Updated -

mobile_app
liveTv

क्या यही है, स्वच्छ भारत अभियान


जयपुर टाइम्स
फुलेरा (नि.सं.)।
केन्द्र व राज्य सरकारो के द्वारा जहॉ एक ओर स्वच्छता का नारा दिया जा रहा है, जिसके लिए सरकार के द्वारा लोगो को जागरूप करने के लिए करोडो रूपये खर्च कर रही है, वही दूसरी ओर फुलेरा पालिका प्रशासन के द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के समीप ही कचरा-पात्र लगा दिया गया है। गौरतलब है कि कस्बे का गांधीचौक जो कि शाम होते ही चाट बाजार बन जाता है। जिसके चलते उन कचरा-पात्रों की दशा दयनीय हो जाती है, कचरापात्र पूरा भरने के पश्चात बिखरने लगता है तथा जानवर उसी कचरे को गांधीजी की प्रतिमा के नीचे बने प्लेटफार्म पर बिखरा देते है, जिसके कारण स्वच्छता का जो नारा दिया जाता है,उस पर सवालिया निशान लगता नजर आता है, कि प्रशासन नगर को स्वच्छ रखना चाहता है या सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान की खानापूर्ति करना चाहता है।

काजीपुरा के ग्रामीणों की ‘पीर’, बीसलपुर का नहीं मिल रहा ‘नीर’


जयपुर टाइम्स
सांभरलेक (निसं.)।
पंचायत समिति सांभरलेक की आदर्श ग्राम पंचायत काजीपुरा के निवासियों को बीसलपुर पेयजल योजना का पानी नहीं मिलने से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि काजीपुरा ग्राम पंचायत आदर्श ग्राम पंचायत है जिसको विधायक निर्मल कुमावत ने गोद ले रखा है। वहीं दूसरी और ग्राम पंचायत काजीपुरा के तेजतर्रार सरपंच नवरतन कुमावत ग्राम पंचायत के विकास में हमेशा अग्रणी रहते है और ग्राम पंचायत को अपने राजनीतिक अनुभव व मेहनत से आदर्श ग्राम पंचायत बनाने में सफल रहे है। मगर इसके बावजूद बीसलपुर पेयजल योजना का पानी ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है जिसके कारण ग्रामीणों को अभी सर्दी के सितम के साथ नीर की पीड़ा भी सहनी पड़ रही है। उपखंड सांभरलेक की ग्राम पंचायत काजीपुरा की आबादी लगभग छह हजार की है तो वहीं ग्राम काजीपुरा की आबादी भी चार हजार के लगभग है। इतनी आबादी होने के बावजूद ग्रामीणों को दो माह से पेयजल समस्या से जूझना पड़ रहा है।
ग्राम पंचायत काजीपुरा में बीसलपुर परियोजना के तहत 85 पीएसपी प्वाइंट बनने थे लेकिन मात्र 77 प्वाइंट ही बन पाए है वहीं 8 प्वाइंट आज भी नहीं बने है। अकेले ग्राम काजीपुरा में 57  पीएसपी प्वाइंट बनाए गए है जिनमें से आज भी 8 प्वाइंट ऐसे है जो बनने के बाद आज भी पानी नहीं आने के कारण सूखे पड़े है। अधिक आबादी होनेे के कारण काजीपुरा के ग्रामीणों को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल पा रहा है। ग्राम के गुर्जर मौहल्ला, कुमावत मौहल्ला, कांकड़ की ढ़ाणी, काजीपुरा, सत्यनारायण भगवान के मंदिर के पास आदि बने प्वाइंटों में आज तक एक बूंद पानी की नहीं पहुंची जिसके कारण इन मौहल्लों के वाशिंदों को पानी नहीं मिल पा रहा है। ग्राम पंचायत काजीपुरा के सरपंच व ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम काजीपुरा में ग्रामीण नियत समय पर बीसलपुर परियोजना के तहत पानी का बिल चुका रहे है उसके बावजूद भी यह आठ प्वाइंट सूखे पड़े है। इस संबंध में ग्रामीणों ने कई बार अधिकारियों को अवगत कराया मगर आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई जिसके कारण आज भी ग्रामीण पेयजल के लिए तरस रहे है। ग्रामीणों ने बताया कि बीसलपुर परियोजना के तहत करीब 12000 रुपए पानी का बिल चुका रहे है लेकिन उक्त प्वाइंटों में विभाग के अधिकारियों की अनदेखी के कारण पानी नहीं पहुंच पाया है।

