ने की आशंका बढ़ी
ISMA की मांग और गन्ना किसानों के हितों को देखते हुए सरकार ने चीनी पर आयात शुल्क तो बढ़ा दिया है लेकिन इससे रिटेल मार्केट में चीनी की कीमतें बढ़ने की आशंका भी बढ़ गई है। हालांकि अभी रिटेल मार्केट में चीनी के दाम पहुंच में ही हैं, मंगलवार को राजधानी दिल्ली में चीनी का रिटेल दाम 37 रुपए, मुंबई में 40 रुपए और कोलकाता में भी 40 रुपए प्रति किलो दर्ज किया गया। 

हीरो मोटोकॉर्प के मुनाफे में आय 14.8 फीसदी बढ़ी

नई दिल्लीः वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प का मुनाफा 4.3 फीसदी बढ़कर 805.43 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प का मुनाफा 772 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प की आय 14.8 फीसदी बढ़कर 7,305.5 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प की आय 6,364 करोड़ रुपये रही थी।

सालाना आधार पर तीसरी तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प का एबिटडा 1,158 करोड़ रुपये रहा है जबकि बाजार के मुताबिक इस अवधि में हीरो मोटोकॉर्प का एबिटडा 1,150 करोड़ रुपये रहने का अनुमान था। साल दर साल आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प का एबिटडा मार्जिन 15.9 फीसदी रहा है जबकि इस अवधि में हीरो मोटोकॉर्प का एबिटडा मार्जिन 16 फीसदी रहने का अनुमान था।

7 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 98,530 करोड़ रुपए घटा

नई दिल्लीः शेयर बाजार में सूचीबद्ध देश की शीर्ष 10 कंपनियों में से सात का बाजार पूंजीकरण पिछले हफ्ते कुल मिलाकर 98,530.44 करोड़ रुपए घट गया। इसमें सबसे ज्यादा नुकसान में रिलायंस इंडस्ट्रीज और ओएनजीसी रहीं।  शुक्रवार को समाप्त कारोबारी सप्ताह में जहां रिलायंस, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, मारुति सुजुकी, भारतीय स्टेट बैंक, इंफोसिस और ओएनजीसी को नुकसान उठाना पड़ा वहीं टाटा कंसल्टेंसी र्सिवसेस (टीसीएस), एचडीएफसी और  हिंदुस्तान युनिलीवर का बाजार पूंजीकरण बढ़ा है। रिलायंस का बाजार मूल्यांकन 37,256.05 करोड़ रुपए घटकर 5,73,682.16  करोड़ रुपए रहा।

ओएनजीसी को 20,276.51 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा और उसका बाजार मूल्यांकन 2,46,975.61 करोड़ रुपए रहा।  भारतीय स्टेट बैंक के बाजार मूल्यांकन में भी 14,027.08 करोड़ रुपए की कमी आई और यह 2,56,285.68 करोड़ रुपए रह गया।  मारुति का मूल्यांकन 8,364.59 करोड़ रुपए घटकर 2,71,881.12 करोड़ रुपए, आईटीसी का 6,690.94 करोड़ रुपए कम होकर 3,35,678.04 करोड़ रुपए रह गया। इसी प्रकार इंफोसिस को 6,355.29 करोड़ रुपए के नुकसान के साथ 2,49,341.55 करोड़ रुपए पर और एचडीएफसी बैंक को 5,559.98 करोड़ रुपए की कमी के साथ 5,05,141.67 करोड़ रुपए से संतोष करना पड़ा, वहीं टीसीएस को इस दौरान 5,991.72 करोड़ रुपए का लाभ हुआ और उसका बाजार मूल्यांकन 6,02,837.88 करोड़ रुपए रहा।

इस अवधि में हिंदुस्तान युनिलीवर का बाजार पूंजीकरण 324.67 करोड़ रुपए बढ़कर 2,97,117.97 करोड़ रुपए और एचडीएफसी का 119.82 करोड़ रुपए बढ़कर 3,04,069.59 करोड़ रुपए रहा। बाजार पूंजीकरण के हिसाब से इनमें शीर्ष स्थान पर टीसीएस रही। उसके बाद क्रमश: रिलायंस, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, एचडीएफसी,  हिंदुस्तान युनिलीवर, मारुति, भारतीय स्टेट बैंक, इंफोसिस और ओएनजीसी का स्थान रहा। 

