Updated -

mobile_app
liveTv

बिहार: कड़ी सुरक्षा के बीच 12वीं की परीक्षा शुरू

पटना। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से आयोजित इंटरमीडिएट (12वीं) की परीक्षा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मंगलवार से प्रारंभ हो गई। इस परीक्षा के लिए राज्यभर में कुल 1,384 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इस परीक्षा में राज्यभर से 12,07,986 छात्र-छात्राएं शामिल हो रहे हैं, जिसमें छात्रों की कुल संख्या 7,19,848 है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने मंगलवार को बताया कि 12 वीं की परीक्षा को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। सभी परीक्षा केंद्रों के बाहर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। परीक्षा हल के अंदर की वीडियोग्राफी कराई जा रही है। 

सभी केंद्रों पर तीन स्तरों पर दंडाधिकरियों की तैनाती की गई है। परीक्षार्थियों की सघन तलाशी के बाद ही परीक्षा केंद्रों में प्रवेश दिया गया। 25 परीक्षार्थियों पर एक वीक्षक तैनात करने के निर्देश सभी केंद्राधीक्षकों को दिया गया है। 

अध्यक्ष ने बताया कि इस बार की परीक्षा नए पैटर्न से ली जा रही है। प्रश्न पत्र और उत्तरपुस्तिका के पैटर्न में काफी बदलाव किया गया है। इस बार 50 फीसदी प्रश्न बहुविकल्पीय वस्तुनिष्ठ पूछे जा रहे हैं, जिसका जवाब ओएमआर शीट पर देना होगा। इसके अतिरिक्त 30 फीसदी प्रश्न दो-दो अंक के लघु उत्तरीय होंगे। 20 फीसदी अंक के दीर्घउत्तरीय प्रश्न होंगे। उत्तरपुस्तिका में भी बदलाव किया गया है।

SBI में जूनियर एसोसिएट के पदों पर भर्ती, 10 फरवरी तक आवेदन

जयपुर। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ग्रेजुएट छात्रों से जूनियर एसोसिएट (कस्टमर सपोर्ट व सेल्स) पदों पर भर्ती के लिए आवेदन मंगाए हैं। 

इस प्रक्रिया के तहत विभिन्न राज्यों में 8301 पदों पर भर्ती की जाएगी। एक छात्र किसी एक राज्य के के लिए ही आवेदन कर सकता है। आवेदक को संबंधित राज्य में बोली जाने वाली भाषा की जानकारी होनी चाहिए। 

आवेदक बैंक की अधिकारिक वेबसाइट www.sbi.co.in पर 10 फरवरी 2018 तक आवेदन कर सकते हैं। आवेदकों को प्रीलिमिनरी और मेंस एग्जाम क्लियर करने होंगे। किसी भी स्ट्रीम से बैचलर डिग्री करने वाले छात्र इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। 

आवेदक की न्यूनतम आयु 20 वर्ष और अधिकतम आयु 28 वर्ष होनी चाहिए। आयु की गणना 1 जनवरी 2018 के आधार पर की जाएगी। एससी, एसटी ओबीसी और दिव्यांगों को आयु सीमा में छूट मिलेगी। 

आवेदकों का चयन दो चरणों की परीक्षा के बाद किया जाएगा। पहले चरण में छात्रों को प्रीलिमिनरी एग्जामिनेशन में भाग लेना होगा। इसके बाद छात्रों को मेंस एग्जाम के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। 

REET: कैमरों की कड़ी निगरानी में 11 फरवरी को आयोजन

जयपुर। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आगामी 11 फरवरी को राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा ( REET ) का आयोजन किया जाएगा। इसके बाद प्रदेश में शिक्षकों के 35 हजार पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी होगा। रीट परीक्षा केन्द्रों पर 5 हजार सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। इनके जरिए परीक्षा केन्द्रों पर पूर्ण निगरानी रखी जाएगी तथा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि परीक्षा की गोपनीयता किसी भी स्तर पर भंग नहीं हो। रीट आयोजन से जुड़े विभिन्न बिंदुओं पर सोमवार को शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने विभागीय बैठक ली। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि रीट परीक्षा में 10 लाख के करीब अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। साथ ही स्पष्ट किया कि रीट के बाद 35 हजार शिक्षक भर्ती का विज्ञापन जारी होगा। 

