Updated -

रोज बादाम खाने से गर्भस्थ शिशु के विकास में मिलेगी मदद 

भीगे बादाम खाने से कई है फायदे!
बादाम याददाश्त के लिए रामबाण कहा जाता है। इसमें तमाम आवश्यशक विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं, जैसे- विटामिन ई, जिंक, कैल्शियम, मैग्नीशियम और ओमेगा-3 फैटी एसिड। लेकिन बादाम से ज्यादा से ज्यादा लाभ पाने के लिए जरुरी है कि उसे रात भर पानी में भिगोकर खाना चाहिए। ऐसा इसलिए करना चाहिए,क्योंकि बादाम के छिलके में टनीन होता है,जो पोषक तत्वों के अवशोषण को मुश्किल बनाता है।
भीगे हुए बादाम में फॉलिक एसिड काफी होता है, ये पोषक तत्व गर्भ के शिशु के मस्तिष्क और न्यूरोलॉजिकल सिस्टम के विकास में मददगार साबित होता है। इसके अलावा, जब बादाम को भिगा दिया जाता है तो उन्हें खाना आसान हो जाता है, गर्भवती महिलाओं की कमजोर पाचन क्रिया के लिए यह खाना अच्छा होता है।
भीगे हुए बादाम पाचन क्रिया को मजबूत और स्वस्थ बनाता है। भीगे कच्चे बादाम खाने से पेट जल्दी साफ होता है और प्रोटीन पचाना आसान हो जाता है। बादाम का छिलका निकल जाने से उसके छिलके में मौजूद एंजाइम अलग हो जाते हैं और इस वजह से फैट तोडऩे में आसानी होती है। ऐसे में पाचन क्रिया और पोषक तत्वों का अवशोषण आसान हो जाता है।

बादाम हाई ब्लड प्रेशर को करता है नियंत्रित 
बादाम हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए अच्छे होते हैं। बादाम का सेवन करने से ब्लड में अल्फाल टोकोफेरॉल की मात्रा बढ़ जाती है, जो किसी के भी रक्तचाप को बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण होता है। नियमित रूप से बादाम खाने से ब्लड प्रेशर कम होता है। इसलिए अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत रहती है तो आपको भीगे बादाम खाने चाहिए।

उच्च कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण
उच्च कोलेस्ट्रॉल की समस्या हमारे देश में सबसे आम बीमारियों में से एक होती जा रही है। उच्च कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग और दिल की धमनियों में रुकावट समेत कई प्रकार के रोगों का एक बड़ा कारण है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए बादाम आपकी मदद कर सकता है। बादाम शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाने में व खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में बहुत मदद करता है।

वजन घटाता है भीगे बादाम 
अपनी डायट में भीगे हुए बादाम को शामिल करने से आपका वजन जल्दी घट सकता है। लो कैलोरी डायट में बादाम शामिल करने से वजन जल्दी घटाने में मदद मिलती है। बादाम न सिर्फ पाचन क्रिया बेहतर बनाता है बल्कि क्रेविंग भी कम करता है। ये मोटापे का एक बड़ा कारण- मेटाबॉलिक सिंड्रोम से लडऩे में भी मदद करता है।

डायबिटीज में भी मिलता है फायदा 
अगर आपको डायबिटीज की शिकायत रहती है तो आपको बादाम का सेवन जरुर करना चाहिये। बादाम खाना खाने के बाद शुगर और इंसुलिन का लेवल बढऩे से रोकता है। जिससे डायबिटीज से बचा जा सकता है। तो फिर किस बात की देरी है, रोज सुबह भीगे बादाम खाकर आप भी अपने शरीर को पोषण से भरपूर करें।

भीगे बादाम से मस्तिष्क का विकास भी होता है 
बादाम में ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो मस्तिष्क के विकास के लिए बहुत अच्छे होते हैं। ये बच्चों के मस्तिष्क के लिए बहुत ही फायदेमंद रहते हैं! गर्मी के दिनों में बादाम को रात में पानी में भिगोकर सुबह छिलका उतार कर खाना चाहिए। पढऩे वाले बच्चों के लिए तो यह बहुत ही फायदेमंद है। 

पपीते में होती है ये फायदे, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

पपीता खाने के फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे आप 
पपीते में प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है विटामिन सी 
कहा गया है कि पपीता फरिश्तों का फल है। एक ऐसा फल जिसमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है और इसमें स्वास्थ्य के लिए कई हितकारी गुण निहित होते हैं। इसके एक नहीं, अनेक फायदे हैं। 
पपीते के अंदर भारी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। साथ ही ये विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट्स से भी भरपूर होता है। अपने इन्हीं गुणों के चलते ये कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में काफी असरदार है।
पपीते में कई तरह के पाचक एंजाइम्स होते हैं जो पाचन शक्ति को अच्छा बनाए रखने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें कई डाइट्री फाइबर्स भी होते हैं जिसकी वजह से पाचन क्रिया सही रहती है।
पपीता में विटामिन सी के साथ-साथ विटामिन ए भी पर्याप्त मात्रा में होता है। विटामिन ए आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ बढ़ती उम्र से जुड़ी कई समस्याओं के समाधान में भी कारगर है।
एक मध्यम आकार के पपीते में 120 कैलोरी होती है। अगर आप वजन घटाने की बात सोच रहे हैं तो अपनी डाइट में पपीते को जरूर शामिल करें। इसमें मौजूद फाइबर्स वजन घटाने में मददगार होते हैं।
रोग प्रतिरक्षा क्षमता अच्छी हो तो बीमारियां दूर रहती हैं। पपीता आपके शरीर के लिए आवश्यक विटामिन सी की मांग को पूरा करता है। ऐसे में अगर आप हर रोज कुछ मात्रा में पपीता खाते हैं तो आपके बीमार होने की आशंका कम हो जाएगी।
अगर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान दर्द की शिकायत होती है महिलाओं को पपीता का सेवन करना चाहिए। पपीते के सेवन से एक महिलाओं के पीरियड साइकिल नियमित रहता है और दर्द में भी आराम मिलता है।
पपीता मधुमेह रोगियों के लिए आहार के रूप में एक बेहतरीन विकल्प है क्योंकि स्वाद में मीठा होने के बावजूद इसमें शुगर नाम मात्र का होता है। साथ ही, वे लोग जो मधुमेह के मरीज नहीं हैं, इसे खाकर मधुमेह होने के खतरों को दूर कर सकते हैं।
पपीते में एंटी-ऑक्सीडेंट और फ्लेवोनाएड प्रचुर मात्रा में होते हैं जो आपकी कोशिकाओं को कश्ती पहुंचने नहीं देते। कुछ अध्ययनों ने पपीते के सेवन से कोलन और प्रोस्टेट कैंसर के खतरे के कम होने की पुष्टि भी की है।
गठिया वास्तव में एक ऐसी बीमारी है जो शरीर को बेहद दुर्बल तो करती ही है जीवनशैली को बुरी तरह प्रभावित भी करती है। पपीते खाना आपकी हड्डियों के लिए बेहद लाभकारी हो सकता है, इनमें विटामिन-सी के साथ-साथ सूजन-रोधी गुण होते हैं जो गठिया के कई रूपों से शरीर को दूर रखता है। एक अध्ययन के अनुसार विटामिन-सी युक्त भोजन न लेने वाले लोगों में गठिया का खतरा विटामिन-सी का सेवन करने वालों के मुकाबले तीन गुना होता है।
पूरे दिन टूटकर काम करने के बाद घर लौटने पर अगर एक प्लेट पपीते खा लिए जाएं तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। इस कमाल के फल में आपको तनाव से दूर रखने की ताकत है। एक अध्ययन के मुताबिक 200 एमजी विटामिन सी स्ट्रेस हारमोन को संचालित करने में सक्षम होता है। पपीते में यह प्रचुरता में उपलब्ध होता है।

