Updated -

mobile_app
liveTv

Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

रणजी ट्रॉफी : दिल्ली ने मध्य प्रदेश को दी मात

 दिल्ली ने सोमवार को यहां फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले गए रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-बी के चार दिवसीय मैच में तीसरे दिन ही मध्य प्रदेश को नौ विकेट से हरा दिया। दिल्ली ने विकास मिश्रा के मैच में लिए गए 12 विकेट के दम पर मध्य प्रदेश को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया।

चौथी पारी में मेजबान टीम को जीत के लिए महज 29 रन चाहिए थे जिसे उसने एक विकेट खोकर हासिल कर लिया। विकास ने पहली पारी में छह विकेट लेकर मध्य प्रदेश को 132 रनों पर ही ढेर कर दिया था। दिल्ली ने अपनी पहली पारी में बड़ा स्कोर तो नहीं बनाया लेकिन 261 का स्कोर कर मेहमान टीम पर 104 रनों की बढ़त ली।

विकास ने एक बार फिर छह विकेट लेकर मध्य प्रदेश को 157 रनों पर ही रोक दिया जिससे उसके सामने बेहद आसान सा लक्ष्य आया। दिल्ली ने कुणाल चंदेला (6) के रूप में एक मात्र विकेट खोया। हितेन दलाल (नाबाद 15) और ध्रूव शोरे (नाबाद 4) ने टीम को जीत दिलाई।
 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

जडेजा को लेकर मुख्य चयनकर्ता प्रसाद ने दिया यह बयान

भारतीय टीम इस समय ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज खेलने में व्यस्त है। उसने पर्थ में खेला गया दूसरा टेस्ट 146 रन के बड़े अंतर से गंवा दिया। इसके बाद भारतीय टीम को चयन मामले पर कठघरे में खड़ा किया जा रहा था। भारत ने वहां रविचंद्रन अश्विन के चोटिल होने से रवींद्र जडेजा के बजाय उमेश यादव को अंतिम एकादश में शामिल किया। टीम इंडिया के पास एक भी विशेषज्ञ स्पिनर नहीं था।

रविवार को मुख्य कोच रवि शास्त्री ने साफ किया कि जडेजा को फिट नहीं होने की वजह से नहीं चुना गया। वे जब रणजी ट्रॉफी में खेल रहे थे तो भी उनके कंधे में जकडऩ थी। हालांकि अब मुख्य चयनकर्ता और पूर्व विकेटकीपर एमएसके प्रसाद ने जडेजा की फिटनेस को लेकर कुछ और ही बयान दिया है। प्रसाद ने कहा कि जब हमने ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए जडेजा का चयन किया था तो वे पूरी तरह से फिट थे।

चयन के लिए होने वाली बैठक से पहले चयन समिति को सभी खिलाडिय़ों की फिटनेस रिपोर्ट दी जाती है। इस रिपोर्ट के हिसाब से जडेजा पूरी तरह से फिट थे। इसलिए हमने उन्हें चुन लिया। इसके बाद जडेजा ने रेलवे के खिलाफ रणजी ट्रॉफी का मैच खेला और 60 से ज्यादा ओवर डाले। इसलिए यह कहना सही नहीं है कि चयन के समय वे अनफिट थे। 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

फुटबॉल में भारत के लिए साल 2018 शानदार रहा

भारतीय फुटबॉल के लिए साल 2018 शानदार रहा, जिसकी सबसे बड़ी उपलब्धि अंडर-20 टीम की 10 खिलाड़ियों के साथ खेलते हुए अर्जेंटीना जैसी मजबूत टीम को हराकर हासिल की गई जीत रही. दुनिया को लियोनल मेसी और डिएगो माराडोना जैसे दिग्गज फुटबॉलर देने वाले दो बार के विश्व चैम्पियन अर्जेंटीना के लिए यह साल खराब रहा. विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में फ्रांस के हारकर टीम का निराशाजनक सफर खत्म हुआ. फ्रांस फाइनल में क्रोएशिया को हराकर इसका चैम्पियन बना. क्रोएशिया की टीम विश्व कप में अंतिम बाधा को पार करने से चूक गई, लेकिन उन्होंने अपने खेल से दुनियाभर के फुटबॉल प्रेमियों का दिल जीता. टीम के कप्तान लुका मोड्रिक को अपने देश और क्लब (रियल मैड्रिड) के लिए शानदार प्रदर्शन करने के लिए बेलोन डि‘ओर से नवाजा गया.

