Updated -

mobile_app
liveTv

एक नहीं, इस प्रोफेसर ने लिम्का बुक में बनाएं तीन Records

हाल ही में फरीदाबाद में 'इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स' हुए, जिसका हाल ही में रिजल्ट आया है। इन रिजल्ट के मुताबिक प्रो. कुंवर का नाम इंडिया बुक अॉफ रिकार्ड्स में 3 रिकॉर्ड में शामिल किया गया है। प्रो. कुंवर द्वारा बनाए गए इन रिकार्ड्स के बारे में जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे। आइए जानते है प्रो. कुंवर द्वारा 'इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स' में बनाए गए इन रिजल्ट के बारे में।

 

डीएवी कालेज जालन्धर के प्रो. कुंवर राजीव यहां डिपार्टमेंट ऑफ फिजिक्स में एसोसिएट प्रोफेसर है और वो बच्चों को फिजिक्स पढ़ाते है। प्रो. कुंवर कॉलेज में 30 साल से फिजिक्स पढ़ा रहे हैं। उन्होंने अपनी स्मरण शक्ति का बेहतरीन परिचय देते हुए इंडिया लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना नाम शामिल किया।

PunjabKesari

इसमें से पहला रिकार्ड उन्होंने देश के सभी चुनावी क्षेत्रों के नाम बता कर बताया, जोकि उन्हें अच्छी तरह याद है। वहीं दूसरा रिकार्ड में उन्होंने साढ़े चार मिनट में पीरियोडिकल टेबल के 118 एलिमेंट के एग्जेक्ट एटोमिक मास बता दिए। तीसरे रिकार्ड में उन्होंने एक मिनट में 18 देशों का क्षेत्रफल और जनसंख्या का जल्दी और बिल्कुल सही जबाव दिया। लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में एक साथ तीन रिकॉर्ड बनाने वाले प्रो. कुंवर पहले भारतीय है।

आलिशान महल से कम नहीं रवीना टंडन का बंगला

बॉलीवुड एक्ट्रैस रवीना टंडन फेमस और स्टाइलिश हिरोइनों में से एक है। फिल्मी दुनिया से दूरी बनाने के बाद रवीना सोशल प्रोग्राम्स और ज्वैलरी डिजाइनिंग बिजनेस संभालती है। हाल में रवीना और अनिल ने एक बंगला बनाया है, जिसे रवीना ने खुद डिजाइन किया है। उनके इस नए घर को देखकर हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है। तो आइए देखते है रवीना के घर की कुछ खूबसूरत तस्वीरें।

 

रवीना और अनिल ने मुंबई बांद्रा इलाके में 'नीलया' नाम से एक बंगला बनाया है। संस्कृत में 'नीलया' का अर्थ है, आश्रय। रवीना द्वारा डिजाइन किया गया इस बंगले का इंटीरियर बेहद खूबसूरत है। उनका यह बंगला किसी आलीशान महल से कम नहीं है। इस बंगले को सजाने के लिए उन्होंने हर एक चीज अपनी पसंद से चुनी है।

PunjabKesari

उनके इस बंगले में आप क्लासिक लुक देख सकते है। कली प्रेमी होने के कारण रवीना की च्वॉइस भी क्लासी है, जोकि उनके घर को देखकर साफ पता चलती है। रवीना ने इस बंगले को फ्यूजन लुक देने के लिए केरला के घरों से आइडिया लिया है।

अपने से 12 साल छोटे एक्टर से की थी शादी, एेसे हुईं दोनों की मुलाकात

एक्ट्रेस अमृता सिंह का आज जन्मदिन है। वह आज अपना 60वां जन्मदिन मना रही हैं। अमृता आए दिन अपनी बेटी सारा अली खान के साथ दिखाई देती है। अमृता सैफ अली खान की पहली पत्नी है। चाहे आज यह दोनों अलग हो गए है लेकिन किसी समय में इनकी लव-स्टोरी बहुत फेमस थी। सैफ और अमृता के सारा और इब्राहिम नाम के दो बच्चे हैं। चलिए आज हम आपको अमृता की जिंदगी से जुड़ी खास बातें बताते है। 

- अपने समय की लीडिंग अभिनेत्रियों में से एक अमृता सिंह

- 9 फरवरी 1958 को सिख परिवार में हुआ जन्म

- 1983 में फिल्म बेताब से शुरू किया फिल्मी करियर

- 12 साल छोटे सैफ अली खान से की थी सीक्रेट वेडिंग 
PunjabKesari
- शादी के बाद किया अपना धर्म परिवर्तित 