बिहार में 12वीं की परीक्षा शुरू

पटना। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से आयोजित इंटरमीडिएट (12वीं) की परीक्षा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मंगलवार से प्रारंभ हो गई। इस परीक्षा के लिए राज्यभर में कुल 1,384 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इस परीक्षा में राज्यभर से 12,07,986 छात्र-छात्राएं शामिल हो रहे हैं, जिसमें छात्रों की कुल संख्या 7,19,848 है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने मंगलवार को बताया कि 12 वीं की परीक्षा को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। सभी परीक्षा केंद्रों के बाहर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। परीक्षा हल के अंदर की वीडियोग्राफी कराई जा रही है। 

सभी केंद्रों पर तीन स्तरों पर दंडाधिकरियों की तैनाती की गई है। परीक्षार्थियों की सघन तलाशी के बाद ही परीक्षा केंद्रों में प्रवेश दिया गया। 25 परीक्षार्थियों पर एक वीक्षक तैनात करने के निर्देश सभी केंद्राधीक्षकों को दिया गया है। 

अध्यक्ष ने बताया कि इस बार की परीक्षा नए पैटर्न से ली जा रही है। प्रश्न पत्र और उत्तरपुस्तिका के पैटर्न में काफी बदलाव किया गया है। इस बार 50 फीसदी प्रश्न बहुविकल्पीय वस्तुनिष्ठ पूछे जा रहे हैं, जिसका जवाब ओएमआर शीट पर देना होगा। इसके अतिरिक्त 30 फीसदी प्रश्न दो-दो अंक के लघु उत्तरीय होंगे। 20 फीसदी अंक के दीर्घउत्तरीय प्रश्न होंगे। उत्तरपुस्तिका में भी बदलाव किया गया है।

पुलिस और फायर ब्रिगेड में 1669 पदों पर वैंकेसी, ऐसे करें आवेदन

पटना। बिहार में पुलिस और फायर ब्रिगेड में इस महीने (फरवरी) बडे पैमाने पर चालकों की बहाली होगी। इसके लिए केन्द्रीय चयन पर्षद (सिपाही भर्ती) विज्ञापन निकालेगा। चालक सिपाही के 700 और अग्निक चालक (फायर मैन चालक) के 969 पदों के लिए एक साथ परीक्षा ली जाएगी। जल्द ही ऑनलाइन फॉर्म भरने की तारीख घोषित होगी। 

चालक सिपाही और अग्निक चालक पद के इच्छुक अभ्यर्थियों को अब लिखित परीक्षा भी देनी होगी। पहले सिर्फ शारीरिक और वाहन चलाने की परीक्षा होती थी। बहाली के लिए सरकार ने नियमों में बदलाव किया है। नए नियम के तहत पहले लिखित परीक्षा होगी। हालांकि इसके आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार नहीं होगी। अभ्यर्थियों को सिर्फ यह परीक्षा पास करनी होगी। इसके बाद शारीरिक और फिर वाहन चलाने की परीक्षा में शामिल होना होगा।

यूपीएससी में कई पदों पर वैकेंसी, जल्दी करें आवेदन

नई दिल्ली। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने विभिन्न श्रेणी में भर्तियों के लिए आवेदन किए है। आवेदन केवल ऑनलाइन करना है और इसके लिए अंतिम तारीख 15 फरवरी है। आवेदन के साथ उम्मीदवार को संबंधित दस्तावेज की कॉपी भी अपलोड करनी है।

