Updated -

mobile_app
liveTv

INDvsAUS: मैच में भारत ऑस्ट्रेलिया से आगे

सिडनी: ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया के सात विकेट पर 622 रन पारी समाप्त घोषित के विशाल स्कोर के जवाब में चौथे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच के दूसरे दिन शुक्रवार को यहां अपनी पहली पारी में बिना किसी नुकसान के 24 रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया अब भी भारत से 598 रन पीछे है. दिन का खेल खत्म होने के समय मार्कस हैरिस 19 और उस्मान ख्वाजा पांच रन पर खेल रहे थे. 

इससे पहले भारतीय क्रिकेट टीम ने अपनी पहली पारी सात विकेट गंवाकर 622 रनों के विशाल स्कोर पर घोषित कर दी. टीम इंडिया दिन के तीसरे सत्र में शानदार बल्लेबाजी कर रही थी और भारतीय बल्लेबाज ऋषभ पंत (159) नाबाद रहे. भारत ने चायकाल तक छह विकेट के नुकसान पर 491 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा कर लिया था. इसके बाद तीसरे सत्र में पंत ने रवींद्र जडेजा के साथ मिलकर सातवें विकेट के लिए 204 रनों की शानदार दोहरी शतकीय साझेदारी कर टीम को 622 के स्कोर तक पहुंचाया. 

भारतीय बल्लेबाजों द्वारा सातवें विकेट के लिए की गई यह दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है. इस सूची में पूर्व भारतीय बल्लेबाजों वीवीएस लक्ष्मण और अजय रात्रा द्वारा वेस्टइंडीज के खिलाफ 2002 में सातवें विकेट के लिए की गई 217 रनों की साझेदारी पहले स्थान पर है. इसी स्कोर पर नाथन लॉयन ने जडेजा को बोल्ड कर भारतीय टीम का सातवां विकेट गिराया और इसी स्कोर पर मेहमान टीम ने अपनी पहली पारी घोषित कर दी. पंत ने 189 गेंदें खेली और 15 चौके एवं एक छक्का लगाया, वहीं जडेजा ने 114 गेंदें खेलते हुए सात चौके और एक छक्का लगाया. 

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर भारतीय टीम द्वारा बनाया गया यह दूसरा सबसे बड़ा स्कोर है. 2004 में भारत ने इसी मैदान पर सात विकेट पर 705 रन बनाकर अपनी पारी घोषित की थी. 
इसके अलावा पंत की पारी किसी एशियाई विकेटकीपर द्वारा उप-महाद्वीप के बाहर बनाई गई सबसे बड़ी पारी है. इससे पहले पिछले साल 2017 में वेलिंग्टन में बांग्लादेश के विकेटकीपर मुश्फिकुर रहीम ने 159 रनों की पारी ही खेली थी. लेकिन वह आउट हुए थे और पंत इसी पारी पर नाबाद लौटे.ऑस्ट्रेलिया के लिए इस पारी में नाथन ने सबसे अधिक चार विकेट लिए, वहीं जोश हेजलवुड को दो विकेट हासिल हुए. मिशेल स्टॉर्क को एक सफलता हाथ लगी. 

चौथा टेस्ट : इन के बदौलत भारत की स्थिति मजबूत

सिडनी। चेतेश्वर पुजारा (130) की नाबाद शतकीय पारी के दम पर भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जारी पहले टेस्ट मैच के पहले दिन गुरुवार का खेल समाप्त होने तक अपनी पहली पारी में चार विकेट के नुकसान पर 303 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा किया है। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर जारी इस मैच में भारतीय बल्लेबाज पुजारा के साथ हनुमा विहारी (39) नाबाद लौटे हैं। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने पहले सत्र के समापन तक लोकेश राहुल (9) के रूप में एकमात्र विकेट गंवाकर 69 रनों का स्कोर बनाया। 

