Updated -

mobile_app
liveTv

Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

बिजनेस शुरू करने से पहले याद रखें ये बातें, नहीं होगी भविष्य में कोई परेशानी

नई दिल्ली :  देश में बढ़ती हुई बेरोजगारी को देखते हुए आज कल के ज्यादातर युवा अपनी बिजनेस करने की चाहत रखते है ,ताकि वह पैसा कमाने के साथ - साथ दूसरों को भी रोजगार दे सकें। एेसे में अगर आप भी अपना व्यवसाय  शुरु करना चाहते है तो आइए जानते है कुछ एेसे टिप्स के बारे में जो किसी भी बिजनेस को शुरु करने से पहले आपको ध्यान में रखने जरुरी है। 

बढ़िया बिजनेस आइडिया
किसी भी स्टार्टअप को शुरू करने के लिए एक अच्छे आइडिया की जरूरत होती है। इसलिए किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले बिजनेस का आइडिया जरूर सोच लें। आप जो भी आइडिया सोच रहे है उस पहले से अच्छी तरह सोच विचार कर लें ताकि बाद भी आपको किसी तरह की कोई परेशानी ना हो। 

बिजनेस प्लान बनाएं
बिना प्लानिंग के बिजनेस करने से बचें। ये आपको भविष्य में मुसीबत में डाल सकता है।जब आप अपना स्टार्टअप का आइडिया फाइनल कर लें तो एक डायरी में बिजनेस से संबंधित सभी बातें लिख लें। इससे अगर आप अपने प्लान में अगर कोई बदलाव करना चाहते है उसमें भी आपको मदद मिलेगी। 

मार्किट पर रिसर्च कर लें 
कोई भी स्टार्टअप शुरू करने से पहले आपको मार्किट का हाल जानना सबसे ज्यादा जरूरी है। इसलिए जब भी आप स्टार्टअप की सोचें, तो मार्किट रिसर्च जरूर करें। बिना मार्केट का हाल जाने आप कोई भी बिजनेस शुरु करना अापकोे जोखिम में डाल सकते है। 

स्टार्टअप का नाम
लोगों के सामने नाम के चयन को लेकर बहुत समस्या आती है। यदि आप अपने बिजनेस के नाम को भविष्य में एक बड़ा ब्रांड बनाना चाहते हैं, तो नाम छोटा और सरल होना ही सोचें।

मॉडल तैयार करें
अपने स्टार्टअप बिजनेस का एक मॉडल तैयार करें। जिसमें तय करें कि आपका बिजनेस काम कैसे करेगा।क्या-क्या सर्विस आपको लोगों को देनी है। लोगों को आपके बिजनेस से कितना फायदा मिलेगा।

सह-संस्थापक खोजें
छोटा हो या बड़ा कोई भी बिजनेस आप अकेले शुरू नहीं कर सकते। इसलिए स्टार्टअप से पहले सह-संस्थापक खोजें।ताकि आपको बिजनेस में मदद मिलती रहे। इससेे आपको काम करने में भी आसानी होगी। 
 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

बिजनेस शुरू करने से पहले याद रखें ये बातें, नहीं होगी भविष्य में कोई परेशानी

नई दिल्ली :  देश में बढ़ती हुई बेरोजगारी को देखते हुए आज कल के ज्यादातर युवा अपनी बिजनेस करने की चाहत रखते है ,ताकि वह पैसा कमाने के साथ - साथ दूसरों को भी रोजगार दे सकें। एेसे में अगर आप भी अपना व्यवसाय  शुरु करना चाहते है तो आइए जानते है कुछ एेसे टिप्स के बारे में जो किसी भी बिजनेस को शुरु करने से पहले आपको ध्यान में रखने जरुरी है। 

बढ़िया बिजनेस आइडिया
किसी भी स्टार्टअप को शुरू करने के लिए एक अच्छे आइडिया की जरूरत होती है। इसलिए किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले बिजनेस का आइडिया जरूर सोच लें। आप जो भी आइडिया सोच रहे है उस पहले से अच्छी तरह सोच विचार कर लें ताकि बाद भी आपको किसी तरह की कोई परेशानी ना हो। 

