Updated -

mobile_app
liveTv

कार हवा में उड़ती हुई इमारत की मंजिल में जा घुसी, ड्राइवर फंसा

सांता एना, प्रोफेशनल स्‍टंटमैन गाडि़यों को कई फीट ऊपर तक उछाल देते हैं। आमतौर पर स्‍टंट करते हुए आपने मोटरसाइकिल को कई फीट ऊपर तक उछलते हुए देखा गया। हॉलीवुड की फिल्‍मों में भी कारों को खूब उछाला जाता है। कारें एक इमारत से दूसरी इमारत में कांच तोड़ते हुए निकल जाती है। हालांकि ये सब सुरक्षा के इंतेजाम के बाद होता है। कई बार स्‍पेशल इफैक्‍ट्स की मदद से भी दृश्‍यों को खतरनाक बनाया जाता है। अमेरिका के कैलिफोर्निया में एक कार हादसे ने हॉलीवुड के एक्‍शन सीन की याद दिला दी। यहां कार डिवाइड से टकराने के बाद इतनी ऊंची उछली की एक इमारत की दूसरी मंजिल में जा घुसी।

कैलिफोर्निया में तेज रफ्तार कार से ड्राइवर का नियंत्रिण खो गया, जिसके बाद ये डिवाइडर के ऊपर चढ़ी और हवा में उड़ने लगी। हवा में उड़ते हुए ये कार एक इमारत की दूसरी मंजिल की दीवार तोड़ते हुए उसमें घुस गई। इस हादसे का दृश्‍य जिस किसी ने देखा, वो हैरान रह गया। पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम भी नजारा देख अचंभित रह गए।

ऑरेंज काउंटी फायर अथॉरिटी ने बिल्डिंग में घुसी कार की तस्‍वीरें सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर किया है। सांता एना पुलिस ने बताया कि गाड़ी चलाने वाले ड्राइवर ने ये बात स्वीकारी है कि वो कार चलाने के दौरान नशे में था। नशा और कार की स्पीड ज्यादा होने के कारण ये हादसा हुआ।

ऑरेंज काउंटी फायर डिपार्टमेंट के प्रवक्‍ता कैप्टन स्टेफिन हॉर्नर ने बताया कि सुबह करीब 5:30 बजे उन्हें एक शख्‍स का फोन, जिसने उन्हें सांता एना में हुए कार हादसे की जानकारी दी। शख्‍स ने उन्हें बताया था कि कार हादसे के कारण इमारत में आग लग गई है। मौके पर जब फायर डिपार्टमेंट के लोग पहुंचे तो उन्हें दुर्घटनाग्रस्त सफेद रंग की सिडान बिल्डिंग की दूसरी मंजिल से आधी झूलती हुई मिली। दमकलकर्मियों ने तुरंत आग बुझाई, जिसके बाद रेस्क्यू का काम शुरू किया गया।

ट्रंप की अभद्र टिप्पणी से दुनिया में बवाल

वॉशिंगटनः अपनी विवादित टिप्णियों की वजह से चर्चा में रहने वाले अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने फिर अपनी एक कथित अभद्र टिप्पणी से दुनिया में बवाल मता दिया है जिजसे वह अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के निशाने पर हैं। अफ़्रीकी देशों के प्रतिनिधि संगठनों ने अमरीकी राष्ट्रपति से माफी मांगने को कहा है. इन संगठनों ने इस पर हैरत और ग़ुस्सा जताते हुए कहा कि ट्रंप प्रशासन ने अफ्रीकियों को ग़लत समझा है।

ट्रंप पर आरोप है कि ओवल दफ़्तर में आव्रजन नीति पर एक बैठक के दौरान उन्होंने अफ्रीकी महाद्वीप, हैती और एल सल्वाडोर जैसे देशों के लिए असभ्य भाषा का प्रयोग किया था।हालांकि, ट्रंप ने इस बात को ख़ारिज़ किया है। उनका कहना है कि उन्होंने हैती के लोगों का अपमान नहीं किया है।लेकिन उस बैठक में मौजूद होने का दावा करने वाले डेमोक्रेटिक सीनेटर डिक डर्बिन ने कहा है कि ट्रंप ने अफ्रीकी देशों को 'शिटहोल्स' कहा था और उनके लिए 'नस्लभेदी' भाषा का प्रयोग किया था।