राहुल को जोश हैजलवुड ने पवेलियन की राह दिखाई। पुजारा और मयंक अग्रवाल (77) नाबाद रहे। इसके बाद, दूसरे सत्र में पुजारा और मयंक ने दूसरे विकेट के लिए 116 रनों की साझेदारी कर टीम को 126 के स्कोर तक पहुंचाया लेकिन इसी स्कोर पर नाथन लियोन ने मयंक को पवेलियन का रास्ता दिखाया। मयंक लंबा शॉट मारने की कोशिश में मिशेल स्टॉर्क के हाथों लपके गए। उन्होंने इस पारी में 112 गेंदों पर सात चौके और दो छक्के लगाए। 

पुजारा ने इसके बाद कप्तान विराट कोहली (23) के साथ दूसरे सत्र के समापन तक बिना कोई विकेट गंवाए टीम को 177 के स्कोर तक पहुंचाया। तीसरे सत्र में भारतीय टीम के लिए मैदान पर मौजूद पुजारा और कोहली ने तीन ही रन जोड़े थे कि हैजलवुड ने कोहली को आउट कर भारत को दिन का तीसरा झटका दिया। वे विकेट के पीछे खड़े कप्तान और विकेटकीपर टिम पेन के हाथों लपके गए। पिच के एक छोर पर भारतीय पारी को संभाले खड़े पुजारा का साथ देने आए अजिंक्य रहाणे (18) को स्टार्क ने अधिक समय तक मैदान पर टिकने नहीं दिया। वे भी पेन के हाथों लपके गए।
 

इस देश ने विराट को बनाया अपनी इस वनडे टीम का कप्तान

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया दौरे पर स्थानीय दर्शक भले ही विराट कोहली को निशाना बना रहे हों, लेकिन मेजबान क्रिकेट बोर्ड (CA) भारतीय कप्तान को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ कप्तान मानता है. ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि उसने 2018 की जो बेस्ट वनडे टीम बनाई है, उसका कप्तान विराट को ही बनाया है. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने साल की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट टीम भी घोषित की है. भारत के विराट कोहली और जसप्रीत बुमराह को इस टीम में भी जगह मिली है, लेकिन कप्तानी न्यूजीलैंड के केन विलियम्सन को सौंपी गई है. विराट कोहली ने 2018 में सिर्फ 14 वनडे मैच खेले. उन्होंने इन मैचों में 1200 से अधिक रन बनाए. इस दौरान उनका औसत 133.55 रहा. कोहली ने 2018 में छह शतक और तीन अर्धशतक बनाए. उनके इसी प्रदर्शन ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की साल की बेस्ट वनडे टीम में उन्हें ना सिर्फ जगह दिलाई, बल्कि कप्तानी भी दिलाई. रोहित-बुमराह-कुलदीप भी प्लेइंग XI में सीए की 2018 की सर्वश्रेष्ठ वनडे टीम में विराट कोहली के अलावा तीन और भारतीय शामिल हैं. इनमें ओपनर रोहित शर्मा, तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और स्पिनर कुलदीप यादव शामिल हैं. कुलदीप ने 2018 में 4.64 की औसत से 45 विकेट झटके. वहीं, जसप्रीत बुमराह ने 3.62 की औसत से 22 विकेट लिए. रोहित शर्मा ने 2018 में 73.57 की औसत से 1,030 रन बनाए. राशिद खान, मुस्तफिजुर और हेटमायर भी टीम में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की इस टीम में इंग्लैंड के जॉनी बेयरस्टो, जो रूट और जोस बटलर शामिल हैं. टीम के चार अन्य खिलाड़ी वेस्टइंडीज के शिमरोन हेटमायर, श्रीलंका के थिसारा परेरा, अफगानिस्तान के राशिद खान और बांग्लादेश के मुस्तफिजुर रहमान हैं ऑस्ट्रेलिया-पाकिस्तान का एक भी खिलाड़ी नहीं क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की इस टीम में छह देश के खिलाड़ी शामिल हैं. दिलचस्प बात यह है कि इसके बावजूद इस टीम में ऑस्ट्रेलिया के ही एक भी खिलाड़ी को जगह नहीं दी गई है. इसके अलावा पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड का भी एक भी खिलाड़ी इस टीम में जगह नहीं बना सका है. टेस्ट खेलने वाले 12 देशों में शामिल आयरलैंड, जिम्बाब्वे के खिलाड़ी भी साल की इस बेस्ट वनडे टीम में शामिल नहीं किए गए हैं. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की वनडे टीम ऑफ द ईयर: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, जॉनी बेयरस्टो, जो रूट, शिमरोन हेटमायर, जोस बटलर, (विकेटकीपर), थिसारा परेरा, राशिद खान, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमराह और मुस्तफिजुर रहमान. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम ऑफ द ईयर: केन विलियम्सन (कप्तान), विराट कोहली, कुशल मेंडिस, टॉम लाथम, एबी डिविलियर्स, जोस बटलर (विकेटकीपर), जेसन होल्डर, कगिसो रबाडा, नाथन लायन, मोहम्मद अब्बास और जसप्रीत बुमराह..

