Updated -

mobile_app
liveTv

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य के रूप में कमल किशोर समेत 4 की होगी नियुक्ति

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)। केंद्र सरकार ने कमल किशोर की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य के रूप में नियुक्ति को अनुमति दे दी है। उनकी नियुक्ति अगले पांच सालों के लिए की जाएगी। वहीं सरकार ने कृष्णा वास्ता, राजेंद्र सिंह और सैय्यद अता हसनैन की हृष्ठरू्र के सदस्य के रूप में नियुक्ति पर मुहर लगा दी है। ये नियुक्तियां पांच सालों के लिए की जा रही हैं। इन सभी में कमल किशोर की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण में नई नियुक्ति है, जो 16 फरवरी से अपना कार्यभाल संभाल लेंगे। वहीं अन्य सदस्य जब से पदभार संभालेंगे उस तिथि से पांच साल तक उनका कार्यकाल रहेगा। यहां आपको यह भी बता दें कि कमल किशोर के अलावा बाकी अधिकारी पहले से ही अन्य विभागों में अपनी सेवा दे चुके हैं। 

सुप्रीम कोर्ट ने बजरी खनन पर रोक लगाने के निर्देश दिए

सुप्रीम कोर्ट ने 4 हफ्ते के अंदर राजस्थान सरकार से कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी
सुप्रीम कोर्ट की रोक के बाद भी प्रदेश में बजरी खनन लगातार जारी है
जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं)। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान सरकार के सभी कलेक्टर और एसपी को बजरी खनन पर रोक लगाने के आदेश दिए। सुप्रीम कोर्ट ने 4 हफ्ते के अंदर राजस्थान सरकार से कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है। मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने ये निर्देश दिए। जिसमें न्यायमूर्ति बी आर गवई और सूर्य कांत भी शामिल थे। गौरतलब है कि अवैध खनन मामले में नवीन शर्मा ने कंटेंप्ट पिटिशन फाइल की थी।
मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने राज्य सरकार, कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को अवैध रेत खनन पर रोक के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा। न्यायालय ने चार सप्ताह के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट सौंपने का भी राज्य सरकार को निर्देश दिया। इस दौरान मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा कि अवैध रेत खनन से "पर्यावरण को अपूरणीय क्षति" होने की संभावना है। बता दें कि न्यायालय राजस्थान में अवैध रेत खनन को लेकर कई याचिकाओं की संयुक्त सुनवाई कर रहा है।

अदालत ने केंद्रीय उच्चाधिकार प्राप्त समिति (सीईसी) को राजस्थान में अवैध रेत खनन मामले की जांच करने का निर्देश दिया और छह सप्ताह के अंदर अपने सुझावों के साथ रिपोर्ट पेश करने को कहा। बैंच ने कहा कि सीईसी रेत व्यापारियों, ट्रांसपोर्टरों और अन्य हितधारकों के सामने आने वाली समस्या पर भी विचार करेगी। उन्हे यह अधिकार होगा कि जांच कराने के उद्देश्य से सरकारी अधिकारियों सहित किसी भी व्यक्ति को समन भेजा जाए। 

जदयू से निकाले जाने के 20 दिन बाद प्रशांत किशोर का नीतीश पर तंज- बिहार को सशक्त नेता चाहिए, पिछलग्गू नहीं

जयपुर टाइम्स
पटना (एजेंसी)। जदयू से 29 जनवरी को निकाले जाने के बाद चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर पहली बार मंगलवार को पटना पहुंचे। 
उन्होंने मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर खुलकर निशाना साधा। उन्होंने कहा- नीतीश से वैचारिक मतभेद हैं। हालांकि, प्रशांत ने यह भी कहा कि बिहार को सशक्त नेता की जरूरत है, पिछलग्गू की नहीं। उन्होंने बताया कि वे 20 फरवरी से बात बिहार की कार्यक्रम शुरू करेंगे। वे इसके जरिए ऐसे युवा लोगों को जोड़ेंगे, जो बिहार को आगे ले जाएं।
प्रशांत किशोर ने कहा, "नीतीश ने बेटे की तरह रखा और मैं भी उन्हें पिता समान मानता हूं। पार्टी से निकालने का नीतीश का फैसला मंजूर हैं। उनके साथ मतभेद विचारधारा को लेकर हैं।

