Updated -

mobile_app
liveTv

धोनी की 50 प्रतिशत मैच फीस कटी, अंपायर के निर्णय की अवहेलना का नतीजा

जयपुर। राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ गुरुवार को हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच में अम्पायर के निर्णय पर आपत्ती जताने के लिए चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर जुर्माना लगाया गया जिसके तहत उनकी 50 प्रतिशत मैच फीस काट ली गई। धोनी ने आईपीएल की आचार संहिता के स्तर 2 के अपराध 2.20 को स्वीकार किया है और अपने ऊपर लगाए गए जुर्माने को मान लिया है। 
चेन्नई की पारी के आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर अंपायर उल्हास गांधे ने बेन स्टोक्स की फुल टॉस गेंद को बीमर मानकर नो बॉल दिया लेकिन तुंरत ही वह इससे मुकर गए। इसके बाद, जडेजा अम्पायर से बात करने लगे। तब तक एमएस धौनी सीएसके के डगआउट से उठकर मैदान में आ गए। वह काफी गुस्से में दिख रहे थे।
उन्होंने दोनों मैदानी अम्पायरों से बहस भी की, लेकिन दोनों अम्पायर अपने फैसले पर कायम रहे और चेन्नई को नो बॉल नहीं मिली। इस घटना से पहले चेन्नई को तीन गेंदों पर आठ रनों की दरकार थी।

विश्वकप से ठीक पहले बोर्ड ने कप्तान बदले

काबुल (एजेंसी) ।  अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने विश्व कप से दो महीने पहले टीम के कप्तान असगर अफगान से कप्तानी छीन ली है। इसके विरोध में टीम के कई खिलाड़ियों ने आवाज उठाई। टीम के ऑलराउंडर मोहम्मद राशिद और स्पिनर मोहम्मद नबी ने तो देश के राष्ट्रपति अशरफ गनी से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की है। एक दिन पहले ही बोर्ड ने असगर को तीनों फॉर्मेट में कप्तानी से हटाने का फैसला किया है। जहां वनडे के कप्तान के लिए गुलबदीन नाइब का नाम तय किया गया है, वहीं टेस्ट के लिए रहमत शाह और टी-20 के लिए राशिद खान को कप्तानी देने का निर्णय लिया गया। हालांकि राशिद ने खुद ट्वीट कर असगर को कप्तानी से हटाए जाने का विरोध किया है। आईपीएल खेल रहे राशिद और नबी ने बोर्ड के इस फैसले पर नाराजगी जताई है। राशिद ने अपने ट्वीट में अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी को टैग कर लिखा, “मैं सिलेक्शन कमेटी के फैसले से पूरी तरह असहमत हूं, क्योंकि यह पूरी तरह गैरजिम्मेदाराना और पक्षपात भरा है। विश्वकप अब हमारे सामने है, ऐसे में असगर अफगान को ही हमारा कप्तान रहना चाहिए। उनकी कप्तानी टीम की सफलता के लिए बेहद जरूरी है। ऐसे बड़े मौके से पहले कप्तानी बदलने से अनिश्चितता का माहौल बनेगा और टीम के हौसले पर भी असर पड़ेगा।”  31 साल के असगर 2015 से टीम के कप्तान हैं। खास बात यह है कि उन्हें मोहम्मद नबी को हटा कर कप्तानी दी गई थी, जो कि इस वक्त खुद असगर से कप्तानी छीने जाने का विरोध कर रहे हैं। असगर की कप्तानी में अफगानिस्तान का सफर काफी बेहतर रहा है। पहले अच्छे प्रदर्शन की बदौलत टीम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की पूर्ण सदस्य बनीं और अभी हाल ही में टीम ने आयरलैंड के खिलाफ अपनी पहली टेस्ट जीत भी दर्ज की। इसके अलावा असगर की ही कप्तानी में टीम ने 2018 विश्वकप क्वालिफायर में वेस्टइंडीज को हराकर क्वालिफाई किया था। उनकी कप्तानी में टीम ने अपने 59 में से 37 मैचों में जीत दर्ज की है।  

सीरीज शुरू होने से पहले भिड़े गेल और राशिद]

