Updated -

mobile_app
liveTv

मुलायम के बाद बहू अपर्णा ने शिवपाल के संग किया मंच साझा

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के बाद अब उनकी छोटी बहू अपर्णा यादव शनिवार को समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के अध्यक्ष शिवपाल यादव के साथ नजर आईं. इससे यूपी की सियासत में सरगर्मी बढ़ गई है. अपर्णा ने कहा कि शिवपाल यादव उनके चहेते नेता हैं और मुलायम सिंह यादव के बाद वो उन्हीं को सबसे ज्यादा पसंद करती हैं।


अपर्णा यादव ने कहा, "माननीय चाचा जी हमारे चहेते नेता हैं. नेताजी के बाद मैंने इन्हीं को सबसे ज्यादा माना है. मैं चाहती हूं कि सेक्युलर मोर्चा आगे बढे। उन्होंने कहा, "आज भारत में किसान मर रहा है, जवान मर रहा है. अगर हमें अपने बेटों को ऐसे ही शहीद करना है तो इससे अच्छा है कि खड़ा करके उनको गोली मार दें।


राष्ट्रीय क्रांतिकारी समाजवादी पार्टी के स्थापना दिवस के कार्यक्रम में बोलते हुए अपर्णा ने विपक्षी एकता को मजबूती देने का राजनीतिक दलों से आह्वान किया. उन्होंने कहा विपक्षी दल अगर एक साथ आ जाएं तो ये एक शक्ति बन जाएगी. शिवपाल यादव की पार्टी समाजवादी सेक्युलर मोर्चा को मजबूती देने के लिए अपर्णा यादव ने कहा कि एकता की शक्ति का इस्तेमाल कर इस दल को बल में बदल दीजिए।


अपर्णा यादव ने कहा कि सेक्युलर मोर्चा को मजबूती दें और मजबूती के साथ देश के लोकतंत्र को सशक्त बनाएं. उन्होंने चुनाव में अच्छे लोगों को चुनकर लाने की अपील की. अपर्णा ने कहा, "यहां 24 राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई थी. सब अगर एक साथ आ जाएं तो वो एक शक्ति बन जाएगी. शक्ति". उन्होंने कहा, "शक्ति को इकट्ठा करें और इस दल को बल में बदल दीजिए. मैं चाहती हूं कि सेक्युलर मोर्चा मजबूत हो, मजबूती के साथ अपने लोकतंत्र को मजबूत करें"।


योगी सरकार से बढ़ीं शिवपाल की नजदीकियां, मिल सकती है जेड श्रेणी की सुरक्षा

अपर्णा यादव समाजवादी पार्टी के टिकट पर लखनऊ कैंट से विधानसभा का चुनाव लड़ चुकी हैं, लेकिन उन्हें रीता बहुगुणा जोशी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. मुलायम सिंह यादव ने विधानसभा चुनाव में केवल शिवपाल सिंह यादव, अपर्णा यादव तथा पारसनाथ यादव के लिए चुनाव प्रचार किया था. समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव के भाई और सपा प्रमुख अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने सपा से नाराज होकर हाल ही में समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया है।

गौरतलब है कि अपर्णा यादव और अखिलेश यादव के बीच तल्खी यूपी विधानसभा चुनाव के पहले से ही जगजाहिर है. समय-समय पर अपर्णा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात भी करती रहीं हैं. ऐसे में शिवपाल के साथ उनके मंच साझा करने से यूपी की सियासत में नई चर्चा छिड़ गई है।

CM मनोहर पार्रिकर की तबीयत नाजुक, दिल्ली से गाेवा किया शिफ्ट

नई दिल्ली। करीब एक महीने तक दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की हालत गंभीर बनी हुई है. इस बीच उन्हें विशेष विमान से दिल्ली से गोवा ले जाया गया. मुख्यमंत्री के आवास के बाहर एंबुलेंस खड़ी है. घर को एक अस्पताल में बदला जा रहा है. एम्स के अधिकारिक सूत्र ने कहा, "पर्रिकर की हालत रविवार सुबह बिगड़ गई थी और उन्हें इंटेन्सिव केयर यूनिट (आईसीयू) में भर्ती करा दिया गया था." उन्होंने कहा, "इसके बाद उन्हें आईसीयू और अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।

अग्न्याशय (पैनक्रियाज) की बीमारी के इलाज के लिए पर्रिकर को 15 सितंबर को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती कराया गया था। मनोहर पर्रिकर फरवरी के मध्य से ही बीमार हैं और उनका गोवा, मुंबई और अमेरिका के अस्पतालों समेत कई अलग-अलग अस्पतालों में इलाज हुआ है. लेकिन उनके हालत में खास सुधार नहीं हुआ।

पर्रिकर ने शुक्रवार को बीजेपी की गोवा इकाई की कोर कमिटी के सदस्यों और गठबंधन सहयोगी दलों के मंत्रियों से एम्स में मुलाकात की थी. पीटीआई की खबर के मुताबिक, उन्होंने लंबित विकास कार्यों की भी समीक्षा की और अपने कुछ विभागों का कार्यभार मंत्रिमंडल के कुछ साथियों को बांटे जाने पर चर्चा की।