भारत में पैरासिटामॉल की कीमतों में 40 प्रतिशत बढ़ोतरी

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोनावायरस का संक्रमण बढऩे का असर चीन के साथ अब भारत पर भी दिखने लगा है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन से सप्लाई बाधित होने की वजह से भारत में पैरासिटामॉल दवाओं की कीमत 40 प्रतिशत बढ़ गई है।
जायडस कैडिला के चेयरमैन पंकज आर पटेल का कहना है कि बैक्टीरिया इंफेक्शन के इलाज में इस्तेमाल होने वाली एंटीबायोटिक एजिथ्रोमाइसिन की कीमतें 70 प्रतिशत बढ़ गई हैं। 
पटेल ने बताया कि अगले महीने के पहले सप्ताह तक चीन से सप्लाई शुरू नहीं हुई तो पूरी फार्मा इंडस्ट्री में इंग्रीडिएंट्स की कमी हो सकती है। एक्टिव फार्मास्यूटिकल्स इंग्रीडिएंट्स (एपीआई) के आयात के लिए भारत की चीन पर निर्भरता बहुत ज्यादा है। किसी भी दवा को बनाने के लिए एपीआई सबसे अहम कंपोनेंट हैं। डायरेक्ट्रेट जनरल ऑफ कमर्शियल इंटेलीजेंस एंड स्टैस्टिक्स के मुताबिक 2016-17 में भारत ने इस एपीआई सेगमेंट में 19,653.25 करोड़ रुपए का आयात किया, इसमें चीन की हिस्सेदारी 66.69 
प्रतिशत रही। 
2017-18 के दौरान भारत का आयात 21,481 करोड़ रुपए रहा और चीन की हिस्सेदारी बढ़कर 68.36 प्रतिशत हो गई। 2018-19 में एपीआई और बल्क ड्रग आयात 25,552 करोड़ रुपए हो गया।

बी सर्टिफिकेट लिखित परीक्षा में एनसीसी कैडेटों ने भाग लिया

जयपुर टाइम्स, चूरू  (निसं)।  राज बटालियन एनसीसी कार्यालय मे 09 कॉलेजो के 288 बॉयज व 150 गर्ल्स एनसीसी केडेटो ने श्बीश् सर्टिफिकेट लिखित परीक्षा में भाग लिया। सूबेदार मेजर उत्तम कुमार राय ने बताया की सर्टिफिकेट श्बीश् परीक्षा के प्रजाइडिंग ओफिसर कर्नल आर एस राठौड़, कमान अधिकारी 3 राज बटालियन एनसीसी, सीकर से व मेम्ब कर्नल अनुपम सक्सेना, कार्यवाहिक कमान अधिकारी 1 राज सीटीआर एनसीसी पिलानी द्वारा परीक्षा ली गई। परीक्षा में अन्य संस्थाओं से लेफ्टिनेंट बी एल मेहरा, गोरमेंट लोहिया कॉलेज चूरू, लेफ्टिनेंट नवीन कुमार, रामगढ़, लेफ्टिनेंट शीश राम, कॉलेज झुझुनु लेफ्टिनेंट सत्येंदर शर्मा, कॉलेज सादुलपुर लेफ्टिनेंट भीवसिंह राठोर, कॉलेज गुढ़ा गोरजी ने सहयोगी भूमिका निभाई परीक्षा मे ड्रिल ,वेपन ट्रेनिंग, फील्ड क्राफ्ट, मैप रीडिंग का लिखित एग्जाम हुआ. पीआई स्टाफ सूबेदार बाबूलाल, सूबेदार मनोज कुमार, व हवलदार श्री राम गोदारा, हवलदार जवाहरसिंह, हवलदार जय प्रकाश व हवलदार विरेन्दर तथा सहायक प्रशासनिक अधिकारी (सिविल) शांतिलाल रक्षक ट्रेनिंगा कलर्क किशनलाल सिन्धी, महेदर सिंह, अशोक कुमार उपस्थित थे।
 

