Updated -

नेशनल कबड्डी की प्लेयर ने कोच पर लगाया दुष्कर्म करने का आरोप,  कोच ने स्वंय को स्टेडियम का प्रशासक बताया

नई दिल्ली

एक नेशनल कबड्डी की खिलाड़ी से दुष्कर्म करने का मामला सामने आया हैं। कथित तौर पर ऐसी निच हरकत करने वाला आरोपी कोच हैं जिसे दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया हैं। एक समाचार पत्र की मानें तो  दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार कोच पहलवान भी हैं। हालांकि, उसके पहलवान होने के आधिकारिक पुष्टि अभी नहीं हो पाई हैं। 

दिल्ली की एक जूनियर नेशनल कबड्डी खिलाड़ी ने आरोप लगाते हुए कहा कि मै 9 जुलाई को छत्रसाल स्टेडियम गई थी। वहां एक शख्स से उसकी मुलाकात हुई जो स्वंय को स्टेडियम का प्रशासक और कोच बता रहा था। पीड़ित खिलाड़ी के मुताबिक उस तीस वर्ष के शख्स ने अपने आप को कोच बताते हुऐ ट्रेनिंग देने की बात कही और बाद में वह घुमाने के बहाने से अपनी कार में बैठा लिया। खिलाड़ी ने बताया कि गाडी में उसने मेरी गर्दन पर घूंसा मारा, जिससे बेहोश हो गई। इसके बाद आरोपी ने उसे अंजान घर पर ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।


कथित तौर पर आरोपी ने पीड़ित प्लेयर को दुसरे दिन रास्ते मे छोड़ दिया और वारदात के बारे में बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी। घटना को सप्ताह ​बीतने के बाद पीड़िता ने मॉडल टाउन थाने में जाकर शिकायत दर्ज करवायी। पुलिस ने पीड़िता के बयान पर आरोपी के खिलाफ पॉक्सो कानून के तहत भी केस दर्ज कर लिया।

मिताली राज से वीरेंद्र सहवाग तक सब ने दी विस्फोटक सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना को जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रो कबड्डी लीग में नई टीमें हुई शामिल, स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी लीग का नया अवतार होगा लांच   

नई दिल्ली

आगामी प्रो कबड्डी लीग को अब नये अवतार देख सकेंगे। स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी लीग के 
आगामी पांचवें सीजन में चार नई टीमें भी हिस्सा लेंगी। वर्ष 2014 से प्रारंभ हुई प्रो कबड्डी ने पीछले चार लीग में ​बहुत नाम कमाया हैं। इस खेल में चार नई टीमें शामिल होने के बाद कुल ग्यारह राज्यों की टीमें होंगी।
 

गौरतलब है कि आगामी प्रो कबड्डी लीग में करीब 130 मैच होंगे। पहले खेल चुकी आठ टीमों के अलावा इसमें गुजरात, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और हरियाणा की टीमें जोड़ी गई हैं। यह लीग लगभग तीन माह तक चलेगी और सभी मैच अलग—अलग शहरों में होंगे। 


इन टूर्नामेंटों को पहला मैच तेलुगु टाइटंस और तमिलनाडु की नई टीम तमिल तलाइवा के बीच खेला जाएगा।  नए प्रणाली केे मुताबिक प्रत्येक जोन के अंदर हर टीम कुल 15 मैच खीलायें जायेंगे और दोनों जोन की टीमें एक-दूसरे के साथ एक-एक मैच खेलेंगी।

टीमें इस प्रकार हैं-
जोन-ए: दबंग दिल्ली, जयपुर पिंक पैंथर्स, पुणेरी पल्टन, यू मुम्बा, हरियाणा स्टीलर्स और गुजरात फॉर्चुन जाइंट्स।

जोन-बी: तेलुगु टाइटंस, बेंगलूरु बुल्स, पटना पाइरेट्स, बंगाल वारियर्स, यूपी योद्धा और तमिल तलाइवा।


 

महिला क्रिकेट टीम: मिताली ने रचा इतिहास, सबसे ज्यादा रन बनाने वाली बल्लेबाज


मुंबई।

आज के इस आधुनिक युग में ल​डकियां भी लड़कों से कम नहीं है लेकिन लोगों की सोच में अभी भी कुछ हद तक बदलाव की आवश्यकता है। लडकियां कम नहीं है इसकी एक मिशाल है भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज। भारतीय महिला टीम और ओस्ट्रेलिया के बीच हो रहे मुकाबले मे मिताली ने अपना नाम इतिहास में शुमार ​कर लिया है। बता दें कि अब मिताली वनडे क्रिकेट मुकाबलों में सबसे अधिक रन बनाने के मामले में पहले पायदान पर पहुंच गई है। कप्तान मिताली राज ने पहले स्थान पर पहुंचते हुए इंग्लैंड की महिला बल्लेबाज चार्लोट एडवर्ड्स को पीछे छोड़ दिया है, चार्लोट ने अपने नाम 5,992 रन दर्ज कर रखे थे। कप्तान राज ने 51.83 की रन रेट से 6,061 रन बनाए हैं। उनका वनडे में सवार्धिक स्कोर 114 रन नॉट आउट है। 

पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का कर्ज चु​काया कप्तान विराट कोहली ने 

जयपुर
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने धीमी बल्लेबाजी की वजह से आलोचना झेल रहे पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को बचाने के लिए  धोनी का तीन साल पुराना कर्ज उतार दिया है। भारत के पांचवां वनडे जीतने और सीरीज 3-1 से अपने नाम करने के बाद संवाददाता सम्मेलन में धोनी का बचाव करते हुए विराट कोहली बोले कि वह उन्हें लेकर कतई चिंतित नहीं हैं।

विराट कोहली ने महेन्द्र सिंह धोनी के बारे में पूछे जाने पर बताया की “मुझे लगता है कि हम एकाध मैच के बाद धैर्य खो बैठते हैं। ऐसा किसी के साथ भी हो सकता है। कोई भी बल्लेबाज संघर्ष कर सकता है और कोई भी बल्लेबाज क्रीज़ पर अटक सकता है और स्ट्राइक रोटेट नहीं कर पाता है।” धोनी ने चौथे वनडे में बेहद धीमे तरीके से अर्धशतक बनाया था और उनके लगभग 50 ओवर तक क्रीज़ पर रहने के बावजूद भारत 190 रन का लक्ष्य हासिल नहीं कर पाया था। धोनी ने आश्चर्यजनक रूप से 114 गेंदों पर 54 रन की पारी खेली थी जबकि वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर माने जाते हैं।

 

अगस्त में होने वाली विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के लिए भारत के 16 पहलवान तैयार 


सोनीपत

पेरिस में 21 से 26 अगस्त तक होने वाली सीनियर विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के लिए गुरुवार को सोलह भारतीय पहलवानों को चयन किया गया। चयन के लिए हुये ट्रायल में फ्रीस्टाइल और ग्रीको रोमन के लिए आठ-आठ पहलवानों का चयन किया गया।

भारतीय खेल प्राधिकरण में हुए ट्रायल में 32 पहलवानों ने भाग लिया, 32 पहलवानों में से 16 पहलवान सफल हुऐ। चयन प्रक्रिया के ट्रायल के समय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह, ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार, मुख्य कुश्ती कोच कुलदीप सिंह, कोच वीरेंद्र मलिक, कोच जगमेंद्र सिंह मौजूद थे।


165 किग्रा भार वर्ग में खेलने वाले पहलवान बजरंग पूनिया के लिए फाइनल ट्रायल 12 जुलाई को हो सकता ​हैं। कोच कुलदीप सिंह ने बताया कि बजंरग को वायरल बुखार होने के कारण ट्रायल में भाग नहीं ले सके। 