जनवरी में FPI ने किए 3.5 अरब डॉलर निवेश

नई दिल्ली : बेहतर आय की उम्मीदों के चलते विदेशी निवेशकों ने घरेलू पूंजी बाजार में जनवरी में 3.5 अरब डॉलर (22,000 करोड़ रुपए से ज्यादा) का निवेश किया है। मॉर्निगस्टार  इंडिया के वरिष्ठ आकलन प्रबंधक (शोध) हिमांशु श्रीवास्तव का कहना है कि शेयरों में निवेश पर नया कर लगाए जाने से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफ.पी.आई.) का निवेश लघु अवधि के लिए प्रभावित हो सकता है लेकिन दीर्घावधि में यह सकारात्मक दिखता है।

डिपॉजिटरी आंकड़ों के मुताबिक जनवरी में एफ.पी.आई. ने 13,781 करोड़ रुपए शेयर बाजार में और 8,473 करोड़ रुपए ऋण बाजार में निवेश किए हैं। इस प्रकार उनका कुल निवेश 22,254 करोड़ रुपए रहा। हालांकि इससे पहले दिसम्बर के महीने में शेयर और ऋण बाजार से मिलाकर एफ.पी.आई. ने 3,500 करोड़ रुपए से ज्यादा की निकासी की थी। ऑनलाइन निवेश मंच ‘ग्रो’ के सह-संस्थापक और मुख्य परिचालन अधिकारी हर्ष जैन ने बताया, ‘‘जनवरी में ज्यादा निवेश होना आम बात है क्योंकि नई राजकोषीय बहियों में खरीद दिखाई जाती है। इसके अलावा दूसरी वजह वृद्धि आधारित 2018-19 के बजट में बेहतर आय की उम्मीदों से भी निवेश बढ़ा है।’’

ब्रिटेन ने की चीन से 12.83 अरब डॉलर की डील

लंदनः  ब्रिटेन ने चीन से 12.83 अरब डॉलर की डील की है।  प्रधानमंत्री थेरेसा मे की चीन यात्रा के दौरान ब्रिटेन और चीन के बीच 2,500 से अधिक नौकरियों का निर्माण करने के लिए 9 बिलियन पाउंड (12.83 अरब डॉलर) का सौदा हुआ है। ब्रिटिश सरकार ने इसकी जानकारी दी है।

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार सचिव लिआम फॉक्स ने अपने बयान में कहा, 'इस सप्ताह 9 बिलियन पाउंड से ज्यादा मूल्य वाले समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए हैं, जो ब्रिटिश वस्तुओं और सेवाओं की स्पष्ट मांग दर्शाते हैं।' उन्होंने आगे कहा, 'एक अंतर्र्राष्ट्रीय आर्थिक विभाग के रूप में, इस मूल्यवान रिश्ते को विकसित करना जारी रखेंगे, जो पहले से ही ब्रिटिश कंपनियों को प्रति वर्ष 59 बिलियन पाउंड के व्यापार में लाभ पहुंचाते हैं।' 1 अरब पाउंड के सौदे,  बाजार पहुंच और 8 9 0 नौकरियां ब्रिटेन के वित्तीय सेवा उद्योग के लिए सुरक्षित हैं।

बता दें कि ब्रिटेश की प्रधानमंत्री थेरेसा मे की शुक्रवार (2 फरवरी) को देश की वाणिज्यिक राजधानी शंघाई में चीन की 3 दिवसीय यात्रा समाप्त हो गई है। दरअसल, 2016 में यूरोपीय संघ को छोड़ने का राजनैतिक निर्णय लेने के बाद से ब्रिटेन एक वैश्विक व्यापारिक राष्ट्र के रूप में खुद को पुन: स्थापित करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन ब्रेक्सिट बीजिंग से वंचित है, जबकि लंदन को दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के साथ एक मुक्त व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर करने की उम्मीद है। इस बीच चीन के प्रधानमंत्री ली कचियांग ने बुधवार को कहा कि फिर भी, चीनी प्रधान मंत्री ली केकियांग ने बुधवार को कहा कि ब्रिटेन के साथ चीन के संबंध ब्रेक्सिट के माध्यम से अपरिवर्तित रहेगी।