- एक फिल्म के सेट पर हुईं दोनों की मुलाकात 

- शादी के बाद बनाई फिल्मी दुनिया से दूरी 

- शादी के 13 साल बाद हुए दोनों अलग

- साल 2002 में फिल्मों में की वापसी 

- मर्द,बेताब, सूर्यवंशी, अकेला जैसी फिल्मों में किया काम

ऑफिस के कान्फ्रेंस हॉल में रखें यह मूर्ति, कारोबार में होगी वृद्धि

समाज में जैसी महत्ता वास्तु को प्रदान है, ठीक वैसी ही महत्ता फैंगशुई को भी प्रदान की गई। फैंगशुई चीन देश का वास्तु शास्त्र माना जाता है, इसके बावजूद इसे अन्य देशों में भी बेहद प्रसद्धि प्राप्त है। दुनिया में कई देशो में फैंगशुई का चलन दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। इसका कारण जीवन में सुख-सफलता पाने में मदद करने वाले इसके साधारण उपाय हैं। इसके उपाय इतने आसान हैं कि हर कोई इनको आसानी से अपना सकता है। वैसे  तो आईए जानते हैं कि इसके कुछ आसान उपाय जिन पर अमल करने से व्यक्ति मनचाही सफलता व घर में सुख-समृद्धि पा सकता है।


भारतीय बाजारों में विंड चाइम (हवा से हिलने वाली घंटी) उपलब्ध है। हवा चलने से जब यह टकराती हैं तो बहुत ही मधुर ध्वनि उत्पन्न करती हैं, जिससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।


फैंगशुई के अनुसार बांस के पौधे सुख-समृद्धि के प्रतीक हैं। इनसे परिवार के सदस्यों को पूर्ण आयु व अच्छी सेहत मिलती है। घर की बैठक में जहां घर के सदस्य आमतौर पर एकत्र होते हैं, वहां बांस का पौधा लगाना चाहिए। जैसे, पौधे को बैठक के पूर्वी कोने में रखें।


फैंगशुई के अनुसार ड्रैगन घर की रक्षा करता है। इसलिए घर में ड्रैगन की मूर्ति या चित्र रखना चाहिए।


अपने घर के दरवाजे के हैंडल में सिक्के लटकाना घर में संपत्ति जैसा सौभाग्य लाने का सर्वोत्तम मार्ग है। आप तीन पुराने चीनी सिक्कों को भी लाल रंग के धागे अथवा रिबन में बांध कर अपने घर के मुख्य द्वार के हैंडल में लटका सकते हैं। इससे घर के सभी लोग लाभान्वित होंगे। ध्यान रखें कि ईन सिक्कों को दरवाजे के अंदर की ओर लटकाना चाहिए न कि बाहर की ओर।

 
घर को नकारात्मक ऊर्जा से मुक्त रखने के लिए पूर्व दिशा में मिट्टी के एक छोटे से बर्तन में नमक भर कर रखें और हर चौबीस घंटे के बाद नमक बदलते रहें।


फैंगशुई के अनुसार ऑफिस में कान्फ्रेंस हॉल में धातु की सुंदर मूर्ति रखने से कारोबार में बढ़ौतरी होती है।


फेंगशुई के अनुसार घर में झरने, नदी आदि के चित्र उत्तर दिशा में लगाने चाहिए। घर में हिंसक तस्वीर कभी नहीं लगाएं, इससे घर में नकारात्मकता आ सकती है।

यहां दिन में तीन बार रंग बदलता है शिवलिंग

राजस्थान के धौलपुर जिले में चंबल नदी पर स्थित इस अचलेश्वर महादेव मंदिर में मौजूद शिवलिंग दिन में तीन बार रंग बदलता है। इस शिवलिंग का रंग सुबह लाल, दोपहर में केसरिया और शाम को सांवला हो जाता है। हजारों साल पुराने इस मंदिर के रहस्य को अभी तक कोई समझ नहीं पाया है। विज्ञान भी अभी तक इस रहस्य को सुलझा नहीं पाया है। इसके अलावा इस मंदिर में मौजूद शिवलिंग के छोर का भी अभी तक कोई पता नहीं लगाया पाया है।

PunjabKesari

इसके साथ इस मंदिर का एक रहस्य यह भी है कि शिवलिंग को चढ़ाया जाने वाला जल कहां जाता है। पुरातत्व विभाग की टीम भी अभी तक मंदिर के इस रहस्य को समझ नहीं पाई है। शिवलिंग के नीचे बने प्राकृतिक पाताल खड्डे में कितना भी पानी जाल लो वो नहीं भरता। 2,500 साल पहले बने इस मंदिर में पंच धातु की बनी नंदी की एक विशाल प्रतिमा है, जोकि करीब चार टन की है।