चयनीत पहलवान

फ्रीस्टाइल: संदीप तोमर (बागपत, उप्र, 57 किग्रा), हरफूल (सोनीपत, हरियाणा, 61 किग्रा), राहुल मान (दिल्ली, 65 किग्रा), अमित धनखड़ (रोहतक, हरियाणा, 70 किग्रा), प्रवीन राणा (दिल्ली, 74 किग्रा), दीपक (सोनीपत, हरियाणा, 86 किग्रा), सत्यव्रत (रोहतक, हरियाणा, 97), सुमित (रेलवे, 125 किग्रा)

ग्रीको रोमन: ज्ञानेंद्र (सोनीपत, हरियाणा, 59 किग्रा), रवींद्र (झज्जर, हरियाणा, 66 किग्रा), योगेश (भिवानी, हरियाणा, 71 किग्रा), गुरप्रीत सिंह (पंजाब, 75 किग्रा), हरप्रीत सिंह (पंजाब, 80 किग्रा), रवींद्र खत्री (झज्जर, हरियाणा, 85 किग्रा), हरदीप (जींद, हरियाणा, 98 किग्रा), नवीन (सोनीपत, हरियाणा, 130 किग्रा)।

आखिरी बार अपने पोते से मिलना चहाते है दादा, जानिए क्यों और किसके?

नई दिल्ली।

भारतीय टीम के साइनिंग स्टार व गेंदबाज जसप्रीत बुमराह आईसीसी टी-20 रैंकिंग के मामले में दुनिया के नंबर-2 गेंदबाज बन गये हैं। जसप्रीत के भविष्य को अगर देखा जाए तो यह उनके लिए बेहद खुशी की बात है परंतु इससे भी अधिक दुख की बात यह है कि बुमराह का परिवार इस वक्त उत्तराखंड के उधमसिंहनगर में बहुत ही खराब हालत में अपना जीवन गुजार रहा है। बुमराह के दादा सतोष सिंह बुमराह की उम्र 84 वर्ष हैं परंतु अपने दूसरे दिव्यांग बेटे का पालन—पोषण करने के लिए उन्हें ऑटो चलाना पड़ता है।

जानकारी के अनुसार जसप्रीत के दादा संतोष सिंह बुमराह उधमसिंह नगर के किच्छा में एक छोटे से मकान में किराये में अपना जीवन यापन कर रहे हैं। इसकी वजह है, जसप्रीत के पिता की कुछ साल पहले मौत हो गई  थी और तभी से उनकी हालत दिन—ब—दिन खराब होती ही जा रही है। सूत्रों के अनुसार बुमाराह के दादा के पास पहले तीन फैक्ट्रीयां थी मगर सब खत्म हो गया।


रुआसा होते हुए बुमराह के दादा ने बताया कि 
मेरे बेटे की मत्यु के उपरांत से ही हमारा बुरा वक्त शुरु है और तभी से हमारा परिवार संकट में है। हमें बैंकों से लिए गए लोन्स को चुकाने के लिए तीनों ही फैक्ट्रियां बेचनी पड़ी। इसके साथ ही परिवार के ही कुछ कारणों की वजह से  जसप्रीत व उसकी मां हमें यहां अकेले छोड़कर चले गए। अब जसप्रीत के दादा की बस एक ही आखिरी ख्वाहिश है कि मरते—मरते एक बार अपने पोते से मिल ले। इसके साथ उन्हें पूरी आशा है कि एक दिन जसप्रीत उनसे मिलने जरुर आएगा।

भारतीय टीम को मिलेगा 10 जुलाई को नया कोच

जयपुर

भारत की टीम के कप्तान विराट कोहली के साथ आपसी मतभेद के कारण से अनिल कुंबले ने कोच के पद से इस्तीफा दे दिया है। इस इस्तीफे के बाद क्रिकेट जगत में एक बड़ा सवाल पैदा हो गया है कि अब टीम इंडिया को नया कोच कब मिलेगा और कौन होगा? इसी सवाल का उत्तर देते हुए सौरव गांगुली ने 10 जुलाई को इटंरव्यू लेने के संकेत दिए है। क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) के सदस्य सौरव गांगुली ने बोले की टीम इंड़िय के नए कोच का चयन करने के लिए साक्षात्कार 10 जुलाई को मुंबई में होंगे। 3 सदस्यीय सीएसी में इस पूर्व कप्तान के अलावा सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण शामिल हैं।   

10 जुलाई को होगा मुंबई में इटंरव्यू

सोरव गांगुली ने लार्ड्स में 3 जुलाई और 4 जुलाई को होने वाली एमसीसी विश्व क्रिकेट समिति की बैठक में भाग लेने के लिए लंदन रवाना होने से पहले पत्रकारों को बताया कि साक्षात्कार 10 जुलाई को मुंबई में होंगे। कोच पद के लिये आवेदन करने की आखिरी दिंनाक  9 जुलाई है। 

सोरव गांगुली ने सदस्यों से कहा, एजीएम नहीं कर सकता कैब   

बंगाल क्रिकेट संघ यानी (कैब) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने आज अपने सदस्यों से बोले कि लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लेकर स्पष्टता के अभाव की वजह से संस्था इस महीने के अंत में होने वाली एजीएम नहीं कर सकती। इस पूर्व भारतीय कप्तान आपात बैठक के बाद पत्रकारों को बताया कि कुछ पता नहीं है कि आगे क्या हो सकता है। हमें उच्चतम न्यायालय की सुनवाई (14 जुलाई) के लिये सभर करना होगा। बैठक में हिस्सा लेने वाले कैब के वकील उषानाथ बनर्जी ने कहा कि संघ वार्षिक आम बैठक आयोजित नहीं कर सकता क्योंकि उच्चतम न्यायालय के समक्ष कुछ मसले लंबित हैं। सोरव गांगुली ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के अनुसार संशोधन प्रभावी होने तक एजीएम का आयोजन गलत और गैरकानूनी होगा।

विंड़ीज को पछाड़कर सीरीज जीतना चाहेगी भारतीय टीम

जयपुर

भारत की टीम रविवार को चौथे वन-डे में विंड़ीज को पछाड़कर पांच मैचों की सीरीज अपने नाम करना चाहेगी ताकि आखिरी मुकाबला औपचारिकता रह जाए।  विराट कोहली के नेतृत्व वाली भारतीय टीम एक साथ पांचवीं वन-डे सीरीज जीतना चाहती है। सीरीज का पहला मैच बरसात के भेढ़ चढ़ गया था। बाद में दूसरे और तीसरे मैचों में आसान सी जीत के बाद विराट कोहली की अगुआई वाली टीम को रविवार को होने वाले मुकाबले में भी जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है।

इिंडीया ने अब तक दो मैचों में क्रमश: 105 और 93 रन से जीत अपने नाम की है जो सीरीज में टीम इंडिया के दबदबे को पेश करता है। वेस्टइंडीज के स्तर को देखते हुए 4-0 की जीत भी विराट कोहली की टीम की काफी तारीफ  हुई।

भारत ने क्रिकेट के तीनों विभागों में वेस्टइंडीज को मात दी है। भारतीय बल्लेबाजों ने प्रभावी प्रदर्शन किया है जबकि गेंदबाजों में भी अनुशासन देखने को मिला है। अजिंक्य रहाणे ने 62, 103 और 72 रन की पारियां खेलकर मौके पर चौका लगाया। बेहतरीन फॉर्म में चल रहे शिखर धवन हालांकि तीसरे मैच में नही रहे, लेकिन अब तक उन्होंने प्रभावित किया है। विराट कोहली के प्रदर्शन में हर बार की तरह निरंतरता है, जबकि तीसरे मैच में मध्यक्रम को भी अपने हाथ दिखाने का मौका मिला।