बिजनेस प्लान बनाएं
बिना प्लानिंग के बिजनेस करने से बचें। ये आपको भविष्य में मुसीबत में डाल सकता है।जब आप अपना स्टार्टअप का आइडिया फाइनल कर लें तो एक डायरी में बिजनेस से संबंधित सभी बातें लिख लें। इससे अगर आप अपने प्लान में अगर कोई बदलाव करना चाहते है उसमें भी आपको मदद मिलेगी। 

मार्किट पर रिसर्च कर लें 
कोई भी स्टार्टअप शुरू करने से पहले आपको मार्किट का हाल जानना सबसे ज्यादा जरूरी है। इसलिए जब भी आप स्टार्टअप की सोचें, तो मार्किट रिसर्च जरूर करें। बिना मार्केट का हाल जाने आप कोई भी बिजनेस शुरु करना अापकोे जोखिम में डाल सकते है। 

स्टार्टअप का नाम
लोगों के सामने नाम के चयन को लेकर बहुत समस्या आती है। यदि आप अपने बिजनेस के नाम को भविष्य में एक बड़ा ब्रांड बनाना चाहते हैं, तो नाम छोटा और सरल होना ही सोचें।

मॉडल तैयार करें
अपने स्टार्टअप बिजनेस का एक मॉडल तैयार करें। जिसमें तय करें कि आपका बिजनेस काम कैसे करेगा।क्या-क्या सर्विस आपको लोगों को देनी है। लोगों को आपके बिजनेस से कितना फायदा मिलेगा।

सह-संस्थापक खोजें
छोटा हो या बड़ा कोई भी बिजनेस आप अकेले शुरू नहीं कर सकते। इसलिए स्टार्टअप से पहले सह-संस्थापक खोजें।ताकि आपको बिजनेस में मदद मिलती रहे। इससेे आपको काम करने में भी आसानी होगी। 

बिजनेस को रजिस्टर कराएं
अपने बिजनेस को रजिस्टर कराना जरूरी है, क्योंकि एक अच्छा और सक्सेसफुल बिजनेमैन बनना है, तो आपको सारे लीगल काम करने होंगे इसके लिए आप किसी लीगल एडवाइजरसे विचार विमर्श कर सकते हैं। 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

जरा ध्यान दीजिए, कॉमर्स से 12वीं पास करने के बाद नौकरी दिलाएंगे ये कोर्स

नई दिल्ली: 12वीं पास करने के बाद अक्सर स्टूडैंट इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि कौन सा कोर्स किया जाए। अपना करियर किस क्षेत्र में बनाया जाए। अगर आपने 12वीं की पढ़ाई में कॉमर्स की है तो आपको कुछ विकल्प बताने जा रहे हैं, जिनसे आप अच्छा पैसा भी कमा सकते हैं।

 

बैचलर ऑफ कॉमर्स (ऑनर्स): 12वीं के बाद आप ऑनर्स या किसी विशेष में बीकॉम करें। इसके लिए बीकॉम ऑनर्स अच्छा विकल्प हो सकता है और बीकॉम ऑनर्स तीन साल का डिग्री होती है। 

 

कॉस्ट एंड वर्क अकाउंटेंट (CWA): 12वीं के बाद भी स्टूडेंट्स CWA का कोर्स कर सकते हैं। इसके लिए 12वीं पास स्टूडेंट्स को पहले फाउंडेशन कोर्स करना होता है। 

 

चार्टर्ड अकाउंटेंट या कंपनी सेक्रेटरी: द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (आईसीएआई) चार्टर्ड अकाउंटेंट का कोर्स कराता है। इसमें पहले सीपीटी, आईपीसीसी और फाइनल चरण से गुजरना होता है। लेकिन इन्हें पास करना थोड़ा मुश्किल होता है। वहीं आईसीएसआई देश में कंपनी सेक्रेटरी प्रोग्राम चलाता है।

 

बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (बीएमएस): मैनेजमेंट के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए यह कोर्स भी आपके लिए बेहतर हो सकता है। यह तीन साल का कोर्स है, जिसमें थ्योरी के साथ प्रेक्टिकल ट्रेनिंग भी दी जाती है, जिससे स्टूडेंट में मैनेजमेंट स्किल्स का भी विकास होता है।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