अफ़्रीकी देशों के प्रतिनिधि संगठनों ने अमरीकी राष्ट्रपति से माफी मांगने को कहा है. इन संगठनों ने इस पर हैरत और ग़ुस्सा जताते हुए कहा कि ट्रंप प्रशासन ने अफ्रीकियों को ग़लत समझा है। हालांकि, उस बैठक में मौजूद रहे अन्य दो रिपब्लिकन नेताओं का कहना है कि उन्हें ऐसी किसी टिप्पणी के बारे में याद नहीं है। अमरीकी राष्ट्रपति की कथित टिप्पणी कीदुनिया भर में  काफ़ी आलोचना हो रही है।

अफ़्रीकी देश बोत्सवाना की विदेश मंत्री पेइलोनोमी वेंसन मोईतोई ने भी इसकी निंदा की है। उन्होंने कहा है, "यह आपके द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाला शब्द नहीं है। यह ऐसा शब्द नहीं है जिसे राष्ट्रपति को इस्तेमाल करना चाहिए। हम जानते हैं कि यह अमरीकी कांग्रेस नहीं है जिसने इस शब्द को इस्तेमाल करने के लिए अधिकार दिया है। इस पूरे विवाद को थामने के लिए राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्विटर का सहारा लिया और कहा कि उन्होंने ऐसा कोई शब्द नहीं कहा था। उन्होंने शुक्रवार को ट्वीट किया कि बैठक में उनकी भाषा 'सख़्त' थी लेकिन जिस शब्द को उनसे जोड़ा जा रहा है, 'वैसी भाषा इस्तेमाल नहीं की है।' 

डिजीटल इंडिया का चीन ने उड़ाया मजाक

बीजिंगः चीन ने अपने मुखपत्र अखबार ग्लोबल टाइम्स के जरिए फिर भारत पर निशाना साधा है। इस बार चीन ने भारत के डिजीटल इंडिया मुहिम की खिल्ली उड़ाई है। ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि चाइना की तकनीक को बिना इसके मूल के बारे में सोचे-समझे सिर्फ कॉपी कर तकनीक की दुनिया में शक्ति बनना इतना आसान नहीं है। ग्लोबल टाइम्स ने भारत के इकोनॉमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट पर भी एतराज जताया है। कहा है कि रिपोर्ट में चीन के और उसके बाजार के बारे में गलत अंदाजा लगाया गया है।

ग्लोबल टाइम्स ने India can’t copy China’s technology success without understanding its origins शीर्षक से अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि अमरीका के मुकाबले तकनीक और इनोवेशन का पॉवर बनकर उभरने पर चीन की वैश्विक स्तर पर सराहना होती है। दुनिया के सभी देश सराहना करते हैं। पड़ोसी देश भारत भी चाइना की तकनीक को अपनाकर पॉवर बनने की कोशिश कर रहा है। मगर यह इतना आसान नहीं है, जितना भारत समझता है।

ग्लोबल टाइम्स ने भारत के इकोनॉमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट को भ्रामक करार दिया है। ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि यह सही है कि प्रौद्यौगिकी कंपनियों और उत्पादों ने देश के बड़े घरेलू मार्केट पर कब्जा किया है। इसमें वीसैट संदेश, डिजिटल भुगतान संगठन, माइक्रोब्लॉगिंग साइट शामिल हैं। मगर यह किसी भी तरह के संरक्षणवाद के समान नहीं है। रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन डिजीटल संरक्षणवाद पर जोर दे रहा है। मगर ऐसा नहीं है।

खाने को लेकर वेनेजुएला में दंगे, 4 की मौत

बारीनासः वेनेजुएला के पश्चिमी राज्य ऐंडिएन में भूख से परेशान भीड़ ने एक फूड कलेक्शन सेंटर और एक सुपरमार्केट में हमला बोल दिया और तोड़फोड़ मचा दी।   इस उपद्रव में 4 लोगों के मारे जाने की खबर है। यही नहीं इन लोगों ने पास में घास चर रहे एक पशु को भी मार डाला। खाने की कमी के चलते पूरे देश में दंगे की स्थिति है। एक विपक्षी सांसद ने बताया कि खाने की कमी के चलते बीते दो दिनों में 4 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 10 लोग घायल हुए हैं।