शिखर धवन और कप्तान विराट कोहली के जल्द पवेलियन लौटने के बाद कुछ दबदबा था, लेकिन महेंद्र सिंह धोनी ने नाबाद पारी खेल 78 रन के दौरान एंकर की भूमिका निभाई। युवराज सिंह के पास बड़ी पारी खेलने का मौका था, लेकिन 39 रन की पारी से उनका भरोसा भी बढ़ा होगा। केदार जाधव ने भी मौके का फायदा उठाते हुए 26 गेंद में नाबाद पारी खेल 40 रन बनाऐ, जिससे भारत मुश्किल पिच पर 250 रन के स्कोर को पार करने में सफल रहा। भारतीय टीम ज्यादाता समय हावी रही जबकि जेसन होल्डर की अगुआई वाली टीम के पास भारतीय बल्लेबाजों और गेंदबाजों का कोई जवाब नहीं था। भारत के 252 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए वेस्टइंडीज की टीम 38।1 ओवर में 158 रन  पर ही ढेर हो गई।
 

पहलवान सुशील को पर्यवेक्षक नियुक्त करने का नरसिंह ने किया विरोध

 

मुंबई। इंडिया की झोली में वर्ष 2016 के ओलंपिक से दो पदक डालने वाले पहलवान सुशील कुमार भारत के उन 14 ओलंपियन में से है, जिन्हें खेल मंत्री ने साल 2018 में अपने —अपने स्पोर्टस का राष्ट्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिया था। खेल मंत्री के इसी फैसले के एक छाटे से भाग का डोपिंग टेस्ट में फेल हाने के कारण ओलंपिक से बाहर हुए पहलवान नरसिंह यादव ने विरोध जताया हैं। आपकों बता दें कि इसका विरोध करते हुए यादव ने खेल मंत्रालय को चिट्ठी भी लिखी है। उन्होंने लिखा है कि मंत्रालय के द्वारा ऐसा करने से हितों के टकराव उत्पन्न होते है।


सूूत्रों के मुताबिक भारतीय पहलवान नरसिंह यादव के द्वारा खेल मंत्रालय को चिठ्ठी पिछले सप्ताह ही लिख दी थी। यादव ने मंत्रालय से यह प्रश्न भी पूछा था कि सुशील कुमार को पर्यवेक्षक कैसे नियुक्त किया जा स​कता हैं? मंत्रालय के द्वारा ऐसा करने से हितों में टकराव आते है।

'चैंपियन्स ट्राफी में भारत का अन्य टीमों पर पलड़ा भारी

चेन्नई (एजेंसी)। आस्ट्रेलिया के दिग्गज तेज गेंदबाज ग्लेन मैकग्रा ने कहा कि तेज और स्पिन मिश्रित आक्रमण के कारण भारत का आईसीसी चैंपियन्स ट्राफी में अन्य टीमों पर थोड़ा पलड़ा भारी है।  यह 47 वर्षीय आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी एमआरएफ पेस फाउंडेशन में प्रशिक्षण देने के लिये यहां आया है।  उन्होंने कहा कि भारतीय गेंदबाजों ने पिछले 2-3 वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया है। भारत के पास अभी सबसे दमदार आक्रमण है तथा तेज स्पिन मिश्रित आक्रमण से उसका अन्य टीमों पर पलड़ा भारी रहेगा।मैकग्रा का मानना है भारत का पाकिस्तान के खिलाफ अपने शुरूआती मैच में पलड़ा भारी रहेगा हालांकि उन्होंने पाकिस्तान की संभावना से भी इन्कार नहीं किया है।  उन्होंने कहा कि जब भी भारत और पाकिस्तान का मैच होता है तो यह बड़ा मुकाबला होता है। हालांकि वे अब पहले की तरह एक जैसी मजबूत टीमें नहीं है लेकिन पाकिस्तान के पास अब भी कुछ अच्छे गेंदबाज और अनुभवी बल्लेबाज हैं। जब पाकिस्तान का दिन होता है तो वह कुछ भी कर सकता है।  मैकग्रा ने कहा कि भारत इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंच सकता है।
उन्होंने कहा कि भारत एक अच्छी वनडे टीम है और उनसे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के साथ उसे शीर्ष 4 में शामिल होना चाहिए। चौथी टीम दक्षिण अफ्रीका या न्यूजीलैंड में से कोई एक होगी। मैकग्रा ने भारतीय तेज गेंदबाजों विशेषकर जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव की तारीफ की।  उन्होंने कहा कि मैं भारतीय गेंदबाजों से प्रभावित हूं। उमेश अच्छी गेंदबाजी कर रहा है। बुमराह वनडे का अच्छा गेंदबाज है। वह जिस तरह से डेथ ओवरों में गेंदबाजी करता है वह प्रभावशाली है। वह अच्छी लेंथ और अच्छी तेजी से गेंदबाजी करता है। बुमराह कभी कभी यार्कर भी करता है। उम्मीद है कि वह सुधार जारी रखेगा। 

'चैंपियन्स ट्राफी में भारत का अन्य टीमों पर पलड़ा भारी

चेन्नई (एजेंसी)। आस्ट्रेलिया के दिग्गज तेज गेंदबाज ग्लेन मैकग्रा ने कहा कि तेज और स्पिन मिश्रित आक्रमण के कारण भारत का आईसीसी चैंपियन्स ट्राफी में अन्य टीमों पर थोड़ा पलड़ा भारी है।  यह 47 वर्षीय आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी एमआरएफ पेस फाउंडेशन में प्रशिक्षण देने के लिये यहां आया है।  उन्होंने कहा कि भारतीय गेंदबाजों ने पिछले 2-3 वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया है। भारत के पास अभी सबसे दमदार आक्रमण है तथा तेज स्पिन मिश्रित आक्रमण से उसका अन्य टीमों पर पलड़ा भारी रहेगा।मैकग्रा का मानना है भारत का पाकिस्तान के खिलाफ अपने शुरूआती मैच में पलड़ा भारी रहेगा हालांकि उन्होंने पाकिस्तान की संभावना से भी इन्कार नहीं किया है।  उन्होंने कहा कि जब भी भारत और पाकिस्तान का मैच होता है तो यह बड़ा मुकाबला होता है। हालांकि वे अब पहले की तरह एक जैसी मजबूत टीमें नहीं है लेकिन पाकिस्तान के पास अब भी कुछ अच्छे गेंदबाज और अनुभवी बल्लेबाज हैं। जब पाकिस्तान का दिन होता है तो वह कुछ भी कर सकता है।  मैकग्रा ने कहा कि भारत इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंच सकता है।
उन्होंने कहा कि भारत एक अच्छी वनडे टीम है और उनसे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के साथ उसे शीर्ष 4 में शामिल होना चाहिए। चौथी टीम दक्षिण अफ्रीका या न्यूजीलैंड में से कोई एक होगी। मैकग्रा ने भारतीय तेज गेंदबाजों विशेषकर जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव की तारीफ की।  उन्होंने कहा कि मैं भारतीय गेंदबाजों से प्रभावित हूं। उमेश अच्छी गेंदबाजी कर रहा है। बुमराह वनडे का अच्छा गेंदबाज है। वह जिस तरह से डेथ ओवरों में गेंदबाजी करता है वह प्रभावशाली है। वह अच्छी लेंथ और अच्छी तेजी से गेंदबाजी करता है। बुमराह कभी कभी यार्कर भी करता है। उम्मीद है कि वह सुधार जारी रखेगा। 