एक बार फिर छाए सौरभ चौधरी

नई दिल्ली: एशियाई खेलों और युवा ओलंपिक खेलों के चैम्पियन सौरभ चौधरी ने रविवार को यहां डॉ कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में दूसरी ट्रायल प्रतियोगिता की 10 मीटर एयर पिस्टल ट्रायल्स में पुरूषों और जूनियर लड़कों के वर्ग में जीत दर्ज की. सौरभ ने शनिवार को पहली ट्रायल प्रतियोगिता की दोनों स्पर्धाओं में जीत हासिल की थी और एक में वे मौजूदा विश्व रिकार्ड स्कोर से ऊपर रहे थे. 

रविवार को उन्होंने 243.3 अंक के स्कोर से पुरूषों का फाइनल जीता और पंजाब के अर्जुन सिंह चीमा को पछाड़ा जो 239.8 अंक से दूसरे स्थान पर रहे. जूनियर लड़कों के फाइनल में सौरभ ने 246 अंक से अपने जूनियर विश्व रिकार्ड से ज्यादा का स्कोर बनाया. उन्होंने सेना के दीपक धारीवाल को पछाड़ा जो 241.2 अंक से दूसरे स्थान पर रहे. 
इस साल सौरभ ने शानदार प्रदर्शन किया. उनकी खासियत यह रही कि वे साल के अंत तक अपने प्रदर्शन में निरंतरता कायम रख सके. सौरभ ने एशियाई खेलों से 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में सोने पर सफल निशान लगाया. वे एशियाई खेलों में सबसे कम उम्र में स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ी बने थे. सौरभ यहीं नहीं रूके. इसके बाद उन्होंने कई जूनियर स्पर्धाओं में सोने का तमगा हासिल किया. 
एशियाई खेलों की सफलता के बाद कोई बड़ा मंच सौरभ के सामने आया तो वह था यूथ ओलम्पिक. जाट परिवार से आने वाले इस युवा ने यहां भी अपने अभियान को जारी रखा और सोना जीता. इस जीत ने सौरभ का नाम एक बार और इतिहास में लिखवा दिया था. वे यूथ ओलम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारत के पहले निशानेबाज बने. 

मेले में गुब्बारे पर निशाना साधने से की थी शुरुआत
सौरभ ने अपनी निशानेबाजी की शरुआत गांव के मेले में गुब्बारे पर निशाना साधने से की थी. वे उस समय भी एक दिन ओलंपिक निशानेबाजी में छाने का सपना देखा करते थे. सौरभ कंधे पर एयर रायफल लटकाए जब नीले, पीले और लाल रंग के गुब्बारों पर निशॉना साधते थे, उन्हें लगता था कि वे अभिनव बिंद्रा हैं. इसके बाद सौरभ रात-दिन निशानेबाजी करने लगे और अंतर विद्यालय और अंतर राज्यीय प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लेने लगे. उनका यह शौक धीरे धीरे जुनून में बदल गया और एक दिन वह राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में खेलने लगे. 