हल्के-फुल्के नाश्ते के लिए बनाएं कोकोनट परांठे

बदलते मौसम में हमारे स्वास्थ्य पर खान-पान का असर बहुत जल्दी पड़ता है। जरा-सी भी लापरवाही हमें बीमार कर सकती है। इस मौसम में हल्का और स्वास्थ्यवर्धक नाश्ता करना ही ठीक रहता है। यहां है एक रेसिपी जो हल्की-फुल्की और स्वादिष्ट है। ऐसे बनाएं कोकोनट परांठे-
सामग्री : ताजा कद्दूकस किया चोटी वाला नारियल 1 कटोरी, 1/2 कप सिंघाड़े का आटा, 1/2 कप  राजगिरे का आटा, 1/2 टी स्पून पिसी इलायची, 1 उबला आलू, स्वादानुसार सेंधा नमक, एक हरी मिर्च बारीक कटी, घी आवश्यकतानुसार।
विधि : सबसे पहले किसे हुए नारियल में दोनों आटे एवं पिसी हुई इलायची, बारीक कटी हरी मिर्च व नमक मिलाएं। उबला आलू छीलकर मैश कर लें। इसे आटे में मिलाकर गूंथ लें। गूंथे आटे की लोइयां बनाकर बेल लें। न्हें गर्म तवे पर दोनों तरफ से घी लगाकर सेंक लें। स्वादिष्ट गर्मागर्म कोकोनट पराठा हरी चटनी या दही के रायते के साथ सर्व करें।

सर्दी में फायदेमंद साबित होंगे सोंठ के लड्‌डू

मिठाई में लड्डू तो सभी को पसंद होते हैं, लेकिन फायदे वाले लड्डू कम ही खा पाते हैं, यहां हैं सोंठ के लड्डू की रेसिपी जिसे खाने से आपको कई फायदे होंगे।
रेसिपी  
कितने लोगों के लिए - 4 से 6
समय - 15 से 30 मिनट
कैलोरी - 218
आवश्यक सामग्री
100 ग्राम सोंठ
250 ग्राम बादाम पाउडर
100 ग्राम नारियल का पाउडर
500 ग्राम गोंद
300 ग्राम घी
एक चम्मच इलायची पाउडर
2 कप आटा
1 कप सूखे मेवे ,काजू, चिरौंजी, किशमिश, पिस्ता, कटे हुए
विधि
मीडियम आंच में कड़ाही में गोंद डालकर भून लें, जब इनका आकार फूलकर दोगुना हो जाए तो आंच बंद कर दें, गोंद को ठंडा होने के बाद दरदरा पीस लें।
अब इसे कड़ाही में थोड़ा सा घी डालकर धीमी आंच में सुनहरा होने तक आटा भूनें, इसे निकालकर प्लेट में रख लें, फिर कड़ाही में गुड़ डालकर पिघलने के लिए डालें, जब गुड़ पिघल जाए तो आंच बंद करके इसमें आटा, गोंद, सोंठ, नारियल पाउडर, बादाम पाउडर, सूखे मेवे, इलायची पाउडर और बचा घी डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लें ,  तैयार मिश्रण से लड्डू बना लें, डिब्बे में भरकर रखें और रोजाना सुबह दूध के साथ खाएं।

रामबाण है भीगे हुए बादाम का सेवन

बादाम याददाश्त के लिए रामबाण कहा जाता है। इसमें तमाम आवश्यशक विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं, जैसे- विटामिन ई, जिंक, कैल्शियम, मैग्नीशियम और ओमेगा-3 फैटी एसिड। लेकिन बादाम से ज्यादा से ज्यादा लाभ पाने के लिए जरुरी है कि उसे रात भर पानी में भिगोकर खाना चाहिए। ऐसा इसलिए करना चाहिए,क्योंकि बादाम के छिलके में टनीन होता है,जो पोषक तत्वों के अवशोषण को मुश्किल बनाता है।
पाचन बढ़ाता है, वजन घटाता है 
छह-सात घंटे तक भीगे रहने के बाद बादाम से उसका छिलका बड़ी आसानी से उतर जाता है और इस तरह उसके सभी पोषक तत्व आसानी से हासिल हो जाते हैं। भीगा हुआ बादाम आसानी से पच भी जाता है। भीगने के बाद इससे लाइपेज नामक एंजाइम निकलता है, जो कि पाचन के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। भीगे हुए बादाम स्वास्थ्य के लिए और भी कई तरह से फायदेमंद होते हैं। मसलन ये वजन घटाने में भी मददगार साबित होते हैं। इसमें मोनो अनसैचुरेटेड फैट होता है जो भूख को रोकता है। भीगा हुआ बादाम एंटीआॅक्सीडेंट का भी अच्छा स्रोत है। इसलिए यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को रोकता है। भीगे बादाम में विटामिनफोलिक एसिड पाया जाता है,इसलिए यह कैंसर से लड़ने में भी सहायक होता है।
उच्च रक्तचाप से दूर रखता है 
उच्च रक्तचाप से भीगा बादाम न केवल बचाता है बल्कि जिन्हें यह समस्या होती है, उन्हें इससे छुटकारा दिलाता है उसे कम करता है। बादाम का सेवन करने से ब्लड में अल्फाक टोकोफेरॉल नामक तत्व की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे रक्तचाप नियंत्रण में मदद मिलती है। नियमित रूप से बादाम खाने पर ब्लड प्रेशर नीचे आ जाता है। यह 30 से 70 वर्ष की उम्र के बीच के पुरुषों के लिए विशेष रूप से लाभ पहुंचाता है। बादाम, खाना खाने के बाद शुगर और इंसुलिन का लेवल बढ़ने से रोकता है, जिससे हम डायबिटीज से बच सकते हैं। बादाम खाने से भूख तो कम होती ही है, वजन भी घटता है साथ ही शरीर में चुस्ती भी रहती है। 30 भीगे हुए बादाम नियमित खाने से शरीर में विटामिन ई की मात्रा बढ़ती है, गुड फैट के स्तर में भी सुधार होता है,वजन नहीं बढ़ता है।
लिवर कैंसर से बचाता है 
हर दिन कम से कम 10 भीगे बादाम खाने से  लिवर कैंसर का खतरा कम होता है,क्योंकि इसमें विटामिन ई काफी मात्रा में होता है।  बादाम में बड़ी मात्रा में मौजूद यह विटामिन ई अधिक उम्र में आंखों और दिल को होने वाले नुकसान से भी बचाती है। चूंकि बादाम की तासीर गर्म होती है, इसलिए नियमित रूप से बादाम खाने का सिलसिला शुरू करने से पहले किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञ से सलाह ले लेनी चाहिए।
अच्छे कॉलेस्ट्रॉल का दोस्त
उच्च कोलेस्ट्रोल हृदय रोग और दिल की धमनियों में रुकावट सहित कई प्रकार के रोगों का एक कारक है। भीगा बादाम इस समस्या से निपटने में हमारी मदद करता है। बादाम शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रोल की मात्रा को बढ़ाता है तथा खराब कोलेस्ट्रोल की मात्रा को घटाता है। इस तरह यह दिल को स्वस्थ रखने में मददगार होता है। अपने बुरे कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने वाले गुण के चलते भीगा बादाम दिल को स्वस्थ रखने और पूरी हृदय प्रणाली को नुकसान और आॅक्सीडेटिव स्ट्रेस से बचाने में मदद करता है।