अपराध: सुरक्षाकर्मी के हमले से घायल मजिस्ट्रेट की पत्नी व बेटे की मौत

गुरुग्राम में शनिवार दोपहर अतिरिक्त जिला एवं सत्र जज कृष्णकांत की पत्नी और बेटे को उनके ही सुरक्षा गार्ड ने बाजार के बीच गोलियों से छलनी कर दिया. वारदात के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान जज की पत्नी रितु व  बेटे ध्रुव की मौत हो गई।

जांच के लिए SIT गठित

पुलिस ने सुरक्षा गार्ड महिपाल को गिरफ्तार कर जांच शुरू कर दी है. मामले के गंभीरता से लेते हुए हरियाणा पुलिस ने जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है. डीसीपी सुलोचना गजराज के नेतृत्व में बनी इस SIT में डीसीपी, 2 एसीपी, और 4 इंस्पेक्टर शामिल हैं।

यह घटना शनिवार दोपहर करीब 3.30 बजे की है. जज के परिवार की सुरक्षा में तैनात गार्ड महिपाल यादव के साथ उनकी पत्नी रितु और बेटे ध्रुव खरीदारी के लिए गुरुग्राम के सेक्टर-51 स्थित आर्केडिया मार्केट आए थे. मार्केट के बीच कार रोककर जैसे ही मां-बेटे बाहर निकले महिपाल ने उन पर गोली चला दी।

महिपाल ने गोली मारने के बाद कहा- ये शैतान और उसकी मां है

जानकारी के मुताबिक महिपाल ने रितु के सीने में दो गोलियां मारी और बेटे ध्रुव के माथे पर भी दो गोली मारी. इस दौरान महिपाल ने मौके पर मौजूद लोगों से कहा कि कोई भी बीच में नहीं आएगा, ये शैतान (बेटा ध्रुव) है और ये उसकी मां (रितु). इसके बाद महिपाल ने दोनों को कार में डालने की कोशिश की लेकिन इसमें असफल रहने पर वो वहां से फरार हो गया।

वारदात के बाद महिपाल ने किया जज को फोन

महिपाल इसके बाद सदर थाने पहुंचा, जहां पर उसने फायरिंग की. इसके बाद वहां से भी भाग निकला. पुलिस ने नाकेबंदी कर गुड़गांव-फरीदाबाद रोड पर ग्वाल पहाड़ी के पास उसे पकड़ लिया. पुलिस पूछताछ में महिपाल ने बताया कि उसने मां-बेटे को गोली मारने के बाद जज और अपनी मां को फोन किया था और वारदात की जानकारी दी थी.

इधर, मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया था, जिसके बाद हालत ज्यादा बिगड़ने पर दोनों को मेदांता रेफर कर दिया गया. देर रात इलाज के दौरान जज की पत्नी रितु की मौत हो गई. हालांकि, महिपाल ने ऐसा क्यों किया, यह साफ नहीं हो पाया है. गुड़गांव के कमिश्नर ने बताया कि पूछताछ में महिपाल झल्लाकर बात करता है और सही जवाब नहीं दे रहा है।

8 महीने पहले त्यागा हिन्दू धर्म, जज की पत्नी करती थी परेशान!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 40 वर्षीय महिपाल यादव डेढ़ साल से जज कृष्णकांत की सुरक्षा में तैनात था. करीब 8 महीने पहले ही उसने हिन्दू धर्म को त्याग कर क्रिश्चियन धर्म अपनाया था. बताया जा रहा है कि धार्मिक बातों पर जज की पत्नी के साथ उसकी बहस होती थी. पुलिस हिरासत में भी महिपाल कह रहा था कि धर्म परिवर्तन को लेकर जज की पत्नी उसे परेशान करती थी।

MeToo अभियान में लता केलकर का विवादास्पद बयान, अकबर पर आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार इतनी मासूम नहीं की कोई उनका शेषण करें

भोपाल। एक ओर जहां ज़्यादातर महिला कैबिनेट मंत्री यौन शोषण का आरोप झेल रहे विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर टिप्पणी करने से बच रही हैं, तो वहीं मध्य प्रदेश की भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष लता केलकर ने इस मामले में विवादास्पद बयान दिया है.

लता केलकर ने कहा कि जिन महिला पत्रकारों ने आरोप लगाए हैं वह खुद भी इतनी मासूम नहीं हैं कि कोई उनका फायदा उठा सके. लता ने ये जवाब उस वक्त दिया जब रिपोर्टर्स ने उनसे MeToo अभियान में एमजे अकबर पर लगे आरोपों के बारे में पूछा. केलकर ने कहा एमजे अकबर एक पत्रकार रहे हैं और जो आरोप लगा रही हैं वह खुद भी पत्रकार हैं. ऐसे में दोनों की गलती है.

