Updated -

mobile_app
liveTv

कोरोना के बाद खिलाडिय़ों की वापसी


एक्सपर्ट का प्लान: क्रिकेटर की मसल मेमोरी डेवलप कर गेंद से कनेक्टिविटी बढ़ाएंगे, रेसलर डमी के साथ प्रैक्टिस करेंगे
ग्वालियर। कोरोना वायरस के चलते टोक्यो ओलिंपिक एक साल के लिए टल गया है। कई खेलों के बड़े टूर्नामेंट भी स्थगित हो चुके हैं। देश में स्टेडियम और स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स तो खुल गए हैं। लेकिन, खेल गतिविधियां बड़े स्तर पर शुरू नहीं हुई हैं। खिलाडिय़ों के लिए यह दौर संकट से कम नहीं है, क्योंकि उन्हें रिदम में लौटने के लिए नए सिरे से तैयारी करनी होगी। इसके लिए अलग-अलग खेलों के विशेषज्ञों ने खिलाडिय़ों की वापसी के लिए स्पेसिफिक ट्रेनिंग प्लान बनाया है, जिसमें फिजिकल ट्रेनिंग के साथ-साथ मेंटल सपोर्ट भी शामिल है। ट्रेनिंग शेड्यूल में सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन को भी शामिल किया गया है। क्रिकेट, एथलेटिक्स, बॉक्सिंग, टेनिस, रेसलिंग, वेटलिफ्टिंग, बैडमिंटन, फुटबॉल और हॉकी के विशेषज्ञों ने बताया कि खिलाडिय़ों का शेड्यूल कैसा होगा। 
क्रिकेट: ट्रेनिंग के पहले जजमेंट करेंगे, फिर मोटर स्किल्स पर काम करेंगे 
काफी दिन तक प्रैक्टिस नहीं करने से क्रिकेटरों के प्रदर्शन और उसके स्तर में गिरावट आई है। उसे पहले जैसा बनाने के लिए अलग-अलग पार्ट में मेंटल सपोर्ट के साथ फिटनेस ट्रेनिंग देंगे। ऐसा नहीं करने पर खिलाड़ी के मेंटल ब्रेकडाउन होने का खतरा रहता है। ट्रेनिंग के पहले जजमेंट करेंगे और फिर मोटर स्किल्स (स्पीड, स्ट्रेंथ, एंड्यूरेंस) पर काम करेंगे। मसल मेमोरी डेवलप कर खिलाड़ी की गेंद के साथ कनेक्टिविटी बढ़ाएंगे। 
टेनिस: टेक्निकल और टेक्टिकल लेवल सुधारने पर काम करेंगे 
टेनिस ओपन स्पोर्ट्स है। यहां खिलाडिय़ों के बीच वैसे भी दूरी रहती ही है। खिलाडिय़ों ने पिछले दो माह में रेस्ट के साथ फिजिकल और मेंटल लेवल पर बहुत काम किया है। अब हम उनका टेक्निकल और टेक्टिकल लेवल सुधारने पर काम करेंगे। आने वाले टूर्नामेंट को देखते हुए प्री-कॉम्प्टिीशन फेज, पोस्ट कॉम्प्टिीशन फेज, एक्टिव रेस्ट और पेसिव रेस्ट फेज से ट्रेनिंग देंगे। इससे खिलाड़ी दो हफ्ते में रिदम में आ जाएगा। 
पहलवानों को मेट पर बुल्गारियन और इंडियन डमी के साथ ऑन द मैच तकनीक की प्रैक्टिस कराएंगे। इससे खिलाड़ी बिना कनेक्टिविटी के हिप थ्रो, फ्रंट साल्तो, भारंदाज और वार्मअप थ्रो के साथ प्रैक्टिस पूरी कर फार्म में लौट सके। 

कोविड-19 के कारण दो माह के लंबे रेस्ट पीरियड में रेसलर फिजिकली रूप से बहुत स्ट्रांग हैं। 
इसलिए इस पर ज्यादा फोकस करने की जरूरत नहीं है। टेक्नीक की ट्रेनिंग अलग-अलग कैटेगरी में ही बांटकर दी जाएगी। 
- प्रदीप शर्मा, कोच, सीनियर नेशनल महिला कुश्ती टीम 

बैडमिंटन: स्टेंडिंग स्ट्रोक और मूमेंट ट्रेनिंग से कॉन्फिडेंस वापस लौटेगा 
खिलाडिय़ों के स्टेंडिंग स्ट्रोक के लिए छोटे-छोटे प्रैक्टिस सेशन बनाए हैं, जिसमें वे कोर्ट पर स्मैश, ड्रॉप शॉट, फोरहैंड और बैक हैंड के साथ कई पोजीशन पर काम करेंगे। ऐसा करने से उनका कॉन्फिडेंस लेवल तो बढ़ेगा ही। साथ ही साथ वे कम समय में मूमेंट ट्रेनिंग भी पूरी कर सकेंगे। पुरानी पोजीशन में लौटने में खिलाडिय़ों को एक-दो हफ्ते लगेंगे। 
- संजय मिश्रा, भारतीय जूनियर बैडमिंटन टीम के कोच 

