Updated -

mobile_app
liveTv

टेस्ट टीम में रोहित का चयन न करने पर टीम सलेक्टर्स पर बरसे भज्जी

नई दिल्ली। वेस्ट इंडीज के खिलाफ शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया की घोषणा होते ही सलेक्टर्स पर कई सवाल खड़े हो गए। टेस्ट टीम में कई सीनियर खिलाड़ियों को शामिल नहीं किया गया है जिसमें एशिया कप जिताने वाले रोहित शर्मा का नाम भी शामिल। फिर एक बार रोहित को टेस्ट में मौका नहीं मिलने पर पूर्व दिग्गज स्पिनर हरभजन ने कड़ी नाराजगी जताई और सलेक्टर्स पर सीधे सवाल उठा दिया।

शनिवार को बीसीसीआई ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 4 अक्टूबर से शुरू हो रही घरेलू टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान किया। 15 सदस्य टीम में मुरली विजय, शिखर धवन के साथ-साथ रोहित शर्मा का नाम भी गायब है। रविवार को हरभजन सिंह ने ट्वीट करके रोहित का नाम नहीं होने पर नाराजगी जताई।

भज्जी ने ट्विटर पर लिखा, "वेस्ट इंडीज के खिलाफ भारतीय टेस्ट टीम में रोहित शर्मा नहीं हैं! आखिर सलेक्टर्स क्या सोच रहे हैं? क्या किसी को इस बात का पता है? प्लीज मुझे भी बता दीजिए, क्योंकि मैं इस बात को पचा नहीं पा रहा हूं।" गौरतलब है कि रोहित शर्मा को इंग्लैंड दौरे पर नहीं ले जाने के दौरान भी कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने सवाल उठाए थे।

300 रन मारने वाले करुण नायर को आज भी है इस बात का अफसोस

गौरतलब है कि पिछले काफी वक्त से भारतीय वनडे टीम के ओपनर रोहित शर्मा अच्छे फॉर्म में हैं। उन्होंने हाल ही में एशिया कप में कप्तानी करते हुए टूर्नामेंट में 317 रन बनाए, जिसमें पाकिस्तान के खिलाफ एक शानदार शतक भी शामिल है। बता दें कि रोहित शर्मा ने अब तक 25 टेस्ट खेले हैं जिसमें लगभग 40 की औसत से 1479 रन बनाए हैं। उनके नाम 3 शतक और 9 अर्धशतक हैं।

टेस्ट टीम में चुने जाने के बाद मोहम्मद सिराज ने कहा, कोहली और धोनी की सलाह ने बदली जिंदगी

नई दिल्ली। वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए चुने गए मोहम्मद सिराज ने अपने चयन पर बात करते हुए बताया कि कैसे विराट कोहली और महेंद्र सिंह धौनी की एक सलाह ने उनकी पूरा करियर ही बदल दिया। हाल ही में भारत ए की तरफ से खेलते हुए इंग्लैंड ए और वेस्टइंडीज ए के खिलाफ 25 विकेट लेने वाले सिराज ने कहा कि वह अपने चयन से काफी खुश हैं। इस खिलाड़ी ने बताया कि जब मेरा चयन टी-20 टीम में हुआ था तो कोहली ने मुझे बहुत सपोर्ट किया था।

सिराज ने कहा कि यह मेरे लिए सपने के सच होने जैसा है। हर किसी की तरह मेरा भी सपना था कि मैं टेस्ट क्रिकेट में भारत का प्रतिनिधित्व करूं। मुझे पता था कि एक दिन मैं चयनकर्ताओं को प्रभावित कर लूंगा। मैंने हाल में ही काफी अच्छा प्रदर्शन किया था इसलिए मुझे चयन की पूरी उम्मीद थी।

अपने पहले इंटरनेशनल मैच को याद करते हुए सिराज ने बताया कि जब मैं टी-20 मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ चुना गया तो काफी नर्वस था। मैंने विराट कोहली से बात कि तो उन्होंने कहा कि चिंता मत कर, मैदान पर बात करेंगे। बस तू कल खेलने के लिए तैयार रह।