पद का नाम और संख्या-
एयरोनॉटिकल ऑफिसर, पद : 12
असिस्टेंट केमिस्ट, पद: 11
साइंटिस्ट, बी (मैकेनिकल), पद: 02
जूनियर साइंस्टिफिक ऑफिसर, पद: 02
असिस्टेंट कमिश्नर, पद: 01



एयरोनॉटिकल ऑफिसर, पद : 12
योग्यता : एयरोनॉटिकल/ इलेक्ट्रिकल/ इलेक्ट्रॉनिक्स/ मैकेनिकल/ मेटालॉर्जिकल इंजीनियरिंग में डिग्री होनी चाहिए।
वेतनमान: लेवल 10 के स्तर पर सातवें वेतन आयोग के अनुसार।
उम्र सीमा: अधिकतम 35 साल।

असिस्टेंट केमिस्ट, पद: 11
योग्यता: केमेस्ट्री की किसी भी शाखा में एमएससी या केमिकल इंजीनियरिंग में बीई/बीटेक अथवा एसोसिएट इंस्टीट्यूट ऑफ केमिस्ट इंडिया से मान्यता प्राप्त डिग्री या डिप्लोमा केमेस्ट्री में होना चाहिए।
वेतनमान: 47,600-1,51,100 रुपये।
उम्र सीमा: अधिकतम 30 साल।

साइंटिस्ट, बी (मैकेनिकल), पद: 02
योग्यता: मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या संस्थान से फिजिक्स में मास्टर डिग्री। अथवा मैकेनिकल इंजीनियरिंग या मेटालॉर्जिकल इंजीनियरिंग में बीई/बीटेक की डिग्री होनी चाहिए।
वेतनमान: 56,100-1,77500 रुपये।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र में एचआर की वैंकेसी, ऐसे करें आवेदन

मेडिकल कॉलेज नहीं मांग सकते बैंक गारंटी

इलाहाबाद। मेडिकल कॉलेजों में निर्धारित फीस के बाद भी अधिकांश कॉलेज छात्र छात्राओं से अलग से बैंक गारंटी मांगते है, जिसकी वजह से छात्रों व अभिभावकों को काफी परेशान होना पड़ता है और ढेरों ऐसे मामले है जब बैंक गारंटी न दे पाने के कारण होनहारों को एडमिशन ही नहीं दिया गया पर अब कॉलेजों की मनमानी नहीं चलेगी, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मेडिकल कॉलेजों की इस मनमानी पर रोक लगा दी है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि मेडिकल कॉलेजों को बैंक गारंटी लेने का हक नहीं है।इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया को निर्देश दिया है कि वह कालेजों के लिए एक गाइडलाइन जारी करें और बैंक गारंटी मांगने वाले कॉलेजों पर जुर्माना लगाये।
क्या है मामला 

डॉ मुक्ताकर सिंह ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में मेडिकल कॉलेज की बैंक गारंटी मांगे जाने के खिलाफ 
याचिका दाखिल की थी, जिसमें कॉलेज में फीस जमा करने के बाद भी मेडिकल छात्र से 31 लाख रुपए से अधिक बैंक गारंटी 1 घंटे में जमा करने की मांग की गई थी। जब छात्र बैंक गारंटी नहीं दे सका तो उसे एडमिशन नहीं दिया गया। हाईकोर्ट ने इसे गंभीरता से लेते हुये कालेज पर 5 लाख का हर्जाना ठोका है और छात्र को तीन महीने के अंदर यह रकम देने को कहा है।

MBBS के 14 हजार रुपए की जगह लगेंगे 5 लाख

जयपुर। सत्र 2018-19 से राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (RUHS) से संबद्ध मेडिकल कॉलेज में अब 5 साल की फीस 14 हजार रुपए की जगह 5 लाख रुपए ली जाएगी। ये फैसला हाल ही हुई बॉम की मीटिंग में लिया गया। फीस में एक साथ इतनी ज्यादा बढ़ोतरी करने का कारण कॉलेज संचालन के लिए संसाधन जुटाना बताया जा रहा है। फीस बढा़तरी करने का प्रस्ताव सरकार के पास भेजा जा चुका है। 