बीएसएफ के स्थापना दिवस पर स्वच्छता अभियान कार्यक्रम का आयोजन

जयपुर टाइम्स
घडसाना  (निसं)। स्थानीय संत निरंकारी सत्संग भवन में बीएसएफ के स्थापना दिवस पर स्वच्छता अभियान कार्यक्रम में सहयोग देने पर संत निरंकारी सेवादल के सदस्यों को डिप्टी कमांडेंट पी एस मीणा वह कमांडेड अमिताभ  पवार के निर्देशों  कैप  व टी शर्ट वितरण कर सम्मान किया गया संत निरंकारी मिशन के मीडिया सहायक रमेश खाम्बरा ने बताया कि 23 फरवरी को गुरु पूजा दिवस के अवसर पर भी संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के भाई बहनों बच्चों द्वारा राजकीय चिकित्सालय घडसाना की सफाई की जावेगी उसके उपरांत इसी दिन रविवार को 11:00 से 1:00 बजे तक गुरु पूजा दिवस के उपलक्ष में सत्संग होगी  वह गुरु का अटूट लंगर वितरित किया जाएगा सत्संग होगी।

पारिवारिक कलह के कारण पुलिसकर्मी ने ससुराल में पत्नी समेत 5 लोगों पर गोलियां चलाईं, 4 की मौत, 10 साल की बच्ची घायल

जयपुर टाइम्स
मोगा (एजेंसी)। पंजाब पुलिस के हेड कांस्टेबल ने गांव जलालपुर में घरेलू विवाद के चलते करीब 6 बजे पत्नी और 3 ससुराल वालों (सास-साला और साले की पत्नी) की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना में साले की 10 साल की बच्ची भी घायल है। दरअसल,  आरोपी कांस्टेबल का ससुराल में विवाद हुआ था। इसके बाद धर्मकोट पुलिस उसे लेकर चली गई थी। आरोपी ने सुबह 6 बजे लौटकर एके-47 से वारदात को अंजाम दिया। बाद में उसने समर्पण कर दिया। आरोपी कुलविंदर सिंह मोगा पुलिस लाइन में दंगाविरोधी दल को लीड करता है। उसका पत्नी राजविंदर कौर के साथ लंबे समय से विवाद चल रहा था। झगड़े के बाद पत्नी मायके चली जाती थी। इस बात पर कुलविंदर ससुराल के लोगों से भी बेहद खफा था। आरोपी कांस्टेबल ने ससुराल पहुंचते ही सरकारी एके- 47 राइफल निकाली और गोलीबारी शुरू कर दी। घटना में पत्नी राजविंदर कौर, साला जसकरण सिंह और साले की पत्नी इंद्रजीत कौर की मौके पर ही मौत हो गई। 65 वर्षीय सास सुखविंदर कौर को गंभीर हालत में मोगा के सिविल अस्पताल में लाया गया था। यहां उपचार के दौरान उसकी भी मौत हो गई। घटना में साले जसकरण सिंह की 10 साल की बेटी जश्नप्रीत कौर घायल हो गई। वहीं, छोटे साले और मारे गए साले के 2 बच्चों ने पड़ोसियों के घर में छिपकर जान बचाई। बच्ची जश्नप्रीत कौर को मथुरादास सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
 जश्नप्रीत का कहना है कि उसके फूफा ने जमीन के विवाद के चलते घर में आकर सोते समय परिवार पर गोलियां चलाई हैं।

आरोपी की दूसरी पत्नी थीं मृतक इंद्रजीत कौर
वारदात के बाद आरोपी कुलविंदर ने छत पर च?कर जोर से चीखने लगा। पुलिस के पहुंचने पर आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस के मुताबिक, प्रारंभिक जांच में पता चला है कि इंद्रजीत कौर उसकी दूसरी पत्नी थीं। वह विवाद के बाद बेटी को लेकर मायके चली गई थीं।

पुलवामा की पहली बरसी : मोदी बोले- देश शहीदों का बलिदान कभी नहीं भूलेगा; राहुल ने पूछा- हमले से किसे फायदा मिला?