भारत चैम्पियंस ट्राफी बरकरार रख सकता है: संगकारा

लंदन (एजेंसी)। श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा ने मंगलवार को कहा कि गत चैम्पियंन भारत में चैचैम्पियंस ट्राफी खिताब बरकरार रखने की क्षमता है क्योंकि उनकी टीम काफी संतुलित है जिसमें उनकी तेज गेंदबाजी में काफी आक्रामकता है। संगकारा ने आईसीसी वेबसाइट में अपने कालम में लिखा कि इस साल टूर्नामेंट में चार एशियाई टीमें खेल रही हैं और स्पष्ट रूप से इसमें भारत इस क्षेत्र से शीर्ष पर है। इसने 2013 में खिताब जीता था और उनकी टीम इस साल भी ट्राफी जीतने की काबिलियत रखती है। उन्होंने लिखा कि बल्कि, टीम यकीनन मजबूत और बेहतर रूप से संतुलित है जिसकी तेज गेंदबाजी में काफी धार है। इसमें स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा वनडे क्रिकेट में लाजवाब हैं और मुझे पूरा भरोसा है कि विराट कोहली भी निराशाजनक आईपीएल के बाद वापसी करने के लिये बेकरार होंगे।  इस विकेटकीपर बल्लेबाज को हालांकि लगता है कि भारत का चयन ‘थोड़ा परंपरागत’ था।   इस 39 वर्षीय ने कहा, ‘‘भारत के लिये थोड़ी सी चिंता यह है कि उनका चयन शायद थोड़ा परंपरागत था, लेकिन फिर भी यह काफी मजबूत टीम हैं। संगकारा ने भारत को एक जून से शुरू होने वाले आगामी टूर्नामैंट के सेमीफाइनल में जगह बनाने के लिए भारत को अपनी प्रबल दावेदार टीमों में से एक करार दिया।   उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि फाइनल में पहुंचने वाली टीम चुनना काफी कठिन है, लेकिन सेमीफाइनल के लिए प्रबल दावेदारों में मेरी टीमें आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत और दक्षिण अफ्रीका होगी। 

हमीरपुर में 22 से 25 जून तक ‘स्टेट ओलंपिक गेम्स’ का आयोजन

नई दिल्ली (एजेंसी)। हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले में आगामी 22 से 25 जून तक 4 दिवसीय स्टेट ओलंपिक गेम्स का आयोजन होने जा रहा है. प्रेस क्लब शिमला में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान हिमाचल प्रदेश ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने इसकी जानकारी. नेशनल और इंटरनेशनल ओलंपिक गेम्स की तर्ज पर इन खेलों के लिए एसोसिएशन ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं. अनुराग ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश ओलंपिक संघ हिमाचल प्रदेश में ऐतिहासिक स्टेट ओलंपिक गेम्स का आयोजन करने जा रहा है. इस प्रतियोगिता मेें ओलंपिक गेम्स के अंतर्गत आने वाले खेलों को आगे बढ़ाने के लिए बड़ा प्रयास किया जाएगा।

स्तोसूर ने दी आस्ट्रेलियन ओपन बहिष्कार की धमकी

पेरिस (एजेंसी)। आस्ट्रेलिया की नंबर एक महिला टेनिस खिलाड़ी सामंथा स्तोसुर ने मेलबोर्न पार्क स्टेडियम का नाम मार्गेट कोर्ट किए जाने पर नाराजगी जताते हुए अगले वर्ष आस्ट्रेलिया ओपन का बहिष्कार किए जाने की धमकी दी है।   दरअसल आस्ट्रेलिया की पूर्व दिग्गज खिलाड़ी स्तोसुर 24 बार की ग्रैंड स्लेम विजेता और वर्तमान में मंत्री मार्गेट के समलैंगिक विवाह का विरोध करने के कारण उनसे नाराका हैं। पूर्व टेनिस खिलाड़ी ने पिछले सप्ताह यह कहकर तूफान मचा दिया था कि वह कंटास विमामन सेवा में उड़ान नहीं भरेंगी क्योंकि यह विमान सेवा समलैंगिक विवाह का समर्थन करती है।  74 वर्षीय मार्गेट के इस बयान की बाद में 18 ग्रैंड स्लेम विजेता मार्टिना नवरातोलिवोआ ने आलोचना की थी और कहा था कि टेनिस कोर्ट का नाम बदलकर मेलबोर्न पार्क कर देना चाहिए।  उल्लेखनीय है कि आस्ट्रेलिया में समलैंगिक विवाह को मान्यता मिलना बाकी है और इसे बड़ी संख्या में यहां समर्थन प्राप्त है।  पूर्व यूएस चैंपियन 33 वर्षीय स्तोसुर ने कहा कि उन्हें संदेह है कि कोर्ट के नाम में परिवर्तन होगा लेकिन यदि ऐसा नहीं होता तो खिलाड़ी अगले वर्ष आस्ट्रेलियन ओपन टूर्नामेंट का बहिष्कार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि कोर्ट का नाम मार्गेट के नाम पर इसलिए रखा गया कि उन्होंने टेनिस के लिए बहुत कुछ किया था लेकिन अब वह जब इस तरह के बचकाने बयान दे रही हैं तो उनके नाम पर इस कोर्ट का नाम रखे जाने का कोई औचित्य नहीं है।

भारत को दूसरा झटका, रोहित के बाद रहाणे भी लौटे

नई दिल्ली (एजेंंसी)। चैंपियंस ट्रॉफी से पहले खेले जा रहे छठे वॉर्मअप मैच में मंगलवार को भारत और बांग्लादेश की टीमें लंदन के ओवल स्टेडियम में आमने सामने थीं। टीम इंडिया ने बांग्लादेश के खिलाफ 6.1 ओवर में 2 विकेट खोकर 21 रन बना लिए हैं। शिखर धवन (4) और दिनेश कार्तिक (0) क्रीज पर हैं। इससे पहले बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और टीम इंडिया को पहले बल्लेबाजी करने का न्योता दिया।
वॉर्मअप मैच का नियम : दोनों टीमें 15 खिलाडिय़ों से फील्डिंग करा सकती है, लेकिन सिर्फ 11 खिलाड़ी ही गेंदबाजी और बल्लेबाजी कर सकते हैं। आखिरी बार जब दोनों टीमें रंगीन जर्सी में आमने सामने थी तो एक धमाकेदार मुकाबला देखने को मिला था. 23 मार्च 2016 को टी20 विश्व कप के 25वें मैच में टीम इंडिया ने बांग्लादेश को सिर्फ एक रन से हराकर तहलका मचा दिया था. बेंगलुरु के चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला गया यह मैच एक यादगार मुकाबला बन चुका है. जब ये दोनों टीमें एक बार फिर एक दूसरे से भिड़ेंगी तो रोमांच कई गुना बढ़ जाएगा।

टेस्ट क्रिकेट में मैने तुम्हे आउट किया है, धोनी ने पीटरसन की खिंचाई की


पुणे। महेंद्र सिंह धोनी को भले ही मैदान पर शांतचित्त रहने के लिये जाना जाता हो लेकिन आईपीएल के अपने पूर्व साथी केविन पीटरसन की उन्होंने खिंचाई कर दी। राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स और मुंबई इंडियंस के बीच मैच के दौरान पीटरसन माइक पर पहली स्लिप में खड़े मनोज तिवारी से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि धोनी से कहना कि वह उनसे बेहतर गोल्फ खेलते हैं। मनोज ने एक गेंद के बाद धोनी से यह बात कही। उसने कहा, ''पीटरसन कह रहा है कि वो आपसे अच्छा गोल्फर है।’’ इस पर धोनी माइक के पास आकर बोले, ''लेकिन टेस्ट क्रिकेट में तुम मेरा एकमात्र विकेट हो।’’ धोनी ने 2011 में इंग्लैंड के खिलाफ लार्डस टेस्ट पर गेंदबाजी की थी जब जहीर खान की मांसपेशी में खिंचाव आ गया था। धोनी ने पीटरसन को आउट किया लेकिन डीआरएस ने वह फैसला बदल दिया था। इसके बाद धोनी ने फिर टेस्ट में गेंदबाजी नहीं की।
 