करीब 4 साल की मंदी और दुनिया की सबसे अधिक महंगाई दर के चलते वेनेजुएला में लाखों लोग गरीबी के संकट में घिर गए हैं। इसके चलते निकोलस मादुरो का साम्यवादी शासन संकट में है। खबरों के मुताबिक खाने की कमी के चलते उपद्रवियों ने एक ट्रक लूट लिया, जिसमें मक्का लदा हुआ था। 

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में भी यह दिख रहा है कि किस तरह से लोग एक गाय का पीछा करते हैं और उसे मार डालते हैं। विडियो के नैरेटर ने बताया, 'वे शिकार कर रहे हैं। लोग भूख से परेशान हैं।' सांसद पापारोनी ने बताया कि भूख से परेशान लोगों ने अब तक 300 से ज्यादा पशुओं को मार डाला है। 

राजनाथ ने जिस इलाके में दौरा किया, वहीं हेलिकॉप्टर से चीन ने की घुसपैठ

नई दिल्ली: भारत भले ही डोकलाम विवाद सुलझाने में कामयाब रहा हो लेकिन फिर भी चीन की चालाकियां कम नहीं हुई हैं। इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक चीन ने भारतीय सीमा पर  73 बार घुसपैठ की है। यह घुसपैठ डोकलाम विवाद सुलझाने के बाद भी हुई। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 30 सितंबर, 2017 को बाराहोती में के ITBP की 2 बीएओपी (रिमखिम और लपथल) का दौरा किया था। राजनाथ के इस दौरे के बाद उसी इलाको में 11 अक्तूबर, 2017 को चीन भारत की सीमा के अंदर 2 हेलिकॉप्टर से तुंजुन ला के रास्ते 4.5 किमी सीमा के अंदर घुस आया था। ये दोनों हेलिकॉप्टर MI-17 थे, जो भारतीय क्षेत्र में यानी रिमखिम और लपथल के इस इलाके में 1200 से 1500 मीटर की ऊंचाई पर उड़ रहे थे। इसके बाद 7 नवंबर को लद्दाख क्षेत्र में 4 चीनी हेलीकॉप्टर भारतीय सीमा में घुस आए थे। एक हेलि‍कॉप्टर करीब 30 मिनट तक हवा में मंडराता रहा था. हेलिकॉप्टर से घुसपैठ के अलावा अक्तूबर और नवंबर में ट्रिंग हाईट, रिमखिम और डेप्संग में भी चीन ने कई बार घुसपैठ की।
PunjabKesari

2017 में बढ़ीं घुसपैठ की घटनाएं
2016 के मुकाबले 2017 में घुसपैठ की घटनाएं काफी बढ़ीं हैं। 2016 में चीन ने जहां सिर्फ 270 बार घुसपैठ की कोशिश की वहीं 2017 में यह संख्या बढ़कर 400 हो गई। 2015 में 350 घुसपैठ की घटनाएं सामने आई थीं। अखबार के पास मौजूद जानकारी के अनुसार अक्तूबर में लद्दाख क्षेत्र में ट्रिंग हाईट के पास 6 बार घुसपैठ की घटनाएं हुई। वहीं 3 नवंबर और 14 अक्तूबर को चीनी सेना भारतीय सीमा के अंदर 7 किलोमीटर भारत के अंदर घुस आई थी।

हाफिज को लेकर पाक ने साधी चुप्पी, दबाव बना रहा अमेरिका

मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई को लेकर पाकिस्तान ने चुप्पी साध ली है। हालांकि उसका कहना है कि वह अंतरर्राष्ट्रीय दायित्व के प्रति पूरी तरह से गंभीर है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा कि पाकिस्तान सईद समेत संयुक्त राष्ट्र की तरफ से प्रतिबंधित सभी लोगों और समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने को प्रतिबद्ध है।उन्होंने कहा कि जहां तक हाफिज सईद का संबंध है, पाकिस्तान अपने अंतर्राष्ट्रीय दायित्वों को बेहद गंभीरता से लेता है। 