जमैका, एजेंसी। इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की 5 वनडे मैचों की सीरीज के लिए वेस्टइंडीज ने विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल को टीम में शामिल किया है। इंग्लैंड को टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराने और गेल की मौजूदगी से कैरेबियाई टीम काफी मजबूत दिखाई दे रही है। इस सीरीज के पहले मुकाबले से पहले उन्होंने इंग्लैंड के स्पिनर आदिल राशिद को बचकर रहने की चेतावनी दे दी है। गेल की इस चेतावनी के बाद राशिद भी चुप नहीं बैठे और बोले मैं भी तैयार हूं। बता दें कि गेल ने वर्ल्ड कप (ICC World Cup 2019) के बाद वनडे क्रिकेट से रिटायर होने की घोषणा कर दी है। गेल ने कहा, 'मुझे नहीं पता कि इंग्‍लैंड की गेंदबाजी की शुरुआत कौन करेगा, लेकिन किसी भी गेंदबाज को क्रिस गेल से बचकर रहना होगा।' इसके बाद राशिद ने गेल को जवाब देते हुए कहा, 'मेरे लिए भी ये रोमांचक होगा। मैं अपनी योजना का सही तरह से इस्तेमाल कर सकूंगा।  

विराट कोहली देखने पहुंचे ये मैच,फोटो हुई वायरल

नई दिल्ली। भारत ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार द्विपक्षीय वनडे सीरीज़ जीती। इस सीरीज़ में महेंद्र सिंह धौनी को मैन ऑफ द सीरीज़ चुना गया। वहीं विराट कोहली ने भी इस दौरे पर इतिहास रचा। कोहली ऑस्ट्रेलिया को उन्हीं के घर में टेस्ट सीरीज़ में मात देने वाले पहला एशियाई कप्तान बन गए। इसी के साथ वो ऑस्ट्रेलिया में द्विपक्षीय वनडे सीरीज़ जीतने वाले पहले भारतीय कप्तान भी बन गए।

वनडे सीरीज को 2-1 से जीतने के बाद भारतीय कप्तान सुकुन के कुछ पल बिताते हुए नज़र आए। कोहली अपनी पत्नी अनुष्का के साथ ऑस्ट्रेलियन ओपन का मैच देखने के लिए पहुंचे। यहां विराट कोहली ने टेनिस के दिग्गज खिलाड़ी रोजर फेडरर से मुलाकात की। विराट कोहली ने अपने ट्विटर अकाउंट पर चार तस्वीरें शेयर की है।

ऑस्ट्रेलिया को मात देने के बाद अब टीम इंडिया का अगला टारगेट न्यूजीलैंड दौरा करना है। न्यूज़ीलैंड के इस दौरे पर भारत को पांच वनडे और तीन टी-20 मैच खेलने है। इस दौरे पर भारतीय टीम पहला मैच 23 जनवरी को खेला जाएगा। 

