Updated -

mobile_app
liveTv

दोनों कोरियाई देश के बीच हुई ऐसी सहमती

सियोल : दक्षिण कोरिया का एक प्रतिनिधिमंडल दोनों देशों को बांटने वाले कोरियाई प्रायद्वीप में सड़क और रेलवे मार्ग को एक बार फिर जोड़ने के लिए आयोजित शिला न्यास समारोह के लिए बुधवार को उत्तर कोरिया रवाना हुआ.

यह समारोह ऐसे समय में आयोजित किया जा रहा है जब दोनों कोरियाई देशों के बीच परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर बातचीत रुकी हुई है.

अधिकारियों और उत्तर कोरिया में जन्मे पांच लोगों सहित करीब 100 दक्षिण कोरियाई नागरिकों को ले जा रही नौ डिब्बे वाली विशेष ट्रेन सुबह सियोल रेलवे स्टेशन से रवाना होती नजर आई. यहां से उत्तर कोरियाई सीमा शहर केयसोंग तक का रास्ता दो घंटे का है.
दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जेई-इन और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन प्योंगयाग में (सितम्बर में) अपनी तीसरी शिखर वार्ता के दौरान साल के अंत में यह समारोह आयोजित किए जाने पर सहमत हुए थे.

अंडमान-निकोबार के 3 आइलैंड के बदले गए नाम, अब कहलाएंगे ये

अंडमान-निकोबारः केंद्र सरकार ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह के तीन आइलैंड के नामों में बदलाव कर दिया है. केंद्र सरकार ने इन तीनों ही आइलैंड्स के नाम में परिवर्तन कर इन्हें नया नाम दिया है. इनमें जहां रोस आइलैंड का नाम बदलकर नेताजी सुभाषचंद्र बोस कर दिया है तो वहीं नील आइलैंड का नाम शहीद द्वीप और हैवलॉक आइलैंड का नाम स्वराज द्वीप कर दिया गया है.
बता दें कुछ समय पहले ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संगम नगरी इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया था, जिसके बाद उत्तर प्रदेश में कुछ और भी शहरों के नाम बदले गए. जिसे लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को काफी विवादों का सामना करना पड़ा था. शहर का नाम बदले जाने को लेकर राजनीतिज्ञों और आम जनता का कहना था कि नाम बदलकर उन्हें क्या हासिल होने वाला है.

 

इस देश में सुनामी का फिर से खतरा

जकार्ता। इंडोनेशिया के अनाक क्रेकाटोआ ज्वालमुखी की सक्रियता को देखते हुए तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों को समुद्र तटों से दूर रहने की चेतावनी दी गई है। ऐसी आशंका है कि सुनामी फिर से कहर बरपा सकती है। इंडोनेशिया में ज्वालामुखी फटने के बाद आई सुनामी में मरने वालों की संख्या बढ़कर 281 हो गई है, जबकि 1,000 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। 
बीबीसी के मुताबिक, ऐसा माना जा रहा है कि ज्वालामुखी फटने से समुद्र के भीतर हुए भूस्खलन की वजह से सुनामी आई। क्रेकाटोआ ज्वालामुकी रविवार को दोबारा फटा। चार्टर विमान से शूट किए गए वीडियो में सुमात्रा और जावा के बीच सुंडा स्ट्रेट में तबाही का मंजर कैद हुआ है।

राष्ट्रपति जोको विडोडो ने पीडि़तों के प्रति शोक जताते हुए लोगों से धैर्य बनाए रखने का आग्रह किया है। सडक़ें बाधित होने से बचाव कार्य बाधित हुआ है। पीडि़तों की तलाश में मदद के लिए क्षतिग्रस्त क्षेत्रों में मलबे को हटाने के लिए भारी उपकरण लाए जा रहे हैं।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रमुख सुतोपो पुरवो नुगरोहो ने जावा में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मौसम विज्ञान, जलवायु विज्ञान और भूभौतिकीय एजेंसी की ओर से सुझाव हैं कि लोगों को समुद्र तट से दूरी बनाए रखनी चाहिए और वहां किसी तरह की गतिविधियों में संलिप्त नहीं रहना चाहिए।’’
उन्होंने कहा, ‘‘अनाक क्रेकाटोआ ज्वालामुखी के फिर से सक्रिय होने की वजह से फिर से सुनामी आने की संभावना है।’’ गौरतलब है कि शुक्रवार को ज्वालामुखी दो मिनट और 12 सेकेंड के लिए फटा और उससे निकले धुएं का गुबार 400 मीटर तक ऊंचा उठा।