टीम इंडिया के ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा के घर आई ,ये खुशी

नई दिल्ली: भारतीय टीम के स्टार क्रिकेटर रोहित शर्मा के घर नए साल से ठीक पहले खुशियां दोगुनी हो गई हैं. ‘हिटमैन’ के नाम से मशहूर रोहित शर्मा पिता बन गए हैं. रोहित की पत्नी रीतिका ने प्यारी सी बेटी को जन्म दिया है. रोहित शर्मा के पिता बनने की यह खबर मेलबर्न में भारत के तीसरा टेस्ट मैच जीतने के कुछ घंटे बाद ही आई. उस वक्त टीम इंडिया जीत की खुशी में डूबी हुई थी. 

रोहित शर्मा पहली बार पिता बने हैं. वे ऑस्ट्रेलिया से अपने घर के लिए रवाना हो गए हैं और 3 जनवरी से शुरू हो रहे सीरीज के अंतिम टेस्ट मैच में नहीं खेल सकेंगे. सीरीज का चौथा और अंतिम टेस्ट सिडनी (Sydney Test) में खेला जाएगा. भारत चार मैचों की इस सीरीज (India vs Australia) में अभी 2-1 से आगे है. 

रोहित शर्मा ने मेलबर्न टेस्ट (Melbourne Test) में 63 रन की शानदार पारी खेली थी. उनकी इस पारी की बदौलत ही भारत 400 से बड़ा स्कोर बनाकर ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बना सका था. हालांकि, वे दूसरी पारी में सफल नहीं हो पाए थे और महज पांच रन बनाकर आउट हो गए थे. रोहित शर्मा ने पहले टेस्ट की दो पारियों में 37 और एक रन बनाए थे. वे दूसरे टेस्ट में चोट के कारण नहीं खेल पाए थे. 
भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने यह साफ कर दिया है कि रोहित शर्मा अब सिडनी में होने वाले चौथे टेस्ट में नहीं खेलेंगे. उनकी जगह टीम में किसी को शामिल नहीं किया गया है. यानी, ऑस्ट्रेलिया में मौजूद खिलाड़ियों में से ही किसी एक को प्लेइंग इलेवन में जगह मिलेगी. माना जा रहा है कि ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या को टीम में शामिल किया जा सकता है. रोहित शर्मा वनडे सीरीज से पहले टीम इंडिया से जुड़ जाएंगे. 

कैच प्रैक्टिस के दौरान फटी शॉन पोलक की पैंट, ऐसे छुपाकर बचाते रहे इज्जत

नई दिल्ली: क्रिकेट मैच के दौरान मैदान में कई बार खेल से इतर कुछ ऐसी घटनाएं घट जाती हैं, जो लोगों का ध्यान खींच लेती हैं. ऐसी ही एक घटना दक्षिण अफ्रीका और पाकिस्तान के बीच खेले गए टेस्ट मैच में देखने को मिला. सेंचुरियन में खेले गए मैच में ब्रेक के दौरान पूर्व क्रिकेटर एक्सपर्ट के रूप में मैच पर बातें कर रहे थे. इसी दौरान दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान शॉन पोलक स्लिप में कैच पकड़ने के तरीके के बारे में बता रहे थे. पोलक कैच लेने के लिए जैसे ही झुके उनकी पैंट फट गई. इस दौरान पोलक के बगल में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ भी मौजूद थे.पैंट फटने का अहसास होते ही पोलक ने अपने हाथ से पीछे के हिस्स को ढक लिया. फिर वह जैसे-तैसे हाथों से फटी हुई पैंट को छुपाते हुए मैदान के बाहर चेंज करने चले गए. दिलचस्प बात यह है कि पोलक के साथ जब यह घटना घटी उस वक्त टीवी चैनल पर इसका लाइव प्रसारण हो रहा था.पूरा घटनाक्रम देखकर वहां मौजूद दूसरे क्रिकेटर और ग्राउंड स्टॉफ के लोग जोर-जोर से हंसते देखे गए. वहीं शॉन पोलक के चेहरे पर शर्मिंदगी साफ तौर से दिख रही थी. शॉन पोलक ने ट्वीट कर फटी हुई पैंट की तस्वीर शेयर की है. तस्वीर में साफ तौर से दिख रहा है कि पैंट पीछे से काफी फट गई है. चेंजिंग रूम की तरफ से मिल पायजामे के लिए उन्होंने शुक्रिया कहा है. साथ ही उन्होंने पायजामे में अपनी तस्वीर भी शेयर किया है.मालूम हो कि दक्षिण अफ्रीका ने पाकिस्तान को छह विकेट से हरा दिया है. मैच की पहली पारी में पाकिस्तान ने 181 रन बनाए थे. दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 223 रन बनाए. दूसरी पारी में पाकिस्तान 190 रनों पर ढेर हो गई. 151 रनों के लक्ष्य को दक्षिण अफ्रीका ने 4 विकेट खोकर हासिल कर लिया. दक्षिण अफ्रीका के ओपनर डेन एल्गर ने चौथी पारी में 50 रनों की पारी खेली.मालूम हो कि दक्षिण अफ्रीका ने पाकिस्तान को छह विकेट से हरा दिया है