पिता नहीं, मां ने किया बेटी का कन्यादान और बनी मिसाल

दुनिया की हर मां चाहती है कि उसके बच्चें को हर खुशी मिलें, खासकर बेटियों के लिए जिसमें वो अपनी परछाई ढूढ़ती है। एक सिंगर मदर के लिए अपनी बेटी की अच्छी परवरिश करना सबसे मुश्किल काम होता है। उसे जन्म देने से लेकर पढ़ाने तक का सफर एक मां के लिए बेहद खास होता है। बात जब शादी की आती है तो मां की चिंता और भी बढ़ जाती है। क्योंकि शादी की रस्में खासकर कन्यादान को अक्सर दुल्हन के पिता निभाते हैं लेकिन आज हम आपको पूरी दुनिया के लिए मिसाल बनी मां के बारे में बताने जा रहें है। हाल ही में सोशल मीडिया में एक तस्वीर काफी वायरल हो रही है, जिसमें एक मां अपनी बेटी का कन्यादान कर रही है।

PunjabKesari

ऑस्ट्रेलिया में रहने वाली राजेश्वरी शर्मा एक सिंगल मदर है, जोकि अपने पति से 17 साल पहले अलग हो गई थी। उनके पति रूढ़ीवादी होने के साथ-साथ आगे की सोचने वाले थे। शादी के बाद अपने पति के साथ ऑस्ट्रेलिया आने पर उन्होंने आईटी की पढ़ाई के बाद वो नौकरी करने लगीं। मगर 17 साल बाद पति से तलाक होने पर बच्चों की सारी जिम्मेदारी राजेश्वरी पर आ गई। इन्होंने दोनों बेटियों की अकेले ही परवरिश की है और अपनी हर जिम्मेदारी को बखूबी निभाया।

सचिन के प्यार में पागल थी अंजलि

क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी के लिए जाने जाते है। इनका जितना शानदार करियर रहा उतनी ही दिलचस्प इनकी लवस्टोरी है। सचिन तेंडुलकर की पत्नी अंजलि उनसे 6 साल बड़ी है। उनकी सचिन से पहली मुलाकात एयरपोर्ट पर हुईं। जब पहली बार अंजलि ने सचिन को देखा तो उन्हें वह बहुत क्यूट लगे और वह ऑटोग्राफ के लिए उनके पीछे भागी। चलिए आज हम आपको बताते है सचिन और अंजलि की क्यूट सी लवस्टोरी।

- किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं सचिन और अंजलि की लव स्टोरी 
PunjabKesari
- सचिन से करीब 6 साल बड़ी है अंजलि 

- एयरपोर्ट पर हुई थी पहली मुलाकात

- पलभर की मुलाकात में एक-दूसरे को दे बैठे थे दिल 

- सचिन से मिलने के लिए अंजलि ने बेले कई पापड़

- झूठी पत्रकार बनकर पहुंची सचिन के घर

- अंजलि के लिए सरदार लुक में फिल्म देखने गए थे सचिन 
PunjabKesari
- खुद अपना रिश्ता लेकर सचिन के घर गई थी अंजलि 

- सचिन के 21वें बर्थडे पर हुई थी दोनों की इंगेजमेंट

-  24 मई 1995 को दोनों ने की शादी

श‍िवरात्र‍ि पर ये 6 अनाज चढ़ाकर करें महादेव को प्रसन्न

फरवरी महीने में आने वाला शिवरात्रि का त्यौहार नजदीक ही है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन शिव और पार्वती की शादी हुई थी। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार फाल्गुन के महीने मे मनाया जाने वाले इस दिन में भक्त उन्हें प्रसन्न करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ते। इस दिन श्रद्धालु भगवान शिव की पूजा करते है और शिव जी के लिए व्रत भी रखते है। वैसे तो इस दिन भक्त शिवलिंग पर फल और फूल अर्पित करते है लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे अनाज के बारे में बताने जा रहें है, जिससे भगवान शिव खुश हो सकते है। तो आइए जानते है शिवरात्रि पर आप भगवान शिव पर कौन से अनाज चढ़ा सकते हैं।
 

1. जौ
शिवलिंग पर जौ चढ़ाने से आपके जीवन में सकारात्मक उर्जा आएगी। इससे आपकी सभी समस्याएं और दुर्भाग्य भी दूर होगा।

PunjabKesari

2. बाजरा
अगर आप भी अपना मनपसंद पार्टनर पाने की इच्छा रखते है तो शिवलिंग पर बाजरा जरूर चढ़ाए। इसके अलावा इसे चढ़ाने से आपको अच्छे कर्म, मोक्ष और धर्म पर नियंत्रण मिल सकता है।