वहीं MeToo अभियान का स्वागत करते हुए उन्होंने कहा कि इसने महिलाओं को साहस दिया है जिसकी वजह से वह उत्पीड़न के खिलाफ आवाज़ उठा पा रही हैं. उन्होंने साथ में यह भी कहा कि क्योंकि उनको ऐसा लग रहा है इसलिए यह उत्पीड़न हो गया, नहीं क्योंकि उन्होंने ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं की थी.

अकबर के इस्तीफे को लेकर जब उनसे सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि उनके इस बारे में कुछ भी कहने से ये तय नहीं होगा इसके बारे में खुद अकबर और पार्टी हाई कमान फैसला लेंगे. लेकिन जब उनसे पूछा गया कि अगर यही इल्ज़ाम कांग्रेस के किसी नेता पर लगे होते तो वह क्या करतीं तो उनका जवाब था कि वह इस्तीफे की मांग करतीं.

जब पूछा गया कि अगर मंत्री पर कोई एक्शन लेना हो तब, तो उनका जवाब था कि इस मामले में अकबर पर जो भी इल्ज़ाम लगे हैं उनकी जांच होनी चाहिए. उसके आधार पर जो भी दोषी पाया जाता है उस पर एक्शन लिया जाना चाहिए.

कई प्रमुख अख़बारों के संपादक रह चुके अकबर पर करीब सात महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. अकबर पर आरोप लगाने वाली पहली महिला पत्रकार प्रिया रमानी हैं, जिन्होंने ट्वीट करके अकबर पर सेक्सुअल हरैसमेंट का आरोप लगाया है. एक साल पहले एक मैग्ज़ीन को दिए इंटरव्यू में उन्होंने उनके साथ हुई इस अप्रिय घटना के बारे में बताया था, लेकिन तब उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया था.

कई अन्य पत्रकारों ने भी अकबर पर नौकरी देने, इंटरव्यू लेने और काम के बारे में बातचीत करने के लिए होटल के कमरे में बुलाने और गलत व्यवहार करने का आरोप लगाया था. कुछ महिलाओं ने ये भी आरोप लगाया था कि अकबर की बात न मानने पर उन्होंने उनका जीना दुश्वार कर दिया.

बता दें कई विपक्षी पार्टियों कांग्रेस, लेफ्ट, टीडीपी और बीजेपी की पुरानी सहयोगी शिवसेना इस मामले को लेकर अकबर के इस्तीफे की मांग कर चुकी हैं. फिलहाल अकबर नाइजीरिया के दौरे पर हैं और सूत्रों ने ये साफ कर दिया है कि विदेश राज्यमंत्री अकबर अपना दौरा बीच में रोककर वापस नहीं आ रहे. एमजे अकबर ने अभी इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया भी नहीं दी है.

ओडिशा व आंध्र प्रदेश में 'तितली' की तबाही, 12 अक्टूबर तक समुद्र से दूर रहने की सलाह, कई ट्रेने रद्द

कोलकाता। चक्रवाती तूफान 'तितली' के दस्तक देने के बाद पश्चिम बंगाल में अधिक असर देखने को नहीं मिला। हालांकि दक्षिण बंगाल के जिलों में भारी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि यह तूफान अब पश्चिम बंगाल के गंगीय जिलों से लगे हिस्सों की तरफ मुड़ सकता है।

मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि यह तूफान गुरुवार शाम तक उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ सकता है और फिर इसके वहां से दिशा बदलकर गंगा से लगे पश्चिम बंगाल के हिस्से की तरफ बढ़ने तथा फिर शुक्रवार (12 अक्टूबर) की सुबह तक धीरे-धीरे कमजोर पड़ने की संभावना है।

उल्लेखनीय है कि चक्रवात ने पड़ोसी राज्य ओडि़शा के गंजम जिले में गोपालपुर में गुरुवार तड़के दस्तक दी। इसके साथ 126 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली। इस कारण दीघा में समुंद्र में ऊंची लहर उठी। मौसम विभाग ने शनिवार सुबह तक पश्चिम बंगाल के गंगा से सटे हिस्सों के कई जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश होने तथा उसके अगले दिन भारी बारिश की चेतावनी दी है।विभाग ने मछुआरों को 12 अक्टूबर तक समुद्र में ना उतरने की सलाह दी है। दीघा, मंदारमणि, शंकरपुर और अन्य स्थानों के पर्यटक स्थलों पर पर्यटकों को 12 अक्टूबर तक समुद्र से दूर रहने की सलाह दी गई है। उधर, अलीपुर मौसम विभाग के अधिकारी संजीव बनर्जी ने बताया कि दुर्गापूजा के पहले ही तितली का प्रभाव खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कमजोर पड़ने के बाद तितली निम्नदबाव में बदलेगा जिस कारण भारी बारिश होगी हालांकि इस दौरान तूफान की संभावना नहीं के बराबर है।