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)।  पुलवामा हमले की पहली बरसी के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को शहीदों को नमन किया। उन्होंने ट्वीट किया,पिछले साल पुलवामा हमले में शहीद हुए बहादुर जवानों को मेरी श्रद्धांजलि। वे असाधारण व्यक्ति थे, जिन्होंने हमारे राष्ट्र की सेवा और रक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। भारत उनकी कुर्बानी को कभी नहीं भूलेगा। वहीं, राहुल गांधी ने भी शहीद सीआरपीएफ के जवानों को याद किया और इसके बाद सरकार की प्रगति को लेकर सवाल उठाए। राहुल ने हमले को लेकर तीन सवाल पूछे। पहला, इस हमले से सबसे ज्यादा किसे फायदा मिला? दूसरा, हमले के बाद हुई जांच का परिणाम क्या निकला और तीसरा, भाजपा सरकार ने इस हमले को लेकर हुई चूक के लिए किसे जिम्मेदार ठहराई है? वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट कर शहीदों को याद किया और कहा कि भारत उनके बलिदान को कभी नहीं भूलेगा।

 दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी पुलवामा घटना की बरसी पर ट्वीट किया, "पुलवामा में आतंकवादी हमले में आज ही के दिन शहीद हुए जवानों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि।"                          सीआरपीएफ कैंप में शहीदों को श्रद्धांजलि

श्रीनगर में सीआरपीएफ के लेथपोरा कैंप में शहीद 40 जवानों को स्मारक पर श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर महाराष्ट्र के उमेश गोपीनाथ जाधव मुख्य अतिथि थे। जाधव पुलवामा हमले में शहीद सभी 40 जवानों के घर गए थे। साथ ही जाधव जवानों के अंतिम संस्कार स्थल की मिट्?टी को इकट्?ठा करके लाए थे। इसके लिए उन्होंने देश भर में 61 हजार किमी की यात्रा की। इस मौके पर सीआरपीएफ के महानिदेशक जुल्फिकार हसन ने कहा, "एनआईए ने इस संबंध में जांच पूरी कर चुकी है। हमने इस दिशा में काफी प्रगति की है। हम शहीदों के परिवारों का ध्यान रखने की बेहतर कोशिश कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, "पुलवामा हमले के साजिशकर्ता को हमले के कुछ महीने बाद ही मार गिराया गया था। जिन लोगों ने हमले को अंजाम दिया था, उसका हिसाब चुकता किया जा चुका है।" 

प्रदर्शनकारियों की मोदी से अपील- यहां आएं, तोहफा कबूलें और सीएए पर हमसे बात करें

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)। शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मिलने और बातचीत करने का न्योता दिया। प्रदर्शनकारियों ने दिल के आकार के पोस्टरों पर संदेश लिखकर मोदी से यह अनुरोध किया। प्रदर्शनकारियों ने एक पोस्टर पर लिखा- ''प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाहीन बाग आएं, अपना गिफ्ट स्वीकार करें और हमसे बात करें।ÓÓ शाहीन बाग के ट्विटर हैंडल से भी प्रधानमंत्री को मिलने के लिए कहा गया है। प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री के लिए एक लव सॉन्ग और एक सरप्राइज गिफ्ट देने की भी घोषणा की।
शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ 15 दिसंबर से लोग धरने पर बैठे हैं। इनमें काफी संख्या में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रदर्शनकारियों से चर्चा करने की बात कही थी।

'गृह मंत्री या प्रधानमंत्री कोई भी बात करने आ सकते हैंÓ

शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे सैयद तासीर अहमद ने कहा, ''प्रधानमंत्री मोदी या गृह मंत्री अमित शाह में से कोई भी हमसे बात करने के लिए आ सकता है। अगर वे हमें समझा देते हैं कि जो कुछ हो रहा है, वह संविधान के खिलाफ नहीं है तो हम अपना प्रदर्शन खत्म कर देंगे। सरकार का दावा है कि सीएए से किसी की नागरिकता नहीं छिनेगी। लेकिन, कोई यह नहीं बता रहा कि यह देश के लिए कैसे मददगार है। इससे बेरोजगारी, गरीबी और आर्थिक मंदी से निपटने में क्या मदद मिलेगी।ÓÓ 
 