हॉकी: बेसिक ट्रेनिंग से शुरुआत करेंगे, ताकि स्टिक पर होल्ड आ जाए
लॉकडाउन में आराम के बाद खिलाडिय़ों को लय में लाने के लिए स्टॉपिंग, हिटिंग, पुशिंग, रिसीविंग, शूटिंग, पासिंग टाइमिंग और पासिंग एक्यूरेसी जैसी बेसिक ट्रेनिंग से शुरुआत की जाएगी। इसके अलावा आसान स्किल्स के जरिए खिलाडिय़ों को प्रैक्टिस मोड में लाया जाएगा, जिससे उसका स्टिक पर होल्ड आ जाए। एकाएक लोड देने पर खिलाड़ी चोटिल हो सकता है। 
-शिवेंद्र सिंह चौधरी, कोच हॉकी इंडिया और पूर्व ओलिंपियन

एथलेटिक्स: चेनिंग और शेपिंग मैथड से प्रदर्शन सुधारेंगे 
खिलाडिय़ों को टीचिंग प्रोगेशन के साथ चेनिंग और शेपिंग मैथड पर काम करना होगा। एंड्यूरेंस स्पोर्ट्स (लॉन्ग डिस्टेंस इवेंट), फील्ड इवेंट (जंपिंग-थ्रो) और स्प्रिंट इवेंट (शॉर्ट डिस्टेंस इवेंट और हर्डल्स) के एथलीट शुरुआती स्टेज में इंटेंसिटी मेंटेन कर तैयारी करेंगे। इसके बाद ही उनका आत्मविश्वास और कॉर्डिनेशन बढ़ेगा। ट्रेनिंग का यह पार्ट सभी के लिए अलग-अलग होगा। 
- प्रो. जेपी भूकर, लेवल-2 कोच, वर्ल्ड एथलेटिक्स 

बॉक्सिंग: तीन फेज की पीक ट्रेनिंग शुरू की जाएगी 
बॉक्सर ने लॉकडाउन के बीच भी घर पर रहकर फिजिकल फिटनेस पर काम किया है। वह रिंग से दूर रहा है। लेकिन, इसका फिटनेस पर असर सिर्फ 5 या 10 प्रतिशत ही आया होगा। टूर्नामेंट शेड्यूल आते ही तीन फेज की पीक ट्रेनिंग शुरू हो जाएगी। इसमें विरोधी को ध्यान में रखकर फिटनेस के साथ स्किल और गेम इम्प्रूवमेंट करने पर काम किया जाता है। तीसरे और अंतिम फेज में बॉक्सर फुल पीक पर रहता है, जिसमें उसे खेलना होता है। 
- महावीर सिंह, द्रोणाचार्य अवार्डी और नेशनल महिला बॉक्सिंग टीम के कोच 
 

संगकारा ने कहा- आधुनिक क्रिकेट में विराट-रोहित की जोड़ी नंबर-1, दोनों ने हर फॉर्मेट में शानदार प्रदर्शन किया

नई दिल्ली। श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमारा संगकारा ने कहा कि क्रिकेट के हर युग में एक बेहतरीन जोड़ी देखने को मिलती है। इस आधुनिक युग में भारत के पास दुनिया की नंबर-1 जोड़ी विराट कोहली और रोहित शर्मा के रूप में मौजूद है। इन दोनों ने क्रिकेट के हर फॉर्मेट में शानदार प्रदर्शन किया है। कोहली और रोहित दोनों ने तीनों फॉर्मेट में अब तक 35930 रन बनाए हैं। संगकारा का मानना है कि इन दोनों का जलवा ठीक उसी प्रकार है, जैसे 1990 और शुरुआती 2000 के दशक में पूर्व कप्तान सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ का रहा था। संगकारा ने स्टार स्पोर्ट्स के क्रिकेट कनेक्टेड शो में कहा, ''भारतीय टीम में आधुनिक क्रिकेट के दो शानदार खिलाड़ी कोहली और रोहित हैं। वे पारंपरिक शॉट खेलते हैं और उन्होंने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। इसके अच्छे नतीजे भी सामने आए हैं। अच्छे शॉट लगाने के लिए ज्यादा ताकत या बहुत प्रयास करने की जरूरत नहीं होती है।ÓÓ मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) के अध्यक्ष संगकारा ने कहा, ''विराट और रोहित की प्रतिभा कुछ खास है। कोरोना के कारण बने आईसीसी के नए दिशा-निर्देशों से शायद वनडे में रन बनाना और आसान हो जाएगा। लेकिन, तथ्य यही हैं कि इन दोनों ने सभी फॉर्मेट में लगातार बेहतरीन प्रदर्शन किया है। मेरा मानना है कि दोनों ने कड़ी मेहनत की है।

इसलिए उनका बहुत सम्मान किया जाना चाहिए

 संगकारा ने कहा , ''यदि आप राहुल द्रविड़ और सौरभ गांगुली को देखें, तो वे भी पारंपरिक खेल ही खेलते हैं। दोनों बहुत शानदार शॉट खेलते थे और तकनीकी तौर पर भी मजबूत हैं। राहुल तकनीकी तौर पर थोड़े ज्यादा मजबूत हैं। वहीं, विराट और रोहित पारंपरिक होने के साथ-साथ खतरनाक भी हैं, जिसकी वास्तव में प्रशंसा की जानी चाहिए। वे किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को पीट सकते हैं।