एमएस धौनी के दम पर भारत ने ऑस्ट्रेलिया को वनडे सीरीज में 2-1 से दी मात

मेलबर्न । भारत ने मेलबर्न में खेले गए तीसरे वनडे मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को 7 विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली। महेंद्र सिंह धौनी 114 गेंदों में 6 चौकों की मदद से 87 रन बनाकर नाबाद लौटे। यह इस सीरीज में उनका लगातार तीसरा अर्धशतक था। इससे पहले सिडनी में खेले गए पहले वनडे मैच में उन्होंने 51 और एडिलेड में खेले गए दूसरे वनडे मैच में नाबाद 55 रन बनाए थे। केदार जाधव ने चौके के साथ भारत को जीत दिलाई। वह 57 गेंदों में 7 चौकों की मदद से 61 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत के सामने जीत के लिए 231 रन का लक्ष्य था, जो उसने 4 गेंद शेष रहते 3 विकेट गंवाकर बनाकर हासिल कर लिया। युजुवेंद्र चहल को मैन ऑफ द मैच (10 ओवर में 42 रन देकर 6 विकेट) चुना गया। मैच में टॉस जीतकर भारत ने पहले गेंदबाजी का फैसला किया। कप्तान विराट कोहली के इस फैसले को भुवनेश्वर कुमार ने सही साबित करते हुए तीसरे ओवर में ही ऑस्ट्रेलियाई ओपनर एलेक्स कैरी (5) को पवेलियन का रास्ता दिखा दिया। स्पिल में विराट कोहली ने उनका अच्छा कैच लपका। इसके बाद भुवनेश्वर ने 9वें ओवर में ऑरोन फिंच को (14) इस सीरीज में लगातार तीसरी बार आउट कर ऑस्ट्रेलिया को दूसरा झटका दे दिया। इसके बाद शॉन मार्श और उस्मान ख्वाजा ने तीसरे विकेट के लिए 73 रनों की साझेदारी कर ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 100 रन तक पहुंचाया। यहां से युजवेंद्र चहल ने गेंद से अपना करतब दिखाना शुरू किया और तीन गेंद के अंदर शॉन मार्श (39) और उस्मान ख्वाजा (34) को पवेलियन भेज ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 4 विकेट पर 101 रन कर दिया।
युजवेंद्र चहल ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को फिरकी में उलझाया : इन दो झटकों के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम संभल नहीं पाई और नियमित अंतराल पर अपने विकेट गंवाती रही। युजवेंद्र चहल ने कुल 6 विकेट झटककर ऑस्ट्रेलिया को मैच में वापसी का मौका नहीं दिया। इस बीच पीटर हैंड्सकॉम्ब ने संघर्ष करते हुए 63 गेंदों में 2 चौकों की मदद से 58 रन की पारी खेली। मार्कस स्टोइनिस ने 10, ग्लेन मैक्सवेल ने 26, जाय रिचर्ड्सन ने 16 और पीटर सीडल ने 10 रन का योगदान दिया। बिली स्टेनलेक अपना खाता भी नहीं खोल सके।

 युजवेंद्र चहल के अलावा मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार ने 2-2 विकेट झटके। जवाब में भारत की शुरूआत भी खराब रही और 15 रन के स्कोर पर रोहित शर्मा पीटर सीडल की गेंद पर स्लिप में शॉन मार्श के हाथों लपके गए। उन्होंने 17 गेंदों का सामना करने के बाद 1 चौके की मदद से 9 रन बनाए। रोहित के आउट होने के बाद शिखर धवन भी ज्यादा देर क्रीज पर नहीं टिक सके और 46 गेंदों का सामना करने के बाद बिना किसी बाउंड्री के 23 रन बनाकर मार्कस स्टोइनिस की गेंद पर उन्हीं को कैच थमाकर पवेलियन लौट गए। यहां से कप्तान विराट कोहली ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के साथ मिलकर टीम का स्कोर 113 रन तक ले गए। इन दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 54 रन की साझेदारी हुई। विराट जब विकेट पर 46 रन बनाकर अपनी निगाहें जमा चुके थे, तभी जाय रिचर्ड्सन की गेंद पर विकेट के पीछे एलेक्स कैरी को कैच दे बैठे। उन्होंने अपनी पारी में 62 गेंदों का सामना किया और 3 चौके लगाए। इस तरह भारत को जीत के लिए 118 रन की दरकार थी और 120 गेंदें बची हुई थीं। यहां से महेंद्र सिंह धौनी ने केदार जाधव के साथ मोर्चा संभाला और भारत को कोई और झटका लगे बिना लक्ष्य तक पहुंचाया। इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए नाबाद 121 रनों की साझेदारी की। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से पीटर सीडल, मार्कस स्टोइनिस और जाय रिचर्ड्सन को 1-1 सफलता मिली।

सचिन तेंदुलकर को उम्मीद, धोनी को लेकर कही ये बात

नई दिल्ली: महेंद्र सिंह धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में जैसे ही ‘मैच फिनिश’ किया, लोग उनकी तारीफों के कसीदे गढ़ने लगे. तारीफ करने वालों में पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी हैं. उन्होंने धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने एक बार फिर फिनिशिंग की अपनी काबिलियत साबित की. पूरी उम्मीद है कि वे अब से अंत तक पारी को आगे बढ़ाएंगे.

पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने महेंद्र सिंह धोनी की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में ‘मैच फिनिश’ करने की काबिलियत की प्रशंसा की और कहा कि अब से वे अंत तक पारी को आगे बढ़ाएंगे. धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे के दौरान मैच ‘फिनिश’ करने की अपनी काबिलियत का नजारा पेश किया और तेंदुलकर ने इसे उनकी सोच प्रक्रिया का नतीजा बताया. 
सचिन तेंदुलकर ने अपने ऐप ‘100एमबी’ में कहा, ‘कल (मंगलवार) को उनका योगदान काफी अच्छा था. पहले मैच में मुझे लगा कि वे थोड़ा लय में नहीं थे. वे गेंद को वहां नहीं हिट कर पा रहे थे, जहां वे चाहते थे और ऐसा किसी के भी साथ हो सकता है. वे दूसरे मैच में कुछ अलग सोचकर उतरे थे. वे इस बार पहली ही गेंद से अलग खिलाड़ी दिखे.’ 

एमएस धोनी पारी को बढ़ाने और मैच फिनिश करने दोनों में माहिर हैं, लेकिन पिछले कुछ समय से उनकी फार्म पर सवाल उठ रहे थे. सचिन तेंदुलकर ने कहा, ‘वे ऐसे खिलाड़ी हैं जो कुछ खाली गेंद छोड़ना पसंद करते हैं. वे विकेट को समझते हैं, देखते हैं कि गेंदबाज कैसी गेंदबाजी कर रहे हैं और वे मैच को अंत तक ले जाना पसंद करते हैं. उन्होंने ऐसा ही किया. वे ऐसे खिलाड़ी हैं जो एक छोर से खेल को नियंत्रित करेगा.’ 

सचिन तेंदुलकर ने दिनेश कार्तिक की भी ‘फिनिशर’ के तौर पर तारीफ की, जिन्होंने अंतिम ओवरों में धोनी के अनुभव का पूरा साथ निभाया. उन्होंने कहा, ‘कल धोनी के साथ दिनेश कार्तिक ने भी अच्छा खेल दिखाया. वे आए और अंत तक मैच खत्म होने तक रहे. दिनेश का भी यह शानदार योगदान रहा. धोनी अंत तक रहे और उनका अनुभव काम आया.’ 

उधर, पूर्व कप्तान सुनील गावस्कार ने कहा, ‘कृपया इस खिलाड़ी (एमएस धोनी) को छोड़ दीजिए. मैं प्रार्थना करता हूं कि इस भद्र खिलाड़ी को अकेला छोड़ दिया जाए और वे अच्छा खेलना जारी रखेंगे. धोनी की टीम में अहमियत का आकलन नहीं किया जा सकता. भरोसा रखिए कि वे अच्छा प्रदर्शन करेंगे.’ 

कुंभ में ये क्रिकेटर भी होंगे शामिल

प्रयागराज । कुंभ-2019 में देश दुनिया से पर्यटकों - श्रद्धालुओं का आना जारी है। लोग विश्व की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर का हिस्सा बनने व धरती के सबसे बड़े मेले को नजदीक से निहारने के लिए खींचे चले आ रहे हैं और अब उसी कड़ी में कई बड़े भारतीय क्रिकेटर भी कुंभ मेले में शामिल होने के लिए संगम नगरी का रुख करने वाले हैं । कुंभ नगरी में बसंत पंचमी पर दिग्गज भारतीय क्रिकेटरों का संगम नजर आएगा। यहां पर परिजनों संग स्नान के साथ ही देश के 13 अखाडों के शाही स्नान को देखने के लिए वह विशेष तौर पर पहुंचेंगे। गंगा सेना शिविर के अध्यक्ष योगगुरु स्वामी आनंद गिरि ने बताया कि कई क्रिकेटर्स के फोन आए हैं, जो बसंत पंचमी पर स्नान करने के लिए अपने परिवार के संग आएंगे। वह भारतीय संस्कृति के इस पौराणिक सनातन समागम को ना सिर्फ नजदीक से देखेंगे बल्कि पूरी दुनिया में कुंभ का संदेश भी लेकर जाएंगे।