कई ट्रेनें रद्द

तितली तूफान की प्रबल संभावना और इससे संभावित नुकसान को देखते हुए दक्षिण पूर्व रेलवे (दपूरे) ने ट्रेनों के संचालन को नियमित करने का निर्णय लिया है। कई ट्रेनों को रद्द करने के साथ ही कइयों के समय में परिवर्तन किया गया है। 11 अक्टूबर को सांतरागाछी स्टेशन से खुलने वाली 06057 सांतरागाछी-चेन्नई स्पेशल और 12 अक्टूबर को हावड़ा से रवाना होने वालीं 12841 हावड़ा-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस व इसी दिन चलने वाली 12863 हावड़ा -यशवंतपुर एक्सप्रेस ट्रेनों को रद्द रखा गया है।

वहीं 11 अक्टूबर की रात 11.45 बजे हावड़ा से खुलने वाली 12839 हावड़ा-चेन्नई मेल अब 12 अक्टूबर को सुबह 8 बजे खुलेगी। इधर हावड़ा स्टेशन से सिकंदराबाद तक (02773) स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी, जो 12 अक्टूबर की दोपहर 2.50 बजे रवाना होगी। अपने सफर के दौरान स्पेशल ट्रेन वियजवाड़ा स्टेशन तक 12841 हावड़ा-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस ट्रेन के तय ठहराव पर रुकेगी। जबकि विजयवाड़ा से सिकंदराबाद तक इस ट्रेन का ठहराव 12773 शालीमार-सिकंदराबाद एसी एक्सप्रेस के तय ठहराव के अनुसार होगा। 

दैसो के सीईओ एरिक ट्रैपर का बयान ,कहा, राफेल में रिलायंस की हिस्सेदारी केवल 10%

पेरिस। राफेल विमान बनाने वाली दैसो के सीईओ एरिक ट्रैपर ने गुरुवार को कहा कि डील में रिलायंस का इन्वेस्टमेंट सिर्फ 10% है। हमने 100 से ज्यादा भारतीय कंपनियों से बात की थी। इनमें से करीब 30 कंपनियों के साथ साझेदारी की गई है। रिलायंस को चुनने के लिए भारत सरकार की तरफ से कोई दबाव नहीं था। गुरुवार को एक फैंच मैगजीन ने दावा किया था कि राफेल के लिए सिर्फ रिलायंस का नाम भेजा गया। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी ने डील में अनिल अंबानी की कंपनी को 30% कंपनसेशन दिलवाया।

दैसो ने आमंत्रित किया था, इसलिए फ्रांस आई
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अचानक फ्रांस दौरे को लेकर राहुल गांधी के आरोपों को खारिज किया। उन्होंने कहा, ‘‘दैसो कंपनी ने फ्रांस आने के लिए आमंत्रित किया था, क्योंकि हम खरीदार हैं। ऐसे में हमें निसंदेह फ्रांस आना पड़ेगा और सारी चीजों को देखना पड़ेगा।’’

भारतीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को पेरिस में प्रेस कॉन्फ्रेंस में सरकार की बात दोहराई। उन्होंने कहा कि यह हमें नहीं पता था कि दैसो एविएशन अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप के साथ टीम बना रहा है।

सीतारमण ने कहा कि फ्रांस की सरकार के साथ हमारी सोच एकदम साफ है। हमने 36 राफेल विमान के साथ-साथ उनकी मेंटनेंस की भी डील की है। वहीं, इस डील में किसी खास कंपनी का जिक्र नहीं किया गया।

राहुल ने पीएम पर लगाया था आरोप
राहुल ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भ्रष्ट बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अनिल अंबानी को राफेल का कॉन्ट्रैक्ट दिलाकर 30 हजार करोड़ रुपए उनकी जेब में डाले। वे देश के नहीं, अंबानी के चौकीदार हैं। अगर मोदी राफेल डील में भ्रष्टाचार को लेकर जवाब नहीं दे पा रहे हैं तो इस्तीफा दें।

फ्रेंच मैग्जीन का यह दावा था
फ्रांस की इन्वेस्टिगेटिव मैगजीन मीडियापार्ट ने बुधवार को दावा किया था कि रिलायंस डिफेंस से समझौता करने के अलावा दैसो के पास कोई और विकल्प नहीं था। दैसो के आंतरिक दस्तावेज से इसकी पुष्टि होती है। हालांकि, दैसो ने इस दावे को खारिज कर दिया था। उन्होंने कहा था कि कंपनी ने स्वतंत्र रूप से रिलायंस का चयन किया। इसके लिए कोई दबाव नहीं था।

पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने पार्टनर चुनने पर दिया था बयान
फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने बयान दिया था कि भारत सरकार ने ही रिलायंस का नाम प्रस्तावित किया था। ऐसे में दैसो के पास भारत की दूसरी रक्षा कंपनी चुनने का विकल्प नहीं था। पिछले महीने फ्रांस सरकार और दैसो ने ओलांद के दावे को खारिज कर दिया था।

भारतीय रक्षा मंत्रालय ने भी ओलांद के दावे को विवादास्पद और गैरजरूरी बताया था। मंत्रालय ने कहा था कि भारत ने ऐसी किसी कंपनी का नाम नहीं सुझाया था। कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक, समझौते में शामिल फ्रेंच कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट वैल्यू का 50% भारत को बतौर ऑफसेट या री-इंवेस्टमेंट देना था।