हॉकी इंडिया: खेल रत्न के लिए महिला टीम की कप्तान रानी का नाम भेजा; वंदना, मोनिका और पुरुष खिलाड़ी हरमनप्रीत अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित

मेजर ध्यानचंद अवॉर्ड के लिए आरपी सिंह, तुषार खांडकर और द्रोणाचार्य सम्मान के लिए कोच बीजे करिअप्पा और रोमेश पठानिया के नाम भेजे
नई दिल्ली। हॉकी इंडिया ने मंगलवार को राष्ट्रीय महिला टीम की कप्तान रानी रामपाल के नाम की सिफारिश राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए की है। साथ ही अर्जुन अवॉर्ड के लिए वंदना कटारिया, मोनिका और पुरुष टीम के खिलाड़ी हरमनप्रीत सिंह का नाम भेजा है। पिछली बार पैरालिम्पिक में रजत पदक जीतने वाली दीपा मलिक और रेसलर बजरंग पूनिया को खेल रत्न अवॉर्ड मिला था। लाइफटाइम अचीवमेंट मेजर ध्यानचंद अवॉर्ड के लिए हॉकी इंडिया ने पूर्व दिग्गज आरपी सिंह और तुषार खांडकर की सिफारिश की है। वही, कोच बीजे करिअप्पा और रोमेश पठानिया को द्रोणाचार्य सम्मान के लिए नामित किया गया है। खेल पुरस्कार के लिए तीन साल (1 जनवरी 2016 से 31 दिसंबर 2019) का प्रदर्शन देखा जाएगा। इस दौरान रानी की कप्तानी में भारतीय टीम ने महिला एशिया कप 2017 में ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी। साथ ही रानी ने 2018 एशियाई खेलों में रजत और 2019 में एफआईएच ओलिंपिक क्वालिफायर में शानदार प्रदर्शन करते हुए टीम को ओलिंपिक कोटा दिलवाया।
रानी को अर्जुन और पद्म श्री सम्मान मिल चुका
रानी की कप्तानी में ही पहली बार भारतीय टीम एफआईएच वर्ल्ड रैंकिंग में करियर के सर्वश्रेष्ठ 9वें स्थान पर भी पहुंची है। रानी पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं, जिन्हें विश्व खेल एथलीट ऑफ द ईयर के रूप में नामित किया गया है। रानी को अर्जुन पुरस्कार (2016) और पद्म श्री (2020) भी मिल चुका है।
वंदना 200 से ज्यादा मैच खेल चुकीं
भारतीय टीम की स्ट्राइकर वंदना 200 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुकी हैं। जबकि अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित दूसरी खिलाड़ी मोनिका 150 से ज्यादा मैच में देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। दोनों खिलाडिय़ों ने ओलिंपिक क्वालिफायर और ओलिंपिक टेस्ट इवेंट में टीम की जीत में महत्चपूर्ण भूमिका निभाई है।
2017 में हॉकी स्टार सरदार सिंह को खेल रत्न मिला था
सरदार सिंह खेल रत्न पाने वाले हॉकी के आखिरी खिलाड़ी थे। उन्हें यह सम्मान 2017 में भारतीय एथलीट देवेंद्र झाझरिया के साथ मिला था। देवेंद्र ने पैरालंपिक खेलों में दो स्वर्ण पदक जीते हैं। इससे पहले भारतीय हॉकी लेजेंड धनराज पिल्लै को 2000 में यह सम्मान मिला था।पहली बार खेल मंत्रालय ने ऑनलाइन आवेदन मंगाए
खेल मंत्रालय ने कोरोनावायरस की वजह से इस बार राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के दावेदारों से नामांकन पहली बार ई-मेल से मंगाए हैं। आमतौर पर नामांकन भेजने की प्रक्रिया अप्रैल में ही शुरू हो जाती है, लेकिन इस बार लॉकडाउन की वजह से मई में आवेदन मांगे गए हैं। इसकी आखिरी तारीख 3 जून है।
खेल दिवस पर राष्ट्रपति देते हैं पुरस्कार
हर साल 29 अगस्त को हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यान चंद की जयंती पर राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर राष्ट्रपति भवन में आयोजित सादे समारोह में राजीव गांधी खेल रत्न, अर्जुन अवॉर्ड, द्रोणाचार्य अवॉर्ड और ध्यानचंद पुरस्कार दिया जाता है।

तीरंदाज सम्मान के लिए राज्य संघ, कोच और खेल विभाग के चक्कर लगा रहे; नाम की सिफारिश करने वाले आर्चरी फेडरेशन को मान्यता नहीं