कौन कौन आयेगा
गंगा सेना शिविर के समन्वयक शरद मिश्र ने बताया कि अभी तक आधा दर्जन भारतीय क्रिकेटरों स्वयं फोन करके कुंभ में आने के लिए संपर्क किया है । इनमें भारतीय स्टार युवराज सिंह, सुरेश रैना, आशीष नेहरा मोहम्मद कैफ, देवाशीष मोहंती का आना तय हो चुका है। जबकि गौतम गंभीर, विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग व हरभजन सिंह भी अपने कुछ अन्य क्रिकेटर साथियों के साथ कुंभ मेले में शिरकत कर सकते हैं ।

वहीं प्रयागराज के रहने वाले पूर्व भारतीय बल्लेबाज मोहम्मद कैफ ने भी अपने पुराने साथियों को कुंभ मेले में आने के लिए आमंत्रित किया है । संभावना है कि एक दर्जन से अधिक भारतीय क्रिकेटर्स कुंभ मेले के दौरान आ सकते हैं। फिलहाल प्रशासनिक महकमे को इसके लिए विशेष तैयारियां करनी पड़ेगी। क्योंकि शाही स्नान पर्व अत्याधिक संख्या में भीड़ स्नान के लिए पहुंचती है और मुख्य स्नान पर्व पर पहले ही यह तय हो चुका है कि पर किसी भी तरह का वीआईपी मूवमेंट नहीं होगा। ऐसे भारतीय क्रिकेटर्स को शाही स्नान के दर्शन कराने व मुख्य स्नान पर्व पर स्नान भी कराने के लिए किस तरह की तैयारियां होंगी, इस पर प्रशासनिक रणनीति तैयार की जा रही है ।
कुंभ में 2 से 3 दिन करेंगे प्रवास

गंगा सेना शिविर की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार भारतीय क्रिकेटर्स के कुंभ मेले में प्रवास की भी योजना है, ताकि यहां की संस्कृति और महत्वपूर्ण स्थलों से उन्हें रूबरू कराया जा सके। अभी तक की गई तैयारी के अनुसार क्रिकेटर्स को स्नान के साथ पौराणिक अक्षय वट, समुद्र कूप, संगम, कुंभ मेला क्षेत्र, नाग वासुकी मंदिर आदि के दर्शन कराए जाएंगे। फिलहाल भारतीय क्रिकेटरक्रिकेटर्स के ठहरने उनके सुरक्षा व उनके आवागमन को लेकर किस तरह की व्यवस्था होगी इस पर उच्च स्तरीय बैठक के बाद निर्णय होगा।

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के अल्वा इन सभी ने ऐसे दी टीम इंडिया को जीत की बधाई

नई दिल्ली। महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर उन पहले लोगों में शामिल हैं, जिन्होंने एडिलेड ओवल मैदान पर ऑस्ट्रेलिया पर भारत की जीत के लिए विराट कोहली की टीम को बधाई दी है। भारत ने मंगलवार को कप्तान कोहली के शतक और विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के अर्धशतक की बदौलत ऑस्ट्रेलिया को छह विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज में 1-1 की बराबरी कर ली है। 

सचिन के अलावा वीरेंद्र सहवाग ने भी भारतीय टीम को इस शानदार जीत की बधाई दी। सचिन ने अपने ट्वीट में कहा, एक शानदार जीत कोहली की एक महान पारी। धोनी ने शानदार भूमिका अदा की और दिनेश कार्तिक के साथ भारत को जीत तक ले गए। 

सहवाग ने अपने अंदाज में भारत को जीत की बधाई दी। सहवाग ने लिखा, पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त। कोहली की शानदार पारी और धोनी तथा कार्तिक ने स्टाइल में पारी समाप्त की। हमें एक और जीत की जरूरत है। हमारे चार-पांच-छह खिलाड़ी मैच जिताऊअंदाज में खेल रहे हैं। 