भारतीय फुटबॉल की बात करें, तो कोच फ्लायड पिंटो की अंडर-20 भारतीय टीम में ऐसा कर दिखाया, जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी. टीम ने अगस्त में स्पेन के वेलेंसिया में कोटिफ कप के मैच में अर्जेंटीना को 2-1 से हराया. यह जीत और भी बड़ी थी, क्योंकि विश्व कप खेल चुके पाब्लो एइमर की देखरेख में खेलने वाली अर्जेंटीना के खिलाफ भारतीय टीम मैच के 40 मिनट तक 10 खिलाड़ियों के साथ खेल रही थी.
अर्जेंटीना के खिलाफ भारत की जीत ने फुटबॉल की दुनिया में देश का मान बढ़ाया, तो वहीं युवा खिलाड़ियों के लिए दुनिया की बेहतरीन टीमों के साथ लगातार खेलने का मौका उपलब्ध कराया. मैच के बाद पिंटो ने कहा, ‘अर्जेंटीना (इस खेल में) हमसे मीलों आगे है.’ भारत की अंडर-16 टीम भी सफलता के मामले में अंडर-20 टीम से ज्यादा पीछे नहीं थी, जिसने अम्मान में आमंत्रण टूर्नामेंट में एशिया की बड़ी टीम ईरान को हराया. खास बात यह है कि स्पेन में अर्जेंटीना पर मिली जीत के चार घंटों के बाद ही अंडर-16 टीम ने इस सफलता को हासिल किया.

टीम हालांकि 2019 में होने वाले अंडर-17 विश्व कप के लिए क्वालिफाई करने के बेहद करीब पहुंचकर चूक गई. क्वालिफायर्स के क्वार्टर फाइनल में टीम कोरिया से 0-1 से हारकर बाहर हो गई थी. पिछले साल अंडर 17 विश्व कप की मेजबानी करने वाले भारत की युवा टीमों की सफलता ने यह साबित किया की देश में प्रतिभा की कमी नहीं और इस खेल में हम 'स्लीपिंग जायंट्स' से 'पैशनेट जायंट्स' बनने की तरफ बढ़े हैं.

सीनियर टीम ने भी कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन की देखरेख में एएफसी 2019 एशियाई कप की तैयारियों के मद्देनजर कई मैच खेले और शानदार प्रदर्शन किया. एएफसी एशियाई कप में भारत के ग्रुप में मेजबान यूएई, थाईलैंड और बहरीन जैसी टीमें हैं. ग्रुप चरण में सफलता हासिल करने के बाद टीम को जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, ईरान और सऊदी अरब जैसी महाद्वीप की बड़ी टीमों से भिड़ने का मौका मिलेगा.
कांस्टेनटाइन ने साफ कर दिया है कि पांच जनवरी से एक फरवरी तक चलने वाली इस महाद्वीपीय प्रतियोगिता में अपनी छाप छोड़ने के लिए खिलाड़ियों को अपना सर्वश्रेष्ठ फुटबॉल खेलना होगा. टूर्नामेंट से पहले भारत ने चीन जैसी बड़ी टीम के साथ गोल रहित ड्रॉ खेला है, जिससे उनका हौसला बढ़ेगा. चीन के कोच विश्व कप विजेता इटली के मार्सेलो लिप्पी हैं.

इससे पहले भारत में हुए टूर्नामेंट में कप्तान सुनील छेत्री की प्रशंसकों से की गई अपील का काफी असर हुआ और मुंबई में मैच देखने के लिए मैदान में बड़ी संख्या में दर्शक पहुंचे. छेत्री ने सोशल मीडिया के जरिये प्रशंसकों से मैदान में आकर उनके सामने टीम के प्रदर्शन की आलोचना करने की अपील की. उनके इस ट्वीट को 60,000 से ज्यादा बार रीट्वीट किया गया था. भारत ने इस टूर्नामेंट में न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और केन्या जैसे देशों को हराकर खिताब जीता.

टूर्नामेंट के फाइनल में छेत्री ने देश के लिए अपना 64वां गोलकर सक्रिय फुटबॉलरों में अंतरराष्ट्रीय गोल के मामले में मेसी की बराबरी की. घरेलू फुटबॉल में रीयल कश्मीर शीर्ष लीग में खेलने वाली घाटी की पहली टीम बनी. उन्होंने आईलीग में शानदार प्रदर्शन किया है और टीम तालिका में दूसरे स्थान पर है.