लीक से हटकर करना चाहते है कुछ अलग तो कालिग्राफी में बनाएं करियर

नई दिल्ली : हर कोई चाहता है कि वह अच्छे तरह लिखें ताकि सब उसकी लिखावट देख कर उसकी तारीफ करें। इसलिए जब बच्चों को स्कूल में भेजा जाता है तो सबसे पहले उसे उसकी लिखावट साफ - सुथरी हो ,लेकिन अक्सर एेसा होता है कि जैसे - जैसे बच्चे बड़े होते जाते है उनका ध्यान अपनी हैंडराइटिंग से हटने लगता है। शायद आपको पता न हो लेकिन अगर आप सुंदर लिखने की क्षमता रखते हैं तो सिर्फ अपनी हैंडराइटिंग के दम पर ही एक बेहद उज्जवल भविष्य देख सकते हैं। विभिन्न स्टाइल व रचनात्मक तरीकों से शब्दों को लिखने के इस अनूठे करियर विकल्प को कालिग्राफी के नाम से जाना जाता है। यह एकदम अलग व स्टाइलिश कॅरियर विकल्प है। आइए जानते है कि कैसे आप इसमें करियर बना सकते है। 

क्या है कालिग्राफी 
कालिग्राफी एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें लेखन के विभिन्न टूल्स का प्रयोग करके शब्दों व संकेतों को अलग तरीके से निखारा जाता है। दूसरे शब्दों में, इसे कालिग्राफी विजुअल आर्ट कहा जा सकता है। तकनीकी के इस युग में लोग मानते हैं कि कंप्यूटर के अत्यधिक प्रयोग के कारण कालिग्राफी की कला को काफी नुकसान हुआ है। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। कालिग्राफी सदियों से अस्तित्व में है तथा यह आज भी प्रासंगिक है। यह एक समृद्ध विरासत है तथा यह डिजिटल मीडिया द्वारा भी अडैप्टड किया जा रहा है। मॉडर्न कालिग्राफी में टाइपोग्राफी व नॉन−क्लासिकल हैंड लेटरिंग आदि का भी अभ्यास किया जाता है। इसलिए अब कालिग्राफर पेन बेस्ड व कंप्यूटर बेस्ड वेरियशन के जरिए फॉन्ट डिजाइन, डेस्कटॉप वॉलपेपर, मैन्युस्क्रिप्ट डिजाइन, होर्डिंग डिजाइन, साइनबोर्डस, पैकेजिंग डिजाइन, फाइन आर्टस आदि में भी कार्य करते हैं।

चाहिए ये स्किल्स
एक बेहतरीन कालिग्राफर बनने के लिए आपका कलात्मक व रचनात्मक दिमाग होना बेहद आवश्यक है। इसके अतिरिक्त आपको शब्दों, चित्रों व रूपांकनों से प्रेम भी होना चाहिए व उन्हें अपनी कलात्मकता व कल्पनाशीलता का प्रयोग कर हर दिन एक नया स्वरूप देने की इच्छा व क्षमता भी होनी चाहिए। एक कालिग्राफर में सौंदर्य बोध के अतिरिक्त कलात्मक संतुलन का अद्भुत मिश्रण होता है। इस क्षेत्र में अपने कौशल को सुधारने के लिए धैर्य व कठिन परिश्रम की आवश्यकता होती है। इसलिए आपके भीतर एकाग्रता व दृढ़ संकल्प भी होना चाहिए ताकि आप अपने क्षेत्र में निपुण हो सकें।

योग्यता
वैसे तो भारत में कालिग्राफी के लिए कोई अलग से कोर्स उपलब्ध नहीं है लेकिन फाइन आर्ट्स के स्टूडेंटस कुछ शॉर्ट टर्म कोर्सेस के जरिए कालिग्राफी के बेसिक्स जैसे स्क्रिप्ट, स्टाइल्स, फान्ट्स, टेक्निक  सीख सकते हैं।