अच्छी शिक्षा से ही किया जा सकता है गांव का नाम रोशन : विधायक डां. शर्मा

जयपुर टाइम्स
उदयपुरवाटी (निसं.)।
निकटवर्ती ग्राम टोडपुरा में स्थित सरस्वती माध्यमिक विद्यालय के प्रागण में वार्षिकोत्सव टोडपुरा उपसरपंच सोहन लाल सैनी की अध्यक्षता में मनाया गया कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नवलगढ विधायक व पूर्व चिकित्सा मंत्री डां.राजकुमार शर्मा थे उनका मालाएं व साफा पहनाकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम के दौरान उन्होने कहा की अच्छी शिक्षा से ही गांव व देश का नाम रोशन किया जा सकता है बच्चो का भविष्य अध्यापको के पास है उनकी जिम्मेदार बनती है की वे बच्चो को अच्छी शिक्षा दे ओर माता-पिता विद्यालय तथा गांव देश का नाम रोशन करेगे। कार्यक्रम के दौरान विशिष्ट अतिथि के रूप में आये पार्षद अजय तसीड ने कहा की समाज की लडाईयो को दूर कर हमे समाज को एकता की डोर में बंधाने का प्रयास करना चाहिए। इस दौरान विद्यालय के निदेशक फतेहचन्द सैनी ने कार्यक्रम में आये आंगन्तुओ का आभार प्रकट किया। कार्यक्रम में राजेन्द्र सिंह शेखावत चिराना,देवेन्द्र सतरावला,मो.ईकबाल चिराना,नागरमल सैनी,दिलीप सैनी, रमेश शर्मा, गिरधारी लाल, भगवान सैनी, मांगूराम, राजेश कुमार, नारायण राम सैनी, विरेन्द्र स्वामी नोहरा, राधेश्याम सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन विजेन्द्र सैनी ने किया। विद्यालय में लगाये गये सीसीटीवी कैमरो का उद्घाटन डां.राजकुमार शर्मा ने किया। 

फुलेरावासियों के लिए सिरदर्द बना रेल समपार फाटक

जयपुर टाइम्स
फुलेरा (निसं.)।
रेलवे समपार फाटको के बन्द रहने से लोगो को भारी परेशानीयों का सामना करना पडता है। वहीं दैनिक आवागमन करने वाले मजदूर वर्ग, स्कुल के विद्यार्थीयों को शहर के विभिन्न सरकारी कार्यालयों तक समय पर पहुंचने में ये समपार फाटक बाधा बनी रहती है।
 गौरतलब है कि फुलेरा कस्बे की बसावट के बीचों बीच से रेल लाइनों के गुजर जाने से कस्बा दों भागों में विभक्त हो रखा है जहाँ एक ओर वार्ड संख्या दो से नो तक है जो रेल लाइन के पश्चिमी छोर पर है जहां लोगो का निवास है व दर्जनों मोहल्ले व आस पास के गांव बसे है,जबकि रेल लाइन के दूसरी ओर सभी सरकारी महकमें है जिनमें राजकिय सामूदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, निजी अस्पताल, पुलिस थाना, रेलवे स्टेशन, बस स्टेण्ड, नगरपालिका कार्यालय, जलदाय व विद्युत विभाग, सार्वजनिक निर्माण विभाग, राजकिय सी.से.स्कुल, राजकिय सी.से.बालिका विद्यालय, निजी शिक्षण संस्थान, तथा रेलवे अस्पताल व केन्द्रीय विद्यालय जेसे सरकारी महकमे स्थित है। परन्तु दुसरी ओर पश्चिमी छोर पर बसे पुराना फुलेरा, श्रीरामनगर, मिश्र कॉलोनी, एल बी एस कॉलोनी, जोशी कॉलोनी, आकाश्या टीबा सहित कई कॉलोनियों के लोगो को रेल समपार फाटक संख्या 1 ए/2इ जो सॉभर रोड स्थित है जबकि अजमेरी गेट नम्बर 1 सी है इन दोनों फाटकों के बन्द रहने से इस ओर के मजदूर,रोजमर्रा के काम से आवागमन करने वाले लोगो के लिए ये समपार फाटक अभिशाप बने हुए है। कई बार तो इन गेटो को बन्द कर दो से तीन गाडियों को निकाला जाता है जिससे लोगो को काफी इन्तजार करना पडता है जिससे कई बार तो लोगो की गाडियां ही निकल जाती है। समय रहते इन समपार फाटकों पर आरओबी (पुलिया) या आरयुबी (जमीनी पुल) बनाये बीना जनता की परेशानी ज्यों की त्यों बनी रहेगी। जबकि लगभग एक वर्ष पूर्व इस रेलवे फाटक पर उपरी पुल बनाने की सहमती भी सरकार से मिल चूकि थी,लेकिन एक वर्ष गुजर जाने के बाद भी किसी भी जनप्रतिनिधी ने इस और ध्यान नहीं दिया जिसके कारण आये दिन उक्त फाटक पर जाम की स्थिती बनी रहती है। 