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

अपूर्वी चंदेला ने भारतीय शूटिंग टीम में इस बार भी वही स्थान बरकरार रखा


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

धोनी के अमेरिकी फैन ने किया ऐसा काम, ट्विटर पर फोटो वायरल

नई दिल्ली,  भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी भारत में जितने लोकप्रिय हैं, माही के उतने ही चाहनेवाले विदेशों में भी हैं। इस बात का नज़ारा हमें एक बार फिर से देखने को मिला है
धौनी की फैन फॉलोइंग का उदाहरण एक बार फिर से तब देखने को मिला, जब अमेरिकी के शहर लॉस एंजिलिस में एक फैन की कार की नंबर प्लेट पर 'एमएस धौनी' का नाम लिखा नजर आया। चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम इस फैन की गाड़ी पर धौनी का नाम लिखा देख हैरान रह गई और उसने ट्विटर पर इसकी तस्वीर शेयर की है।
दिग्गज़ कप्तानों में शुमार है धौनी का नाम
धौनी के फैंस दुनियाभर में मौजूद हैं और हों भी क्यों न? इस खिलाड़ी ने अपनी कप्तानी में भारत को पहले टी-20 विश्व कप का चैंपियन बनाया। इसके बाद 2011 में माही की मैजिक की बदौलत भारत 28 साल बाद एक बार फिर से विश्व विजेता बना। धौनी की ही कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड में खेली गई चैंपियंस ट्रॉफी भी जीती थी।धौनी की कप्तानी का जलवा सिर्फ वनडे और टी-20 में ही नहीं बल्कि टेस्ट क्रिकेट में भी देखने को मिला। माही की कप्तानी में ही टीम इंडिया पहली बार टेस्ट की नंबर वन टीम बनीं। धौनी का नाम आज भी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में शुमार किया जाता है।
आइपीएल में भी छोड़ी छाप 
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तो धौनी ने अपनी छाप छोड़ी ही, इसके साथ ही साथ आइपीएल में भी उन्होंने अपना जलवा बरकरार रखा। धौनी की करिश्माई कप्तानी की बदौलत तीन बार चेन्नई की टीम ने आइपीएल का खिताब अपने नाम किया है। धौनी फैंस के बीच कितने लोकप्रिय है इस बात का अंदाज़ा इसी बात से लग जाता है कि माही जब भी दुनिया के किसी भी मैदान पर खेलने जाते हैं तो उन्हें देखने के लिए फैंस की भीड़ जुट जाती है। भारत में तो धौनी जब भी बल्लेबाज़ी के लिए मैदान पर उतरते हैं तो धौनी-धौनी की पुकार से पूरा स्टेडियम गूंज जाता है। 
तीन बार चेन्नई को बनाया आइपीएल चैंपियन
धौनी की कप्तानी में चेन्नई ने 2010, 2011 और इसी साल 2018 में आइपीएल का खिताब जीता है। चेन्नई और मुंबई ये दो ही टीमें हैं जिन्होंने तीन-तीन पर इस ट्रॉफी पर कब्ज़ा जमाया है। वहीं माही की कप्तानी में ही चेन्नई ने 2010 और 2014 में चैंपियंस लीग टी-20 का खिताब भी अपने नाम किया था। 

अब चेन्नई की टीम आइपीएल 2019 में भी धौनी की कप्तानी में खेलती नजर आएगी। चेन्नई सुपरकिंग्स ने 18 दिसंबर को जयपुर में हुई अगले सीजन की नीलामी में मोहित शर्मा और रितुराज गायकवाड़ के रूप में सिर्फ दो ही खिलाड़ी खरीदे, क्योंकि उन्हें नीलामी से ही पहले ही अपने स्टार खिलाड़ियों को रिटेन कर लिया था। चेन्नई ने मोहित शर्मा को 5 करोड़ रुपये और रितुराज गायकवाड़ को 20 लाख रुपये में खरीदा है। 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