सचिन और सहवाग के अलावा वीवीएस लक्ष्मण, मोहम्मद कैफ और हरभजन सिंह ने ट्वीट करके भारत को जीत की बधाई दी। हरभजन ने लिखा कि टीम इंडिया शानदार। एक और बेहतरीन पारी और एमएस धोनी को पुराने टच में देख अच्छा लगा। आगे भी भारत ऐसे ही खेलना जारी रखो। भारत ने गजब तरीके से लक्ष्य का पीछा किया। 

विराट के लाजवाब 100 रन। उन्होंने इसे आसान बना दिया। धोनी को फिनिश करते देख अच्छा लगा और आखिर में दिनेश कार्तिक का कैमियो। आखिरी मैच जोरदार होना चाहिए। कैफ ने लिखा धोनी ने अद्भुत तरीके से परिस्थितियों को भांपा। आखिर में कार्तिक ने धोनी का बढिय़ा साथ दिया, लेकिन यह कोहली की पारी थी जिसने अंतर पैदा किया।

धौनी की इस गलती से भारत की जीत पर उठे सवाल

एडिलेड, जेएनएन। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया दूसरा वनडे भारतीय टीम ने 6 विकेट से जीता। विराट कोहली ने 104 रन की शानदार शतकीय पारी खेली तो वहीं एमएस धौनी ने नाबाद 55 रनों की पारी खेलकर टीम इंडिया को 4 गेंद शेष रहते ही जीत दिला दी। लेकिन भारत की इस जीत के बाद सवाल उठने लगे हैं। इसकी वजह है टीम इंडिया के पूर्व कप्तान धौनी। आप सोचेंगे की धौनी ने तो बेहतरीन पारी खेलते हुए जीत दिलाई, लेकिन अब उन्हीं की वजह की इस जीत पर सवाल क्यों खड़े हो रहे हैं, तो चलिए आपको बताते हैं कि ऐसा क्यों है?
धौनी से हुई ये गलती

55 रन की इस पारी के दौरान महेंद्र सिंह धौनी से एक गलती हो गई। मैच में कुछ ऐसा हुआ जिसको देखकर ऑस्ट्रेलियन फैन्स हैरान हैं और अंपायर को कोस रहे हैं। एमएस धौनी से बड़ी चूक हो गई, अंपायर अगर इस चूक को पकड़ लेते तो टीम इंडिया को 5 रन की पेनाल्टी लग सकती थी। दरअसल इस मैच में धौनी ने एक शॉर्ट रन लिया मतलब उन्होंने एक रन पूरा नहीं दौड़ा। एमएस धौनी की इस चूक को न तो ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी देख सके और न अंपायर देख पाए। जिससे टीम इंडिया को एक रन मिल गया और भारत 5 रन की पेनाल्टी से बच गया। टीम इंडिया को जीत के लिए 31 गेंद पर 45 रन चाहिए थे। भारत का स्कोर 254 थे। धौनी 36 और दिनेश कार्तिक 1 रन बनाकर खेल रहे थे।

इस ओवर में घटी ये घटना

नाथन लायन आखिरी ओवर डाल रहे थे। धौनी ने लॉन्ग मिड ऑन पर शॉट खेला और रन भाग लिया। लेकिन ओवर खत्म होने की वजह से धौनी क्रीज तक पहुंचना भूल गए और दिनेश कार्तिक के पास पहुंच गए। धौनी ने शॉर्ट रन लिया था। जिसको अंपायर नहीं देख पाया। आइसीसी रूल बुक के मुताबिक, अगर बल्लेबाज शॉर्ट रन लेता है तो अंपायर बल्लेबाजी टीम पर 5 रन की पेनाल्टी लगाता है। आखिरी फैसला अंपायर का माना जाता है।

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया तो इस बात के लिए अंपायरों का गलती ठहरा ही रही है। इसके साथ ही साथ सोशल मीडिया पर जब इस बात का पता ऑस्ट्रेलियन फैन्स को पता चला तो उनका गुस्सा अंपायर पर फूट गया। ऑस्ट्रेलियन फैन्स पूअर अंपारिंग बता रहे हैं। 

महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी मामला: हार्दिक पंड्या और केएल राहुल ने बिना शर्त माफी मांगी