संभावनाएं
आप ग्रीटिंग कार्डस, इनविटेशन, घोषणाओं, प्रमाण पत्र, बिजनेस कार्डस, मोनोग्राम्स, पोस्टर्स, मोटिवेशनल आर्ट प्रिंटस व मैगजीन व फिल्म के टाइटल्स में अपनी कला का बेहतरीन प्रदर्शन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त आप पेंटिंग्स, मैप, लीगल डाक्यूमेंट, सिरेमिक, स्मारक दस्तावेज और अन्य हैंडमेड प्रस्तुतियों में भी काम कर सकते हैं। आप चाहें तो किसी टैटू आर्टिस्ट के साथ मिलकर बॉडी आर्ट डिजाइनिंग में भी अपना योगदान दे सकते हैं। आप किसी ग्रीटिंग कार्ड कंपनी, पब्लिशिंग हाउस, प्रिंटिंग शॉप्स व वेडिंग प्लानर्स के साथ जुड़कर जॉब कर सकते हैं या फिर बतौर फ्रीलांसर भी अपनी सेवाएं दे सकते हैं। इसके अतिरिक्त आप अपना खुद का बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं। 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

सीआईएससीई तैयार करेगा नौवीं और 11वीं कक्षा के प्रश्न पत्र

नई दिल्ली : अगले अकादमिक सत्र से काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन्स( सीआईएससीई) कक्षा नौंवी और11 वीं की अंतिम परीक्षा के लिए दोनों कक्षाओं के उच्च मुख्य विषयों’’ के प्रश्नपत्र तैयार करेगा। अब तक इन दोनों कक्षाओं के वार्षिक परीक्षा प्रश्नपत्र संबंधित स्कूल तैयार करते थे। आईसीएसई स्कूलों के प्रमुखों के संघ के बंगाल चैप्टर के महासचिव नबारुण डे ने बताया कि आईसीएसई से संबद्ध राज्य के सभी स्कूलों को कल सीआईएससीई का सर्कुलर प्राप्त हो गया था। मुख्य विषयों के संबंध में डे ने कहा कि सर्कुलर में इसकी जानकारी नहीं दी गई है।

उन्होंने कहा कि सीआईएससीई संभवत: आने वाले दिनों में उच्च मुख्य विषयों’’ पर फैसला लेगी। डे ने बताया, उच्च इसका मकसद नौंवी और11 वीं कक्षा के पाठ्यक्रम के बड़े हिस्से को शामिल करना है ताकि छात्र बोर्ड परीक्षा से पहले बोझिल न महसूस करें।’सीआईएससीई के मुख्य कार्यकारी और सचिव गैरी अराथून ने बताया कि यह सर्कुलर परिषद् की आधिकारिक वेबसाइट पर भी मौजूद है।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

करना चाहते है ऑनलाइन कमाई, ये है बढ़िया ऑप्शन

नई दिल्ली : आज के इस डिजीटल युग में शायद ही कोई ऐसा होगा जो स्मार्टफोन, लैपटॉप ,कंप्यूटर और इंटरनेट से ना जुड़ा हो। ऐसे में आज के ज्यादातर युवा इसी माध्यम से कमाई करने का जरिया भी तलाशने लगे हैं। अगर आप भी अपने पीसी या लैपटॉप के सामने बैठकर इंटरनेट के जरिए अच्छी कमाई करने का विकल्प तलाश रहे हैं तो ये मुमकिन है। क्योंकि आज के दौर में ऑनलाइन अर्निंग का क्रेज युवाओं में बढ़ता ही जा रहा है। आज हम आपको बताते हैं ऑनलाइन कमाने के विकल्प  वो बेस्ट ऑप्शन्स जिनके जरिए आप ऑनलाइन अच्छी कमाई कर सकते हैं

ऑनलाइन ट्यूशन
अगर आपकी किसी सब्जेक्ट पर अच्छी पकड़ है तो आप ऑनलाइन ट्यूशन पढ़ाकर अच्छी कमाई कर सकते हैं। आप अपने घर से ही इंटरनेट के माध्यम से दुनिया के किसी भी कोने में रह रहे छात्रों को ऑनलाइन ट्यूशन दे सकते हैं। वैसे ऑनलाइन ट्यूटर बनने के लिए आपका सब्जेक्ट पर अच्छा कमांड होना चाहिए। इसके लिए टीचिंग एप्टीट्यूड और कंप्यूटर नॉलेज होना भी जरूरी होता है क्योंकि स्टूडेंट आपका ट्रायल भी ले सकते हैं। 