अलसी के लड्डू

सर्दियां आ चुकी हैं और सर्दी के दिनों में कई तरह के लड्डु बनाए जाते हैं। हम आपको यहां अलसी के लड्डू बनाना बता रहे हैं। अलसी के लड्डू खाने में तो स्वादिष्ट होते ही हैं इसके साथ ही सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं। आइए आपको बताते हैं अलसी के लड्डू बनाने की विधि ......

सामग्री :-

अलसी - 100 ग्राम (पीसी हुई)
आटा - 100 ग्राम
मखाने -  75 ग्राम
नरियल - 75 ग्राम (पीसा हुआ)
किशमिश -  25 ग्राम
बादाम  -  25 ग्राम
देसी घी -  300 ग्राम
चीनी - 350 ग्राम (पीसी हुई)

विधि :-

सबसे पहले कढ़ाही में घी गर्म करके उसमें मखाने तल कर पीस लें। इसके बाद इसमें आटा डालकर धीमी आंच पर हल्का गुलाबी होने तक आटे को भूनें।

जब आटा ठंड़ा हो जाए तो इसमें बाकी सारी सामग्री मिला दें और घी भी पिघला कर डाल दें। अब इसके गोल-गोल लड्डू बना लें और डब्बे में भरकर रख दें।

आप इन लड्डुओं को कई दिन तक खा सकते हैं।

राजस्थानी बेसन वाली मिर्च

राजस्थान में मिर्च से कई तरह की डिश तैयार की जाती हैं, उन्हीं में से एक डिश है बेसन वाली मिर्च। बेसन वाली मिर्च को बरसात के मौसम में खाने का मजा ही कुछ और है। इसे आसानी से बनाया जा सकता है। चलिए आपको बताते हैं टेस्टी बेसन वाली मिर्च बनाने की विधि....

सामग्री :-

हरी मिर्च - 6
बेसन - एक बड़ा चम्मच
हल्दी पाउडर - आधा छोटा चम्मच
धनिया पाउडर - एक छोटा चम्मच
अमचूर पाउडर - एक छोटा चम्मच
सौंफ - पिसी हुई एक छोटी चम्मच
हींग - एक चुटकी
जीरा - आधा छोटा चम्मच
राई - आधी छोटी चम्मच
स्वादानुसार नमक
सरसों का तेल - एक बड़ा चम्मच

विधि :-

हरी मिर्च को धोकर इसके डंठल तोड़ दें और मिर्च को काट लें। अब गैस पर कड़ाही गर्म करें, इसके बाद कड़ाही में बेसन डालकर हल्का भूरा होने तक मध्यम आंच पर भूनें। बेसन को कल्छी से चलाते रहें ताकि वह जले नहीं।

बेसन को प्लेट में निकाल लें, इसके बाद कड़ाही में तेल डालकर गर्म करें, फिर तेल में जीरा, राई और हींग डालें।

जब राई, जीरा तड़कने लगे तो इसमें धनिया, हल्दी, अमचूर पाउडर, पिसी सौंफ, हरी मिर्च और नमक डालकर अच्छी तरह मिक्स करें।

इसके बाद मिर्च के मिक्सचर में एक बड़ा चम्मच पानी डालें और कड़ाही को ढककर मिर्च को धीमी आंच पर 2 मिनट तक पकने दें।

जब मिर्च पक जाएं तो इसमें भुना बेसन डालकर मिलाएं और 2 मिनट तक पकने दें, राजस्थानी बेसनवाली मिर्च बनकर तैयार है।

चीज़ी कॉर्न टार्ट डिश

बच्चों को चीज़ी कॉर्न टार्ट डिश बहुत पसंद होती है, आप इसे आसानी से बना सकती है। इसे बनाने में ज्यादा समय भी नहीं लगता है, आइए आपको बताते हैं चीज़ी कॉर्न टार्ट डिश बनाने की विधि....

सामग्री :-

प्याज - 1 कटा हुआ
कॉर्न - 1/4 कप
चीज -  1/2 कप कद्दूकस किया
मक्खम - 1 चम्मच
कालीमिर्च पाऊडर - 1/4 चम्मच
ऑरगेनो - 1 चम्मच
नमक स्वादानुसार
1 पैकेट टार्ट

विधि :-

सबसे पहले एक पैन में मक्खन पिघला कर उसमें प्याज डालकर भूनें, इसके बाद इसमें कॉर्न मिक्स करें और 2 मिनट के लिए भूनें और फिर इसमें कालीमिर्च, नमक और ऑरगेनो मिलाकर गैस बंद कर दें।

इस मिश्रण को टार्ट में डालकर ऊपर से कद्दूकस किया हुआ चीज़ बुर्क दें। पहले से 180 डिग्री पर प्रीहीट किए ओवन में 5 मिनट के लिए टार्ट को बेक करें, बेक होने के बाद इसे सर्व करें।

प्याज का सालन

प्याज को सभी सब्जियों की प्यूरी बनाने के काम में लिया जाता है। इसके अलावा आप इसकी स्वादिष्ट सब्जी भी बना सकती हैं। प्याज का सालन एक लाजबाव डिश है। इसे आसानी से तैयार किया जा सकता है। वहीं इसे बनने में ज्यादा समय भी नहीं लगता है। चलिए आपको बताते हैं प्याज का सालन बनाने की विधि....

सामग्री :-

8-10 छोटे प्याज
2 चम्मच सफेद तिल
आधा कप मूंगफली
1 चम्मच जीरा
2 चम्मच साबुत धनिया
3 साबुत लाल मिर्च
1 बड़ा प्याज, कटा हुआ
1 इंच अदरक का टुकड़ा
7-8 लहसुन की कलियां
3 बड़ा चम्मच तेल
आधा चम्मच राई
आधा चम्मच मेथी दाना
6-7 करी पत्ता
1 चम्मच गरम मसाला
1 चौथाई चम्मच हल्दी पाउडर
ढाई कप पानी
2 चम्मच इमली का गूदाध्पेस्ट
स्वादानुसार नमक

विधि :-

सबसे पहले प्याज को छीलकर, धो लें और दोनों साइड से एक-एक चीरा लगा दें। इसके बाद मध्यम आंच पर एक बर्तन में तिल, मूंगफली, जीरा और साबुत धनिया कों अलग-अलग भून लें।

जब ये ठंडा हो जाए तो इन्हें मिक्सर में डालकर 3 लाल मिर्च के साथ डालकर पीस लें और निकाल कर अलग रख लें।