कोर्ट ने कहा-इस देश में रहने से बेहतर इसे छोड़कर चले जाना चाहिए

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)। 1.47 लाख करोड़ रुपए के एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू  के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को टेलीकॉम कंपनियों और केंद्र के टेलीकॉम डिपार्टमेंट के रवैए पर नाराजगी जताई। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद ज्यादातर कंपनियों ने बकाया रकम जमा नहीं करवाई है। इस पर शीर्ष अदालत ने कंपनियों से पूछा कि क्यों ना आपके खिलाफ अवमानना की कार्रवाई की जाए? सुप्रीम कोर्ट ने कहा, क्या इस देश में कोई कानून नहीं बचा? इस देश में रहने से बेहतर है कि इसे छोड़कर चले जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने 24 अक्टूबर को आदेश दिया था कि टेलीकॉम कंपनियां 23 जनवरी तक बकाया राशि जमा करें। कंपनियों ने फैसले पर फिर से विचार करने की अपील की थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी। इसके बाद भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और टाटा टेली ने भुगतान के लिए ज्यादा वक्त मांगते हुए नया शेड्यूल तय करने की अपील की थी। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को इसे भी खारिज कर दिया।
 

22 साल बाद भी भाजपा सत्ता से दूर दिल्ली में फिर 'आप की सरकार

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)। दिल्ली विधानभा चुनाव में एक बार फिर प्रचंड बहुमत के साथ आम आदमी पार्टी ने जीत दर्ज की है। आप पार्टी 62 सीटों पर जीत दर्ज कर लगातार तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाएगी। आप के पास पिछली बार से 5 सीटें कम आई हैं। रुझानों और नतीजों के बीच मंगलवार करीब साढ़े तीन बजे केजरीवाल ने आईटीओ स्थित पार्टी मुख्यालय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। बहुमत देने के लिए दिल्ली की जनता को आई लव यू कहा। 
केजरीवाल ने कहा कि यह नई राजनीति का जन्म है और इसका नाम काम की राजनीति है। देश को भी यही राजनीति आगे ले जाएगी। केजरीवाल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने जीत की बधाई दी। नड्डा बोले- दिल्ली का जनादेश स्वीकार है, भाजपा सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाएगी।

निर्भया केस: फांसी की नई तारीख के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दी हरी झंडी

जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)।  के दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी करने के लिए हरी झंडी दे दी है। अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि तिहाड़ प्रशासन अब फांसी की नई तारीख जारी करवाने के लिए सत्र अदालत में याचिका डाल सकता है। इसके साथ ही अदालत ने चारों दोषियों को नोटिस जारी करते हुए उनकी अलग-अलग फांसी का मामला अपने पास स्थगित रखा है। इस पर 13 फरवरी को अगली सुनवाई होगी। पिछली सुनवाई में जस्टिस आर भानुमति, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एएस बोपन्ना की पीठ ने दोषियों को अलग-अलग फांसी देने के पक्ष में केंद्र सरकार की अर्जी पर फौरन सुनवाई यह कहते हुए टाल दी कि दोषियों को हाईकोर्ट द्वारा तय किए गए सात दिनों की समयसीमा के भीतर कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करने दिया जाए। पीठ ने केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता की दोषियों को नोटिस जारी करने के आग्रह को दरकिनार कर कहा, इससे मामले में और देरी होगी। 
हम इस मामले को 11 फरवरी को सुनेंगे और तब देखेंगे कि क्या दोषियों को नोटिस जारी करने की जरूरत है या नहीं।

इससे निराश मेहता ने कहा, इस मामले में देश के सब्र का इम्तिहान लिया जा रहा है। उन्होंने कहा, दोषी मुकेश कुमार सिंह के दया याचिका समेत सभी कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं। वहीं, अक्षय कुमार और विनय कुमार शर्मा की दया याचिकाएं खारिज हो चुकी हैं।

पवन ने अभी तक न तो सुधारात्मक और न ही दया याचिका ही दी है। सवाल यह है कि क्या सरकार को अंतहीन इंतजार करना चाहिए। इस पर पीठ ने कहा, किसी को कानूनी विकल्प लेने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है। हाईकोर्ट ने दोषियों को विकल्प आजमाने के लिए सात दिन का वक्त दिया है। यह इन्हें कानूनी सुरक्षा देता है।