इसके बाद जब मैं मैदान में पहुंचा तो कोहली ने मुझसे कहा कि मैंने तेरा खेल देखा है। तुम मैदान पर जा और अपनी गेंदबाजी करो, बस ज्यादा प्रयोग मत करना। कोहली ने जैसे ही ये बोला तो मेरे ऊपर जो दबाव था, वह हट गया। इसके बाद जब मुझे केन विलियमसन का विकेट मिला तो काफी उत्साहित हो गया क्योंकि वह मेरा पहला इंटरनेशनल विकेट था।

 

इस दिग्गज ने ऋषभ पंत को बताया विश्व कप के लिए प्रबल दावेदार

दुबई। भारतीय क्रिकेट टीम इस समय वनडे के लिए मध्यक्रम में नंबर-4 स्थान को लेकर दुविधा में है। टीम को इस स्थान के लिए उपर्युक्त बल्लेबाज नहीं मिल रहा है। पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान का मानना है कि युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत अगले साल होने वाले विश्व कप के लिए भारतीय टीम में जगह बनाने के प्रबल दावेदार हैं।

जहीर यहां जारी एशिया कप के लिए स्टार स्पोट्र्स के डगऑउट प्रोग्राम में एक विशेषज्ञ के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि पंत टीम में अपनी जगह बना सकते हैं। विश्व कप से पहले अभी 25 मैच और होने हैं और अभी भी यह एक लंबा रास्ता है। पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि टीम प्रबंधन अलग-अलग विकल्पों को तलाशने की कोशिश कर रहा है। 

प्रबंधन की नजर उन पर भी है क्योंकि उनमें खेल की परिस्थितियों को बदलने की क्षमता है। उनमें बड़े छक्के लगाने की काबिलियत है जिसकी हमें अंतिम ओवरों में जरूरत होती है। जहीर का मानना है कि भारत को आगामी विश्व कप में तीन तेज गेंदबाज और दो स्पिनरों के साथ उतरना चाहिए।

पंजाब के राज्यपाल बदनौर ने जीवी मावलंकर शूटिंग चैंपियनशिप में जीता रजत

भोपाल। 70 साल की उम्र में जब लोग बीमारियों से निजात के लिए गोलियां खाते हैं, उस उम्र में पंजाब के राज्यपाल व चंडीगढ़ के प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने भोपाल राष्ट्रीय चैंपियनशिप में बतौर खिलाड़ी निशाने लगाए। बदनौर के निशाने इतने सटीक थे कि बिशनखेड़ी शूटिंग रेंज में आयोजित 28वीं जीवी मावलंकर शूटिंग चैंपियनशिप में उन्होंने रजत पदक जीता।

प्रतियोगिता में बदनौर ने ट्रैप स्पर्धा के वेटरन्स वर्ग में हिस्सा लिया था। महाराष्ट्र के प्रवीण सिंह ने स्वर्ण जबकि गुजरात के निशानेबाज जहान बख्श ने कांस्य पदक हासिल किया। 

एक महीने से कर रहे थे तैयारी : बदनौर को यह सफलता तुक्के से नहीं मिली। तमाम राजनीतिक व्यस्तताओं के बावजूद वे इस टूर्नामेंट के प्रति बेहद गंभीर थे और एक महीने से अभ्यास कर रहे थे। उन्होंने पटियाला की मोतीबाग शूटिंग रेंज में भारतीय जूनियर टीम के कोच विश्वदेव सिंह सिद्धू से बकायदा प्रशिक्षण लिया। खास बात यह है कि अभ्यास के दौरान श्रेष्ठ स्कोर आने के बाद ही उन्होंने टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के मामले में हामी भरी थी। जीवी मावलंकर देश का दूसरे नंबर का सबसे बड़ा शूटिंग इवेंट माना जाता है। ऐसे में इस टूर्नामेंट में मिली जीत से बदनौर बेहद उत्साहित हैं।

कोच ने भी जताई खुशी : बदनौर के कोच का कहना है कि वह लंबे समय से शौकिया शूटिंग करते रहे हैं, लेकिन इस बार उन्होंने इस शौक को राष्ट्रीय स्तर की स्पर्धा में आजमाने का फैसला किया था। उनके शानदार प्रदर्शन को देखकर यही लगता है कि अब उनका यह शौक काफी दूर तक जाएगा।