इसके बाद जार में एक प्याज, अदरक और लहसुन डालकर पीसें और पेस्ट बना लें, इसे भी अलग रख लें। अब कड़ाही में तेल डालकर गर्म होने के लिए रखें और इसमें सभी छोटे प्याज डालकर 1 मिनट तक तल लें।

प्याज को एक बर्तन में निकाल लें। अब इसी कड़ाही में राई डालकर भुन लें, फिर इसमें मेथी दाना और करी पत्ते डालें।

इसके बाद इसमें तैयार किया हुआ अदरक-लहसुन व प्याज का पेस्ट डालकर सुनहरा होने तक भुन लें।

अब इसमें सूखे पिसे तैयार मसाले और हल्दी पाउडर डालकर 5 मिनट तक भुन लें। जब मसाला तेल छोड़ने लगे तो इसमें ढाई कप पानी डालें और धीमी आंच पर 5 मिनट तक पकाएं।

अब इसमें इमली का पेस्ट मिलाएं और 2-3 मिनट तक पकाने के बाद इसमें तले हुए प्याज व नमक डालें। ढक्कन बंदकर 1-2 मिनट तक पकाएं, प्याज सालन की सब्जी बनकर तैयार है। इसे चावल या रोटी के साथ खाया जा सकता है।a

मटर के पराठे

मटर की सब्जी, पुलाव तो बनाए ही जाते हैं, साथ ही मटर के परांठे भी बहुत स्वादिष्ट बनते हैं। ये आलू के पराठे की तरह ही बनाए जाते हैं लेकिन इसमें आलू की जगह मटर भरा जाता है। मटर के पराठे बनाना बहुत ही आसान है चलिए आपको बताते हैं मटर के पराठे बनाने की विधि ...

सामग्री :-

गेहूं का आटा - 400 ग्राम
मटर -1 कप (भुन कर पीस ले )
हरी मिर्च - 2  बारीक कतरी हुई
अदरक - 1 इंच लम्बा टुकड़ा (कद्दू कस किया हुआ)
हरा धनियां - एक बड़ा चम्मच( बारीक कतरा हुआ)
धनियां पाउडर - एक छोटी चम्मच
लाल मिर्च पाउडर - एक चौथाई छोटी चम्मच
नमक - स्वादानुसार
तेल या घी 

विधि :-

आटे को छान कर एक बर्तन में निकाल लें। आटे में आधा छोटी चम्मच नमक और 2 छोटी चम्मच तेल डालें। गुनगुने पानी की सहायता से नरम आटा गूथ लें।

पिसे हुए मटर में हरी मिर्च, अदरक, हरा धनियां, धनियां पाउडर, लालमिर्च पाउडर और नमक मिला दें। मटर का यह मिश्रण परांठे में भरने के लिए तैयार है। अब तवा गैस पर रख कर गरम करें।

आटे से थोड़ा सा आटा तोडें और गोल करके लोई बनाऐं। लोई को सूखे आटे (परोथन) में लगाकर गोल-गोल बेल लें। थोडा मटर का मिश्रण बेले गये पराठे पर रखें। परांठे को चारों ओर से उठा कर बंद कर दें।

इस मटर भरे हुए गोले को बेलन की सहायता से हलके से बेल कर पराठे का आकार दें और गरम तवे पर डालें। दोंनो ओर घी लगाकर, पलट-पलट कर ब्राउन होने तक सेकें। सारे पराठे इसी तरह तैयार कर लें। मटर के गरमा गरम पराठे, दही, चटनी या अचार के साथ सर्व करें।

चटपटी मसालेदार बाटी

आप डिनर में बाटी बना सकती हैं, बाटी को मुख्य रूप से दाल के साथ खाया जाता है। आपने आम बाटी तो कई बार बनाई होगी। लेकिन हम आपको एक चटपटी और मसालेदार बाटी बनाना सिखाएंगे। इस बाटी को खाकर आप इसे बार बार बनाना चाहेंगे। आइए आपको बताते हैं मसालेदार बाटी बनाने की विधि....

सामग्री :-

एक किलो आटा  
400 ग्राम बेसन  
400 ग्राम जौं का आटा  
नमक स्वादानुसार
70 ग्राम पिसी हुई लालमिर्च
10  ग्राम अदरक
थोड़ी सी हींग  
10 ग्राम जीरा
एक किलो घी

विधि :-

आटे और बेसन को छान लें, अदरक को बारीक काट लें। अब गैस पर एक पैन में घी डालकर जीरा, हींग, मिर्ची और अदरक का तड़का लगाएं।

अब इस तड़के को आटे और बेसन के मिश्रण में डालें, इसमें पानी मिलाकर कड़ा आटा गूँथ लें।

गोले बनाकर ओवन में सेक लें, जब गोले अच्छे से सिक जाएं तो इन्हें पिघलते घी में डालें।

आपकी चटपटी मसालेदार बाटी तैयार है, आप इसे दाल और छाछ के रायते के साथ सर्व कर सकते हैं।

राजस्थानी मिस्सी रोटी

लंच में आप सादा रोटी बनाने के बजाय राजस्थानी मिस्सी रोटी बना सकती हैं, इसका स्वाद लाजबाव होता है। आप सादा रोटी की तरह की आसानी से इसे बना सकती हैं। आइए आपको बताते हैं राजस्थानी मिस्सी रोटी बनाने की विधि....

 
सामग्री :-

गेहूं का आटा - 1 कप
बेसन - 2 छोटे चम्मच
सूजी - 2 छोटे चम्मच
मक्खन - 4 छोटे चम्मच
कसूरी मेथी - 2 छोटे चम्मच
कटा हरा धनिया पत्ती - 2 छोटे चम्मच

हरी मिर्च-लहसुन-अदरख पेस्ट - 4 छोटे चम्मच
गरम मसाला पाउडर - 2 छोटे चम्मच
हल्दी पाउडर - आधा छोटा चम्मच
नमक स्वादानुसार

विधि :-

एक बर्तन में गेहूं का आटा, सूजी, बेसन, हल्दी, गरम मसाला, अदरख-हरी मिर्च-लहसुन पेस्ट, हरा धनिया, कसूरी मेथी और नमक डालकर हाथ से मसलते हुए मिलाएं।

गरम पानी डालकर आटा गूंध लें व लोइयां काटकर रोटियां बेल लें।

गरम तवे पर डालकर किनारों पर मक्खन लगाएं और धीमी आंच पर ब्राउन होने तक सेक लें। आप इसे दोपहर के खाने में सब्जी के साथ सर्व करें।

भरवां सेब

ब्रेकफास्ट में एक ऐसी डिश बनानी चाहिए जो स्वादिष्ट तो हो ही इसके साथ ही वह पौष्टिक भी हो। भरवां सेब भी ऐसी ही डिश है, इसे आप आसानी से बना सकती हैं। आइए आपको बताते हैं भरवां सेब बनाने की विधि.....