तीसरा टेस्ट : ऑस्ट्रेलिया से आगे भारत

मेलबोर्न। मेजबान ऑस्ट्रेलिया यहां मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) पर भारत के खिलाफ जारी तीसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन शनिवार को हार की तरफ बढ़ता दिख रहा है। 399 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने चायकाल के बाद अंतिम समाचार मिलने तक 61.3 ओवर में 176/7 रन बना लिए थे। रवींद्र जडेजा ने 3, जसप्रीत बुमराह ने 2 और ईशांत शर्मा व मोहम्मद शमी ने 1-1 विकेट लिया है।

भारत ने आज सुबह अपनी दूसरी पारी 54/5 रन से आगे बढ़ाई और 106/8 रन पर घोषित कर दी। भारत ने अपनी पहली पारी सात विकेट के नुकसान पर 443 रन पर घोषित की थी और ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में 151 रन पर ढेर कर दिया था। एडिलेड में खेला गया पहला टेस्ट भारत ने 31 रन से और पर्थ में हुआ दूसरा टेस्ट ऑस्ट्रेलिया ने 146 रन से जीता था।

INDvsAUS मेलबोर्न टेस्ट दूसरे दिन भारत की शानदार बैटिंग

मेलबर्न:  भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज के तीसरे टेस्ट के दूसरे दिन टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया. ऑस्ट्रेलिया की कसी गेंदबाजी के बीच भारत ने पहले सत्र में विकेट बचाए जिसमें चेतेश्वर पुजारा ने शानदार शतक लगाया. इसके अलावा कप्तान विराट कोहली (82) ने हाफ सेंचुरी लगाई. दूसरे और तीसरे सत्र में  रोहित (63) की हाफ सेंचुरी के अलावा रहाणे (34) और ऋषभ पंत  (39)  का भी अहम योगदान रहा.