सुनामी की वजह से बड़ी संख्या में इमारतें नष्ट हो गईं, लहरों में कारें बह गईं, तानजुंग लेसुंग बीच रिसॉर्ट सहित कई लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में पेड़ जड़ से उखड़ गए। 

ट्रंप से मतभेद के बाद रक्षा मंत्री ने दिया इस्तीफा

वाशिंगटन। अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस ने सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ मतभेदों के बाद इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने एक पत्र में कहा है कि राष्ट्रपति पेंटागन के शीर्ष पद पर किसी ऐसे व्यक्ति को चाहते हैं, जो उनके विचारों से मेल रखता हो। सेवानिवृत्त मरीन जनरल, मैटिस ने यह घोषणा ऐसे समय में की है, जब एक दिन पहले ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि सीरिया से अमेरिकी सैनिकों की पूर्ण वापसी जारी है। मैटिस ने कहा कि वह फरवरी के अंत तक पद से हट जाएंगे। 

वाशिंगटन पोस्ट के अनुसार, ट्रंप ने सीरिया से सैनिकों की वापसी पर मैटिस सहित अपने सलाहकारों को दरकिनार कर दिया और इस इस्लामिक राज्य पर जीत की घोषणा कर दी। हालांकि पेंटागन और विदेश विभाग महीनों से कह रहे हैं कि सीरिया में समूहों के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है। राष्ट्रपति ने मैटिस की सिफारिश के विपरीत पेंटागन को यह आदेश भी दिया कि वह अफगानिस्तान में तैनात 14,000 अमेरिकी सैनिकों में से लगभग आधी संख्या को वापस बुलाने की एक योजना तैयार करे।

इस कदम से युद्धग्रस्त अफगानिस्तान अतिरिक्त संकट में फंस सकता है। व्हाइट हाउस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मैटिस ने ट्रंप के साथ आमने-सामने हुई एक बैठक के बाद अपना त्याग-पत्र जारी किया। बैठक में दोनों नेताओं ने अपने मतभेदों पर चर्चा की। मैटिस ने ट्रंप के विपरीत अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन का पक्ष लिया और कहा कि अमेरिका अपने सहयोगियों के साथ अपने संबंधों से अपनी शक्ति हासिल करता है और इसलिए उनके साथ सम्मान से पेश आना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि देश को इस्लामिक स्टेट जैसे समूहों से उत्पन्न खतरों सहित अन्य खतरों को लेकर बिल्कुल स्पष्ट रहना चाहिए।

ऑपरेशन ऑलआउट में सेना को मिली बड़ी कामयाबी

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों द्वारा जारी ऑपरेशन ऑलआउट आतंकियों के लिए काल बनती जा रही है। जम्मू-कश्मीर के अवंतिपुरा इलाके में शनिवार को त्राल में आतंकियों से हुई मुठभेड़ में सेना का ऑपरेशन बड़ी कामयाबी के बाद पूरा हो गया है। सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। सुरक्षाबलों ने छह आतंकियों को मार गिराया है। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक खुफिया सूचना के आधार पर 42 राष्ट्रीय रायफल्स और 180 सीआरपीएफ की सयुक्त टीम ने इलाकें में सर्च ऑपरेशन चलाया था। आतंकियों ने सुरक्षाबलों को करीब आते देख गोलीबारी शुरु कर दी। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने मुहतोड़ जवाब देते हुए 6 आतंकियों को मार गिराया। सेना ने पूरे इलाके को घेर लिया।