सैंसेक्स 840 और निफ्टी 256 अंक पर बंद

नई दिल्लीः लगातार रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड बना रहे बाजार की अचानक तबीयत खराब हो गई। बजट ने उसे जोर का सदमा दिया है। शेयरों से कमाई पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स ने ऐसे मूड खराब किया कि बाजार आज औंधे मुंह गिर गया। आज की गिरावट में निवेशकों के करीब 5 लाख करोड़ रुपये स्वाहा हो गए। सेंसेक्स और निफ्टी 2.25 फीसदी से ज्यादा गिरकर बंद हुए हैं। कारोबार के अंत आज सैंसेक्स 839.91 अंक यानि 2.34 फीसदी गिरकर 35,066.75 पर और निफ्टी 256.30 अंक यानि 2.33 फीसदी गिरकर 10,760.60 पर बंद हुआ।

मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी मारकाट मची। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 4 फीसदी गिरकर 16,575 के स्तर पर बंद हुआ है। निफ्टी का मिडकैप 100 इंडेक्स 4.3 फीसदी लुढ़क कर 19,760.4 के स्तर पर बंद हुआ है। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 4.7 फीसदी की कमजोरी के साथ 17,850 के नीचे बंद हुआ है। निफ्टी का स्मॉलकैप इंडेक्स 6 फीसदी टूटकर 8,251 के स्तर पर बंद हुआ है।

आईटी सेक्टर को छोड़ सभी सेक्टर इंडेक्स में जोरदार गिरावट दिखी है। बैंक निफ्टी 2.8 फीसदी की कमजोरी के साथ 26,451 के स्तर पर बंद हुआ है। निफ्टी के ऑटो इंडेक्स में 3.4 फीसदी, मीडिया इंडेक्स में 3.5 फीसदी, मेटल इंडेक्स में 3 फीसदी, फार्मा इंडेक्स में 1.25 फीसदी, पीएसयू बैंक इंडेक्स में 2.9 फीसदी और प्राइवेट सेक्टर बैंक इंडेक्स में 3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। बीएसई के कैपिटल गुड्स इंडेक्स में 3.6 फीसदी, कंज्यूमर ड्युरेबल्स इंडेक्स में 3.4 फीसदी, पावर इंडेक्स में 4 फीसदी, रियल्टी इंडेक्स में 6.3 फीसदी और ऑयल एंड गैस इंडेक्स में 3 फीसदी की कमजोरी आई है।
 

एेसी की जाती है पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए तैनात होते है 1 हजार कुत्ते

नई दि‍ल्‍ली: 1 फरवरी को देश का आम बजट (Union Budget 2018 ) आने वाला है। आम आदमी की भाषा में कहें तो बजट वह है जिससे घर का खर्चा-पानी चलता है, बचत की जाती है और पर्व-त्योहार पर दिल खोल के खर्च किया जाता है। जरा सोचिए, एक घर के खर्चे को चलाने के लिए जिस बजट पर इतनी माथा-पच्ची की जाती है, तो पूरे देश के बजट को बनाने में कितना समय और दिमाग लगाना पड़ता होगा! आईए आज हम आपको बताते है कि आपके सामने कल पेश होने वाले आम बजट को कैसे तैयार किया जाता है।

ये विभाग बनाता है बजट
भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के अधीन एक डिवीजन है– इकोनॉमिक अफेयर्स, और इसके अंदर एक विभाग है– बजट डिविजन। यह बजट डिविजन ही है जो हर साल भारत सरकार के लिए बजट बनाता है। बजट बनाने की प्रक्रिया प्रति वर्ष अगस्त-सितंबर माह में शुरू हो जाती है। इस प्रक्रिया को और बजट के प्रारूप को बहुत ही गोपनीय रखा जाता है।