पाकिस्तान ने सईद के संगठनों पर लगाया प्रतिबंध
विदेश मंत्रालय ने कहा कि सूचीबद्ध लोगों और संगठनों की संपत्तियों को फ्रीज करने, हथियारों के निषेध और यात्रा प्रतिबंध से संबंधित संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सभी प्रतिबंधों को लागू किया जा रहा है। पाकिस्तान ने हाफिज सईद के मुखौटा संगठन जमाद उद दावा को मिलने वाले सभी फंड पर रोक लगा रखी है। इसके साथ ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंधित सूची में शामिल सभी संगठनों की फंडिंग पर रोक लगाई गई है। इस दौरान फैसल ने यह भी कहा कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर समेत सभी लंबित मुद्दों पर भारत के साथ बात करने के लिए तैयार है लेकिन इस दिशा में इसलिए भी बहुत कुछ नहीं' किया जा सकता क्योंकि भारत बात करने के लिए तैयार नहीं है।

ट्रंप ने दी थी चेतावनी
बता दें कि ट्रंप ने 2018 के पहले दिन अपने पहले ट्वीट में पाकिस्तान पर धोखे और विश्वासघात का आरोप लगाते हुए सभी सैन्य मदद पर रोक लगा रखी है, जिसके बाद पाकिस्तान ने यह कार्रवाई की। ट्रंप ने कहा था कि पिछले 15 सालों के दौरान अमेरिका ने पाकिस्तान को 33 अरब डॉलर की मदद दी और बदले में उसे आतंक की लड़ाई के नाम पर केवल झूठ ही मिला। 

जापान में बर्फबारी, 15 घंटे तक ट्रेन में फंसे रहे 430 लोग

जापान में पिछले कुछ दिनों से भारी बर्फबारी हो रही है। जिसके चलते वीरवार  को करीब 430 लोग रातभर एक ट्रेन में फंसे रहे। जेआर ईस्ट रेलवे कंपनी की निगाता शाखा के प्रवक्ता शिनिची सेकी ने बताया कि करीब 15 घंटे तक ट्रेन को रोक कर रखा गया जिसके बाद शुक्रवार सुबह 10 बजकर 30 मिनट पर ट्रेन को फिर से रवाना किया गया।
सेकी ने बताया कि रास्ते में भारी बर्फबारी होने से पटरी पर बर्फ जम गई जिसके कारण ट्रेन के पहिये मुड़ नहीं पा रहे थे। ट्रेन स्टेशन से पहले ही 7 बजे रेलवे क्रॉसिंग पर रुक गई। सेकी ने यात्रियों से 15 घंटे हुई इस परेशानी के लिए मांफी भी मांगी है। उन्होंने कहा कि अगर ट्रेन रेलवे क्रॉसिंग पर ना रुकी होती तो वह यात्रियों के लिए कुछ चीजों का इंतजाम कर सकते थे। 
गौरतलब है कि जापान में हर साल इस महीने में बर्फबारी होती है, जिसके कारण जन-जीवन ठप्प हो जाता है। वर्ष 2016 में राजधानी टोक्यो और पूर्वी हिस्से में बर्फबारी के कारण 12 लोगों की मौत हो गई थी। इस वक्त रिपोर्ट आई थी कि जापान में 27 सेंटीमीटर हिमपात हुआ था, जिसने 45 वर्षों को रिकार्ड तोड़ था। एक सप्ताह तक बर्फबारी के कारण देश के कई हिस्सों में जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया था। लाखों लोगों को ना सिर्फ अपने घरों में कैद रहना पड़ा था बल्कि कई दिनों तक बिना बिजली के गुजारा करना पड़ा था। 