सामग्री :-

सेब - 2
पनीर - 50 ग्राम
उबला व मसला आलू - 1
कसा नारियल - 1/2 कप
हरी मिर्च - 2
टमाटर सॉस - 2 चम्मच
तेल - 1 चम्मच
नमक स्वादानुसार
काली मिर्च पाउडर - 3/4 चम्मच
हरा धनिया
पिसी खसखस - 1 चम्मच

सजाने के लिए :-

हरी चटनी
दही
चाट मसाला

विधि :-

सबसे पहले गोल चाकू से सेब का बीच का भाग निकाल कर 4 भाग में चीरा लगा लें।

अब इसमें अंदर सॉस लगाएं, तेल गरम करें, खसखस डाल कर भुनें।

बाकी सारी सामग्री डाल कर मिलाएं व 2 मिनट भुनें। तैयार सामग्री को दोनों सेब में भर दें।

चिकनाई लगाकर इसे ट्रे में रख कर एल्मयुनियम फायल से ढंक कर 5-6 मिनट बेक करें।

बेक होने के बाद इसे चटनी, दही व चाट मसाला डाल कर सर्व करें।

वेजिटेबल नूडल सूप

रात के समय ज्यादा ऑयली खाना पचता नहीं है इसलिए डिनर में ज्यादा भारी खाना नहीं खाना चाहिए। आप डिनर में सूप बना सकती हैं। ये पौष्टिक तो होता ही है साथ ही जल्दी से बनकर भी तैयार हो जाता है। आइए आपको बताते हैं वेजिटेबल नूडल सूप बनाने की विधि...

सामग्री :-

नूडल्स - 150 ग्राम
टमाटर - तीन
एक गाजर, शिमला मिर्च, अदरक
मटर के दाने - आधा कटोरी
काली मिर्च - आधी छोटी चम्मच
सफेद मिर्च - आधी छोटी चम्मच
नींबू का रस - आधा चम्मच
हरी मिर्च - 2
मक्खन - 2 बड़े चम्मच
नमक स्वादानुसार
मक्खन और कटा हुआ हरा धनिया सजाने के लिए

विधिः-

सबसे पहले टमाटर और गाजर धोकर बारीक काट लें, शिमला मिर्च भी निकालकर काट लें। अब एक पैन में मक्खन पिघलाएं।

इस पैन में हरी मिर्च और अदरक डालकर हल्का भून लें, अब मटर डालकर हल्का नर्म कर लें। इसमें टमाटर, गाजर और शिमला मिर्च डालें। हल्का नमक छिड़कने के बाद सब्जियों को हल्का भून लें।

इसमें दो गिलास पानी डाल दें, जब पानी में उबाल आ जाए तो इसमें नूडल डालें। आंच कम करके पांच मिनट तक पकने दें। अब स्वाद के अनुसार और नमक, काली मिर्च और सफेद मिर्च डालें।

करीब पांच मिनट तक पकाने के बाद गैस बंद कर दें और नींबू का रस डालें। वेजिटेबल नूडल सूप बनकर तैयार है, इसे गरमा-गरम सर्व करें।

क्रिस्पी बेबी फ्रिटर्स

शाम के समय अगर कुछ गरमा-गरम खाने का मन कर रहा है तो आप क्रिस्पी बेबी फ्रिटर्स बना सकती हैं। ये फटाफट बन जाती है, इसे बनाने में ज्यादा सामग्री की भी आवश्यकता नहीं होती है। आइए आपको बताते है क्रिस्पी बेबी फ्रिटर्स बनाने की विधि  .....

सामग्री :-

आलू - 2 (उबले हुए)
चीज - 2 क्यूब्स
ब्रैडक्रंब्स - 1/2 कप
तलने के लिए - तेल
स्टिक्स - 12
मकई दाना - 1/2 कप (उबला व कटा)विधि :-

सबसे पहले एक बर्तन में उबले आलू, नमक, मिर्च, मकई व आमचूर को डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर लें। अब इस मिश्रण की छोटी-छोटी बॉल्स बनाकर बीच में थोड़ा सा चीज भर कर स्टिक लगा दें।

इसके बाद एक कटोरी में मैदे का घोल तैयार करके रख लें। इन बॉल्स को मैदा के घोल में डिप करें और ब्रैडक्रंब्स लपेटकर तेल में फ्राई करें। बेबी फ्रिटर्स तैयार है इन्हें सॉस के साथ सर्व करें।
मैदा - 4 चम्मच
लालमिर्च और नमक स्वादानुसार
आमचूर

आलू प्याज चीज सैंडविच

आलू प्याज चीज सैंडविच एक स्वादिष्ट डिश है, आप सुबह के नाश्ते में इसे बना सकती हैं, इन्हें बनाने में ज्यादा समय भी नहीं लगता है। आइए आपको बताते हैं आलू प्याज चीज सैंडविच बनाने की विधि.....

सामग्री :-

आलू - 2 उबले हुए
प्याज - 2
चीज - 8 चम्मच (कद्दूकस हुआ)
ब्रैड स्लाइस - 8
मक्खन
नमक स्वादानुसार
चाट मसाला - 1 चम्मच

विधि :-

सबसे पहले उबले हुए आलू को स्लाइस में काट लें, प्याज को छीलकर गोल शेप में काट लें, ब्रैड स्लाइस पर मक्खन लगाकर उस पर आलू की स्लाइस और प्याज का स्लाइस लगाएं।

अब उसके ऊपर कद्दूकस किया हुआ चीज, नमक, चाट मसाला और लाल मिर्च पाऊडर छिड़क दें। अब दूसरे ब्रैड स्लाइस पर भी मक्खन लगा कर उस पर ढक दें।

इसको सैंडविच टोस्टर में रखकर दोनों तरफ से सुनहरा होने तक सेक लें और गर्मा-गर्म सैंडविच हरी चटनी या सॉस के साथ सर्व करें।

आलमंड बिरयानी

आलमंड बिरयानी डिनर में खाई जाने वाली एक स्वादिष्ट डिश है, पके हुए चावल और बिरयानी मसाले के प्रयोग से इस व्यंजन को झटपट तैयार किया जा सकता है। आइए आपको बताते हैं इसे बनाने की विधि.....

सामग्री :-

लंबे स्लाईस्ड बादाम - 1/2 कप
बास्मती चावल - 3 कप पके हुए
घी - 2 चम्मच
लौंग - 2
इलायची - 2
दालचीनी का टुकड़ा - 25 मिलीमीटर
तेज़पत्ता - 1
शाहज़ीरा - 1 चम्मच
प्याज़ - 1/2 कप बारीक कटा हुआ
लहसुन - 1 चम्मच बारीक कटा हुआ
फण्सी - 1/2 कप कटी और उबली हुई
हरे मटर - 1/2 कप उबले हुए
हरी मिर्च - 1 चम्मच बारीक कटी हुई
बिरयानी मसाला - 1 चम्मच
नींबू का रस - 1 चम्मच

सजाने के लिए :-

1/4 कप स्लाईस्ड और तले हुए प्याज़
1 चम्मच स्लाईस्ड और तले हुए बादाम

विधि :-

एक गहरे नॉन-स्टिक पैन में तेल गरम करें, बादाम डालकर, मध्यम आँच पर 2 मिनट के लिए भुन लें। लौंग, इलायची, दालचीनी और तेज़पत्ते को उसी बर्तन में डालकर, मध्यम आंच पर भुन लें।

शाहज़ीरा और प्याज़ डालकर, मध्यम आंच पर भून लें।

इसके बाद इसमें लहसुन डालकर भूनें, फण्सी, हरे मटर, हरी मिर्च और बिरयानी मसाला डालकर अच्छी तरह मिला लें और बीच-बीच में हिलाते हुए, 2-3 मिनट तक पका लें।

बादाम और चावल डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसमें नींबू का रस डालकर हल्के हाथों से मिला लें। आलमंड बिरयानी बनकर तैयार है इसे तले हुए प्याज़ और तले हुए बादाम से सजाकर तुरंत परोसें।

पोहा कटलेट

पोहा सबसे हल्का और जाना माना नास्ते का व्यंजन होता है। कई प्रदेशों में तो यह मुख्य रूप से नाश्ते में बनाया जाता हैं। लेकिन यदि आप रोज एक सा पोहा खाकर बोर हो गए हैं तो आज हम आपको इसी पोहे से बनने वाली एक स्वादिष्ट डिश पोहा कटलेट बनाना सिखाएंगे। आइए आपको बताते हैं पोहा कटलेट बनाने की विधि....