टेकऑफ करते समय दिवार से टकराया एयर इंडिया का विमान, बाल-बाल बचें 136 यात्री

त्रिची। तमिलनाडु के त्रिची एयरपोर्ट पर एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया। त्रिची से दुबई जा रही एयर इंडिया की फ्लाइट एयरपोर्ट की दीवार से टकरा गई। हादसे के दौरान विमान में 136 यात्री मौजूद थे। हालाकि विमान में बैठे सभी यात्री सुरक्षित हैं। नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं।

देर रात करीब 1:30 बजे एयर इंडिया की फ्लाइट को त्रिची एयरपोर्ट से दुबई के लिए उड़ान भरनी थी। टेक ऑफ करते समय विमान के पहिए कंपाउंड से टकरा गए। फ्लाइट का निचला हिस्सा एटीएस कंपाउंड की दीवार से रगड़ खा गया। हवाई जहाज और दीवार की टक्कर इतनी जोरदार थी कि इससे एयरपोर्ट की दीवार भी टूट गई।

हादसे के बाद आतंरिक जांच शुरू कर दी गई है और जांच पूरी होने तक पायलट और सह-पायलट को निलंबित कर दिया गया है। एयर इंडिया ने अपने बयान में कहा कि जांच चल रही है और पायलट व को-पायलट को फिलहाल हटा दिया गया है। घटना के बाद विमान की इमरजेंसी लैंडिंग मुंबई एयरपोर्ट पर सुबह 5 बजकर 39 मिनट पर की गई। फिलहाल विमान पार्किंग में है।

फ्लाइट के मुंबई में उतरने के बाद एयरपोर्ट अधिकारियों ने घटना की और मौजूदा हालातों की समीक्षा की। जानकारी के अनुसार टक्कर की वजह से विमान के निचले हिस्से को नुकसान पहुंचा है। हालांकि जांच के बाद इसे संचालन के लिए उपयुक्त पाया गया। डीजीसीए ने जांच के आदेश दिए हैं।

सुरेश प्रभु ने दिए जांच के आदेश
नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने तमिलनाडु के त्रिची हवाई अड्डे की दीवार से एयर इंडिया की दुबई जा रही फ्लाइट के टकराने वाले मामले में उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं। सुरेश प्रभु ने ट्वीट के जरिए इस बारे में जानकारी दी। उन्होने कहा कि इस सन्दर्भ में नागरिक और उड्डयन मंत्रालय के सचिव और सीनियर अधिकारियों से इस घटना के बारे में जानकारी मांगी है। एयरलाइन्स की सुरक्षा को लेकर हाल में की गई समीक्षा में हमने सुरक्षा से जुड़े विभिन्न पहलुओं को देखने के लिए थर्ड पार्टी पेशेवर संगठन को स्थापित करने का फैसला लिया है। हवाई यात्रा सुरक्षा की ओर लगातार ध्यान रखने के लिए, मैंने संबंधित अधिकारियों को सभी एयरलाइनों की नियमित "सुरक्षा अनुपालन रिपोर्ट" लगाने का भी आदेश दिया है।

केंद्रीय नागरिक और उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने एक के बाद कई ट्वीट कर कहा कि यात्रियों की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोपरि है। इसके लिए जो भी कदम आवश्यक होंगे उठाए जायेंगे। उन्होंने आएगी जानकारी देते हुए बताया की DGCA के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंच कर घटना की पूरी जानकारी ले रहे हैं। एयर इंडिया ने सहायक कंपनियों समेत संगठन के भीतर सभी सुरक्षा संबंधी मुद्दों को देखने के लिए बोर्ड के एक स्वतंत्र निदेशक की अध्यक्षता में बोर्ड की उप-समिति गठित की है।
 

ओडिशा व आंध्र प्रदेश में तितली का कहर, बारिश का दौर शुरू

भुवनेश्वर। बंगाल की खाड़ी की ओर सक्रिय चक्रवातीय तूफान तितली का आंशिक असर बिहार में भी दिखेगा। मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक पटना सहित बिहार के कुछ जिलों में गरज तड़क और तेज हवा के साथ बारिश हो सकती है। मौसमविदों के मुताबिक यह इसपर निर्भर करता है कि गंगेटिक पश्चिम बंगाल से उत्तर पश्चिम की ओर प्रवेश करता हुआ यह तूफान इस क्षेत्र में कितनी देर टिकता है।

अब तक की परिस्थितियों के अनुसार उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने के बाद इस तूफान के उत्तर पूर्व की ओर बढ़ने के आसार हैं। मौसम विभाग ने गुरुवार को पटना, गया, भागलपुर और पूर्णिया के कुछ जगहों पर बारिश का पूर्वानुमान किया है। इधर, बुधवार को पटना का अधिकतम तापमान 32 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। सुबह और शाम में उमस की स्थिति बनी रही। गया का पारा 31.3, भागलपुर 32.4 और पूर्णिया का 31.4 डिग्री रिकॉर्ड किया गया।

ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तट पहुंचा 'तितली'
वहीं चक्रवाती तूफान तितली ने आज सुबह ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तट पर दस्तक थी। उन इलाकों में 140-150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल रहीं है और साथ ही में जोरदार बारिश भी हो रही है। डायरेक्टर ऑफ मौसम केन्द्र भुवनेश्वर को निदेशक एचआर विश्वास ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया- “बारिश शुरू हो चुकी है और यह अगले एक से दो घंटे में पूरे ओडिशा को पार कर जाएगी।”

एक तरफ जहां ओडिशा के गोपालपुर में हवा की रफ्तार 126 किलोमीटर प्रति घंटा रही तो वहीं दूसरी तरफ आंध्र प्रदेश के कलिंगपट्टनम में हवा की गति 56 किलोमीटर प्रति घंटा दर्ज की गई। जैसे ही चक्रवाती तूफान तितली ओडिशा-आंध्र तट पर पहुंचा ओडिशा के पांच जिलों- गंजम, गजपति, पुरी, खुर्दा, जगतसिंहपुर में तेज हवा के साथ जोरदार बारिश हुई।

संत रामपाल के मामले में हिसार कोर्ट का बडा फैसला, 16 व 17 को होगी सजा की सुनवाई

नई दिल्ली। हिसार के सतलोक आश्रम वाले संत रामपाल पर सेशन कोर्ट ने आज (11 अक्टूबर) फैसला सुना दिया। हिसार कोर्ट ने रामपाल को दोनों मामले में दोषी करार दिया। इन मामलों में 16-17 अक्टूबर को सजा सुनाई जाएगी। मामले की गंभीरता को देखते हुए फैसला आने से पहले हिसार और आसपास के इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी की गई थी। सुनवाई के दौरान कोर्ट से तीन किलोमीटर का सुरक्षा घेरा लगा हुआ था। रामपाल पर 24 अगस्त को फैसला आना था लेकिन राम रहीम के मामले को देखते हुए सुरक्षा कारणों से इसे टाल दिया गया था। वहीं रामपाल पर देशद्रोह के मामले में 19 नवंबर को सुनवाई होगी।

हिसार के डीसी एके मीना ने कहा कि आज कोर्ट ने दो मामलों में स्वयंभू गॉडमैन रामपाल के खिलाफ फैसला सुनाया। एफआईआर नंबर 429 पर 16 अक्टूबर को और एफआईआर नंबर 430 पर 17 अक्टूबर को सजा सुनाई जाएगी। 17 अक्टूबर तक इलाके में धारा 144  और सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।

एफआईआर नंबर 429 के मुताबकि नवंबर 2014 में बरवाला के सतलोक आश्रम में रामपाल के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प के दौरान वह और उसके 15 समर्थकों पर चार महिलाओं और एक बच्चे की हत्या करने का आरोप है। एफआईआर नंबर 430 के मुताबिक रामपाल और उसके 13 समर्थकों पर नवंबर 2014 में बरवाला के सतलोक आश्रम में रामपाल के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प के दौरान आश्रम के भीतर एक महिला की हत्या का आरोप है।

सुनवाई से पहले कई रूटों को डावर्ट कर दिया गया था। सुनवाई से 48 घंटे पहले ही जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गई थीं। रामपाल के समर्थक किसी तरह की कानून व्यवस्था ना बिगाड़ पाए इसके लिए प्रशासन पहले से ही मुस्तैद था।

कानून व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने के लिए राजस्थान, पंजाब, मध्यप्रदेश और हरियाणा से विभिन्न हिस्सों से हिसार आने वाली ट्रेनों के परिचालन पर भी रोक लगाई गई। प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए रैपिड एक्शन फोर्स की कंपनियां भी तैनात की।