ऑनलाइन रिसर्च वर्क
ऑनलाइन रिसर्च वर्क भी ऑनलाइन अर्निंग का एक अच्छा जरिए बनता जा रहा है। अगर आप किसी विषय के स्पेशलिस्ट हैं तो फिर इसे अपने ऑफिस तक ही सीमित ना रखें। बल्कि उस सब्जेक्ट में आप दूसरों को सलाह देकर भी कमाई कर सकते हैं। जैसे अगर किसी को विज्ञान से संबंधित कोई ई- बुक लिखनी है लेकिन उसके पास रिसर्च के लिए वक्त नहीं है तो ऐसे में वो रिसर्च का काम किसी ऑनलाइन रिसर्च कंपनी को सौंप देता है। आप इस तरह का काम किसी ऑनलाइन रिसर्च एजेंसी की मदद से शुरू कर सकते हैं।

ऑनलाइन राइटिंग जॉब्स
अगर आपको लिखने का काफी शौक है तो फिर आप दूसरों के ब्लॉग्स या साइट्स के लिए ऑनलाइन राइटिंग करके अच्छी कमाई कर सकते हैं। पेड राइटिंग एक तरह से फ्रीलांस जॉब है जिसमें आपको क्लाइंट की जरूरत के हिसाब से आर्टिकल लिखने होते हैं। यहां आप अपनी सहूलियत के हिसाब से काम कर सकते हैं लेकिन फ्रीलांस राइटर बनने के लिए भाषा पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए और जो आप लिख रहे हैं उसमें क्वालिटी होना बेहद जरूरी है।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

पहाड़ों पर बने है ये खूबसूरत गांव, यहां घूमने के बाद नहीं करेंगा लौटने का मन

पहाड़ों में रहने का अपना अलग ही मचा है। लाइफ में लोग एक बार यहां रहने का मजा जरूर लेना चाहते है। खासकर गर्मियों में लोग छुट्टियां बिताने के लिए ठंडे यानी पहाड़ी इलाकों की सैर करना पसंद करते है। पहाड़ पर मिलने वाली ठंडी हवाएं मन को अलग ही सुकून पहुंचाती है, वहीं आपको पहाड़ों पर कुछ दिन रहने का मौका मिल जाए तो कितना अच्छा होगा। आज हम आपको कुछ ऐसे ही गांव के बारे में बताएंगे, जो पहाड़ों पर बसे है और यहां घूमने के बाद, हर कोई यहां रहना चाहेंगा। 

 


1. मॉंट-ट्रेंब्लैंट, कनाडा
यह कनाडा का खूबसूरत गांव है, जो लॉरेंसियों में पहाड़ी पर बसा है। यहां पर लोग बड़ी संख्या में घूमने आते है।

PunjabKesari

2. सल्जबर्ग, ऑस्ट्रिया
ऑस्ट्रिया का सल्‍ज्बर्ग गांव भी बेहद खूबसूरत है। अगर आप यहां एक-दो रात भी बिता लेंगे तो यह पल आपके जिंदगी केे लिए यादगार बन सकता है। यहां पर मौजूद म‍िराबेल गार्डन और साल्जबर्ग संगीत कपल्स के लिए बेहद मशहूर है। 

PunjabKesari

3. जर्मैट, स्विटजरलैंड
स्विटजरलैंड का जमैट गांव भी पहाड़ों पर बना है। इस गांव में जाने के लि‍ए पैदल चलकर जाना पड़ता है। यहां पर आने वाले व‍िज‍िटर्स के ल‍िए खूबसूरत रेस्‍टोरेंट और पार्क बने हुए हैं।

PunjabKesari

4. डेवोस, स्विटजरलैंड
डेवोस को वार्षिक विश्व आर्थिक मंच की मेजबानी के लिए जाना जाता है। यह जगह खेल के लिए भी प्रसिद्ध है। इस गांव पहाड़ों का द‍िल कहा जाता है।