सामग्री :-

पोहा - 1 कप  
आलू -1/2 कप उबले और मसले हुए  
हरे मटर -1/2 कप उबले हुए  
दही - 2 बड़े चम्मच  
काली मिर्च पावडर - 1/2 चम्मच  
हरी मिर्च - 1/2 कटी हुई  
अदरक - 1 बड़ा चम्मच
लाल मिर्च पावडर - 1/2 चम्मच  
हल्दी पावडर - 1/4 चम्मच  
गरम मसाला - 1/2 चम्मच
धनिया पावडर - 1 चम्मच  
धनिया पत्ती - 2 बड़े चम्मच (बारीक़ काटी हुई)
नमक - 1 चम्मच या फिर स्वादानुसार  
तेल - 2 कप तलने के लिए

विधि :-

पोहे को एक बर्तन में लेकर पानी से धो लें, दूसरी तरफ आलू को उबालकर, ठंडा कर, हाथों से मसल लें, अब मटर भी उबाल लें।

अदरक एवं कटी हुई मिर्च को मिक्सर में पीसकर एकदम बारीक पेस्ट बना लें।

मसले आलू, अदरक मिर्च की पेस्ट, भिगोए हुए पोहे और उबले हरे मटर मिलाएं।

अब उसमें दही, हल्दी पावडर, धनिया पावडर, लाल मिर्च पावडर, गरम मसाला, काली मिर्च पावडर और स्वादानुसार नमक मिलाएं।

सभी सामग्री को अच्छे से मिला लें, इस मिश्रण में ताजी हरी धनिया पत्ती भी मिला दें। पोहा पेटिस मिश्रण के एक जैसे हिस्से करके उसको गोलाकार आकार दें।

एक कढाई में 2 कप तेल गरम करें, जब तेल गरम हो जाए तो पोहा पेटिस को धीरे-धीरे तेल में डालें।

इस पेटिस को हल्का सुनहरा रंग का होने तक तल लें। आपकी पोहा कटलेट तैयार है।

इसे गरम-गरम ही मेहमानो को परोसें, साथ में हरी चटनी या टोमेटो केचप के साथ सर्व करें।

वेज काजू पुलाव

हम अपने घर में अक्सर साधारण पुलाव तो बनाते हैं लेकिन अगर कोई मेहमान घर पर आया है या आप साधारण पुलाव नहीं खाना चाहती हैं तो डिनर में काजू पुलाव बना सकती हैं। वेज काजू पुलाव बहुत ही स्वादिष्ट व्यंजन है। इसमें सभी प्रकार के मसाले पड़ते हैं जो इसके स्वाद को बढ़ा देते हैं। इसे बनाना बहुत ही आसान है। चलिए आपको बताते हैं वेज काजू पुलाव बनाने की विधि....

सामग्री :-

बासमती राइस- 2 कप
तेल- 2 चम्मच
बटर- 2 चम्मच
काजू- मुठ्ठीभर या आधा कप
तेज पत्ते- 2
दालचीनी- 1
छोटी इलायची- 5
सौंफ- 1 चम्मच
जीरा- 1 चम्मच
प्याज- 1 बड़ी, स्लाइस की हुई
हरी मिर्च- 4-5, बीस से चीरी हुई
अदरक लहसुन पेस्ट- 2 चम्मच
टमाटर- 1 बड़ा
फूल गोभी- 1/2 कप,
कटी हुई बींस- 10 ,
चॉप की हुई आलू- 1
शिमला मिर्च- 1/2 कटी हुई
नमक- स्वादअनुसार
पानी- 3 कप

विधि :-

प्रेशर कुकर में तेल और बटर को एक साथ गरम करें। फिर उसमें काजू और सभी साबुत मसाले डालकर गोल्डन होने तक भूनेंं।

इसके बाद इसमें प्याज, हरी मिर्च डालकर गोल्डन ब्राउन होने तक भूनें। अब इसमें नमक, अदरक, लहसुन पेस्ट डालें और चलाएं।

कटे टमाटर डालकर इसे पकने तक चलाएं, अब सभी कटी सब्जियों को डालकर मिक्स करें और 5-7 मिनट तक पकाएं।

इसके बाद इसमें चावल और पानी डालें, प्रेशर कुकर को ढंक दें और आंच को धीमा कर दें।

1 सीटी आने के बाद गैस बंद कर दें, जब कुकर से प्रेशर निकल जाए तब पुलाव निकाल कर सर्व करें।

चावल के पकोड़े

अगर चावल खाने के बाद बच जाएं तो उन्हें फैंके नहीं बल्कि उनका उपयोग पकोड़े बनाने में करें। चावल के पकोड़े बहुत ही स्वादिष्ट बनते हैं। इससे आपके बचे हुए चावल भी काम में आ जाते हैं और अलग डिश भी बन जाती है। इन्हें बनाना बहुत ही आसान है। चावल के पकोड़े बनाने की विधि....

सामग्री :-

एक कप चावल पके हुए
2 कप बेसन
एक प्याज बारीक कटा हुआ
एक हरी मिर्च बारीक कटी हुई
आधा छोटा चम्मच अदरक कद्दूकस किया हुआ
आधा छोटा चम्मच धनिया पाउडर
आधा छोटा चम्मच हल्दी पाउडर
आधा छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर
एक चुटकी हींग
आधा कप हरा धनिया बारीक कटा हुआ
आधा छोटा चम्मच भुना जीरा पाउडर
स्वादानुसार नमक
तेल

विधि :-

एक बर्तन में चावल डालकर अच्छी तरह मैश कर लें। अब चावल में बेसन, प्याज, हरी मिर्च, अदरक, हरा धनिया, हल्दी, लाल मिर्च, धनिया पाउडर, हींग, जीरा पाउडर और नमक डालकर अच्छी तरह मिलाएं।

फिर इस मिश्रण को 10 मिनट के लिए रख दें, अगर आवश्यकता हो तो इसमें पानी डाल लें। अब गैस पर कड़ाही में तेल गर्म करें।

तेल गर्म होने के बाद इस मिश्रण से थोड़ा सा मिश्रण लेकर पकोड़े की तरह डालें। एक बार में 8 से 10 पकोड़े बनाए जा सकते हैं।

इन्हें मध्यम आंच पर अच्छी तरह से फ्राई करें। पकोड़े पलटकर हल्के ब्राउन होने तक तलें और प्लेट में निकाल लें।

इसी तरह सभी पकोड़े बनाएं, चावल के पकोड़े बनकर तैयार हैं इन्हें सॉस और चटनी के साथ गर्मागर्म सर्व करें।

चॉकलेट कपकेक

चॉकलेट कपकेक बच्चों की एक पसंदीदा डिश है, वे इसे बड़े चाव से खाते हैं। आप चॉकलेट कपकेक को आसानी से घर पर बना सकती हैं इसे बनाने में ज्यादा समय भी नहीं लगता है। आइए आपको बताते हैं चॉकलेट कप केक बनाने की विधि ....