दिन का खेल खत्म होने से पहले जब टीम इंडिया के 443 रनों पर 7 विकेट गिर गए, तब कप्तान विराट कोहली ने पारी समाप्ति की घोषणा कर दी. इस स्कोर के लिहाज से दिन भारतीय बल्लेबाजों के नाम रहा. इसमें ऑस्ट्रेलिया की फिल्डिंग भी काफी चर्चा में रही जिसमें विराट सहित रहाणे, रोहित और ऋषभ पंत को जीवन दान मिले. अगर ऑस्ट्रेलिया की फिल्डिंग बेहतर होती तो कम से कम 50 रन का फर्क पड़ सकता था.
भारतीय गेंदबाजों को नहीं मिल पाया फायदा
पारी समाप्ति की घोषणा के बाद टीम इंडिया को दिन का खेल खत्म होने से पहले 6 ओवर डालने का मौका मिला, लेकिन टीम इंडिया आखिरी ओवरों में विकेट नहीं निकाल सकी. हालाकि भारतीय गेंदबाजों, खासकर जसप्रीत बुमराह ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को परेशान करने में कामयाब जरूर रहे. अब मैच में टीम इंडिया के गेंदबाजों और फिल्डर्स का इम्तिहान होगा. देखने वाली बात यही होगी की दोनों पारियों में गेंदबाजी का कितना और कैसा फर्क रहता है. 
पहले सत्र में पुजारा छाए रहे
दिन का पहला सत्र टीम इंडिया के नाम रहा, बल्कि विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा के नाम रहा. विराट कोहली ने 82 रनों की पारी खेली और वे लंच के बाद ही आउट हुए, लेकिन वे ज्यादातर भाग्यशाली ही रहे. इसके विपरीत पुजारा सही मायने में हैरान परेशान किया. उन्होंने अपनी सेंचुरी पूरी करने में 280 गेंद मिली. इसमें से पहले दिन बने 68 रन बनाने में 200 गेंदें लगी. इस लिहाज से पुजारा ने तेजी से बल्लेबाजी भी की. मजेदार बात यह रही कि सुबह गेंदबाजों को पिच से मदद भी मिल रही थी. नतीजा यह हुआ कि लंच तक भारत का स्कोर दो विकेट पर 277 रन था.

रोहित ने उठाया मौके का फायदा 
दूसरे सत्र में ऑस्ट्रेलिया को विकेट मिलने शुरू हुए तो विराट पुजारा के आउट होने के बाद रोहित और रहाणे ने मोर्चा संभाल लिया और चाय तक टीम इंडिया का स्कोर चार विकेट के नुकसान तक 346 रन कर दिया. तीसरे सत्र में मेजबान टीम की फिल्डिंग ने निराश किया. पहले रोहित फिर रहाणे को जीवन दान मिला. रहाणए जल्दी ही आउट हो गए पर रोहित ने जीवन दान का फायदा उठाया और एक फिफ्टी ठोक डाली. पंत ने भी हाथ खोल दिए लेकिन वे 39 से ज्यादा रन नहीं बना सके, जबकि उन्हें भी जीवनदान मिला था. 
विराट के अंदाज ने चौंकाया
अंत में विराट कोहली ने अचानक ही पारी घोषित कर सबको चौंका दिया क्योंकि जिसतरह से रोहित, और पंत बल्लेबाजी कर रहे थे तो लग नहीं रहा था कि विराट पारी घोषित करने के मूड में हैं, लेकिन जडेजा के आउट होते ही विराट ने रोहित को वापस बुला लिया और पारी घोषित कर दी. विशेषज्ञों का मानना है कि विराट अगर थोड़ी योजना बनाकर पारी घोषित करते तो शायद टीम इंडिया को कम से कम 20-25 रन ज्यादा मिल जाते. अब सब कुछ टीम इंडिया की गेंदबाजी पर निर्भर करेगा कि मैच किस तरफ जाता है.

मेलबर्न टेस्ट में टीम इंडिया के लिए इन क्रिकेटर ने खेला बेहतरीन

मेलबर्न:  भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज के तीसरे टेस्ट का पहला दिन टीम इंडिया के बल्लेबाजों के नाम रहा. हनुमा विहारी और मयंक अग्रवाल के रूप में सलामी बल्लेबाजी की नई जोड़ी ने टीम इंडिया के लिए बिलकुल वैसी ही शुरुआत दी जैसी की उनसे उम्मीद की जा रही थी. मयंक अग्रवाल ने  शानदार बल्लेबाजी की. इसके बाद विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा ने शानदार बल्लेबाजी कर तीसरा सत्र भी भारत के नाम कर लिया.