पेस डेविस कप टीम से बाहर, 27 साल का सफर थमा


बेंगलुरू। दिग्गज टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस को 27 साल में पहली बार भारत की डेविस कप टीम से बाहर कर दिया गया क्योंकि गैर खिलाड़ी कप्तान महेश भूपति ने उज्बेकिस्तान के खिलाफ शुरू होने वाले एशिया ओसियाना मुकाबले के लिये रोहन बोपन्ना को चुना है। बोपन्ना दूसरे दौर के युगल मैच में श्रीराम बालाजी के साथ जोड़ी बनायेंगे और केएसएलटीए में फारूख दुस्तोव और संजार फायजीव की जोड़ी से भिड़ेंगे। बोपन्ना विश्व रैंकिंग में 24वें स्थान पर हैं, वह ओलंपिक पदकधारी और कई ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुके पेस (53वें स्थान) से 29 पायदान उपर हैं। रामकुमार रामनाथन चोटिल युकी भांबरी की जगह भारत की एकल चुनौती की अगुवाई करेंगे। रामनाथन शुक्रवार को पहले एकल मैच में तैमूर इस्माइलोव का सामना करेंगे। चोटिल भांबरी की जगह लेने वाले प्रजनेश गुणेश्वरन की भिड़ंत दूसरे एकल मैच में फायजीव से होगी। रविवार को होने वाले उलट एकल में रामनाथन का सामना फायजीव से जबकि गुणेश्वरन की भिड़ंत अंतिम मैच में इस्माइलोव से होगी। भूपति ने पेस के बजाय बोपन्ना को चुनने के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि बेंगलुरू का यह खिलाड़ी अच्छी सर्विस कर रहा है और उसने साल की शुरूआत भी बढ़िया की है। भूपति ने कहा, ‘‘हां, जैसा कि मैंने कहा कि हालात निश्चित रूप से काफी तेज होंगे। रोहन अच्छी सर्विस कर रहा है। इस फैसले का आधार यही था।' पेस ने 1990 में जयपुर में जापान के खिलाफ डेविस कप में पदार्पण किया था। उन्हें फार्म के आधार पर करीब तीन दशकों में पहली बार डेविस कप टीम से बाहर किया गया। पेस ने अभी तक डेविस कप में 42 युगल मुकाबले जीते हैं और वह इटली के दिग्गज निको पीटरांजेली की बराबरी पर हैं। उन्हें डेविस कप इतिहास में सर्वाधिक युगल मैच जीतने का रिकार्ड बनाने के लिये केवल एक जीत की दरकार है। भूपति ने कहा कि एक समय उनके युगल जोड़ीदार रह चुके खिलाड़ी को बाहर रखने का फैसला काफी कठिन था। उन्होंने कहा, ‘‘यह कठिन था इसलिये यह अंतिम समय में किया गया। मैं शुरू से ही स्पष्ट था कि मैं तीन एकल खिलाड़ियों के विकल्प के साथ ही खेलना चाहता था क्योंकि दो खिलाड़ी डेविस कप में नहीं खेले हैं इसलिये दो युगल विशेषज्ञ खिलाड़ियों के साथ खेलना थोड़ा जोखिम भरी स्थिति होती।’’ भूपति ने कहा कि टीम के अन्य खिलाड़ियों ने पेस से ज्यादा अभ्यास किया था। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि ये लड़के रविवार से यहां हैं। हमने रोहन और बाला के साथ कई सेट खेले हैं। ये प्रत्येक दिन तीन सेट खेलते हैं। दुर्भाग्य से लिएंडर कल ही यहां आया और उसने तीन गेम खेले और यहां बारिश शुरू हो गयी।’’ यह पूछने पर कि पेस अगर शुरू में जुड़ जाते तो उन्हें मौका मिलता, तो भूपति ने कहा, ‘‘अगर मुझे रविवार और सोमवार तक पूरी टीम मिली होती तो मेरे पास फैसला करने का शायद और ज्यादा समय होता।’’ भूपति से जब पूछा गया कि क्या पेस का सफर खत्म हो गया तो भूपति ने नकारात्मक जवाब दिया। उन्होंने कहा, ‘‘बिलकुल नहीं। मैंने सभी को जिसमें लिएंडर भी शामिल हैं को बता दिया कि इसका मतलब यह नहीं है कि उसका सफर खत्म हो गया है। उसकी टीम में उपस्थिति ही अहम है, वह जितना अनुभव और ऊर्जा डेविस कप में लाता है, वह शानदार है।''

भारत पिछले 20 साल में फीफा की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग पर

नयी दिल्ली। कंबोडिया और म्यांमा के खिलाफ हाल में सकारात्मक परिणाम हासिल करने के दम पर भारतीय फुटबाल टीम फीफा की ताजा विश्व रैंकिंग में लंबी छलांग लगाकर 101वें स्थान पर पहुंच गयी है जो पिछले 20 से अधिक वर्षों में उसकी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग हैं। भारत पिछले महीने तक 132वें स्थान पर था लेकिन कंबोडिया के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैच में 3-2 और म्यांमा के खिलाफ एएफसी एशिया कप क्वालीफायर में 1-0 की जीत से वह 31 पायदान की लंबी छलांग लगाने में सफल रहा। इससे भारत दो दशक के बाद पहली बार शीर्ष 100 में जगह बनाने के करीब पहुंच गया है। भारत की सर्वश्रेष्ठ फीफा रैंकिंग 94 है जो उसने फरवरी 1996 में हासिल की थी। इसके अलावा भारत नवंबर 1993 में 99वें तथा अक्तूबर 1993, दिसंबर 1993 और अप्रैल 1996 में 100वें स्थान पर रहा था। पिछले दो वर्षों में भारतीय टीम ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। इस बीच उसने 13 मैच (भूटान के खिलाफ अनधिकृत मैच सहित) खेले और इनमें से 11 में जीत दर्ज की। इस बीच उसने कुल 31 गोल किये। राष्ट्रीय कोच स्टीफन कान्सटेनटाइन ने इसे पूरी टीम का प्रयास करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘राह काफी मुश्किल थी। नये खिलाड़ियों को लाना और टीम में प्रतिस्पर्धा तैयार करना एक प्रक्रिया है और मुझे खुशी है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।’’ कान्सटेनटाइन ने फरवरी 2015 में जब दूसरी बार भारतीय टीम का कोच पद संभाला था तब उसकी रैंकिंग 171 थी। इसके बाद वह मार्च 2015 में 173वें स्थान पर खिसक गयी थी लेकिन बाद में लगातार अच्छे प्रदर्शन से टीम की रैंकिंग में भी सुधार होता गया। अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ के अध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल और महासचिव कुशाल दास ने इस उपलब्धि के लिये टीम को बधाई दी और इसका श्रेय खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को दिया।पटेल ने कहा, ‘‘यह बहुत बड़ी उपलब्धि तथा टीम और सहयोगी स्टाफ की कड़ी मेहनत का फल है।’’ दास ने कहा, ‘‘एआईएफएफ राष्ट्रीय टीम को सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं तथा अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैच और अभ्यास शिविरों के रूप में आगे बढ़ने का सर्वश्रेष्ठ मौका देने के लिये प्रतिबद्ध है। हम यह उपलब्धि हासिल करके खुश हैं और उम्मीद है कि आगामी मैचों में भी टीम अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखेगी।’’ भारत नयी रैंकिंग हासिल करने के बाद अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच सात जून को लेबनान के खिलाफ खेलेगा। इसके बाद वह एएफसी एशिया कप क्वालीफायर में 13 जून को घरेलू सरजमीं पर किर्गीज गणराज्य का सामना करेगा।