सामग्री :-

मक्खन -1/3 कप
कंडेन्स्ड मिल्क - आधा कप
शक्कर - 1 बड़ा चम्मच
वेनिला एसेन्स - आधा छोटा चम्मच
मैदा  - 1 कप
बिना शक्कर का कोको पाउडर -3 बड़े चम्मच
बेकिंग पाउडर - 1 छोटा चम्मच
बेकिंग सोडा - आधा छोटा चम्मच
नमक 1 चुटकी
गुनगुना पानी 2-4 बड़े चम्मच
चॉकलेट चिप्स - 2 बड़े चम्मच

विधि :-

एक कटोरे में मक्खन लें और इसे अच्छे से फेटें, अब इसमें एक बड़ा चम्मच शक्कर और इसमें कंडेन्स्ड मिल्क मिलाएं। इसे फिर से फेटें जिससे यह मिश्रण एकदम हल्का हो जाए।

अब इसमें वेनिला एसेन्स डालें और कुछ सेकेंड्स के लिए और फेटें, मैदा, कोको पाउडर, बेकिंग पाउडर और नमक को अच्छे से दो तीन बार छान लें।

अब मैदा के मिश्रण को कंडेन्स्ड मिल्क और मक्खन के मिश्रण में थोड़ा-थोड़ा करके डालें और अच्छे से फेटते रहें। आप इसमें थोड़ा सा गुनगुना पानी डाल सकती हैं

माइक्रोवेव में रखे जाने वेल 6 कप को ज़रा सा मक्खन लगा कर अंदर से चिकना करें, अब इस केक के घोल को कप में डालें।

ध्यान रहे की कप को आप एक तिहाई ही भरें जिससे केक के फूलने के लिए इसमें स्थान रहे।

इसको ऊपर से चॉक्लेट के टुकड़े से सजाएं, इसे माइक्रोवेव में पकने के लिए रखें, जब कपकेक पक जाए तो ठंडा करके इसे सर्व करें।

पनीर का अचार

पनीर से बने कई प्रकार के व्यंजन आपने अपने घर में बनाए होंगे। लेकिन हम आपको पनीर का अचार कैसे बनाया जाता है इसके बारे में बता रहे हैं। आप पनीर के अचार को पराठा, पूरी या फिर चावल के साथ खा सकते हैं। पनीर का अचार बनाने की विधि...  

सामग्री :-

अचारी मॅरीनेड के लिए
दही - 1/2 कप चक्का
हरीमिर्च का आचार - 1 चमम्च
लहसुन - 1 चम्मच कटा
सौंफ - 1  चम्मच
मेथी दाना - 1/4 चम्मच
1/4  चम्मच कलौंजी
जीरा - 1  चम्मच
हल्दी पाउडर - 1/4 चम्मच
राई का तेल -1 चम्मच
नमक स्वादानुसार

विधि :-

दही, हरीमिर्च का आचार और लहसुन को मिक्सर में डालकर मुलायम पेस्ट बना लें।

बर्तन में निकालकर एक तरफ रख दें, शेष बची सारी सामग्री को ब्लैंडर में डालकर दरदरा पीस लें।

दरदरे पिसे पाउडर और दही के पेस्ट को एक बर्तन में डालकर अच्छी तरह मिला कर एक तरफ रख दें।

अब कड़ाही में तेल डालकर उसमें सारे सामग्री को मिला लें। थोड़ी देर पकाने के बाद उसमें पनीर के टुकड़ों को डाल दें और फिर थोड़ी देर पकने दें।

उसके बाद उसे किसी बाउल में निकाल लें, आपका अचारी पनीर तैयार है। यदि आपके पास हरीमिर्च का आचार नही है तो इस व्यंजन को बनाने के लिए आप किसी भी अन्य अपने मनपसंद अचार का प्रयोग कर सकते हैं।

क्रिस्पी बेबी फ्रिटर्स

क्रिस्पी बेबी फ्रिटर्स एक बहुत ही स्वादिष्ट डिश है। इसे आसानी से घर पर बनाया जा सकता है। यह बहुत पौष्टिक भी होती है। आइए आपको बताते हैं क्रिस्पी बेबी फ्रिटर्स बनाने की विधि...

सामग्री :-

आलू - 2 उबले हुए
चीज - 2 क्यूब्स
ब्रैडक्रंब्स - 1/2 कप
तेल तलने के लिए
स्टिक्स - 12
मकई दाना - 1/2 कप (उबला व कटा)
मैदा - 4 चम्मच
लालमिर्च और नमक स्वादानुसार
आमचूर स्वादानुसार

विधि :-

सबसे पहले एक बाउल में उबले आलू, नमक, मिर्च, मकई व आमचूर को डालकर अच्छी तरह से मिक्स करें।

अब इस मिश्रण की गोलगोल छोटी-छोटी बॉल्स बनाकर बीच में थोड़ा सा चीज भरकर स्टिक लगा दें।

अब एक कटोरी में मैदे का घोल तैयार करके रख लें। पहले बॉल्स को मैदे के गोल में डिप करें और फिर ब्रैडक्रंब्स लपेटें और तेल में फ्राई करें। बेबी फ्रिटर्स बनकर तैयार हैं इन्हें गरमागरम सॉस के साथ सर्व करें।

केसर पेड़ा

जब भी आपके घर कोई मेहमान आता है तो उसे मीठा खिलाकर ही स्‍वागत करती हैं। ऐसे में अब आप उसे केसर पेड़ा खिला सकती हैं। यह काफी कम समय में तैयार हो जाएगा। जानें 'केसर पेड़ा' की पूरी विधि :

INGREDIENTS

डेढ़ चम्‍मच केसर
दो कप मावा/खोया
डेढ़ चम्‍मच दूध
आधा कप शक्कर
1/4 चम्‍मच इलायची पाउडर
METHOD

केसर पेड़ा बनाने के लिए सबसे पहले एक छोटा बाउल लें और उसमें केसर और दूध डालकर अच्छी तरह मिलाकर अलग रख दें। इसके बाद एक नॉन-स्टिक पैन में खोया गरम करें और हल्‍की आंच पर लगातार चलाते हुए आठ मिनट तक पकाएं।

अब इसमें चीनी डालकर अच्छी तरह मिलाएं और मीडियम आंच पर दो मिनट तक पकाएं। अब मिश्रण को थाली में निकालकर अच्छी तरह फैला लें और दूसरी थाली या ढक्कन से ढककर दिन भर के लिए एक तरफ रख दें। मावा मिश्रण को चूरा कर, इलायची पाउडर और केसर-दूध का मिश्रण डालकर अच्छी तरह मिलाएं।