एेेसे होती है बजट की सुरक्षा
सुरक्षा के लिहाज से बजट बनने की प्रक्रिया बननी शुरू होने से लेकर बजट पेश होने वाले दिन तक करीब 1 हजार कुत्तों की टीम बराबर बजट की सुरक्षा और गोपनीयता के लिए तैनात की जाती है। बजट का ड्राफ्ट बनने से लेकर बजट प्रिटिंग का कागज, प्रिटिंग, पैकेजिंग और संसद पहुंचने की प्रक्रिया के बीच कई बार बजट को लीक न होने देने के लिए सुरक्षा जांच करते हैं।

अगस्त-सितंबर:  बजट डिविजन अगस्त के आखिर में या सितंबर के शुरू होते ही बजट सर्कुलर जारी करता है। इस सर्कुलर में भारत सरकार और उसके सभी मंत्रालयों और विभागों से संबंधित कंटेंट और स्टेटमेंट का पूरा विवरण होता है, जिसके आधार पर बजट की रूप-रेखा तैयार करनी होती है। सितंबर के आखिर तक अगले वित्त वर्ष के लिए सरकारी खर्चे का अनुमानित आंकड़ा तैयार किया जाता है।  

दिसंबर: फर्स्ट कट ऑफ बजट की तैयारी दिसंबर आते ही बजट की पहली ड्राफ्ट कॉपी (इसे फर्स्ट कट ऑफ बजट कहा जाता है) को वित्त मंत्री के सामने रखा जाता है। फर्स्ट कट ऑफ बजट का पेपर ब्लू कलर का होता है। ऐसा कहा जाता है कि ब्लैक इंक लाइट ब्लू कलर के पेपर पर ज्यादा उभर कर सामने आता है।

रतन टाटा करेंगे मेडटेक स्टार्ट-अप एक्सियो में निवेश

नई दिल्ली। एक्सियो बॉयोसोल्यूशन ने सीरीज बी फंडिंग राउंड में रतन टाटा की अगुवाई वाली आरएनटी कैपिटल के साथ ही वर्तमान निवेशकों -एक्सेल पार्टनर्स और आईडीजी वेंचर्स इंडिया से 74 लाख डॉलर का फंड जुटाने में कामयाबी हासिल की है। कंपनी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।
कंपनी की योजना इस फंडिंग से नए बाजारों में अपना विस्तार करने की है, जबकि वह हाई-इंपैक्ट मेडिकल उत्पादों पर भी काम जारी रखेगी।  इस सौदे में मास्टरकी होल्डिंग्स ने सलाहकार की भूमिका निभाई।   एक्सियो ने इससे पहले ट्रामा केयर के लिए आपातकालीन हेइमोस्टेट लांच किया था।  एक्सियो बॉयोसोल्यूशन का मुख्यालय बॉस्टन में है और इसका कॉरपोरेट कार्यालय बेंगलुरू में है और इसकी जीएमपी सर्टिफाइड विनिर्माण संयंत्र गुजरात में है।
 

फिलीपींस से व्यापार बढ़ाने पीएचडीसीसीआई-फिक्की में करार

 

नई दिल्ली। पीएचडी चैम्बर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री (पीएचडीसीसीआई) और फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर ऑफ कामर्स इंक ने एक करार पर दस्तखत किए। इसके मुताबिक दोनों संगठनों ने द्विपक्षीय आर्थिक संबंधों को बढ़ावा देने पर सहमति जताई है। इसके तहत, बिजनेस मीट, चर्चा और व्यापार, निवेश, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, सेवा और अन्य क्षेत्रों में व्यापार की संभावनाओं का पता लगाने के लिए मंच मुहैया कराया जाएगा।

इस करार में भारत सरकार और फिलीपींस की सरकार के साथ मिलकर काम करने का प्रावधान है, ताकि लोगों के बीच चर्चा में वृद्धि हो और इससे दोनों देशों के बीच आपस में लाभप्रद मित्रता का विकास होगा। 

पीएचडी चैम्बर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष अनिल खेतान तथा फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कामर्स इंक (फिक्की) के रेक्स दरयानानी ने शुक्रवार को इस करार पर दस्तखत किए। इस मौके पर फिलीपींस के राष्ट्रपति, रॉड्रिगो दुतेर्ते मौजूद थे। 