नई दिल्ली। देश के कई तीरंदाज अर्जुन पुरस्कार के लिए अपने नामों की सिफारिश के चक्कर में राज्य संघों, खेल विभाग के अफसरों के आगे-पीछे घूमने को मजबूर हैं। भारतीय तीरंदाजी संघ को चुनाव के 5 महीने बाद भी मान्यता नहीं मिली है। ऐसे में वह राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिए तीरंदाजों के नामों की सिफारिश नहीं कर सकता। तीरंदाजी के कंपाउंड राउंड से मध्यप्रदेश की मुस्कान किरार और दिल्ली के अमन सैनी अर्जुन अवॉर्ड के लिए आवेदन कर रहे हैं। इनके अलावा रिकर्व राउंड से पश्चिम बंगाल के अतनु दास और महाराष्ट्र के प्रवीण जाधव भी हैं। आर्चरी फेडरेशन ऑफ इंडिया (एएफआई) का चुनाव कोर्ट के आदेश के बाद इस साल जनवरी में हुआ था। इससे पहले खेल मंत्रालय ने 2012 में स्पोर्ट्स कोड का पालन नहीं करने के कारण एएफआई की मान्यता रद्द कर दी थी। जबकि वल्र्ड आर्चरी फेडरेशन (डब्ल्यूएएफ) ने 5 अगस्त 2019 को फेडरेशन पर प्रतिबंध लगाया था। तब से ही भारतीय खिलाड़ी सभी टूर्नामेंट में डब्ल्यूएएफ के झंडे तले हिस्सा ले रहे थे।
इसी साल जनवरी में हुए थे चुनाव
जनवरी में कोर्ट की ओर से दी गई गाइडलाइन के अनुसार खेल मंत्रालय, डब्ल्यूएएफ और एएफआई की निगरानी में चुनाव हुए थे। इसके बाद डब्ल्यूएएफ ने एएफआई पर से सशर्त प्रतिबंध हटा दिया था। लेकिन खेल मंत्रालय के पास कोर्ट की तरफ से चुनाव से जुड़े दस्तावेज नहीं पहुंचे। इसलिए खेल मंत्रालय ने अब तक फेडरेशन की मान्यता बहाल नहीं की है। इंटरनेशनल आर्चर अतनु दास ने अर्जुन अवॉर्ड के लिए आवेदन किया है।

 उन्होंने भास्कर को बताया कि मेरे नाम की सिफारिश पिछले साल मेजर ध्यानचंद अवॉर्ड से सम्मानित कोच सी. लालरेमसांगा कर रहे हैं। 

फेडरेशन को मान्यता नहीं मिली है। इसलिए उन्हें और दूसरे तीरंदाजों को व्यक्तिगत रूप से राज्य संघों और राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल कर चुके कोच और अपने मूल विभाग से नाम भिजवाना पड़ा रह है। जबकि आम तौर पर यह काम फेडरेशन का होता है। वही खिलाड़ी का नाम खेल मंत्रालय को भेजती है। 

अतनु ने एशियन चैम्पियनशिप में 3 ब्रॉन्ज मेडल जीते
अतनु ने पिछले साल एशियन तीरंदाजी चैम्पियनशिप में 3 ब्रॉन्ज मेडल जीते थे। वहीं, 14 साल बाद वल्र्ड चैम्पियनशिप में सिल्वर जीतने वाली टीम के सदस्य भी थे। उन्होंने टोक्यो ओलिंपिक के टीम इवेंट, सिंगल और मिक्स्ड डबल्स तीनों वर्ग में क्वालिफाई किया है।


अमन अपने नाम की सिफारिश के लिए साई के चक्कर लगा रहे।
कंपाउंड में देश के लिए अंतरराष्ट्रीय मेडल जीत चुके अमन सैनी ने अब तक अर्जुन अवॉर्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन नहीं भेज पाए हैं। उन्होंने भास्कर को बताया कि आमतौर पर फेडरेशन सारी कागजी कार्रवाई पूरी करता है। लेकिन हमारे मामले में तीरंदाजी फेडरेशन को अब तक खेल मंत्रालय से मान्यता नहीं मिली है। ऐसे में वो हमारे नाम की सिफारिश नहीं कर सकती है। इसलिए मैं खेल मंत्रालय को ऑनलाइन आवेदन भेजने के लिए स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों से बात कर रहा हूं।

साई के पास मेरे पिछले तीन साल का रिकॉर्ड भी है। इस दौरान मेरा प्रदर्शन कैसा था। वह अच्छे से जानते हैं। इसलिए मैं अफसरों से अनुरोध कर रहा हूं कि वे पुरस्कार के लिए अप्लाई करने में मेरी मदद करें। 

एशियन गेम्स में जीत चुके हैं मेडल
अमन ने 2018 एशियन गेम्स के टीम इवेंट में सिल्वर और 2019 वल्र्ड चैम्पियनशिप के टीम इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीता है।

इंग्लैंड, श्रीलंका के बाद ऑस्ट्रेलियाई खिलाडिय़ों ने भी 2 महीने बाद ट्रेनिंग शुरू की, 9 अगस्त से अंतररष्ट्रीय सीजन शुरू होगा