जाधव का रन आउट होना टर्निंग प्वाइंट रहा: शेन वाटसन

हैदराबाद। रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के कार्यवाहक कप्तान शेन वाटसन ने कहा कि बीच के ओवरों में अधिक विकेट गंवाने से उनकी टीम को दसवें इंडियन प्रीमियर लीग के शुरूआती मैच में सनराइजर्स हैदराबाद से हार का सामना करना पड़ा। वाटसन ने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमारे सामने बड़ा लक्ष्य था। विकेट अच्छा था। यहां तक कि अपनी आधी पारी तक हम लक्ष्य तक पहुंचने की स्थिति में थे लेकिन दुर्भाग्य से हमने बीच के ओवरों में काफी विकेट गंवाये।’’ सनराइजर्स ने यह मैच 25 रन से जीता था। आरसीबी की टीम 208 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 172 रन ही बना पायी थी। वाटसन ने कहा कि शानदार फार्म में चल रहे केदार जाधव का रन आउट होना टीम को भारी पड़ा। उन्होंने कहा, ‘‘केदार का रन आउट होना टर्निंग प्वाइंट रहा। वह बहुत अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था। बेन कटिंग ने बेहतरीन थ्रो करके उसे रन आउट किया। इसके बाद मैच का नक्शा बदल गया। इसमें कोई संदेह नहीं कि 207 का स्कोर बड़ा था लेकिन हमने गलत समय पर विकेट गंवाये


 

युवराज की फार्म बरकरार रही तो खिताब बचा लेंगे: डेविड वार्नर

हैदराबाद। सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर ने कहा कि यदि युवराज सिंह टूर्नामेंट में अपनी शानदार फार्म बरकरार रखते हैं तो उनके पास इंडियन प्रीमियर लीग में अपने खिताब का बचाव करने का पूरा मौका रहेगा। वार्नर ने युवराज की जमकर तारीफ की जिन्होंने आईपीएल 2017 के उदघाटन मैच में रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के खिलाफ 62 रन की तूफानी पारी खेली और अपनी टीम को 35 रन से जीत दिलायी। वार्नर ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यह असली युवी है जिसे मैं टीवी पर देखता रहा हूं। उन्होंने क्लीन हिटिंग और शानदार स्ट्रोक का बेहतरीन नजारा पेश किया। हम जानते हैं कि वह इस तरह से खेल सकता है और हम चाहते हैं कि वह इस तरह से खेलना जारी रखें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह टूर्नामेंट में पांच या छह बार ऐसा प्रदर्शन करते हैं तो फिर हम आसानी से फाइनल में पहुंच जाएंगे और खिताब भी जीत सकते हैं।’’ वार्नर ने शीर्ष क्रम में शिखर धवन की फार्म में वापसी पर भी खुशी व्यक्त की जिन्होंने पारी का आगाज करते हुए 40 रन बनाये। उन्होंने अफगानिस्तान के लेग स्पिनर राशिद खान की भी प्रशंसा की जिन्होंने आईपीएल में पदार्पण पर ही अपना प्रभाव छोड़ा।
 

हार से मुक्केबाजों का आकलन सहीं नहीं: सांटियागो निएवा


नयी दिल्ली। पुरूष मुक्केबाजी टीम के नव नियुक्त कोच सांटियागो निएवा को लगता है कि भारतीय मुक्केबाज मानसिक मजबूती में दुनिया में सर्वश्रेष्ठ हैं और हार से उनका आकलन करना सही नहीं है। अर्जेंटीना में जन्में लेकिन स्वीडन में पले बढ़े निएवा दो हफ्ते पहले पटियाला में चल रहे राष्ट्रीय शिविर से जुड़े और वह नये साथियों, मुक्केबाजों और बेस से सांमजस्य बिठा रहे हैं। उन्होंने क्यूबा के बी आई फर्नांडीज की जगह ली है जो 2014 में इस पद से हट गये थे। वह अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (एआईबीए) के एलीट कोच आयोग के भी सदस्य हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं भारत में ट्रेनिंग संस्कृति को समझ रहा हूं, जो मुझे नहीं लगता कि कहीं और से अलग है। यह पारंपरिक है और सीनियर स्तर पर भारतीय मुक्केबाजों का बहुत अच्छा बेस है।’’ निएवा (41 वर्षीय) ने कहा, ‘‘उनकी नींव मजबूत है और इनमें से ज्यादातर की तकनीक बहुत बढ़िया है। विकास के लिये यह सब काफी महत्वपूर्ण है। शिविर में मैंने ऐसा कुछ नहीं देखा जो हैरान करने वाला हो।’’ उन्होंने कहा कि जब कोई एथलीट अच्छा नहीं कर रहा होता तो उसका आकलन करना आसान है। उन्होंने कहा, ‘‘चुनौती सुधार करने और आगे बढ़ने में है। भारतीय मुक्केबाज मजबूत हैं इसलिये आपने विश्व चैम्पियनशिप, एशियाई चैम्पियनशिप में पदक हासिल किये और रिकार्ड संख्या में ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करते हो।''
 