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से ही अच्छे नागरिकों का निर्माण संभव: चिटनीस


जयपुर टाइम्स
कोटपूतली (निसं.)।
राजमार्ग स्थित ग्राम पनियाला के पास दिल्ली पब्लिक वल्र्ड स्कूल में रविवार को लोहड़ी व संक्रान्ति उत्सव का आयोजन बड़े ही धूमधाम के साथ किया गया। इस मौके पर आयोजित पतंग प्रतियोगिता का मध्य प्रदेश सरकार की कैबिनेट मंत्री अर्चना चिटनीस पतंग उड़ाकर उद्घाटन किया।उन्होंने विद्यालय परिसर का अवलोकन करते हुए शैक्षणिक माहौल की सराहना की। चिटनीस ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से ही अच्छे नागरिकों का निर्माण संभव है। कार्यक्रम में पहुंचे कोटा सांसद व भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष ओम बिड़ला ने कहा कि जब तक बच्चों को उचित मंच नहीं मिलेगा।उनकी प्रतिभा निखर कर सामने नहीं आ सकती। भाजपा दिल्ली के प्रदेशाध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि किसी भी अच्छे उद्देश्य की बिना जीवन में बेहतर मुकाम हासिल नहीं किया जा सकता। इस मौके पर बिड़ला व तिवारी ने विधालय परिसर का अवलोकन करते हुए पौधरोपण भी किया।विद्यालय की प्राचार्या सुनीता शर्मा ने गुलदस्ता भेंटकर अतिथियों का स्वागत किया।स्वागत भाषण पढ़ते हुए भाजपा दिल्ली प्रदेश कोषाध्यक्ष व विद्यालय के निदेशक सीए विष्णु मित्तल ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया।उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि आप जिस भी क्षेत्र में जाना चाहतें हैं। उसकी तैयारी बहुत पहले से करनी होती है। मित्तल ने बालकों से जीवन में लक्ष्य निर्धारित करने की बात कही।प्रतियोगिता में भाग लेने वाले 30 से अधिक बच्चों को पुरुस्कृत भी किया गया।इस दौरान दिल्ली भाजपा के पदाधिकारि सत्यभूषण जैन, दीनदयाल शोध संस्थान के प्रधान सचिव अतुल जैन, वरिष्ठ आईएएस विष्णु दरबारी, आईआरएस डॉ. शिखा, गृहमंत्री ओएसडी मुकुंद बिहारी, गोपी शर्मा, अमित मिश्रा, राखी मिश्रा, अमिता वशिष्ठ, मुक्ता सिंघवी समेत बड़ी संख्या में विद्यालय स्टॉफ, अभिभावक व विद्यार्थी मौजूद थे।