स्टीव स्मिथ ने कहा- लॉकडाउन के दौरान मैंने शारीरिक और मानसिक रूप से खुद को मजबूत बनाने पर जोर दिया
इंग्लैंड में भी खाली स्टेडियम में प्रोफेशनल स्पोर्ट्स होंगे, 8 जुलाई से वेस्टइंडीज के खिलाफ 3 मैचों की टेस्ट सीरीज होगी
इंग्लैंड। श्रीलंका के बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों ने भी सोमवार से ट्रेनिंग शुरू कर दी। सिडनी के ओलिंपिक पार्क में स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर के अलावा तेज गेंदबाज मिचेल स्टार्क ने अभ्यास किया। ट्रेनिंग के दौरान भी फैन्स को आने की इजाजत नहीं है।  ट्रेनिंग को लेकर स्मिथ ने कहा- मैं सालों बाद खुद को बेहतर स्थिति में पा रहा हूं।  मैंने रनिंग, जिम के जरिए खुद को मजबूत बनाए रखा। उन्होंने कहा कि मैंने लॉकडाउन का अच्छा फायदा उठाया और फिजिकल के अलावा मेंटल फिटनेस पर जोर दिया। 
कोरोना की वजह से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। सीए ने 200 से ज्यादा कर्मचारियों को हटा दिया है। जल्द ही ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के सपोर्ट स्टाफ में भी कटौती की जा सकती है। स्मिथ इसे लेकर तैयार हैं। उनका कहना है कि बीते कुछ सालों में टीम के साथ कई तरह के एक्सपर्ट जुड़े हैं। अगर उन्हें हटाया जाता है तो खिलाडिय़ों को शुरू में तो इससे तालमेल बैठाने में दिक्कत होगी। ऐसे में सीनियर खिलाडिय़ों को बल्लेबाजी, गेंदबाजी में युवा खिलाडिय़ों की मदद करनी होगी। इधऱ, इंग्लैंड में भी क्रिकेटरों ने ट्रेनिंग शुरू कर दी है। 


हाल ही में इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने 55 खिलाडिय़ों को आउटडोर प्रैक्टिस की मंजूरी दी है। ताकि खिलाड़ी जुलाई में वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के खिलाफ प्रस्तावित टेस्ट सीरीज के लिए तैयार हो सकें।

ढाई महीने बाद श्रीलंका टीम प्रैक्टिस के लिए मैदान पर उतरेगी, 13 खिलाड़ी 12 दिन तक ट्रेनिंग करेंगे

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के बीच श्रीलंका क्रिकेट टीम सोमवार से प्रैक्टिस शुरू करने जा रही है। टीम करीब ढाई महीने बाद मैदान पर उतरेगी। श्रीलंका बोर्ड ने 13 खिलाडिय़ों को ही 12 दिन तक ट्रेनिंग की अनुमति दी है। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग समेत सभी गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा। श्रीलंका को इंग्लैंड के साथ मार्च में 2 टेस्ट की सीरीज घरेलू सीरीज खेलना था, जिसे कोरोना के कारण अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया है। इंग्लिश टीम बगैर मैच खेले ही लौट गई थी। तभी से श्रीलंका में कोई क्रिकेट टूर्नामेंट नहीं हुआ है।
आईसीसी फ्यूचर टूर प्रोग्राम (एफटीपी) के तहत श्रीलंका को जून-जुलाई में दक्षिण अफ्रीका और भारत के साथ 3-3 वनडे की सीरीज भी खेलना है। हालांकि, कोरोना महामारी और यात्रा प्रतिबंध के कारण यह सीरीज होना संभव नहीं है। श्रीलंका को अगस्त में 3 टेस्ट के लिए बांग्लादेश की मेजबानी करनी है। ये तीनों मैच वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का हिस्सा हैं। श्रीलंका क्रिकेट ने कहा, ''13 सदस्यीय टीम 12 दिन के ट्रेनिंग सेशन में हिस्सा लेगी। इसकी शुरुआत सोमवार से राजधानी कोलंबो के एक होटल में फिटनेस सेशन के साथ होगी। मैदान पर ट्रेनिंग मंगलवार से शुरू होगी। टीम के खिलाडिय़ों को किसी भी मामले में होटल या ट्रेनिंग वाली जगह छोडऩे की अनुमति नहीं है।ÓÓ लंका टीम के कोच मिकी आर्थर ने लॉकडाउन लागू होने के बाद टीम में कई खिलाडिय़ों के लिए होम ट्रेनिंग लागू किया था।


 ट्रेनिंग में गेंदबाजों को मुख्य रूप से शामिल किया गया है, क्योंकि इतने ज्यादा समय के आराम के बाद तैयार होने गेंदबाजों को ज्यादा समय चाहिए होता है।

 सभी खिलाडिय़ों को क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे और टी-20) के लिए टीम में चुना जाएगा।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टी-20 सीरीज रद्द हो सकती है, दो बार यात्रा और क्वारैंटाइन एक बड़ी समस्या

नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच अक्टूबर में होने वाली 3 टी-20 की सीरीज रद्द हो सकती है। टीम इंडिया को दिसंबर-जनवरी में 4 टेस्ट और 3 वनडे खेलने हैं। ऐसे में टीम को 3 महीने में 2 बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा और 2 बार ही 14-14 दिन के लिए क्वारैंटाइन में रहना होगा। यह एक बड़ी समस्या है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने पूरा शेड्यूल तय कर दिया है। इसके मुताबिक, दोनों टीमों के बीच 11, 14 और 17 अक्टूबर को तीन टी-20 मैच होंगे। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया में ही टी-20 वर्ल्ड कप होना है, जिसके टलने की पूरी संभावना है। ऐसे में भारत को वापस लौटना होगा। इसके बाद दूसरी बार भारत ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाएगी और 3 दिसंबर से 4 मैचों की टेस्ट सीरीज शुरू होगी। इस दौरान भारतीय टीम विदेश में अपना पहला डे-नाइट टेस्ट 11 दिसंबर को एडिलेड में खेलेगी। तीसरा टेस्ट 26 दिसंबर और चौथा मैच  3 जनवरी को होगा। इसके बाद 12, 15 और 17 जनवरी को दोनों टीमों के बीच 3 वनडे भी खेले जाने हैं। कोरोना के कारण आईपीएल को अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया है। बीसीसीआई इस लीग को टी-20 वर्ल्ड कप की जगह अक्टूबर-नवंबर में कराने की तैयारी कर रहा है।


 10 जून को आईसीसी वर्ल्ड कप पर अंतिम निर्णय ले सकता है।

स्पेनिश टूर्नामेंट ला लिगा की ट्रेनिंग चौथे चरण में, कल से सभी क्लब के खिलाड़ी टीम के तौर पर प्रैक्टिस कर सकेंगे; लीग 11 जून से शुरू

ट्रेनिंग के पहले चरण में खिलाडिय़ों ने अकेले, दूसरे चरण में 10 साथियों के साथ और तीसरे चरण में 14 की टीम में प्रैक्टिस की थी
कोरोनावायरस के कारण ला लिगा को बीच में रोक दिया था, पिछला मैच 11 मार्च को रियल सोसिडाड और आइबर के बीच हुआ था
नई दिल्ली। स्पेनिश फुटबॉल टूर्नामेंट ला लिगा की ट्रेनिंग चौथे चरण में प्रवेश कर चुकी है। अब सभी क्लब के खिलाड़ी सोमवार से टीम के तौर पर प्रैक्टिस शुरू कर सकेंगे। इस दौरान कोरोनावायरस संक्रमण से बचने के लिए बनी सोशल डिस्टेंसिंग समेत सभी गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा। ला लिगा का यह सीजन कोरोना के कारण बीच में ही रोक दिया गया था। लीग का पिछला मैच 11 मार्च को रियल सोसिडाड और आइबर के बीच हुआ था। अब यह दोबारा से 11 जून से शुरू होने जा रही है। इस सीजन का आखिरी मैच 19 जुलाई को खेला जाएगा।
ट्रेनिंग से पहले खिलाडिय़ों का टेस्ट हुआ
सभी क्लब ने 1 मई से 4 चरणों में प्रैक्टिस शुरू की थी। पहले चरण के तहत खिलाडिय़ों ने अकेले ही अभ्यास किया। प्रैक्टिस शुरू करने से पूर्व खिलाडिय़ों की कोरोना के जांच से गुजरना पड़ा। साथ ही बाहर से आए खिलाडिय़ों को 14 दिन का क्वारैंटाइन में रहना पड़ा।
टीम के साथ मैदान पर उतरेंगे खिलाड़ी
वहीं, दूसरा चरण 18 मई से शुरू हुआ। इसमें खिलाडिय़ों ने 10 के ग्रुप में प्रैक्टिस की। एक हफ्ते बाद तीसरा चरण के तहत 14 खिलाडिय़ों के साथ प्रैक्टिस करने लगे। अब चौथे चरण में टीम के सभी खिलाड़ी एक साथ मैदान में प्रैक्टिस कर सकेंगे।
जर्मनी ने अपनी फुटबॉल लीग बुंदेसलिगा को 16 मई से शुरू कर दिया है। कोरोना के बीच शुरू होने वाली यह यह पहली बड़ी लीग है। वहीं, इंग्लैंड की प्रीमियर लीग (ईपीएल) 17 जून से शुरू होने जा रही है। इटली भी अपनी लीग सीरी-ए को 20 जून से शुरू कर रहा है। जबकि रूस में फुटबॉल अगले महीने से शुरू होंगे। रूस की प्रीमियर लीग एकमात्र फुटबाल टूर्नामेंट है।

जो दर्शकों के साथ होगा।

ब्रिटिश और ऑस्ट्रेलियन ग्रां प्री रद्द, चैम्पियनशिप के 70 साल के इतिहास में पहली बार ब्रिटिश द्वीप समूह में रेस नहीं होगी