स्मिथ की ताबड़तोड़ पारी के आगे पस्त हुई मुंबई की टीम, 


पुणे। गुरुवार को इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) के दसवें सीजन के दूसरे मुकाबले में मुंबई इंडियंस और मेजबान पुणे सुपरजायंट्स की टीमें आमने-सामने थीं। मैच में पुणे ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई की टीम ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 8 विकेट के नुकसान पर 184 रन बनाए। जवाब में 185 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पुणे की टीम ने अपने कप्तान और मैन ऑफ द मैच स्टीवन स्मिथ (54 गेंदों पर नाबाद 84) की धुआंधार पारी के दम पर एक गेंद शेष रहते 3 विकेट के नुकसान पर लक्ष्य हासिल कर लिया और 7 विकेट से जीत दर्ज की। 
मुंबई ने खड़ा किया सम्मानजक स्कोर
पहले बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई की टीम को पहले तीन झटके द.अफ्रीकी गेंदबाज इमरान ताहिर ने दिए। पुणे के लिए खेल रहे ताहिर ने सबसे पहले पांचवें ओवर में पार्थिव पटेल (19) को बोल्ड कर दिया। इसके बाद सातवें ओवर में उन्होंने मुंबई के धुरंधर कप्तान रोहित शर्मा की अच्छी वापसी की उम्मीद भी तोड़ दी। ताहिर ने रोहित (3) को क्लीन बोल्ड किया जबकि दो गेंद बाद इसी ओवर में ताहिर ने जोस बटलर (38) को भी LBW आउट कर  मुंबई को तीसरा झटका दे दिया। इसके बाद रजत भाटिया ने अंबाती रायडू (10) को कॉट एंड बोल्ड आउट कर पुणे की टीम को चौथी सफलता दिला दी। क्रुणाल पांड्या (03) ने रजत भाटिया की गेंद पर धौनी को कैच देकर अपनी पारी पर ब्रेक लगा दिया। इसके बाद 16वें ओवर में नितीश राणा (34) को जंपा ने भाटिया के हाथों कैच कराया जबकि 19वें ओवर में इस बार की आइपीएल नीलामी के सबसे महंगे खिलाड़ी बेन स्टोक्स ने कीरोन पोलार्ड (27) को कैच आउट करा दिया। पारी का आठवां विकेट टिम साउदी (7) के रूप में गिरा जो अंतिम ओवर में दूसरे छोर पर मौजूद बल्लेबाज हार्दिक पांड्या के साथ तालमेल में कमी के कारण रन आउट हुए। हालांकि मैच के अंतिम ओवर गेंदबाज अशोक डिंडा ने खूब रन लुटा दिए। मुंबई के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने अंतिम ओवर में चार छक्के और एक चौका जड़ा। इस ओवर में कुल 30 रन आए और पांड्या ने 14 गेंदों पर नाबाद 35 रन बनाए। नतीजतन स्कोर 184 तक जा पहुंचा। पुणे की तरफ से ताहिर ने तीन विकेट लिए जबकि रजत भाटिया ने दो विकेट और जंपा-स्टोक्स ने एक-एक विकेट हासिल किया।
रहाणे और कप्तान स्मिथ की शानदार बल्लेबाजी
जवाब में उतरी पुणे की टीम की शुरुआत तो खराब रही और 35 रन पर उन्होंने मंयक अग्रवाल (6) के रूप में अपना पहला विकेट गंवा दिया। इसके बाद अजिंक्य रहाणे ने पारी को संभाला और 34 गेंदों पर 60 रनों की पारी खेल डाली। उन्हें साउदी ने कैच आउट करवाया। इसके बाद बेन स्टोक्स भी 21 रन बनाकर आउट हुए लेकिन मौजूदा कप्तान स्टीवन स्मिथ और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने पिच पर मोर्चा संभाला और जमकर बल्लेबाजी की। स्मिथ ने 54 गेंदों पर 84 रनों की शानदार पारी खेली जिसमें तीन छक्के और 7 चौके शामिल रहे। वहीं धौनी ने 12 गेंदों पर नाबाद 12 रन बनाकर दूसरे छोर पर स्मिथ का अंत तक साथ दिया। अंतिम ओवर में मैच थोड़ा रोमांचक जरूर हुआ लेकिन स्मिथ ने पोलार्ड की चौथी और पांचवीं गेंद पर लगातार दो छक्के लगाकर मैच वहीं खत्म कर दिया। इसके साथ ही पुणे ने 7 विकेट से जीत दर्ज करके टूर्नामेंट में विजयी आगाज किया है। 
इस बार पुणे की टीम में सबसे दिलचस्प चीज जो देखने को मिली है वो हैं उनके कप्तान। आइपीएल के इतिहास में पहली बार महेंद्र सिंह धौनी मैदान पर एक कप्तान के तौर पर नहीं उतरे हैं। उनकी जगह ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ टीम के कप्तान हैं। गौरतलब है कि कुछ ही समय पहले पुणे की टीम ने धौनी को कप्तानी से हटाकर स्मिथ को ये जिम्मेदारी सौंप दी थी। वहीं, दूसरी तरफ मुंबई की टीम में काफी लंबे समय के बाद फैंस उनके कप्तान व धुरंधर भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा को मैदान पर देख रहे थे। 

युवराज की फार्म बरकरार रही तो खिताब बचा लेंगे: डेविड वार्नर

हैदराबाद। सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर ने कहा कि यदि युवराज सिंह टूर्नामेंट में अपनी शानदार फार्म बरकरार रखते हैं तो उनके पास इंडियन प्रीमियर लीग में अपने खिताब का बचाव करने का पूरा मौका रहेगा। वार्नर ने युवराज की जमकर तारीफ की जिन्होंने आईपीएल 2017 के उदघाटन मैच में रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के खिलाफ 62 रन की तूफानी पारी खेली और अपनी टीम को 35 रन से जीत दिलायी। 
वार्नर ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यह असली युवी है जिसे मैं टीवी पर देखता रहा हूं। उन्होंने क्लीन हिटिंग और शानदार स्ट्रोक का बेहतरीन नजारा पेश किया। हम जानते हैं कि वह इस तरह से खेल सकता है और हम चाहते हैं कि वह इस तरह से खेलना जारी रखें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह टूर्नामेंट में पांच या छह बार ऐसा प्रदर्शन करते हैं तो फिर हम आसानी से फाइनल में पहुंच जाएंगे और खिताब भी जीत सकते हैं।’’ वार्नर ने शीर्ष क्रम में शिखर धवन की फार्म में वापसी पर भी खुशी व्यक्त की जिन्होंने पारी का आगाज करते हुए 40 रन बनाये।
 

वापसी के बाद अधिक स्वच्छंद होकर खेल कर रहा हूं: युवी

हैदराबाद। स्टार आलराउंडर युवराज सिंह ने कहा कि इस साल के शुरू में भारतीय एकदिवसीय टीम में सफल वापसी के बाद वह अधिक स्वच्छंद होकर बल्लेबाजी कर रहे हैं। युवराज ने इस साल के शुरू में इंग्लैंड के खिलाफ वनडे टीम में वापसी की और कटक में खेले गये दूसरे मैच में उन्होंने 150 रन की जबर्दस्त पारी खेली थी। इसके बाद उन्होंने कोलकाता में तीसरे और अंतिम वनडे में 45 रन बनाये थे। बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने कल सनराइजर्स हैदराबाद की तरफ से रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के खिलाफ आईपीएल दस के उदघाटन मैच में 27 गेंदों पर 62 रन की तूफानी पारी खेलकर अपनी टीम को जीत दिलायी। युवराज ने बाद में कहा, ‘‘मैं अभी अपनी बल्लेबाजी का पूरा लुत्फ उठा रहा हूं। पिछले दो साल में मेरी बल्लेबाजी में उतार चढ़ाव रहा लेकिन अभी मैं वास्तव में अच्छा महसूस कर रहा हूं। मैं अपनी इस फार्म को आगे बरकरार रखना चाहता हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय टीम में वापसी से वास्तव में मुझे मदद मिली। अब मैं अधिक स्वच्छंद हो गया हूं और वापसी को लेकर चिंता नहीं कर रहा हूं। मैं केवल परिस्थितियों के अनुसार खेल रहा हूं।’’ युवराज ने कहा कि कड़ी मेहनत और समर्पण से ही वह अच्छी फार्म में वापसी कर पाये। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने काफी गेंदे हिट की और बहुत अधिक अभ्यास किया। मैंने नेट्स पर बल्लेबाजी करते हुए काफी घंटे बिताये। इसके अलावा हैदराबाद हमेशा मेरे लिये भाग्यशाली मैदान रहा है। जब भी मैंने हैदराबाद में रन बनाये तब मैंने वापसी की।’’ युवराज ने कहा, ‘‘अभी मैं अपनी बल्लेबाजी को लेकर अच्छा महसूस कर रहा हूं और उम्मीद है कि मैं अभी जो कुछ कर रहा हूं उसे आगे भी जारी रखूंगा।''