फेडरर, ज्वेरेव की जीत से टीम यूरोप का लेवर कप पर कब्जा बरकरार

शिकागो। जर्मनी के टेनिस खिलाड़ी एलेक्जेंडर ज्वेरेव की दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन के ऊपर जीत के साथ ही टीम यूरोप ने विश्व टीम को मात देकर रॉड लेवर कप का खिताब अपने पास ही रखा। टीम यूरोप ने विश्व टीम को 13-8 से हराया। 

एलेक्जेंडर ने एंडरसन को टूर्नामेंट के अंतिम दिन 6-7, 7-5 10-7 से मात दी। इससे पहले, टीम यूरोप का हिस्सा रहे रॉजर फेडरर ने जॉन इस्नर को 6-7, 7-6, 10-7 से मात दी। फेडरर और ज्वेरेव हालांकि डबल्स मुकाबलों में इस्नर और जैक सोक की जोड़ी से मात खा गए थे। यूरोप ने दिन की शुरुआत 7-5 की बढ़त के साथ की थी। उसे अंतिम दिन जीत के लिए तीन अंकों की आवश्यकता थी। ज्वरेव ने कहा कि मैं इस जीत से काफी खुश हूं। हमने खिताब का अच्छे से बचाव किया। फेडरर अच्छे कोच नहीं हैं, लेकिन उन्होंने मेरी काफी मदद की। उन्होंने मुझे कई अच्छी रणनीतिक सलाह दी और उन्होंने काम भी किया क्योंकि मैं दूसरा सेट जीता और फिर मैच का टाई ब्रेक भी। टीम यूरोप ने प्राग में हुए पिछले सत्र में जीत हासिल की थी। अगले वर्ष यह टूर्नामेंट जेनेवा में 20-22 सितंबर के बीच आयोजित किया जाएगा।

Asia Cup: धवन-रोहित के शतकों से भारत की पाक पर सबसे बड़ी जीत

दुबई। शिखर धवन (114) और रोहित शर्मा (111 नाबाद) के शतकों की मदद से भारत ने रविवार को एशिया कप के सुपर-4 राउंड में पाकिस्तान पर 9 विकेट से धमाकेदार जीत दर्ज की। 238 रनों के टारगेट को भारत ने 39.3 ओवरों में 1 विकेट खोकर हासिल किया। यह भारत की पाकिस्तान पर विकेटों के लिहाज से सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले पाकिस्तान ने शोएब मलिक के अर्द्धशतक (78) की मदद से 7 विकेट पर 237 रन बनाए। एक अन्य मैच में अबुधाबी में बांग्लादेश के हाथों अफगानिस्तान की हार के साथ ही भारत ने फाइनल में प्रवेश कर लिया।

भारत ने इस जीत के साथ ही एशिया कप के फाइनल में प्रवेश कर लिया। धवन और रोहित ने पहले विकेट के लिए रिकॉर्ड दोहरी शतकीय (210) साझेदारी की। टूर्नामेंट के इस संस्करण में भारत की पाकिस्तान पर लगातार दूसरी जीत है। यह भारत की पाकिस्तान पर विकेटों के लिहाज से वनडे में सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले भारत ने छह बार पाकिस्तान को 8 विकेट से हराया है जिनमें इस संस्करण में 19 सितंबर को मिली जीत भी शामिल है। 

टीम इंडिया जब लक्ष्य का पीछा कर रही थी तब रोहित शर्मा भाग्यशाली रहे कि उन्हें 12 के स्कोर पर जीवनदान मिला। रोहित का अफरीदी की गेंद पर कवर्स पर इमाम ने आसान कैच छोड़ा। धवन ने शादाब खान की गेंद पर चौका लगाकर वनडे में 26वीं फिफ्टी पूरी की। रोहित ने आमिर की गेंद पर 2 रन लेकर फिफ्टी पूरी की। रोहित जब 81 रनों पर थे तब शादाब की गेंद पर फखर जमान ने उनका आसान कैच छोड़ा। धवन ने अफरीदी की गेंद पर चौका लगाकर शतक पूरा किया। वे 109 गेंदों में 14 चौकों और 2 छक्कों की मदद से सेंचुरी तक पहुंचे। धवन शतक पूरा करने के बाद जोखिमभरा रन चुराने के प्रयास में रन आउट हुए। उन्होंने 100 गेंदों में 16 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 114 रन बनाए।