नई दिल्ली। कोरोनावायरस की वजह इस साल ब्रिटिश और ऑस्ट्रेलियन मोटो जीपी रेस रद्द कर दी गई। चैम्पियनशिप के 70 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा कि ब्रिटिश आइल्स (जिसमें ग्रेट ब्रिटेन, आयरलैंड, आइल ऑफ मैन और 6 हजार से अधिक छोटे द्वीप समूह शामिल हैं) में रेस नहीं होगी।  ब्रिटिश मोटो जीपी इस साल 28 से 30 अगस्त तक सिल्वरस्टोन सर्किट पर होनी थी। ब्रिटेन में पहली बार 1977 में इसी ट्रैक पर ग्रां प्री रेस की शुरुआत हुई थी। वहीं, ऑस्ट्रेलियन मोटो जीपी इस साल 23 से 25 अक्टूबर तक होनी थी। रेस उसी फिलिप आयलैंड ग्रां प्री सर्किट पर होनी थी। जहां से ऑस्ट्रेलिया में मोटो जीपी की शुरुआत हुई है। 1989 में इसी रेसिंग ट्रैक पर पहली बार रेस हुई थी।  रेस रद्द होने पर सिल्वरस्टोन ट्रैक के एमडी ने कहा- हम ब्रिटिश मोटो जीपी के कैंसिल होने से निराश हैं। लेकिन ऐसे वक्त में यह फैसला लेना जरूरी था। मैं ब्रिटेन के फैंस को उनके संयम और सहयोग के लिए धन्यवाद देता हूं। हम 2021 में जरूर लौटेंगे। तब फैन्स को फिर से सिल्वरस्टोन पर मोटो जीपी रेस देखने का मौका मिलेगा। 
ऑस्ट्रेलियन ग्रां प्री कॉरपोरेशन के चेयरमैन पॉल लिटिल ने कहा कि हम बहुत निराश हैं कि विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मोटो जीपी के प्रशंसकों को सबसे अच्छे सर्किट में से एक पर सबसे अच्छी रेस देखने का मौका नहीं मिलेगा।

 लेकिन इस वक्त रेस को रद्द करना ही सही फैसला है। हम 2021 में शानदार वापसी करेंगे। 

99 दिन बाद 17 जून को इंग्लिश प्रीमियर लीग शुरू होगी, पहले दिन मैनेचेस्टर सिटी और आर्सेनल का मैच होगा

लंदन। इंग्लिश प्रीमियर लीग के फैंस के लिए अच्छी खबर है। 17 जून से लीग शुरू होने जा रही है। 9 मार्च को लीसेस्टर की एस्टन विला पर 4-0 की जीत के बाद ईपीएल में कोई मैच नहीं खेला जा सका था। 99 दिन बाद लीग दोबारा शुरू होगी। गुरुवार को ब्रिटिश मीडिया ने यह जानकारी दी।   लीग के शीर्ष क्लबों की बुधवार को बैठक हुई थी। इसमें टीम ट्रेनिंग के पक्ष में सभी क्लबों ने मतदान किया। गुरुवार को भी क्लबों के बीच लीग को दोबारा शुरू करने और ब्रॉडकास्ट के मामले पर चर्चा हुई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पहले दिन दो मैच खेले जाएंगे। एक में एस्टन विला और शेफील्ड यूनाइडेट और दूसरे में मैनेचेस्टर सिटी का आर्सेनल से मुकाबला होगा।
अब तक प्रीमियर लीग में 12 खिलाड़ी और कोचिंग स्टाफ से जुड़े सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इधर, जर्मनी में बुंदेसलीगा इसी महीने शुरू हुई है। वहीं स्पेनिश फुटबॉल लीग ला लिगा के भी 11 जून से शुरू होने की संभावना है। जब इंग्लिश प्रीमियर लीग को रोका गया था। तब लिवरपूल 2019 की चैम्पियन टीम मैनचेस्टर सिटी से 25 अंक आगे था। ऐसे में लिवरपूल 30 साल बाद चैम्पियन बनने की कगार पर है।

दर्शकों के साथ रूस में अगले महीने से शुरू होगी प्रीमियर लीग, इटली की सीरी-ए खाली स्टेडियम में 20 जून से खेली जाएगी