रोहिंग्या संकट : म्यांमार सेना ने कबूला कड़वा सच

म्यांमारI रोहिंग्या संकट को लेकर म्यांमार सेना ने पहली बार कड़वा सच कबूल करते माना है कि उसके सैनिक रखाइन प्रांत में भड़की हिंसा के दौरान रोहिंग्या मुसलमानों की हत्या में शामिल थे। हालांकि सेना ने सिर्फ़ एक मामले में यह संलिप्तता स्वीकार की है। सेना के मुताबिक़, जांच में पाया गया है कि म्यांगदो के इन दीन गांव में 10 लोगों की हत्या में सुरक्षा बलों के चार जवान शामिल थे। सेना रोहिंग्या चरमपंथियों के लिए 'बंगाली आतंकवादी' शब्द का इस्तेमाल करती है। पिछले साल अगस्त में भड़की हिंसा के बाद से साढ़े 6 लाख से ज़्यादा रोहिंग्या मुसलमान रखाइन से भागकर पड़ोस के बांग्लादेश में शरण ले चुके हैं। हिंसा के दौरान सामूहिक हत्याओं, बलात्कार और अत्याचार की दर्दनाक कहानियां सामने आई थीं। रोहिंग्या मुसलमानों का आरोप है कि सेना और स्थानीय बौद्धों ने मिलकर उनके गांव जला दिए और उन पर हमले किए। सेना ने आम लोगों पर हमले करने के आरोपों से इंकार करते हुए कहा था कि उसने सिर्फ़ रोहिंग्या चरमपंथियों को निशाना बनाया था। म्यांमार ने पत्रकारों और बाहरी जांचकर्ताओं को रखाइन प्रांत में स्वतंत्र रूप से घूमकर पड़ताल की इजाज़त नहीं दी थी।

अमरीका: कीचड़ का कहर-13 की मौत, हालात खराब

वॉशिंगटनI अमरीका के दक्षिणी कैलिफोर्निया में भयानक तूफान के बाद भूस्खलन की घटना के बाद नदी का कीचड़ घरों में घुस गया । कीचड़ से कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई व कई मकान तबाह हो गए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कैलिफोर्निया के जंगल में पिछले महीने आग लगने के कारण इस बारिश से यहां कमर तक कीचड़ फैल गया।उन्होंने बताया कि उत्तर- पश्चिमी लॉस एंजिलिस के मोंटेसिटो शहर में बचाव कार्य के दौरान मिट्टी और मलबे में से कई शव बरामद किए गए। सैंटा बारबरा काउंटी के शेरिफ बिल ब्राउन ने बताया कि घटना में अभी तक 13 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है।उन्होंने मृतकों की संख्या में वृद्धि की आशंका जताई। शेरिफ ब्राउन ने कहा कि पूरा इलाका पहले विश्व युद्ध के मैदान की तरह लग रहा है।
20 से अधिक लोगों के लापता होने की खबर है। अब तक हजारों लोगों को इलाके से हटाया गया है और साथ ही 50 से अधिक लोगों को मलबे से निकालकर बचाया गया है। फेडरल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी की चेतावनी के मुताबिक, कैलिफोर्निया के जिन इलाकों में कभी बाढ़ नहीं आई, उन  इलाकों में भी बाढ़ आने का खतरा है।

'21वीं सदी में और मजबूत होंगे भारत-अमरीका संबंध'

वॉशिंगटन: भारत में अमरीका के राजदूत केनेथ आई जस्टर  ने आज कहा कि कार्नेगी इंडिया, यूएस दूतावास के सहयोग से 21वीं सदी में भारत-अमरीका के संबंधों में और मजबूती लाएगा। उन्होंने कहा कि वे इस बात पर ध्यान केंद्रित करेंगे कि आने वाले सालों में कैसे भारत-अमरीका के संबंध और मजबूत व टिकाऊ हो सकें। उन्होंने कहा कि वे दोनों देशों बीच रिश्ते को और गहरा बनाने के  लिए रक्षा सहयोग, आर्थिक, व्यापार संबंधों, ऊर्जा और स्वास्थ्य सहित कई द्विपक्षीय मुद्दों को शामिल करेंगे। इससे पहले प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी भी कह चुके हैं कि अमरीका भारत का महत्वपूर्ण भागीदार है। वे भी विश्वास जता चुके हैं कि दोनों देशों के बीच की बहुत सी दूरियां खत्म होंगी और रणनीतिक रिश्तों में एक नया अध्याय शुरू होगा। दोनों देशों के बीच शिक्षा, कौशल विकास, अनुसंधान, प्रौद्योगिकी व नवोन्मेष में भागीदारी की बडी संभावनाएं हैं। आतंकवाद के खिलाफ  भी अमरीका भारत  का समर्थन कर रहा है। यहीं वजह कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आतंकवाद  की पनाहगाह बने पाकिस्तान के खिलाफ सख्त फैसले ले रहे हैं। इसी के तहत ही ट्रंप ने पाकिस्तान  को दी जाने वाली मदद पर भी रोक लगा दी है। 