केकेआर–लायन्स के मैच में दिखेगी देशी–विदेशी बल्लेबाजों की जंग

राजकोट। अपने घरेलू बल्लेबाजों पर काफी हद तक निर्भर कोलकाता नाइटराइडर्स जब आईपीएल दस का अपना पहला मैच खेलने के लिये उतरेगा तो उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती गुजरात लायन्स के शीर्ष क्रम से पार पाना होगा जिसमें कुछ दिग्गज विदेशी बल्लेबाज शामिल हैं। सुरेश रैना की अगुवाई वाली लायन्स की टीम ने पिछले साल अपने पदार्पण वर्ष में ही अच्छा प्रदर्शन किया और वह लीग चरण में शीर्ष पर रही थी। यह अलग बात है कि क्वालीफायर्स में वह बेहतर खेल नहीं दिखा पायी और आखिर में उसे तीसरे स्थान से संतोष करना पड़ा था। केकेआर ने भी गौतम गंभीर की कप्तानी में अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखा है और पिछले साल वह शीर्ष चार में जगह बनाने में सफल रही थी। गुजरात लायन्स का बल्लेबाजी क्रम सभी टीमों में सबसे मजबूत है। उनके पास शीर्ष क्रम में ब्रैंडन मैकुलम, ड्वेन स्मिथ, आरोन फिंच और रैना शामिल हैं। इन चारों ने पिछले साल 300 से अधिक रन बनाये थे। मध्यक्रम में बेहतरीन फार्म में चल रहे दिनेश कार्तिक और इशान किशन हैं जबकि जेम्स फाकनर जैसे बिग हिटर डेथ ओवरों में अपनी उपयोगिता साबित कर चुके हैं। ड्वेन ब्रावो और रविंद्र जडेजा के पूरी तरफ फिट होने के बाद वापसी करने पर लायन्स को अधिक मजबूती मिलेगी और उसके पास ज्यादा विकल्प रहेंगे। आस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में बल्ले और गेंद दोनों से बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले जडेजा के बारे में लायन्स के कोच ब्रैड हॉज भी कह चुके हैं कि उनकी भरपायी कोई अन्य खिलाड़ी नहीं कर सकता है। निश्चित तौर पर केकेआर के खिलाफ लायन्स को उनकी कमी खलेगी। 
 

वीनस विलियम्स चार्ल्सटन ओपन के पहले दौर में बाहर

मियामी। विश्व की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी वीनस विलियम्स और शीर्ष वरीयता प्राप्त मेडिसन कीज डब्ल्यूटीए चार्ल्सटन क्लेकोर्ट टेनिस टूर्नामेंट के दूसरे दौर में हारकर बाहर हो गयी। वीनस को जर्मनी की लौरा सीगमंड ने तीन सेट तक चले मुकाबले में 6-4, 6-7, 7-5 से हराया जबकि कीज को उनकी हमवतन अमेरिकी शेल्बी रोजर्स ने 4-6, 6-1, 6-1 से बाहर का रास्ता दिखाया। रोजर्स अगले दौर में जापान की नाओमी ओसाका से भिड़ेंगी जिन्होंने 13वीं वरीयता प्राप्त चीनी खिलाड़ी च्यांग शुहाई को 6-4, 6-4 से हराया। उलटफेर वाले इस दिन में चौथी वरीयता प्राप्त रूसी खिलाड़ी इलेना वेसनिना भी बाहर हो गयी। उन्हें फैनी स्टोलर ने 7-6, 7-6 से पराजित किया। नीदरलैंड की किकी बर्टन्स, लाटविया की अनस्तेसिया सेवास्तोवा, आस्ट्रेलिया की डारिया गैवरिलोवा, रोमानिया की इरीना बेगु और क्रोएशिया की उन वरीयता प्राप्त खिलाड़ियों में शामिल हैं जो अगले दौर में जगह बनाने में सफल रही।

युवराज की पारी के दम पर सनराइजर्स ने आरसीबी को हराया

हैदराबाद। चैम्पियन बल्लेबाज युवराज सिंह की आक्रामक पारी के बाद अपने गेंदबाजों के अनुशासित प्रदर्शन के दम पर गत चैम्पियन सनराइजर्स हैदराबाद ने विराट कोहली के बिना खेल रही रायल चैलेंजर्स बेंगलूर को 35 रन से हराकर इंडियन प्रीमियर लीग के दसवें सत्र का शानदार आगाज किया। सनराइजर्स के लिये मैन आफ द मैच युवराज ने 27 गेंद पर 62 रन बनाये जबकि अफगानिस्तान के युवा लेग स्पिनर राशिद खान अरमान ने चार ओवर में 36 रन देकर दो विकेट लिये ।सनराइजर्स ने सपाट विकेट पर पहले बल्लेबाजी करते हुए चार विकेट पर 207 रन बनाये । जवाब में आरसीबी 19–4 ओवर में 172 रन पर आउट हो गई। आईपीएल में 23 मैचों के बाद बेंगलूर टीम आल आउट हुई है ।उसके चारों शीर्ष बल्लेबाजों क्रिस गेल (32), मनदीप सिंह (24), ट्रेविस हेड (30) और केदार जाधव (31) ने उम्दा शुरूआत की लेकिन अपने विकेट गंवा बैठे। केदार का विकेट गिरने के बाद से आरसीबी मैच में नहीं लौट सकी। केदार अपनी 16 गेंद की पारी के दौरान काफी खतरनाक लग रहे थे लेकिन डीप से बेन कटिंग के सीधे थ्रो पर वह रन आउट हो गए। सनराइजर्स के कप्तान डेविड वार्नर ने अपने स्पिनरों को बखूबी रोटेट किया। आईपीएल में खेलने वाले अफगानिस्तान के पहले क्रिकेटर राशिद ने मनदीप को फुल लैंग्थ गेंद पर आउट किया। उसने ट्रेविस हेड को भी पवेलियन भेजा।
 

विराट कोहली बने विजडन के वर्ष 2016 के अग्रणी क्रिकेटर

लंदन। पिछले साल क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में रनों का अंबार लगाने वाले भारतीय कप्तान विराट कोहली को विजडन क्रिकेटर्स अलमानैक ने वर्ष 2016 का विश्व का अग्रणी क्रिकेटर चुना है। वह वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर के बाद यह सम्मान हासिल करने वाले तीसरे भारतीय खिलाड़ी हैं। कोहली को इस सप्ताह प्रकाशित हुई विजडन क्रिकेटर्स अलमानैक ने अपने 2017 के संस्करण में मुखपृष्ठ पर भी जगह दी है जिसमें उन्हें एक टेस्ट मैच में रिवर्स स्वीप करते हुए दिखाया गया है। भारतीय कप्तान ने पिछले वर्ष क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में बेहतरीन प्रदर्शन करके कुल मिलाकर 2595 रन बनाये जिसमें सात शतक और 13 अर्धशतक शामिल हैं। उन्होंने 12 टेस्ट मैचों में चार शतकों की मदद से 1215 रन, दस वनडे में तीन शतकों की मदद से 739 रन और 15 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 641 रन बनाये। विजडन के संपादक लारेन्स बूथ ने कोहली की तारीफ करते हुए लिखा है कि कोहली के लिये 2016 ‘स्वप्निल वर्ष' था। उन्होंने लिखा है, ‘‘कोहली का तीनों प्रारूपों में बल्लेबाजी में किसी अन्य की तुलना में बेहतर औसत रहा। टेस्ट मैचों में उन्होंने 75, एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय में 92 और टी20 अंतरराष्ट्रीय में 106 रन प्रति पारी की औसत से रन बनाये।’’ वर्ष का अग्रणी क्रिकेटर चुनने की शुरूआत विजडन ने 2003 में की थी। इसके बाद यह सम्मान हासिल करने वाले कोहली तीसरे भारतीय हैं। उनसे पहले सहवाग (2008 और 2009) तथा तेंदुलकर (2010) यह सम्मान हासिल कर चुके हैं। यह सम्मान वर्ष के तीनों प्रारूपों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को दिया जाता है। कोहली ने वर्ष 2016-17 में लगातार चार श्रृंखलाओं में दोहरा शतक जड़ने का अनोखा कीर्तिमान बनाया। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ 200, न्यूजीलैंड के खिलाफ 211 और इंग्लैंड के खिलाफ 235 रन की पारियां खेली थी। इसके बाद वह बांग्लादेश के खिलाफ भी 204 रन बनाने में सफल रहे थे।