रोहित ने शोएब मलिक की गेंद पर 2 रन लेकर शतक पूरा किया। यह उनका 19वां वनडे शतक हैं। उन्होंने इस पारी के दौरान जैसे ही 94 रन पूरे किए थे, उनके वनडे क्रिकेट में 7000 रन पूरे हुए थे। वे यह कमाल करने वाले नौवें भारतीय बल्लेबाज बने। रोहित 119 गेंदों का सामना कर 7 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 111 रन बनाकर नाबाद रहे। रोहित के साथ अंबाती रायुडू 12 रन बनाकर नाबाद रहै। 

इसके पूर्व पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। चहल ने अपने पहले ओवर में भारत को सफलता दिलाई जब उन्होंने इमाम को पैवेलियन लौटाया। इमाम को अंपायर ने एलबीडब्ल्यू नहीं दिया था, लेकिन भारत ने रिव्यू लिया और फैसला उनके पक्ष में आया। इमाम ने 10 रन बनाए। फखर जमान ने आक्रामक अंदाज में खेलना शुरू ही किया था कि वे कुलदीप यादव की गेंद को स्वीप करने के चक्कर में एलबीडब्ल्यू हुए। फखर स्वीप करने के प्रयास में फिसल गए थे। उन्होंने 44 गेंदों में 31 रन बनाए। अभी पाक इस सदमे से उबरा भी नहीं था कि बाबर आजम कप्तान सरफराज के साथ तालमेल गड़बड़ाने से रन आउट हुए। वे मात्र 9 रन बना पाए। 58 रनों पर तीसरा विकेट गिरने के बाद शोएब और सरफराज पाक की पारी को संभाला।

मलिक ने भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर 1 रन लेते हुए फिफ्टी पूरी की। यह उनकी भारत के खिलाफ 11वीं और कुल 43वीं फिफ्टी है। उन्होंने 64 गेंदों में 3 चौकों और 1 छक्के की मदद से फिफ्टी पूरी की। कुलदीप ने सरफराज को कवर्स पर रोहित के हाथों झिलवाया। उन्होंने 44 रन बनाए और मलिक के साथ चौथे विकेट के लिए 107 रन जोड़े। अब पाक की उम्मीद मलिक पर टिक गई थी लेकिन वे जसप्रीत बुमराह की गेंद पर विकेटकीपर धोनी को कैच दे बैठे। उन्होंने 90 गेंदों का सामना कर 4 चौको और 2 छक्कों की मदद से 78 रन बनाए। आसिफ अली (30) को चहल ने बोल्ड किया। शादाब खान (10) को बुमराह ने बोल्ड किया। भारत ने प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया। पाकिस्तान ने टीम में दो बदलाव किए। उस्मान खान की जगह मो. आमिर और हैरिस सोहैल की जगह शादाब खान को लिया गया। 

लगातार तीन जीत दर्ज कर चुका भारत रविवार को एशिया कप के सुपर-4 राउंड में पाकिस्तान के खिलाफ किसी तरह की ढिलाई नहीं बरतेगा। टीम इंडिया इस बात को अच्छी तरह से जानती है कि यदि मौका मिला तो पाकिस्तान कभी भी वापसी कर लेती है।

इन दोनों टीमों के बीच ग्रुप में हुए मैच में भारत ने 8 विकेट से जीत दर्ज की थी। हांगकांग के खिलाफ संघर्षपूर्ण जीत के बाद टीम इंडिया ने पाक को आसानी से हराया था। बांग्लादेश को 7 विकेट से हराने के बाद भारत के हौसले बुलंद होंगे। भुवनेश्वर कुमार ने टीम को शुरुआती सफलता दिलाई जिसके बाद भारतीय स्पिनरों ने दबाव बनाया था। रवींद्र जडेजा ने पिछले मैच में शानदार गेंदबाजी की थी और टीम को उनसे इस मैच में भी जबर्दस्त प्रदर्शन की उम्मीद रहेगी। 

भारत की बल्लेबाजी अच्छी चल रही है और उसके ओपनर्स लय में दिख रहे हैं। शिखर धवन ने पाक के खिलाफ तो रोहित ने बांग्लादेश के खिलाफ फिफ्टी लगाई। अंबाती रायुडू और केदार जाधव भी लय में है जबकि महेंद्रसिंह धोनी ने बांग्लादेश के खिलाफ अच्छी पारी खेली।