खतरे में चॉकलेट का अस्तित्व, कुछ साल की मेहमान

सिडनी/लंदनI बच्चों, बड़ों और बूढ़ों सबकी प्रिय चॉकलेट का अस्तित्व खतरे में नजर आ रहा है। जी हां चॉकलेट पर आई एक नई रिपोर्ट  के मुताबिक वर्ष 2050 आते-आते चॉकलेट का उत्पादन लगभग ख़त्म हो सकता है यानी चॉकलेट अब करीब 30 से 32 साल की मेहमान है।  लेकिन ज़रा सोचिए आने वाले समय में अगर चॉकलेट दुनिया से खत्म हो गई तो क्या होगा। चॉकलेट Cocoa नामक एक फल के बीज से बनती है लेकिन ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु में आ रहे बदलाव की वजह से Cocoa की फसल बर्बाद हो रही है। बढ़ते तापमान के कारण Cocoa के पेड़ों का फलना-फूलना कम हो गया है जिसका असर उसके फल पर हो रहा है। 

आसान शब्दों में कहा जाए तो चॉकलेट को ग्लोबल वॉर्मिंग की नज़र लग गई है।  हालांकि वैज्ञानिक Cocoa की फसल को बचाने की कोशिश में लगे हुए हैं। वो Gene Editing तकनीक की मदद से इस पौधे के genes को बदलना चाहते हैं ताकि ये पौधा गर्म जलवायु के मुताबिक खुद को ढाल ले  लेकिन इसमें अभी बहुत वक़्त लगेगा। चॉकलेट ज़िंदा रहेगी या इतिहास की वस्तु बनेगी ये बात अभी 100 प्रतिशत गांरटी के साथ नहीं कही जा सकती।  

दिलचस्प और ऐतिहासिक है चॉकलेट का सफर
लेकिन एक बात गारंटी के साथ कही जा सकती है कि चॉकलेट का ये सफर दिलचस्प और ऐतिहासिक है। कहा जाता है कि Cocoa के पेड़ की खोज करीब 4 हज़ार साल पहले 1900 ईसा पूर्व में Mexico के जंगलों में हुई थी। ये ऐसे इलाक़े थे जहां बारिश बहुत ज़्यादा होती थी। शुरुआती दौर में चॉकलेट का स्वाद Spicy यानी तीखा हुआ करता था और इसे पिया जाता था। Mexico और मध्य अमरीका के आदिवासी Cocoa के बीजों को पीसकर उनका पेस्ट बनाते थे और फिर इसमें पानी शहद और मिर्च मिलाकर एक चॉकलेट ड्रिंक तैयार किया जाता था। हैरानी की बात ये है कि मीठी और स्वादिष्ट चॉकलेट का स्वाद दुनिया ने करीब 3700 वर्षों के बाद चखा।

वियतनाम और भारत के रिश्तों से बौखलाया चीन

बीजिंगI चीन ने वियतनाम द्वारा विवादित दक्षिण चीन सागर में तेल एवं प्राकृतिक गैस क्षेत्र में निवेश के लिए भारत को आमंत्रित करने पर आज आपत्ति व्यक्त की। उसने कहा कि वह द्विपक्षीय संबंध बढ़ाने के बहाने अपने अधिकारों में दखल के विरोध में है। भारत में वियतनाम के राजदूत तोन सिन्ह थान्ह ने एक सामाचार चैनल को कहा था कि उनका देश दक्षिण चीन सागर में भारतीय निवेश का स्वागत करेगा। 

चीन पहले भी कर चु​का है विरोध 
चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि चीन पड़ोस के संबंधित देशों के बीच सामान्य द्विपक्षीय संबंधों पर आपत्ति नहीं जताता है। लेकिन यदि इसका इस्तेमाल चीन के वैधानिक अधिकारों में दखल, दक्षिण चीन सागर में दिलचस्पी या क्षेत्रीय शांति व स्थिरता को खत्म करने में किया जाता है तो वह इसका कड़ा विरोध करता है। उल्लेखनीय है कि चीन भारत की ओएनजीसी द्वारा दक्षिण चीन सागर में वियतनाम के दावे के कुओं में तेल की तलाश करने का पहले से ही विरोध करता आया है। भारत का कहना है कि ओएनजीसी व्यावसायिक परिचालन कर रही है और उसका कार्य क्षेत्र विवाद से जुड़ा नहीं है।