तीसरे सत्र में पुजारा विराट ने संभाली पारी
बॉक्सिंग डे पर मयंक अग्रवाल ने टीम इंडिया के लिए सबसे ज्यादा 76 रन बनाए उसके बाद चेतेश्वर पुजारा ने भी अपनी लय वापस हासिल करते हुए 200 गेंदों पर अपने 68 रन बनाए. चाय के बाद विराट ने आते ही तेजी से रन बनाने शुरू कर दिए जिसके बाद चेतेश्वर पुजारा ने  अपने करियर की 21वीं और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 8वीं टेस्ट हाफ सेंचुरी पूरी की.  पारी के 71वें ओवर में पुजारा ने मिचेल स्टार्क की गेंद पर एक रन लेकर अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की. पुजारा की इस सीरीज की यह दूसरी फिफ्टी है. वहीं वे एडिलेड की पहली पारी में शानदार शतक लगाया था जिसकी वजह से टीम इंडिया एडिलेड टेस्ट में ऐतिहासिक जीत हासिल कर सकी थी. इसके बाद पुजारा पर्थ टेस्ट में केवल 24 और 4 रनों की पारी खेल पाए थे
मयंक और विहारी का भी रहा योगदान
 मयंक ने बेहतरीन 76 रन बनाए और चाय तक अपना विकेट बचा लिया, वे चाय से ठीक पहले ही आउट हुए. हनुमा विहारी खुलकर रन बनाने में कमयाब नहीं रहे, लेकिन 18 ओवर तक अपना विकेट बचाए रखना उनके लिए उपलब्धि ही माना जाना चाहिए. चाय के समय भारत ने दो विकेट पर 123 रन बना लिये थे. के एल राहुल और मुरली विजय के नाकाम रहने के कारण अग्रवाल को मौका दिया गया जिन्होंने आत्मविश्वास के साथ खेलते हुए ढीली गेंदों को नसीहत दी. बल्लेबाजों की मददगार पिच पर आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाजों को खास मदद नहीं मिली. 

दूसरा सत्र भी रहा खास
अग्रवाल चाय से ठीक पहले पैट कमिंस की गेंद पर अपना विकेट गंवा बैठे. इससे पहले कमिंस ने हनुमा विहारी को लंच से पहले आठ के स्कोर पर पवेलियन भेजा था. चाय के समय चेतेश्वर पुजारा 33 रन बनाकर खेल रहे थे. उन्होंने अग्रवाल के साथ दूसरे विकेट के लिये 83 रन जोड़े. लंच के बाद भारत ने दूसरे सत्र में 66 रन बनाये और एक विकेट गंवाया. अग्रवाल ने अपना अर्धशतक 95 गेंदों में पूरा किया. वह टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण के साथ अर्धशतक जमाने वाले भारत के सातवें बल्लेबाज बन गए.
ये खास बातें भी रहीं
विदेश में पिछले 11 टेस्ट में यह दूसरा मौका है जब सौ रन बनने के बाद विराट कोहली क्रीज पर उतरे. इससे पहले इंग्लैंड के खिलाफ नाटिंघम में दूसरी पारी के दौरान ऐसा हुआ था. मिशेल मार्श की गेंद पर 52वें ओवर में उस्मान ख्वाजा ने पुजारा को जीवनदान दिया. तीन ओवर बाद हालांकि कमिंस ने तीसरी स्लिप में अग्रवाल को लपकवाया. इससे पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टास जीतकर बल्लेबाजी का फैसला लिया और इस साल छठी नयी सलामी जोड़ी उतारी. विदेश में इस साल 11 टेस्ट में यह पांचवीं नयी शुरूआती जोड़ी थी. यह इस जोड़ी के लिए एक खास उपलब्धि है. 

यह रिकॉर्ड बनाया मयंक विहारी ने
विहारी और अग्रवाल ने 18.5 ओवर में 40 रन बना लिये जो गेंदों का सामना करने के मामले में टेस्ट क्रिकेट में आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में दिसंबर 2010 के बाद से भारत की सबसे बड़ी सलामी साझेदारी थी. उस समय गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग ने सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 29. 3 ओवर खेले थे. नाथन लियोन को आठवें ही ओवर में गेंद सौंप दी गई. विहारी को पैट कमिंस ने 19वें ओवर में स्लिप में आरोन फिंच के हाथों लपकवाया. 