नई दिल्ली: टेलीविजन कार्यक्रम में महिलाओं पर आपत्तिजनक टिप्पणियां करने के मामले में निलंबित क्रिकेटर हार्दिक पंड्या  और लोकेश राहुल  ने सोमवार को बिना शर्त माफी मांगी. इस बीच प्रशासकों की समिति (सीएओ, COA) के अध्यक्ष विनोद राय ने कहा कि बीसीसीआई (BCCI) को दोनों खिलाड़ियों के करियर को खतरे में डालने की जगह उनमें सुधार करने पर ध्यान देना चाहिए. दोनों खिलाड़ियों के बिना शर्त माफी मांगने के बावजूद भी बीसीसीआई की 10 इकाइयों ने इस मामले की जांच के लिए लोकपाल नियुक्त करने के लिए विशेष आम बैठक बुलाने की मांग की हैं. वहीं, इस मामले में जांच कराने को लेकर सीओए अध्यक्ष विनोद राय और डायना एडुल्जी के बीच टकराव हो चला है.

सीओए में राय की सहयोगी डायना इडुल्जी चाहती है कि यह जांच सीओए और बीसीसीआई के अधिकारी करें. बीसीसीआई के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया कि हां, हार्दिक और राहुल ने फिर से जारी किए गए कारण बताओ नोटिस का जवाब दे दिया है. उन्होंने बिना शर्त माफी मांगी है. सीओए प्रमुख ने बीसीसीआई के नये संविधान की धारा 41 (सी) के तहत मुख्य कार्यकारी अधिकारी (राहुल जौहरी) को मामले की जांच का निर्देश दिया है, लेकिन एडुल्जी को लगता है कि ऐसा होने पर मामले में लीपापोत की जाएगी.  राय ने एडुल्जी को भेजे मेल में कहा कि बीसीसीआई को युवा खिलाडि़यों का करियर खत्म नहीं करना चाहिए. कृपया इस बात को लेकर आश्वस्त रहे कि मामले की जांच में लीपापोती नहीं होगी. भारतीय क्रिकेट के हित को ध्यान में रखना होगा. मैदान से बाहर दोनों खिलाड़ियों का यह आचरण निंदनीय है. मैंने मामले का पता चलने के तुरंत बाद कहा था यह मूर्खतापूर्ण है. विनोद राय और एडुल्जी की राय इस मामले में भी एक-दूसरे के उलट हो चली है. 

विनोद राय ने कहा कि यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उन्हें फटकारें, सुधारात्मक कार्रवाई करें, उन्हें गलत कामों के बारे में सचेत करें और इसकी सजा (परिणाम भुगतने) के बाद उन्हें फिर से मैदान पर उतारें. इस पूर्व सीएजी ने अपने ईमेल में कहा कि खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय दौरे (ऑस्ट्रेलिया से) के बीच में से वापस बुलाये जाने के बाद शर्मिंदा हैं और नैसर्गिक न्याय के मुताबिक उनके पक्ष को सुना जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने मौजूदा दौरे से उन्हें वापस बुलाकर शर्मिंदा किया है. हमने उन्हें निलंबित किया है. हमें उन में सुधार करने की जरूरत है. फैसले में देरी कर के हम उनका करियर खतरे में नहीं डाल सकते. इसमें सुधारात्मक रवैये के साथ त्वरित कार्रवाई की जरूरत है.

राय ने बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी को मामले की शुरुआती जांच का निर्देश दिया है.  सीईओ प्रमुख् ने कहा कि धारा 41(सी) के तहत सीईओ को अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए और खिलाड़ियों की प्रतिक्रिया लेकर मामले की जांच करनी चाहिए. उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए की नैसर्गिक न्याय के मानदंड पूरे हो. लेकिन तमाम बातों और ई-मेल के बावजूद अभी तय नहीं हो सका है कि मामले की जांच कौन करेगा. 