करार की अन्य शर्तों के मुताबिक, दोनों चैम्बर्स इस बात पर भी सहमत हुए हैं कि मजबूत, संस्थागत व्यापार और कारोबारी संबंध का विकास किया जाएगा, ताकि वार्ता और चर्चा के लिए मंच की एक स्थायी व्यवस्था स्थापित की जा सके, जिससे सामान्य आर्थिक स्थिति, कराधान, निवेश के मौकों, व्यापार नीतियों और दोनों देशों के विधायी परिवर्तन आदि पर सूचना का आदान-प्रदान हो सके। यह सब भारत और फिलीपींस के बीच व्यापार के प्रौद्योगिकीय और संस्थागत गडज़ोड़ को मजबूत करने की कोशिश में है।

इसमें संबंधित देश की सूचना से संबंधित प्रकाशनों और आर्थिक विकास, विदेशी व्यापार और संबंधित देश की निवेश नीतियों से संबंधित सामग्री का नियमित रूप से आदान-प्रदान करने का प्रावधान भी है। इसके अलावा, इस बात पर भी सहमति हुई है कि भारत और फिलीपींस की व्यापार और निवेश नीतियों समेत सदस्य देशों में खास नीति विकास समेत खासतौर से एक प्रभावी और व्यवस्थित विमर्श तथा सहयोग की स्थापना की जाएगी।

इसके अलावा, दोनों चैम्बर्स के बीच व्यापार संवर्धन और भारत व फिलीपींस तथा अन्य आसियान देशों के बीच व्यावसायीकरण पर सहयोग करना भी तय हुआ है। दोनों देश एक दूसरे को निर्धारित क्षेत्र में और आसियान में एमएसएमई क्षेत्र में पायलट प्रोजेक्ट के विकास में भी सहयोग करेंगे, जिसे पीएचडी चैम्बर और फिक्की द्वारा संयोजित किया जाएगा।

फ्यूचर समूह ने स्नैपडील से वल्कन एक्सप्रेस खरीदा

नई दिल्ली। फ्यूचर समूह ने शुक्रवार को जस्पर इंफोटेक के स्वामित्व वाली स्नैपडील की लॉजिस्टिक इकाई वल्कन एक्सप्रेस को 35 करोड़ रुपये में खरीद लिया है। 

फ्यूचर समूह ने एक बयान में कहा, ‘‘जस्पर इंफोटेक, जिसके पास स्नैपडील का स्वामित्व है... ने फ्यूचर सप्लाई चेन सोल्यूशंस के साथ वल्कन एक्सप्रेस प्रा. लि. की 100 फीसदी हिस्सेदारी की बिक्री के लिए समझौता किया है। यह सौदा 35 करोड़ रुपये में नकद किया गया है।’’

वल्कन एक्सप्रेस स्नैपडील, एयरटेल और यूपीएस की लॉजिस्टिक जरूरतों को पूरा करने की सेवाएं प्रदान करती है और इसका जोर ई-कॉमर्स और उच्च मूल्य वाले बिजनेस-टू-बिजनेस (बी2बी) ट्रांजैक्शन पर है। 

फ्यूचर समूह के संस्थापक और अध्यक्ष किशोर बियानी ने कहा, ‘‘वल्कन के माध्यम से हमारी योजना अंतिम मील की कनेक्टिविटी को बढ़ाने की है तथा हमारे ई-कॉमर्स तथा खुदरा ग्राहकों को अत्याधुनिक समाधान प्रदान करना है। यह हमारे रिटेल 3.0 विजन का हिस्सा है।’’

स्नैपडील के मुख्य रणनीति और निवेश अधिकारी जेसन कोठारी ने बताया, ‘‘हाल ही में हमारे फ्रीचार्ज की बिक्री की तरह ही, हमारा मानना है कि स्नैपडील के वल्कन एक्सप्रेस को फ्यूचर समूह को की गई बिक्री सभी तीनों पक्षों के लिए एक सफल सौदा है।’’ कोठारी की अगुवाई में ही स्नैपडील ने अपने स्वामित्व वाले फ्रीचार्ज को एक्सिस बैंक को बेचा था।