PunjabKesari

5. हॉल्स्टैट, ऑस्ट्रिया
हॉलस्टैट एक छोटा सा लेकसाइड ऑस्ट्रियाई गांव है। यहां पर पारंपरिक घर बने हैं। यह पर बिताएं कुछ पल भी आपकी जिंदगी के यादगार पल बन सकते है। 

 

6. टिग्नेस वाल क्लैरट, फ्रांस
टिग्नेस वाल क्लैरट का गांव एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। चाहे आप क्लब मेड में रह रहे हों या एक विशिष्ट पर्वत पर, यहां की सुविधाए और प्राकृतिक नजारा आपको मोह लेगा।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

फॉलो करें ये टिप्स, इंग्लिश लिखने की स्किल सुधारने में मिलेगी मदद

नई दिल्ली : आज के बदलते युग यानि वैश्विक तरक्की के युग में  अलग - अलग लोगों के जुड़ने के लिए अब सिर्फ़ किसी भाषा का ज्ञान उसे बोल पाना या पढ़ लेनी ही काफी नहीं है। ज़रुरत है उसे सही तरीके से लिखने की जिससे आप अपनी बात एक सहज और सभ्य तरीके से दूसरों के सामने रख सकें। अगर आप अंग्रेजी में काम की ईमेल लिख रहे हैं या कॉलेज का कोई पेपर तो और भी ज़रूरी हो जाता है कि पढ़ने वाले के ऊपर आपकी एक बेहतरीन छवि छोड़ जाएं। अगर आप भी अग्रेंजी लिखने में कभी गलतियां करते है तो हम आपको बता रहे कुछ एेसे आसान तरीकों के बारे में जिनसे आप अपनी अग्रेंजी लिखने की स्किल को सुधार सकते है । 

प्लैनिंग
कुछ भी लिखने से पहले सोच लें कि क्या लिखना है, क्यों लिखना है और कैसे लिखना है? एक बार दिमाग़ में विचार साफ़ हो गए तो लिखते वक़्त ज़्यादा सोचना नहीं पड़ेगा और क़लम अपने-आप दौड़ेगी।

रिसर्च
सोच तो लिया कि क्या लिखना है लेकिन उसके बारे में अगर और भी जानकारी इकट्ठी हो जाए तो लेखनी में चार चांद लग जाते हैं| आपके आईडिया को सुन्दर तरीके से प्रस्तुत करने के लिए आपके पास काफ़ी सामग्री इकट्ठी हो जाती है जिस से कि पढ़ने वाला समझ जाएगा कि आप हवा में तीर नहीं छोड़ रहे।

अब लिख डालो
ये सारी तैयारी हो गयी तो फिर सब कुछ सलीके से लिख डालो| क्या पहले लिखना है, क्या बीच में आएगा और कैसे अंत होगा, इसका ख्याल रखते हुए कागज़ पर अपना एस्से या कॉलेज का पेपर लिख दो। अगर किसी को ईमेल लिख रहे हो तो तो इस बात का ध्यान दो कि जो भी जानकारी देनी थी, वो सभी लिखी गयी है और कुछ भी छूटा नहीं।

दूसरा ड्राफ़्ट
यहां ज़रुरत है अपनी गलतियां सुधारने की और भाषा को संवारने की। एक बार फिर से पढ़ो जो लिखा है और देखो कि क्या उसे और बेहतर ढ़ग से पेश किया जा सकता है? कोई नयी बात, नए तरीके से कही जा सकती है? वो सब काट डालो जो ज़रूरी नहीं है।

एडिट करो
जहां शब्दों के स्पेलिंग ग़लत हैं उन्हें ठीक कर लो और जहाँ लगता है कि बेहतर शब्दों का इस्तेमाल हो सकता है, वो कर डालो। अब तक आपको पता चल गया होगा कि जो कुछ लिखना था, वो लिख लिया, बस अब उसे बेहतर और सुन्दर तरीके से पेश करना है! बार-बार पढ़ो और देखो कि जो लिखा गया है वो सिर्फ़ इसलिए नहीं कि लिखना था सो लिख दिया। देखो कि क्या उस में वो बात निकल कर आ रही है जो आप कहना चाहते हो? अगर नहीं, तो दोबारा से लिखो, काटो, छांटो और तब तक करो जब तक मन को संतुष्टि ना हो जाए।