पाकिस्तान को अफगानिस्तान पर जीत दर्ज करने में पसीना आ गया। 258 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पाक के लिए इमाम उल हक और बाबर आजम ने फिफ्टी जड़ी। इसके बाद विषम परिस्थिति में शोएब मलिक ने अपने अनुभव का लाभ उठाते हुए नाबाद अर्द्धशतक लगाकर टीम को जीत दिलाई थी। पाक ने शाहिन अफरीदी को मौका दिया और उन्होंने इसे सही साबित किया।

 

टीमें - (संभावित) : रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्रसिंद धोनी, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल।

पाकिस्तान : फखर जमान, इमाम उल हक, बाबर आजम, शादाब खान, शोएब मलिक, सरफराज अहमद (कप्तान), आसिफ अली, मोहम्मद नवाज, हसन अली, मो. आमिर, शाहिन अफरीदी।

Asia Cup: भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबला आज

दुबई। लगातार तीन जीत दर्ज कर चुका भारत रविवार को एशिया कप के सुपर-4 राउंड में पाकिस्तान के खिलाफ किसी तरह की ढिलाई नहीं बरतेगा। टीम इंडिया इस बात को अच्छी तरह से जानती है कि यदि मौका मिला तो पाकिस्तान कभी भी वापसी कर लेती है। भारत की निगाहें इस मैच को जीतकर फाइनल में जगह बनाने पर टिकी हुई है।

इन दोनों टीमों के बीच ग्रुप में हुए मैच में भारत ने 8 विकेट से जीत दर्ज की थी। हांगकांग के खिलाफ संघर्षपूर्ण जीत के बाद टीम इंडिया ने पाक को आसानी से हराया था। बांग्लादेश को 7 विकेट से हराने के बाद भारत के हौसले बुलंद होंगे। भुवनेश्वर कुमार ने टीम को शुरुआती सफलता दिलाई जिसके बाद भारतीय स्पिनरों ने दबाव बनाया था। रवींद्र जडेजा ने पिछले मैच में शानदार गेंदबाजी की थी और टीम को उनसे इस मैच में भी जबर्दस्त प्रदर्शन की उम्मीद रहेगी। 

भारत की बल्लेबाजी अच्छी चल रही है और उसके ओपनर्स लय में दिख रहे हैं। शिखर धवन ने पाक के खिलाफ तो रोहित ने बांग्लादेश के खिलाफ फिफ्टी लगाई। अंबाती रायुडू और केदार जाधव भी लय में है जबकि महेंद्रसिंह धोनी ने बांग्लादेश के खिलाफ अच्छी पारी खेली। भारत द्वारा इस मैच के लिए प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव की उम्मीद नहीं है।

पाकिस्तान को अफगानिस्तान पर जीत दर्ज करने में पसीना आ गया। 258 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पाक के लिए इमाम उल हक और बाबर आजम ने फिफ्टी जड़ी। इसके बाद विषम परिस्थिति में शोएब मलिक ने अपने अनुभव का लाभ उठाते हुए नाबाद अर्द्धशतक लगाकर टीम को जीत दिलाई थी। पाक ने शाहिन अफरीदी को मौका दिया और उन्होंने इसे सही साबित किया।

टीमें - भारत (संभावित) : रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्रसिंद धोनी, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल।

पाकिस्तान : फखर जमान, इमाम उल हक, बाबर आजम, हैरिस सोहैल, शोएब मलिक, सरफराज अहमद (कप्तान), आसिफ अली, मोहम्मद नवाज, हसन अली, उस्मान खान, शाहिन अफरीदी।

बारिश ने दिलाई बड़ौदा, हिमाचल प्रदेश और महाराष्ट्र को जीत

 

बेंगलुरू। विजय हजारे ट्रॉफी के दूसरे दिन गुरुवार को यहां खेले गए तीनों मैच बारिश के कारण पूरे नहीं हो सके और वीजेडी प्रणाली के इस्तेमाल से महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश और बड़ौदा की टीमें अपने-अपने मैच जीतने में सफल रहीं। बड़ौदा ने जस्ट क्रिकेट अकादमी मैदान पर खेले गए मैच में विदर्भ को वीजेडी प्रणाली के तहत 37 रनों से मात दी। 