अलवर के युवक की स्वाइन फ्लू से मौत


जयपुर टाइम्स
अलवर (विसं.)।
राजस्थान के अलवर के एक युवक की स्वाइन फ्लू से आज मौत हो गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार अलवर में स्कीम नम्बर दो कॉलोनी निवासी पूर्व मंत्री हरिसिंह के पुत्र भूपेन्द्र यादव (43) की हरियाणा में गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में स्वाइन फ्लू से मृत्यु हो गई। भूपेन्द्र को चार दिन पहले अलवर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उसे मेदांता अस्पताल भेज दिया गया था। भूपेन्द्र की स्वाइन फ्लू से मौत के बाद चिकित्सा विभाग ने मेडिकल टीमें बनाकर कॉलोनी में भेजी है और आसपास के लोगों को टेमी फ्लू की गोलियां वितरित की गई। अलवर जिले में स्वाइन फ्लू के मद्देनजर तीन टीमों का गठन किया हुआ है और ये टीमें स्कूलों में खांसी जुकाम के लक्षण वाले बच्चों को टेमीफ्लू की गोलियां दे रही है। इसके बाद जरुरत पडऩे पर घर-घर जाकर सर्वे भी किया जायेगा।

सांस्कृतिक एवं जीवन्त केमल फेस्टिवल कल से बीकानेर में

जयपुर। दो दिवसीय कैमल फेस्टिवल का आयोजन कल 13 जनवरी से बीकानरे में आयोजित किया जा रहा है। इस फेस्टिवल के दौरान ऊंटों की दौड, ऊंटनी दूहना, इसके केशों की आकर्षक कटाई के साथ ही अन्य आमोद-प्रमोद के आयोजन भी होंगे। इसका आयोजन राजस्थान सरकार का पर्यटन विभाग कर रहा है।
बीकानेर में कैमल फेस्टिवल एक वार्षिक मेला है जो कि इस रेगिस्तानी जहाज को समर्पित है। इस दौरान ऊंटों को रंगबिरंगी पोशाक पहनाने के साथ ही उनसे विभिन्न प्रकार की मनोहरी गतिविधियां करवाई जाती है। इस फेस्टिवल में यादगार वस्तुओं की खरीदारी, विशेष व्यंजन एवं फोटोग्राफी के अच्छे अवसर मिलते हैं। दूसरी तरफ इस फेस्टिवल के दौरान अन्य मनोरंजनों में लोक नृत्य, फायर डांसर्स तथा चिताकर्षक आतिशबाजी होती है जिसे इस मरूप्रदेश का आसमान जगमगा उठेगा। 
फेस्टिवल के पहले दिन (13 जनवरी) को पर्यटकों के लिए ऊंट की सवारी एवं कैमल सफारीज का आयोजन ग्राम रायसर (बीकानेर शहर और बीकानेर जयपुर हाइवे पर 15 किलोमीटर दूर) सुबह 8 बजे होगा। इसके बाद जूनागढ से डाॅ. करणीसिंह स्टेडियम तक रंगबिरंगे ऊंटों की शोभायात्रा निकाली जाएगी तथा स्टेडियम पर ही इस फेस्टिवल का उद्घाटन समारोह आयोजित किया जाएगा। इस समारोह के दौरान बैगपाइपर आर्मी बैंण्ड का आकर्षक प्रदर्शन होगा। इस अवसर विभिन्न प्रतियोगिताएं जैसे ऊंटों की सजावट, ऊंटों की ऊंन की आकर्षक डिजाइन में कटाई, ऊंट नृत्य, मिस मरवन एवं मिस्टर बीकाणा के आयोजन भी होंगे। इस दिन का समापन राजस्थानी कलाकारों की सांस्कृतिक प्रस्तुति के साथ होगा।
समापन दिवस यानी 14 जनवरी की शुरूआत रामपुरा हवेली से बीकाजी की टेकरी तक हेरिटेज वाॅक सुबह 9.30 बजे होगी। डाॅ. करणीसिंह स्टेडियम पर आगंतुक विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं जैसे रस्साकशी, ग्रामीण कुश्ती, साफा बंधाई (विदेशी पर्यटकों के लिए), ऊंटनी का दूध निकालने सहित अन्य आयोजन होंगे। इस मौके पर कबड्डी का एक प्रदर्शन मैच भी होगा। दोहपर बाद मटकी दौड़ और म्यूजिकल चेयर प्रतियोगिता होगी जिसमें महिलाएं भी भाग ले सकेंगी। इसके बाद पुरस्कार वितरण समारोह एवं राजस्थानी कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए जाएंगे। दर्शक इस मौके पर अग्नि नृत्य की प्रस्तुति देख कर सम्मोहित हो जाएंगे। फेस्टिवल के समापन के बाद आकर्षक आतिशबाजी होगी।