निष्कर्ष
जब पूरी बात हो गयी तो उसका अंत एक सलीके से लिखने की ज़रुरत है। इसके लिए ईमेल में या पेपर में लिखी गयी सभी बातों का एक निचोड़ प्रस्तुत कीजिये, समरी के तौर पर और वो भी कम और आसान शब्दों में।

एडिटिंग
एक बार फिर से एडिट करो, देखो कि फ़ॉरमैट ठीक है कि नहीं और उसके बाद ही अपनी ईमेल या पेपर को ख़त्म करो।शुरू में हो सकता है आपको इस में समय लगे लेकिन करते-करते इसकी आदत हो जायेगी।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

यूजीसी ने दी 62 उच्च शैक्षणिक संस्थाओं को पूर्ण स्वायत्तता

नई दिल्ली :केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग( यूजीसी) ने पांच केंद्रीय एवं 21 राज्य विश्वविद्यालयों सहित62 उच्च शैक्षणिक संस्थाओं को पूर्ण स्वायत्तता दी है। जिन संस्थाओं को पूर्ण स्वायत्तता दी गई है वे अपनी दाखिला प्रक्रिया, फीस की संरचना और पाठ्यक्रम तय करने के लिए स्वतंत्र होंगे। जावड़ेकर ने ट्वीट किया कि ,‘‘उदार नियामक व्यवस्था के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच के अनुसार उच्च मानक बनाकर रखने वाल 62 उच्च शैक्षणिक संस्थाओं को यूजीसी की ओर से आज स्वायत्तता दी गई।’’केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पांच केंद्रीय विश्वविद्यालयों, 21 राज्य विश्वविद्यालयों, 26 निजी विश्वविद्यालयों और10 अन्य कॉलेजों को स्वायत्त कॉलेज नियमन के तहत स्वायत्तता दी गई है।  

पहले भी दे चुकी है सरकार पूर्ण स्वायत्तता 
गौरतलब है कि इससे पहले सरकार ने भारतीय प्रबंधन संस्थानों (आईआईएम) को स्वायत्तता दी गयी थी। अब उन 62 उच्च संस्थानों को अत्यधिक स्वायत्ता दी गयी है। जिन्हें नैक एक्रिडेशन में 3.26 से अधिक ग्रेड आये हैं। उन्होंने बताया कि इनमें पांच केन्द्रीय विश्वविद्यालय, 21 राज्यों के विश्वविद्यालय तथा 24 डीम्ड यूनिवर्सिटी तथा दो निजी विश्वविद्यालय शामिल हैं।   

खुद ले सकेेगें संस्थान फैसला 
उन्होंने बताया कि इन संस्थानों को अब नया कोर्स और नया विभाग शुरू करने तथा विदेशी छात्रों को दाखिला देने एवं विदेशी शिक्षकों को नियुक्त करने और ऑफ कैंपस शुरू करने एवं ऑनलाइन दूरवर्ती शिक्षा शुरु करने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से अनुमति लेनी नहीं पड़ेगी। उन्होंने कहा पहले इन संस्थानों को अनुमति लेने के लिए बार-बार यूजीसी के पास आना पड़ता था लेकिन अब ये संस्थान खुद निर्णय ले सकेंगे। इसके अलावा ये संस्थान विश्व के 500 विश्वस्तरीय शैक्षणिक संस्थानों से अकादमिक सहभागिता भी कर सकेंगे।  

इन विश्वविद्यालयों को मिली है पूर्ण स्वायत्तता  
जावड़ेकर ने यह भी बताया कि आठ स्वशासित कॉलेजों को भी अत्यधिक स्वायत्तता दी गयी है जो अपने पाठ्यक्रम खुद बना सकेंगे और परीक्षा स्वयं आयोजित करेंगे तथा शोधकार्य भी कर सकेंगे, लेकिन उन्हें डिग्री विश्वविद्यालय ही देगा। जिन पांच केन्द्रीय विश्वविद्यालयों को अधिक स्वायत्तता दी गयी है । उनमें जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, हैदराबाद विश्वविद्यालय, बीएचयू और अलीगढ़ विश्वविद्यालय विदेशी एवं अंग्रेजी भाषा संस्थान (तेलंगाना) शामिल है लेकिन उनमें दिल्ली विश्वविद्यालय नहीं है। जिन दो निजी विश्वविद्यालयों को अत्यधिक स्वायत्तता दी गयी है उसमें ओ पी जिंदल यूनिवर्सिटी तथा दीनदयाल उपाध्याय पेट्रोलियम विश्वविद्यालय शामिल है।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