विदर्भ ने पहले बल्लेबाजी करते हुए अर्थव ताइदे के 57, कप्तान फैज फजल के 56 रनों की मदद से निर्धारित 50 ओवरों में सभी विकेट खोकर 254 रन बनाए थे। बड़ौदा की टीम लक्ष्य का अच्छे से पीछा कर रही थी। उसने 29 ओवरों में दो विकेट खोकर 151 रन बना लिए थे तभी बारिश आ गई और मैच रोक दिया गया। इसके बाद वीजेडी प्रणाली का इस्तेमाल करते हुए बड़ौदा को विजेता घोषित कर दिया गया था।

बड़ौदा की तरफ से आदित्य वाघमोड़े ने 71 गेंदों में छह चौकों की मदद से 50 रन बनाए। आदित्य के सलामी जोड़ीदार केदार देवधर ने 39 गेंदों में छह चौके और दो चौकों की मदद से 46 रनों की पारी खेली। बारिश जब आई तब क्रूणाल पांड्या 34 और कप्तान दीपक हुड्डा 13 रन बनाकर खेल रहे थे।

वहीं अलुर में खेले गए मैच में भी बारिश ने खलल डाला और हिमाचल प्रदेश ने रेलवे को वीजेडी प्रणाली से मात दे दी। रेलवे ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 187 रन बनाए थे। मयंक डागर ने चार विकेट लेकर रेलवे को बड़ा स्कोर बनाने नहीं दिया। रेलवे के लिए कर्ण शर्मा ने सबसे अधिक 33 रन बनाए। हर्ष त्यागी ने 29 रनों का योगदान दिया। 

लक्ष्य का पीछा करने उतरी हिमाचल प्रदेश के लिए कप्तान प्रशांत चोपड़ा ने 93 गेंदों में आठ चौके और एक छक्के की मदद से 77 रनों की पारी खेली। निखिल गंगता ने 91 गेंदों में चार चौकों की मदद से 50 रन बनाए।

U-19 टीम में यातिन का स्थान लेंगे साबिर, इन्हें मिली कप्तानी

 

मुंबई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की अखिल भारतीय जूनियर चयन समिति ने शुक्रवार को आगामी एसीसी अंडर-19 एशिया कप के लिए भारत की अंडर-19 क्रिकेट टीम में यातिन मांगवानी के स्थान पर साबिर खान को शामिल किया है। बीसीसीआई ने एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए इसकी जानकारी दी। ढाका में 29 सितंबर से एसीसी अंडर-19 एशिया कप का आयोजन होने जा रहा है, जो सात अक्टूबर को समाप्त होगा। 
बीसीसीआई ने कहा, लखनऊ में हाल ही में समाप्त हुई अंडर-19 चतुष्कोणीय सीरीज के दौरान स्ट्रेस फ्रैक्चर के कारण यातिन को अंडर-19 एशिया कप से बाहर किया गया है। उल्लेखनीय है कि सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन ने पिछले दिनों श्रीलंका दौरे पर अंडर-19 भारतीय टीम के लिए डेब्यू किया था। हालांकि अर्जुन को वनडे के बजाय टेस्ट टीम के लिए चुना गया था। अर्जुन 24 सितंबर को 19 साल के हो जाएंगे।

मोरिन्हो के साथ अलगाव की बातों को लेकर पॉल पोग्बा ने कहा..

मैनचेस्टर। फ्रांस के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी पॉल पोग्बा ने इंग्लिश फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर युनाइटेड के कोच जोस मोरिन्हो के साथ विवाद की खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा है कि वे मैनचेस्टर युनाइटेड में काफी खुश हैं। पोग्बा टीम से अंदर-बाहर होते रहे हैं और मोरिन्हो ने उनसे अपने प्रदर्शन में निरंतरता लाने को कहा है। 

स्काई स्पोट्र्स ने पोग्बा के हवाले से लिखा है, यह शानदार है। बहुत शानदार। वे कोच हैं, मैं खिलाड़ी हूं। वे कोचिंग करते हैं और मैं खेलता हूं। पोग्बा ने कहा, मैं यहां बेहद खुश हूं। मैं अपनी टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ दूंगा। मेरे लिए मैं बहुत खुश हूं क्योंकि हम फाइनल में हैं। मैं सीजन का अंत शानदार तरीके से करना चाहता हूं। 