RUHS से संबद्ध मेडिकल कॉलेज में सत्र 2018-19 से एमबीबीएस की फीस बढ़ाने के लिए हाल ही आयोजित बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट (बॉम) की बैठक में सदस्यों ने तय किया कि इस यूनिवर्सिटी की एमबीबीएस की फीस सोसायटी पैटर्न पर चल रहे कॉलेजों की फीस के बराबर की जाए। इस पर सभी सदस्योँ ने एकराय व्यक्त की। सरकार को इसका प्रस्ताव बनाकर भी भेज दिया गया है। सरकार से प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद सत्र 2018-19 से एमबीबीएस की फीस के रूप में 5 साल की फीस 14 हजार की जगह 5 लाख रुपए हो जाएगी। यानी कि फीस में 3570 फीसदी की बढ़ोतरी हो जाएगी।

इस बारे में RUHS के प्रवक्ता डॉ. ए.चौगले ने कहा कि फीस को सोसायटी पैटर्न पर चल रहे कॉलेज की फीस के समान करने का प्रस्ताव सरकार के पास भेजा है। यूनिवर्सिटी को मेडिकल कॉलेज के लिए खुद के संसाधन जुटाने हैं। 

RUHS से संबद्ध मेडिकल कॉलेज में कुल सौ सीटें हैं। इसमें 50 प्रतिशत सीटें मेरिट से भरी जाएंगी। इस वर्ग के छात्रों की फीस नए प्रस्ताव के बाद 5 लाख रुपए हो जाएगी। जबकि पहले उन्हें फीस के रूप में देनी होती थी केवल 14 हजार रुपए की राशि। 35 प्रतिशत साीटें पैंमेंट से भरी जाएंगी। उन्हें नए प्रस्ताव के बाद 7 लाख रुपए फीस देनी होगी। एनआरआई के कोटे से 15 प्रतिशत सीटे भरी जाएंगी। इस वर्ग के स्टूडेंट्स को अब एक लाख डॉलर का भुगतान फीस के लिए करना होगा। जबकि पहले यह रकम 80 हजार डॉलर थी। 

सीबीएसई का फिजिकल एजुकेशन का पेपर अब 13 अप्रैल को

जेईई मेन्स: निशक्तों को बतौर सहायक मिलेंगे 11वीं के स्टूडेंट्स

जयपुर। सीबीएसई की ओर से होने वाली जेईई मेन्स ऑफलाइन परीक्षा में अब निशक्तजनों को 10वीं कक्षा की जगह 11वीं क्लास के साइंस मैथ्स के स्टूडेंट्स बतौर सहायक मिलेंगे। इससे पहले जेईई मेन्स के इनफॉरमेशन ब्रोशर में 10वीं क्लास के सहायक देने का प्रावधान था। इस प्रकार पहले मेन्स के एग्जाम में दृष्टिबाधित को ही निशक्त माना गया था। अब इसमें भी बदलाव कर दिया गया है। डिस्लेक्सिया, हाथों की अंगुली नहीं होने पर, ऊपरी लिंब्स में परेशानी होने वालों को भी निशक्त माना गया है। इनको भी सहायक उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए निशक्त को एग्जाम से 2 दिन पहले सेंटर पर रिपोर्ट करके सहायक की मांग करनी होगी। सेंटर अधीक्षक 11वीं क्लास के किसी स्टूडेंट की व्यवस्था करेगा। निशक्तजनों को 1 घंटा अतिरिक्त मिलेगा। साल डायबिटिक स्टूडेंट्स भी मेडिसिन व खाने की चुनिंदा वस्तुएं ले जा सकते हैं।