एशियन कप फुटबॉल टूर्नामेंट से बाहर हुई भारतीय टीम , कोच कॉन्सटेन्टाइन ने दिया इस्तीफा

शारजाह. फुटबॉल के एशियन कप में भारतीय टीम की हार के बाद कोच स्टीफेन कॉन्सटेन्टाइन ने पद से इस्तीफा दे दिया। सोमवार को भारतीय टीम ग्रुप दौर के आखिरी मुकाबले में बहरीन से 0-1 से हार गई। इस हार के बाद भारत तीन अंकों के साथ ग्रुप में तीसरे स्थान पर रहा।

बहरीन की टीम फीफा रैंकिंग में भारत से 16 स्थान नीचे है। भारत 97वें और बहरीन 113वें पायदान पर है। ऐसे में उम्मीद थी कि भारतीय टीम कम से कम मैच ड्रॉ कराकर नॉकआउट में स्थान बना लेगी।

कॉन्सटेन्टाइन 2002 से 2005 तक भी थे कोच
56 वर्षीय कॉन्सटेन्टाइन 2015 में टीम के मुख्य कोच बने थे। उनकी कोचिंग में टीम इंडिया ने आठ साल बाद एशियन कप के लिए क्वालीफाई किया था। वे 2002 से 2005 के बीच भी भारतीय टीम के कोच रहे थे।
ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन के जनरल सेक्रेटरी कुशाल दास ने ट्वीट किया, ‘‘कॉन्सटेन्टाइन ने भारतीय टीम के कोच पद से इस्तीफा दे दिया है। हमें अभी तक कोई आधिकारिक सूचना प्राप्त नहीं हुई, लेकिन फिर भी उनके फैसले को स्वीकार करते हैं। उनके योगदान के लिए शुक्रिया।’’

भारत का दूसरा विकेट गिरा, रोहित शर्मा अर्धशतक से चूके

भारत ने दो विकेट के नुकसान पर 18 ओवर में 102/2 रन बना लिए हैं. इस समय विराट कोहली और अंबाती रायडू क्रीज़ पर हैं.
ऑस्‍ट्रेलिया ने एडिलेड वनडे में नौ विकेट के नुकसान पर 298 रन बनाकर टीम इंडिया को 299 रन की मुश्किल चुनौती दी है. ऑस्‍ट्रेलिया के लिए शॉन मार्श ने 131 और ग्‍लेन मैक्‍सवेल ने 48 रन की अहम पारियां खेलीं. मार्श ने 123 गेंदों का सामना करते हुए 11 चौकों और तीन छक्‍कों की मदद से मैराथन पारी खेली. जबकि मैक्‍सवेल ने अपनी 48 रन की पारी में 37 गेंदों का सामना करते हुए पांच चौके और एक छक्‍का लगाया. इन दोनों के बीच 10.5 ओवर में 94 रन की साझेदारी हुई और इसी वजह से ऑस्‍ट्रेलिया ने भारत पर दबाव बना दिया.

भारत के लिए भुवनेश्‍वर कुमार ने दस ओवर में 45 रन देकर चार तो मोहम्‍मद शमी ने दस ओवर में 58 रन देकर तीन विकेट अपने नाम किए. जबकि एक सफलता रविंद्र जडेजा को मिली. उन्‍होंने दस ओवर में एक मेडन रखते हुए 49 रन देकर पीटर हैंड्सकॉम्‍ब को धोनी के हाथों स्‍टंम्‍प कराया.

अब तक दोनों टीमों के बीच 49 वनडे मुकाबले हुए हैं जिसमें से टीम इंडिया ने 11 तो ऑस्‍ट्रेलिया ने 36 में जीत दर्ज की है. वहीं दो मैचों का नतीजा नहीं निकल सका है. अगर एडिलेड की बात करें तो इस मैदान पर अब तक दोनों के बीच पांच मैच हुए हैं जिसमें से चार में ऑस्‍ट्रेलिया और एक में भारत ने बाजी मारी है.

दोनों टीमें : 
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, अंबाती रायडू, दिनेश कार्तिक, महेंद्र सिंह धोनी, कुलदीप यादव, रविंद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज.

ऑस्ट्रेलिया : एरॉन फिंच (कप्तान), एलेक्स कैरी, उस्मान ख्वाजा, शॉन मार्श, पीटर हैंड्सकोंब, मार्कस स्टोइनिस, ग्लेन मैक्सवेल, नाथन लायन, पीटर सिडल, जे रिचर्डसन और जेसन बेहरेनडोर्फ.