इंग्लैंड में प्रीमियर लीग का आगाज 17 जून से हो सकता है, यहां 3 महीने बाद फुटबॉल पटरी पर लौटेगी
नई दिल्ली। 
कोरोनावायरस के बीच दुनियाभर में फुटबॉल लीग पटरी पर लौट रही हैं। रूस में दर्शकों के साथ प्रीमियर लीग अगले महीने से शुरू हो जाएगी। वहीं, इटली ने भी अपनी फुटबॉल लीग सीरी-ए को 20 जून से शुरू करने की पूरी तैयारी कर ली है। इसी बीच इंग्लैंड की प्रीमियर लीग (ईपीएल) भी 17 जून से शुरू हो रही है। तीन महीने बाद ईपीएल बगैर दर्शकों के खेली जाएगी। 9 मार्च को लीसेस्टर की एस्टन विला पर 4-0 की जीत के बाद ईपीएल में कोई मैच नहीं खेला जा सका था। 
सभी मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी
रूस अथॉरिटी के मुताबिक, महामारी के खतरे के चलते स्टेडियम की क्षमता के सिर्फ 10 प्रतिशत फैन्स को ही एंट्री दी जाएगी। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम और सभी जरूरी मेडिकल सुविधाएं स्टेडियम में उपलब्ध रहेंगी।
'फैन्स और खिलाडिय़ों के बीच भावनात्मक लगावÓ
रूसी एसोसिएशन ने कहा, ''यदि सभी जरूरी मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध रहें, तो इतनी संख्या (10प्रतिशत) में फैन्स को अनुमति दी जा सकती है।ÓÓ वहीं, डिप्टी प्रधानमंत्री दिमित्री चेर्नीशेंको ने कहा, ''खिलाडिय़ों के लिए फैन्स का समर्थन बहुत जरूरी है। दोनों के बीच भावनात्मक लगाव होता है।ÓÓ
इटली के स्पोर्ट्स मिनिस्टर विंसेंजो स्पाडाफोरा ने कहा कि यूरोप की टॉप-4 घरेलू लीग में शामिल सीरी-ए को 20 जून से शुरू किया जाएगा। 9 मार्च को कोरोनावायरस के कारण लीग को टाल दिया गया था। अब जब जर्मनी में बुंदेसलिगा शुरू हो गई है, तो यह सीरी-ए को भी पटरी पर लाने का सही समय है।
बुंदेसलिगा बगैर दर्शकों के खेली जा रही
इससे पहले 16 मई से जर्मनी की बुंदेसलिगा फुटबॉल लीग को भी शुरू कर दिया गया है। यह बगैर दर्शकों के खेली जा रही है। जबकि पिछले ही महीने फ्रांस की लीग-1 को रद्द कर दिया गया। इसमें पॉइंट टेबल के आधार पर पेरिस सेंट-जर्मेन (पीएसजी) को विजेता घोषित किया गया। लीग के 10 मैच बाकी थे।
युवेंटस अंक तालिका में टॉप पर
सीरी-ए में अभी 12 राउंड के मैच और खेले जाने हैं। वहीं, पिछले राउंड के भी अभी 4 मैच बाकी हैं। फिलहाल, अंक तालिका में युवेंटस 63 पॉइंट के साथ टॉप पर है। युवेंटस ने अब तक सबसे ज्यादा 9 बार सीरी-ए खिताब जीता है।
ईपीएल में लिवरपूल 30 साल बाद चैम्पियन बन सकता है
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ईपीएल में पहले दिन दो मैच खेले जाएंगे। एस्टन विला और शेफील्ड यूनाइडेट और मैनेचेस्टर सिटी और आर्सेनल की बीच मुकाबला होगा। जब इंग्लिश प्रीमियर लीग को रोका गया था। तब लिवरपूल 2019 की चैम्पियन टीम मैनचेस्टर सिटी से 25 अंक आगे था। 

ऐसे में लिवरपूल 30 साल बाद चैम्पियन बनने की कगार पर है।

भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा: 4 टेस्ट की सीरीज का शेड्यूल तय, टीम इंडिया विदेश में अपना पहला डे-नाइट टेस्ट मैच एडिलेड में खेलेगी

भारतीय टीम दिसंबर-जनवरी में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर 4 टेस्ट और 3 वनडे की सीरीज खेलेगी
26 दिसंबर को मेलबर्न में बॉक्सिंग डे और फिर 3 जनवरी को सिडनी में न्यू ईयर टेस्ट खेला जाएगा
मेलबर्न। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भारत के साथ साल के आखिर में होने वाली टेस्ट सीरीज का शेड्यूल तय कर दिया है। हालांकि, इसकी आधिकारिक घोषणा शुक्रवार को हो सकती है। क्रिकेट.कॉम.एयू की रिपोर्ट के मुताबिक, पहला मैच 3 दिसंबर को ब्रिस्बेन में खेला जाएगा। इसके बाद भारतीय टीम विदेश में अपना पहला डे-नाइट टेस्ट खेलेगी, जो 11 दिसंबर को एडिलेड में होगा। भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर 4 टेस्ट और 3 वनडे की सीरीज खेलना है। कोरोना के कारण टीम इंडिया के खिलाडिय़ों को दौरे पर 14 दिन खुद को आइसोलेशन में रखना होगा, जिसकी बीसीसीआई ने अनुमति दे दी है। हालांकि, वनडे सीरीज के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है।
26 दिसंबर को होगा बॉक्सिंग डे टेस्ट
दोनों देशों के बीच 26 दिसंबर को मेलबर्न में बॉक्सिंग डे टेस्ट भी खेला जाएगा। इसके बाद 3 जनवरी को सिडनी में न्यू ईयर टेस्ट खेला जाएगा। दरअसल, क्रिसमस के अगले दिन 26 दिसंबर को होने वाले मैच को बॉक्सिंग डे टेस्ट कहा जाता है। जबकि साल का पहला मैच न्यू ईयर टेस्ट कहलाता है।
टीम इंडिया अपना दूसरा डे-नाइट टेस्ट खेलेगी
भारतीय टीम एडिलेड में अपना दूसरा और विदेश में पहला डे-नाइट टेस्ट खेलेगी। टीम इंडिया ने अपना पहला डे-नाइट टेस्ट बांग्लादेश के खिलाफ 22 नवंबर 2019 को कोलकाता में खेला था। इस मैच में भारत ने पारी और 46 रन से जीता था।
रिपोर्ट के मुताबिक, सीए ने कहा कि टेस्ट सीरीज के लिए शेड्यूल तय करना जरूरी था। हालांकि, यह सीरीज होगी या नहीं, तब अक्टूबर-नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में कोरोना की परिस्थिति पर निर्भर करेगा। पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि यह सभी टेस्ट एक ही मैदान पर हो सकते हैं, लेकिन अभी ऐसा नहीं है। 

यह फैसला उसी समय लिया जाएगा, जब परिस्थित नियंत्रण से बाहर होगी।