राफेल डील पर राहुल का मोदी पर हमला, कहा प्रधानमंत्री भ्रष्ट है

नई दिल्ली। राफेल सौदे (Rafale Deal) को लेकर फ्रांस की खोजी खबरों की वेबसाइट 'मीडियापार्ट' के नये खुलासे के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi on Rafale Deal) ने एक बार फिर से राफेल मामले पर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की है. मोदी सरकार पर ताजा हमला कर राहुल गांधी ने कहा कि पता नहीं कि फ्रांस में क्या इमरजेंसी है कि रक्षामंत्री को तुरंत फ्रांस जाना पड़ता है. राहुल गांधी ने कहा कि अंबानी के प्रधानमंत्री ने अनिल अंबानी के जेब में करोड़ों रुपये दिये. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करीब 30 हजार करोड़ रुपये अनिल अंबानी की जेब में डाला है. राहुल गांधी ने कहा कि पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति और अब राफेल के सीनियर एक्ज़ीक्यूटिव और साफ कह दिया है कि राफेल सौदे के बदले दसॉल्ट को रिलायंस से डील करने को कहा गया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि फ्रांस्वा ओलांद के बाद अब अधिकारी का बयान आ गया है कि डील के लिए अनिल अंबनी की रिलायंस को जोड़ना पड़ा. उन्होंने कहा कि पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने कहा था कि हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा था कि अनिल अंबानी जी को राफेल का कांट्रैक्ट मिलना चाहिए. अब राफेल कंपनी के सीनियर एक्ज़ीक्यूटिव और साफ कह दिया है कि राफेल सौदे के बदले दसॉल्ट को रिलायंस से डील करने को कहा गया. उन्होंने कहा कि अनिल अंबानी के चौकीदार हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. यह पूरी तरह से भ्रष्टाचार का मामला है और भारत के प्रधानमंत्री भ्रष्ट हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि अनिल अंबानी जी 45000 करोड़ रुपये के कर्जे में हैं. 10 दिन पहले कंपनी खोली और प्रधानमंत्री जी ने 30,000 करोड़ रुपया हिन्दुस्तान की जनता का पैसा, एयरफोर्स का पैसा अनिल अंबानी की जेब में डाला है. राहुल गांधी ने कहा कि ऐसे आरोप लग रहे हैं कि भारत के प्रधानमत्री भ्रष्ट हैं तो इस पर पीएम को जवाब देना चाहिए. अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें इस्तीफा देना चाहिए. उन्होंने कहा कि अभी दूसरे संदर्भ में और भी सूचनाएं आएंगी. उन्होंने यह भी कहा कि मीडिया पर भी दबाव बनाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि मैं देश के युवाओं से कहना चाहता हूं कि हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री भ्रष्ट हैं. युवा रोजगार खोज रहे हैं और प्रधानमंत्री जी अनिल अंबानी जी की चौकीदारी कर रहे हैं. राहुल गांधी ने आगे कहा कि देश में मुख्य मुद्दा भ्रष्टाचार का है और प्रधानमंत्री जी इस पर कुछ नहीं बोल रहे हैं. यह भारत के प्रधानमंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार का सीधा मामला है।

दरअसल, राफेल सौदे को लेकर फ्रांस की खोजी खबरों की वेबसाइट 'मीडियापार्ट' ने नया खुलासा किया है. 'मीडियापार्ट' वेबसाइट ने अपने हाथ लगे दसॉल्ट के एक दस्तावेज के हवाले से दावा किया है कि राफेल सौदे के बदले दसॉल्ट को रिलायंस से डील करने को कहा गया।

राफेल सौदे में 'मीडियापार्ट' के नये खुलासे के बाद दसॉल्ट ने दी सफाई, कहा- हमने बिना दबाव के रिलायंस को चुना

इससे पहले मीडिया पार्ट को दिए इंटरव्यू में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने खुलासा किया था कि किस तरह रिलायंस को पार्टनर बनाने के लिए फ्रांस की सरकार को भारत सरकार ने कहा था.गौरतलब है कि तब दसॉल्ट ने आधिकारिक बयान जारी कर कहा था राफेल सौदा दो सरकारों के बीच हुआ है. लेकिन नए खुलासे ने इस दावे पर सवाल खड़ा कर दिया है और एक तरह से यह ओलांद के दावे की पुष्टि करता है।


टिप्पणियां
मीडियापार्ट के अनुसार राफेल लड़ाकू विमान बनाने वाली कम्पनी दसॉल्ट के एक आंतरिक दस्तावेज के मुताबिक भारत से 36 राफेल विमान सौदे में अनिल अम्बानी की कंपनी रिलायंस डिफेंस को भारत में आफसेट पार्टनर बनाना आवश्यक था।   
मीडियापार्ट ने अपने लेख में कहा है कि दसॉल्ट के दस्तावेज में रिलायंस को आफसेट पार्टनर बनाने के लिए  फ्रेंच शब्द 'contrepartie' का उपयोग किया. इस शब्द का अंग्रेजी में अर्थ "counterpart" है।

ओडिशा पर चक्रवाती तूफान 'तितली' का खतरा, मचा सकता है भारी तबाही, रेड अलर्ट जारी

भुवनेश्वर। ओडिशा में आ रहे चक्रवाती तूफान तितली ने अब भयंकर रूप धारण कर लिया है। चक्रवाती तूफान आगामी 18 घंटे में अति भंयकर रूप धारण कर लेगा। फिलहाल यह तूफान 10 किमी/घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। मौसम विभाग के अनुसार गुरुवार सुबह तक इसकी तीव्रता और बढ़ेगी और 145 किमी/घंटे तक की रफ्तार से हवाएं चलने के आसार हैं। ओडिशा सरकार ने 'तितली' तूफान के मद्देनजर सुरक्षा और राहत एजेंसियों को अलर्ट पर रखा है। मौसम विभाग ने बुधवार को जारी अपने पूर्वानुमान में ओडिशा के ज्यादातर हिस्सों में भारी बारिश की आशंका जताई है।

तितली तूफान आज सुबह गोपालपुर बंदरगाह से 370 किमी. एवं कलिंगपटनम से 310 किमी. की दूरी पर है। 11 अक्टूबर सुबह के समय तितली स्थल भाग को स्पर्श करेगा। कलिंगपटनम एवं गोपालपुर के बीच यह स्थल भाग को स्पर्श करेगा। तितली जब स्थल भाग को स्पर्श करेगा उस समय 145 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से पवन चलेगी।