राजस्थान ने छात्र-छात्रा दोनों वर्ग के गोल्ड मेडल पर जमाया कब्जा

जयपुर । स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित 64वीं टारगेट बॉल राष्ट्रीय खेलकूद प्रतियोगिता 2018-19 में राजस्थान के छात्र व छात्राओं ने दोनों वर्गों में प्रथम स्थान प्राप्त कर ट्रॉफी पर कब्जा जमाया। राजस्थान के छात्रों ने यूपी को हराकर प्रथम स्थान प्राप्त किया, वहीं दूसरी ओर बालिकाओं ने आंध्र प्रदेश की टीम को फाइनल में हराकर गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया। समापन समारोह में संस्था निदेशक बलबीर चौधरी ने संबोधन में कहा कि हार जीत खेल मैदान का हिस्सा है जो खिलाड़ी जीते हैं वह अपना प्रदर्शन बरकरार रखें तथा जो हारे हैं वह जीत के लिए अपने खेल कौशल एवं मानसिक सुदृढ़ता के लिए और अधिक प्रयास परिश्रम करें। इस अवसर पर पर्यवेक्षक शिवम सोनी, प्रतियोगिता सचिव सुनील फगोड़ीया, संयोजक अमरीश कुमार शर्मा, केएल कुमावत, प्राचार्य डॉ रतन लाल जाट, हनुमान सहाय माली, डॉ. मोहन चौधरी आदि ने विजेता खिलाडिय़ों को मेडल तथा ट्रॉफी प्रदान की।

ये रहे परिणाम
प्रतियोगिता के सचिव सुनील फगोडिय़ा ने बताया कि छात्रा वर्ग में राजस्थान प्रथम, आंध्र प्रदेश द्वितीय तथा गुजरात की टीम तीसरे स्थान पर रही। फाइनल मैच में आंध्र प्रदेश की टीम को राजस्थान की टीम ने 1-2 से मात दी। जबकि तीसरे स्थान के लिए खेले गए मैच में गुजरात में ने 7 अंकों के साथ बढ़त हासिल करते हुए छत्तीसगढ़ मात दे तीसरा स्थान प्राप्त किया। छात्र वर्ग के फाइनल मैच में राजस्थान ने यूपी को 5-2 से शिकस्त दी। वहीं तीसरे स्थान पर विद्या भारती मध्य प्रदेश की टीम रही।
 

रणजी ट्रॉफी : दिल्ली ने मध्य प्रदेश को दी मात

 दिल्ली ने सोमवार को यहां फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले गए रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-बी के चार दिवसीय मैच में तीसरे दिन ही मध्य प्रदेश को नौ विकेट से हरा दिया। दिल्ली ने विकास मिश्रा के मैच में लिए गए 12 विकेट के दम पर मध्य प्रदेश को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया।

चौथी पारी में मेजबान टीम को जीत के लिए महज 29 रन चाहिए थे जिसे उसने एक विकेट खोकर हासिल कर लिया। विकास ने पहली पारी में छह विकेट लेकर मध्य प्रदेश को 132 रनों पर ही ढेर कर दिया था। दिल्ली ने अपनी पहली पारी में बड़ा स्कोर तो नहीं बनाया लेकिन 261 का स्कोर कर मेहमान टीम पर 104 रनों की बढ़त ली।

विकास ने एक बार फिर छह विकेट लेकर मध्य प्रदेश को 157 रनों पर ही रोक दिया जिससे उसके सामने बेहद आसान सा लक्ष्य आया। दिल्ली ने कुणाल चंदेला (6) के रूप में एक मात्र विकेट खोया। हितेन दलाल (नाबाद 15) और ध्रूव शोरे (नाबाद 4) ने टीम को जीत दिलाई।