सफल होने के लिए हमेशा ध्यान रखें ये बातें

नई दिल्ली : किसी भी काम को करते समय मन में असफलता का डर नही होना चाहिए, हमें कोई भी काम पूरी निडरता के साथ करना चाहिए तभी हम उसमें अपना शत प्रतिशत दे पाएंगे। यदि हमारे अंदर पहले से ही भय बैठ गया तो अवश्य ही हम उस काम को नही कर पाएंगे। किसी कार्य में असफलता हमें मौका देती है अपनी गलतियों को सुधारने का तो असफलता से भयभीत न हो उससे कुछ सीखने की कोशिश करें ।

जीवन में बहुत से उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। कुछ घटनाएं आपके प्रतिकूल हो सकती हैं तो कुछ अनुकूल। इसलिए प्रतिकूल घटनाओं से विचलित नहीं होना चाहिए और हमें उन हालात को जहां तक संभव हो, अपनी ओर से बदलने की कोशिश करनी चाहिए। प्रतिकूल स्थितियां हमें जो अनुभव प्रदान करती हैं, वे ही भविष्य में हमारा हौसला बढ़ाती हैं। कुछ बातों का ध्यान रखकर आप अपने कॅरियर में सफल हो सकती हैं। 

कालेज-आफिस में निर्धारित समय से पांच मिनट पहले ही पहुंचने की करें। इससे आप हड़बड़ी से बची रहेंगी और व्यर्थ की टेंशन नहीं रहेगी। अपना सभी कार्य वक्त पर पूरा करें। किसी कार्य को पेंडिंग में न रखें।

पढ़ाई के प्रति समर्पण की भावना और अनुशासन आपके व्यक्तित्व को गरिमा प्रदान करते हैं और आपकी सफलता का मार्ग आसान बना देते हैं।
आलसीपन छोड़कर अपने कार्य को मुस्कराते हुए करें तो वह काम बोझ नहीं लगेगा और आपको आनंद प्रदान करेगा।

जब तक बहुत इमरजेंसी न हो, अपना काम स्वयं पूरा करें उसे दूसरों पर न डालें। सबसे विनम्रता से बोलें एवं अच्छा व्यवहार करें। कोई कटुता से भी पेश आए तो उसे विनम्रता से समझा दें, उसकी बात पर क्रोधित न हों।

आपके साथी को अच्छे नबंर मिले तो उसे बधाई दें। उससे जलन महसूस न करें।

अपने काम से काम रखें दूसरों के मामलों में बेवजह दखल न दें। अगर कोई आपकी राय पूछे तभी दें।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

यहां निकली है ग्रैजुएट के लिए सरकारी नौकरियां, जल्द करें आवेदन

नई दिल्ली : राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक ने असिस्टेंट मैनेजर के 92 पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी कर आवेदन मांगे गए है। उम्मीदवार अपनी योग्यता और इच्छा से इनके लिए अप्लाई कर सकते है। 
शैक्षिक योग्यता 
स्नातक डिग्री
पद विवरण
रिक्त पदों का नाम - असिस्टेंट मैनेजर 
आवेदन करने के लिए अंतिम तिथि 
2 अप्रैल 2018
आयु सीमा 
उम्मीदवार की आयु  21-30 साल के बीच होनी चाहिए 
चयन प्रकिया
उम्मीदवार का चयन  प्रारंभिक एवं मुख्य ऑनलाइन टेस्ट और इंटरव्यू में प्रदर्शन के अनुसार किया जाएगा। 
सैलरी 
28,150-55,600 /- रुपये 
आवेदन कैसे करें 
आवेदन करने के लिए उम्मीदवार ऑफीशियल वेबसाइट www.nabard.org. के जरिए 2 अप्रैल 2018 तक अप्लाई कर सकते है।