गंजाम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर जिला में भारी से भारी बारिश होगी। अन्य तटीय जिलों में भी बारिश होगी। एसआरसी श्री सेठी ने कहा है कि तटीय जिलों में भारी से भारी बारिश होने की सम्भावना है। विभिन्न नदियों में बाढ़ आने की सम्भावना है। इसीलिए निचले इलाकों के लिए सतर्क सूचना जारी कर दी गई है।

ओडिशा सरकार की युद्ध स्तर पर तैयारी
बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने के बाद चक्रवात का रूप धारण कर चुके तितली तूफान से निपटने के लिए ओडिशा सरकार युद्ध स्तर पर तैयारी में जुट गई है। मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाढ़ी ने सचिवालय में मंगलवार शाम को वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा करने के बाद बताया कि रेड अलर्ट जारी करने के बाद पुरी, गंजाम और जगतसिंहपुर जिले के सभी स्कूल-कॉलेजों में तीन दिन के लिए छुट्टी घोषित कर दी गई है। इन जिलों में 10 से 12 अक्टूबर तक स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे।

उन्होंने कहा कि इन जिलों में छह एनडीआरएफ, 11 ओड्राफ (ओडिशा डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स) टीम को तैनात किया जाएगा। निचले इलाके में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बुधवार को स्थिति का जायजा लेने के बाद अन्य जिलों के स्कूल-कॉलेजों को बंद किया जाएगा या नहीं उस पर निर्णय लिया जाएगा।

उधर खुर्दा, नयागड़, कटक, जाजपुर, भद्रक एवं बालासोर जिलों में भारी बारिश होने की आशंका होने से इन जिलों में चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग ने कहा है कि चक्रवाती तूफान जब स्थल भाग को छुएगा तब हवा की गति 110 से 125 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है।

मोदी सरकार के विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर यौन शोषण का आरोप

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर यौन शोषण के खिलाफ शुरू हुए me too अभियान ने जोर पकड़ लिया है। बॉलीवुड के बाद अब इसकी आंच राजनीति तक भी पहुंच गई है. ताजा मामले में मोदी सरकार के मंत्री एमजे अकबर का नाम सामने आया है.पूर्व एडिटर और विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर यौन शोषण का आरोप लगा है. इस बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कोई जवाब नहीं दिया ट्रिब्यून की पत्रकार स्मिता शर्मा ने जब सुषमा स्वराज से पूछा कि क्या एमजे अकबर के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. स्मिता शर्मा ने सुषमा स्वराज से पूछा था किए श्यह एक गंभीर आरोप है. आप एक महिला हैं क्या आरोपों की जांच की जाएगी.इस पर जवाब देने के बजाय सुषमा स्वराज बिना कुछ बोले आगे निकल गईं ऐसा माना जा रहा है कि विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर इन दिनों नाइजीरिया में हैं।


एमजे अकबर का नाम पत्रकार प्रिया रमानी ने लिया है प्रिया ने लिखा कि उन्होंने पिछले साल वोग पत्रिका में अपने साथ हुए यौन शोषण का स्मरण लिखा था और कहानी की शुरुआत एमजे अकबर के साथ हुई घटना से की थी प्रिया ने तब एमजे अकबर का नाम नहीं लिया था लेकिन 2017 की स्टोरी का लिंक शेयर करते हुए एमजे अकबर का नाम लिख दिया कहा कि यह कहानी जिससे शुरू होती है वह एमजे अकबर है प्रिया ने लिखा है कि उस रात वह भागी थीं फिर कभी उसके साथ अकेले कमरे में नहीं गईं प्रिया रमानी ने एक के बाद एक कई ट्वीट किया बता दें कि एमजे अकबर कई अखबारों और पत्रिकाओं में संपादक रह चुके हैं।

उधरए भारतीय जनता पार्टी ;भाजपाद्ध के सांसद उदित राज ने इस मामले में चौंकाने वाली राय बयां की है उन्होंने इस कैंपेनिंग को लेकर सवाल खड़े कर दिए हैं उन्होंने कैंपेन के तहत लग रहे आरोपों को गलत प्रथा की शुरुआत करार दिया है सांसद के मुताबिक लंबे अरसे के बाद आरोप लगाने के बाद उसकी सत्यता की जांच कैसे होगी झूठे आरोपों से किसी की छवि को नुकसान भी पहुंच सकता है।

बीजेपी सांसद उदितराज ने ट्वीट करते हुए कहाए #me too कैंपेन जरूरी है लेकिन किसी व्यक्ति पर 10 साल बाद यौन शोषण का आरोप लगाने का क्या मतलब है इतने सालों बाद ऐसे मामले की सत्यता की जांच कैसे हो सकेगी जिस व्यक्ति पर झूठा आरोप लगा दिया जाएगाए उसकी छवि का कितना बड़ा नुकसान होगा ये सोचने वाली बात है गलत प्रथा की शुरुआत है।