इससे पहले पिछले हफ्ते भी पुलवामा जिले में एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया था। इस मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों में मोस्ट वॉन्टेड जहूर अहमद ठोकर भी था, जो पिछले वर्ष जुलाई में सेना के कैंप से फरार होकर आतंकी संगठन में शामिल हो गया था। 

इस मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों और स्थानीय लोगों के बीच हुई झड़प में 7 नागरिकों की भी मौत हुई थी। 
 

अफगानिस्तान से 7,000 सैनिकों को वापस बुलाएगा ये देश

वाशिंगटन। डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन अफगानिस्तान से तैनात हजारों अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की योजना बना रहा है। अमेरिकी मीडिया ने यह जानकारी दी। अज्ञात अधिकारियों के हवाले से रिपोर्टों में कहा गया है कि महीने भर के अंदर ृकरीब 7,000 सैनिक वतन लौट सकते हैं।

समाचार पत्र वाशिंगटन पोस्ट ने गुरुवार को बताया कि जल्द ही व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ पद छोडऩे जा रहे जॉन केली और व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन सहित ट्रंप के वरिष्ठ कैबिनेट अधिकारियों के विरोध के बावजूद इस पर विचार किया जा रहा है।

अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा सीरिया से सैनिकों के हटाए जाने की घोषणा के एक दिन बाद यह खबर सामने आई है। बीबीसी के मुताबिक, कुर्दिश नेतृत्व वाले एक गठबंधन ने चेतावनी देते हुए कहा कि इससे एक खालीपन हो जाएगा और इस्लामिक स्टेट फिर से खड़ा हो सकता है। 
 

इस देश भीषण ठंड की 40 दिवसीय अवधि ‘चिल्लई कलां’ की शुरुआत

श्रीनगर। कश्मीर घाटी में भीषण ठंड की 40 दिवसीय अवधि ‘चिल्लई कलां’ की शुरुआत हो गई है और तापमान हिमांक बिंदु से और ज्यादा नीचे चला गया है। ‘चिल्लई कलां’ की अवधि हर साल 21 दिसंबर को शुरू होती है और 30 जनवरी को समाप्त होती है। 

घाटी में यह सर्दियों में सबसे कठिन अवधि होती है जब जलाशयों पर बर्फ जम जाती है और राहगीरों को फिसलन भरी सडक़ों पर चलना पड़ता है। मौसम विभाग ने 28 दिसंबर तक कम से कम अगले सात दिनों तक मौसम के ठंडे और शुष्क रहने की संभावना जताई है।

श्रीनगर का न्यूनतम तापमान शून्य से 4.4 डिग्री नीचे, पहलगाम का शून्य से 7.5 डिग्री नीचे और गुलमर्ग का शून्य से छह डिग्री नीचे रहा। लद्दाख क्षेत्र में लेह का तापमान शून्य से 12.7 डिग्री नीचे और कारगिल का शून्य से 15.1 डिग्री नीचे रहा। 

इस पूर्व राष्ट्रपति ने सैंटा क्लॉज की टोपी पहनकर बच्चों को बांटे तोहफे

वाशिंगटन। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा यहां के चिल्ड्रन्स नेशनल मेडिकल सेंटर में सैंटा क्लॉज की टोपी पहनकर पहुंचे और बीमार बच्चों को तोहफे बांटे। अमेरिका के 44वं राष्ट्रपति ने अस्पताल में एक रॉक स्टार की तरह प्रवेश किया। अस्पताल ने अपने ट्विटर खाते पर ओबामा के दौरे का वीडियो साझा किया जिसे तीन घंटे में 10 लाख से अधिक लोगों ने देखा।

इसके कैप्शन में लिखा गया, "हमारे यहां भर्ती मरीजों के दिन को इतना खास बनाने के लिए आपका शुक्रिया बराक ओबामा। आपके सरप्राइज ने अस्पताल को खुशी दी है और हर एक चेहरे को मुस्कुराहट से भर दिया।" सैंटा की लाल टोपी पहने हुए ओबामा ने अस्पताल का दौरा किया। उन्होंने सैंटा बनकर मरीजों और उनके परिवारों से मुलाकात की और बच्चों को तोहफे दिए।