PunjabKesari

3. चावल
शिव पुराण के अनुसार चावल शिवजी के प्रिय है। इसे शिवलिंग पर चढ़ाने से आय में वृद्धि होती है और इसका स्रोत बढ़ता है।

PunjabKesari

4. गेहूं
प्राचीन ऋषियों के मुताबिक हर सोमवार या शिवरात्रि में शिवलिंग पर गेहूं चढ़ाना बहुत शुभ होता है। इससे आपको अच्छा पार्टनर तो मिलता ही है साथ ही इससे सारी प्रॉब्लम भी दूर होती है।

PunjabKesari

5. तिल का बीज
लंबे समय तक स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से पीड़ित व्यक्तियों को शिवलिंगा परक तिल के बीज चढ़ाने चाहिए।

PunjabKesari

6. मूंग दाल
पुराणों में कहा गया है कि मूंग दाल से शिवलिंग की पूजा करने से सभी पापों का नाष होता है। इससे आपके जीवन में सकारात्मकता उर्जा और सफलता आती है।

वीडियो में साथ दिखे अक्षय व सोनम

मुंबई। मासिक धर्म की स्वच्छता के प्रति जागरूकता पर आधारित आगामी फिल्म ‘पैड मैन’ के कलाकार अक्षय कुमार और सोनम कपूर माहवारी से जुड़े जागरूकता फैलाने वाले एक वीडियो में साथ नजर आ रहे हैं।

‘अब समझौता नहीं-द शॉपिंग लिस्ट’ नामक वीडियो का उद्देश्य माहवारी पर फैली चुप्पी को तोडऩा है। 

इस वीडियो में सोनम कुछ वस्तुओं की सूची को पढ़ती हुई नजर आती हैं जिसमें पुराने और गंदे कपड़ों के टुकड़ों से लेकर असुरक्षित वस्तुओं जैसे राख, नारियल भूसी और घास शामिल हैं। इन सभी चीजों का इस्तेमाल भारत के अधिकांश क्षेत्रों की महिलाएं माहवारी के दौरान करती हैं। 

वीडियो के आखिर में अक्षय और सोनम देश के विभिन्न हिस्सों में महिलाओं को साल भर के सैनिटरी पैड उपलब्ध कराने के लिए वत्सल्य फाउंडेशन को न्यूनतम 400 रुपये का दान करने का आग्रह करते हैं।

अनोखा गांव: यहां इंसान से लेकर पशु-पक्षी भी है अंधे, जानिए कारण

दुनिया में बहुत से अजीबो-गरीब गांव है, जहां हर तरह के इंसान रहते है। हर गांव का रहन-सहन, खान-पान, रिति-रिवाज और वहां का तापमान अलग-अलग होता है। मगर आज हम आपको एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहें है जहां पर स्त्री-पुरुष से लेकर पशु-पक्षी आदि सभी अंधे हैं। इस गांव के पक्षी उड़ नहीं पाते वो पेड़ों से टकरा कर गिर जाते और इंसान भी कुछ देख नहीं पाते। आइए जानते है इस गांव के बारे में कुछ और बातें।

टिल्टेपक नाम के एक गांव में जोपोटेक जाति के लगभग 300 रेड इंडियन निवास करते हैं। दरअसल यह लोग जन्म के समय अंधे नहीं होते लेकिन जन्म के कुछ समय बाद हर किसी को दिखना बंद हो जाता है। यहां के लोग पत्थरों पर सोते हैं और सेम, मक्का, मिर्च खाते हैं। आज भी इन लोगों के पास लकड़ी के बने हुए औजार है। 

PunjabKesari

टिल्टेपक की एक सड़क के किनारे करीब 70 झोपड़ियां है, जिनमें यह लोग रहते है। इन घरों की खिड़कियां और दरवाजे नहीं है क्योंकि इन्हें रोशनी की जरूरत नहीं पड़ती है। यहां के लोग अपने दिन की शुरूआत पशुओं-पक्षियों की आवाज से करते है। शाम को यह लोग इकट्ठे होकर भोजन करते है। इसके बाद यह लोग शराब पीते और नाचते नाचते गाते हैं।

PunjabKesari

यहां के लोगों का कहना है कि यहां पर एक लावजुएजा नाम का पेड़ है, जिसे देखकर यह लोग अंधे हो जाते है। मगर यह सच नहीं है, क्योंकि पर्यटक इस पेड़ को देखकर अंधे नहीं होते। कुछ समय पहले ही वैज्ञानिकों ने इसका कारण ढूंढा है और उनका कहना है ऐसा एक किटाणु के कारण होता है। एक काली मक्खी के काटने पर यह किटाणु शरीर में फैल जाता है, जिसके कारण आंखों की नसें काम करना बंद कर देती है और व्यक्ति जल्दी अंधा हो जाता है।