इटली के शीर्ष क्लब जुवेंतस से मैनचेस्टर युनाइटेड में आए पोग्बा ने कहा कि खराब दौर आपको मजबूत बनाता है। उन्होंने कहा, यह आपको मजबूत बनाता है और आपको बताता है कि आपको कड़ी मेहनत करनी है क्योंकि कुछ भी हो सकता है। इसने मुझ पर अच्छा प्रभाव डाला है।

फॉर्मूला 1 रेसर लुइस हेमिल्टन ने सेबेस्टियन वेटल पर लगाया यह आरोप

अजरबेजान। फॉूर्मला 1 रेसर लुइस हेमिल्टन ने अपने प्रतिद्वंद्वी सेबेस्टियन वेटल पर अजरबेजान ग्रांप्री में कार सुरक्षा नियमों को तोडऩे का आरोप लगाया है। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक मर्सिडीज के ड्राइवर हेमिल्टन ने कहा है कि वेटल ने रेस के दौरान बार-बार गाड़ी को धीमी और तेज करते हुए खतरनाक तरीके से गाड़ी चलाई।

ब्रिटेन के इस रेसर ने कहा है कि वे एफआईए फॉर्मूला-1 के निदेशक चार्ली व्हाइटनिंग से स्पेन में होने वाली अगली रेस से पहले इस पर जवाब मांगेंगे। हेमिल्टन ने कहा, आप बार-बार बंद-चालू, बंद-चालू का खेल नहीं खेल सकते। आप अपने पीछे के रेसर को इस तरह धोखा नहीं दे सकते। हेमिल्टन ने कहा कि वेटल आम तौर पर रिस्टार्ट पर इस तरह का व्यवहार करते हैं। 

उन्होंने कहा, ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने बार-बार एक्सीलेटर दबाया और फिर ब्रेक लगाए। मैं एक समय उनके काफी पीछे था। बाकु में भी उन्होंने ऐसा चार बार किया। मुझे इसे लेकर चार्ली से बात करनी होगी क्योंकि वे यह ऐसा कर रहे हैं मुझे समझ में नहीं आ रहा।

धोनी ने बताया कहां रह गई कमी, सूर्यकुमार यादव ने कही यह बात

पुणे। दो बार के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स को शनिवार को 11वें संस्करण के 27वें मुकाबले में 8 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि इस हार के बावजूद चेन्नई अंकतालिका में शीर्ष पर है। चेन्नई के सात मैच में पांच जीत व दो हार के साथ 10 अंक हैं। सनराइजर्स हैदराबाद और किंग्स इलेवन पंजाब की भी यही हालत है, लेकिन वे नेट रनरेट में चेन्नई से पीछे हैं।  हार के बाद आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में चेन्नई के कप्तान धोनी ने कहा कि यह जानना महत्वपूर्ण है कि कहां गलती हुई। ऐसी हार के काफी कुछ सीखने को मिलता है। हम लाजवाब व्यक्तिगत प्रदर्शनों पर निर्भर रहे, लेकिन हमारे 10-15 रन कम रह गए। बीच के ओवरों में मुंबई ने अच्छी गेंदबाजी की। ऐसे विकेट पर गति की जरूरत होती है। गेंद बल्ले पर नहीं आ रही थी। क्रॉस बैट शॉट खेलना आसान नहीं था। उनके स्पिनर्स भी बढिय़ा गेंदबाजी करने में सफल रहे। हमारे गेंदबाज गेंदों पर थोड़ी ज्यादा मेहनत कर सकते थे। ऐसी हार आपको विनम्र बनाती है। अगर आप लगातार जीतते जाएंगे तो आपको पता नहीं चलेगा कि किस जगह ज्यादा काम करना है। यह अच्छा मैच था और इससे हमें ऐसी परिस्थितियों से निपटने के बारे में सोचने की मदद मिलेगी। हमें यह पता करना है कि हम 20 रन और कहां जुटा सकते थे। हालांकि अभी भी टूर्नामेंट में काफी खेल बचा है।