अब इस मिश्रण को 10 से 12 भागों में बांट लें और पेड़े बना लें। अब तैयार हुए पेड़ों पर केसर के धागे डालकर सजाएं। इसके बाद जब भी आपके घर कोई मेहमान आए तो उसे ये पेड़े पानी के साथ दे सकते हैं।

मौसम में खाएं चटपटी मटर चाट

सामग्री 

दो कप सूखे मटर
दो उबले और मैश किए हुए आलू
एक प्‍याज, टमाटर, खीरा
नींबू
आधा चम्‍मच बेकिंग सोडा
चुटकीभर हींग
हरी चटनी
इमली चटनी
एक चम्‍मच काला नमक
एक चम्‍मच भुना जीरा
स्‍वादानुसार नमक
दो चम्‍मच हरा धनिया
आलू भुजिया

विधी

सबसे पहले मटर को धो कर पांच घंटे के लिए पानी में भिगो दें। जब मटर अच्छी तरह से भीग जाए तो उसका पानी निकाल दें। अब भीगी हुई मटर को एक बार और धुल लें। फिर उसे प्रेशर कुकर में रखकर थोड़ा सा पानी, बेकिंग सोडा और हींग डालें और मटर को गलने तक पका लें।

इसके बाद एक छोटे से बाउल में थोड़ी सी मटर निकालें। इसमें ऊपर से मैश किया हुआ आलू, कटा हुआ खीरा, टमाटर और प्याज डाल दें। साथ ही सभी मसाले और नींबू का रस मिलाकर आवश्यकतानुसार इमली की चटनी और हरी चटनी भी डालें। अब आपकी मटर की चाट बनकर तैयार है। इसे सर्व करने से पहले ऊपर से आलू भुजिया और कटी हुई हरी धनिया डालें और बारिश का आनंद उठाते हुए खाएं।

खाना बनाते समय काम आएंगी ये टिप्‍स

ऐसी कुकिंग टिप्‍स जो आपके खाना बनाने के दौरान काफी काम आएंगी। जानें ये कुकिंग टिप्‍स :

सामान्य मौसम में केलों को बाहर रखने से वे ज्यादा पक जाते हैं और जल्दी खराब हो जाते हैं। ऐसे में केलों को फ्रिज में रखिए। फ्रिज में रखने से छिलके काले हो जाते हैं, मगर अंदर केला सुरक्षित रहता है।
टमाटरों को जल्दी पकाने के लिए उन्हें ब्राउन पेपर बैग में पैक कर किसी डार्क कॉर्नर में रखें। टमाटर जल्दी पक जाएंगे और उनका रंग भी बरकरार रहेगा।
प्याज को पकाते समय उसमें थोड़ा नमक डाल लें। इससे प्याज जल्द पकेंगे।
दाल को जल्दी पकाने के लिए उसमें थोड़ा-सा घी, चुटकी भर हल्दी व हींग और जरा-सा नमक व चीनी डालिए, इससे दाल आसानी से पकेगी और उसकी खुशबू भी बरकरार रहेगी।
पूरियां नरम व फूली हुई बनें इसके लिए आटा गूंथते समय पानी के बदले दूध का उपयोग करें।
सब्जियां पकाने के दौरान जब तक सब्जी गले नहीं तब तक उसमें नमक न डालें। सब्जियों में जल्दी नमक डालने से उनकी न्यूट्रीशनल वैल्यू कम हो जाती है।

मोहनथाल

दीपावली के अवसर पर घर में आसानी से मोहनथाल बनाया जा सकता है, मोहनथाल कई दिनों तक खराब नहीं होता है। आइए आपको बताते हैं मोहनथाल बनाने की विधि....

सामग्री :-

कंडेन्स मिल्क - 400 ग्राम
चीनी - 200 ग्राम
बेसन - 3 कप
दूध - 2 चम्मच
केसर
1 कप घी
घिसे हुए बादाम और पिस्ता

विधि :-

बेसन और दूध को अच्छी तरह से मिला लें और 30 मिनट के लिए ढक कर रख दें। अब एक कढ़ाई में घी गरम करें, उसके बाद उसमें बेसन डाल कर 10 मिनट तक अच्छी तरह से भूनें।

मिश्रण को लगातार चलाते हुए उसमें कंडेन्स मिल्क और चीनी मिलाएं। इस मिश्रण को 15 मिनट तक अच्छे से मिलाएं और गाढ़ा होने तक मिलाएं।

उसके बाद इसमें केसर डालकर गैस बंद कर दें। मिश्रण को एक घी लगे हुए प्लेट में डाल लें और फिर ऊपर से घिसे हुए बादाम और पिस्ते डाल दें। जब यह ठंडा हो जाए तब इसे अपने मन चाहे आकार में काट कर सर्व करें।

आंवला लड्डू

सामग्री :

आंवला - 6 (250 ग्राम), चीनी - 1 कप (250 ग्राम), बादाम - 50 ग्राम, काजू - 25 ग्राम, इलायची पाउडर - आधा छोटी चम्मच, जायफल - आधा छोटी चम्मच।

विधि :

आंवलों को पॉलीथिन में भरकर 5 मिनट के लिए माइक्रोवेव कर लीजिए। माईक्रोवेव से निकाल कर आंवलों को ठंडा होने दीजिए। आंवले ठंडे हो जाने पर इन्हें कद्दूकस कर लीजिए।

पैन गरम कीजिए और इसमें कद्दूकस किया हुआ आंवला और चीनी डालकर लगातार चलाते हुए पका लीजिए।

मिश्रण को अच्छी तरह गाढ़ा होने तक पकाना है। अच्छी तरह गाढ़ा हो जाने पर इसमें 2 चम्मच घी डालकर मिक्स करें और 2-3 मिनट और पकाएं। मिश्रण अच्छी तरह बन चुका है, ये चैक करने के लिए मिश्रण से 2-3 बूंदे प्याले में गिरायें और ऊंगली अंगूठे के बीच चिपका कर देखें की चिपक रहा है और जमने वाली कंसिस्टेंसी में तैयार हो चुका है। अगर चिपक रहा है तो गैस बंद कर दीजिए, हमारा मिश्रण तैयार है।

अब मिश्रण को थोड़ा ठंडा होने दीजिए। बादाम का पाउडर बना लीजिए और काजूओं को छोटे-छोटे टुकडों में काट कर तैयार कर लीजिए, इलायची छीलकर पाउडर बना लीजिए और जायफल को कूट कर इसका भी पाउडर बना लीजिए। मिश्रण के हल्का ठंडा होने पर इसे प्याले में निकाल लीजिए और इसमें बादाम पाउडर, बारीक कटे हुए काजू, इलायची पाउडर और जायफल पाउडर डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लीजिए। लड्डू बनाने के लिए मिश्रण तैयार है।

हाथ पर थोड़ा सा घी लगाकर चिकना करें और थोड़ा सा मिश्रण हाथ में उठाइये, और अपने पसन्द के अनुसार गोल-गोल लड्डू बनाकर थाली में रखते जाएं। इतने मिश्रण से लगभग 12-14 लड्डू बनाकर तैयार कर लीजिये। आंवला लड्डू बनकर तैयार हैं। इन्हें आप किसी एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख सकते है और 3-4 महीन तक खा सकते हैं।