केरल के दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने भी रचाई शादी

तिरुवनंतपुरम। केरल के दाएं हाथ के बल्लेबाज और विकेटकीपर संजू सैमसन ने शनिवार को यहां अपनी प्रेमिका चारुलता से शादी रचाई। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में राजस्थान रॉयल्स के लिए खेलने वाले 24 वर्षीय सैमसन और चारुलता का प्रेम संबंध कालेज के दिनों से है। दोनों ने कोवालम में हुए एक छोटे से समारोह में शादी की। 

रिसेप्शन शनिवार शाम को होगा। सैमसन ने कहा कि दोनों परिवारों के कुल 30 लोग ही यहां हुए एक छोटे से समारोह में मौजूद थे। हम खुश हैं कि हमें दोनों परिवार के सदस्यों की शुभकामनाएं मिलीं। सैमसन ईसाई हैं जबकि उनकी पत्नी चारू हिंदू हैं। दोनों ने विशेष विवाह अधिनियम के तहत विवाह किया।

दोनों एक-दूसरे को यहां मार इवानिओस कॉलेज के दिनों से जानते है। फिलहाल, चारू स्नातकोत्तर की पढ़ाई कर रहीं हैं। सैमसन को भारत के लिए एक टी20 मैच खेलने का भी मौका मिला, जिसमें उन्होंने 19 रन बनाए। सैमसन आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स टीमों के सदस्य भी रहे हैं।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

बुमराह की गेंदबाजी देख 'हैरान' हुए डेनिस लिली,कुछ इस तरह की तारीफ

कोलकाता । ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज डेनिस लिली ने भारतीय टीम के खिलाड़ी जसप्रीत बुमराह की जमकर तारीफ की है और कहा है कि भारत का यह गेंदबाज आमतौर पर की जाने वाली तेज गेंदबाजी के मायनों से हटकर है। बुमराह इस समय ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई भारतीय टीम का हिस्सा हैं। ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया है। 
लिली ने कहा, ‘मुझे लगता है कि बुमराह रोचक गेंदबाज हैं। वह काफी शॉर्ट रन अप के साथ आते हैं। वह पहले चलते हैं और फिर शॉर्ट रन अप से गेंद फेंकते हैं। उनके हाथ सीधे रहते हैं। उनकी गेंदबाजी किसी भी किताब में नहीं सिखाई जा सकती। इसलिए वह मुझे अपने समय के एक और गेंदबाज की याद दिलाते हैं, जो हम सभी से अलग था, वो हैं जैफ थॉमसन।’ 

लिली ने कहा, ‘वह हालांकि थॉमसन की तरह तेज नहीं हैं लेकिन उनसे इस तरह से मिलते जुलते हैं कि यह दोनों तेज गेंदबाजी की आम परिभाषा से हटकर खेलते हैं।’ बुमराह ने पहले दो टेस्ट मैचों में भारत के लिए सबसे ज्यादा 11 विकेट लिए हैं। दूसरे टेस्ट में भारत के चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरने के फैसले पर लिली ने कहा कि भारत से इस समय अच्छे तेज गेंदबाज सामने आ रहे हैं। 

उन्होंने कहा, ‘यह देखना अच्छा था, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह सिर्फ तेज गेंदबाजों की बात नहीं है भारत इस समय अच्छे तेज गेंदबाज निकाल रहा है।’ लिली ने कहा, ‘वह तेज गेंदबाजी में शानदार हो गए हैं और अब उन्हें चार गेंदबाज चुनने हों तो वह चुन सकते हैं। मैंने जितना भी उन्हें देखा है उसमें पाया है कि वह काफी अच्छे टेस्ट गेंदबाज हैं। पहले दो मैचों में उन्होंने जो गेंदबाजी की वो शानदार थी।’ 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

धोखाधड़ी के मामले में फंसे गौतम गंभीर, इस वजह से कोर्ट ने जारी किया वारंट

नई दिल्ली। हाल ही में क्रिकेट से संन्यास का लेने वाले गौतम गंभीर मुश्किलों में घिरते नज़र आ रहे हैं। गौतम गंभीर के खिलाफ वारंट जारी किया गया है। दिल्ली की एक अदालत ने एक रियल एस्टेट प्रोजेक्ट में फ्लैट खरीदारों से कथित तौर पर धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में लगातार समन भेजने के बावजूद पेश नहीं होने पर पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया।

शिकायत के अनुसार, 17 फ्लैट खरीदारों ने आरोप लगाया है कि उन्होंने 2011 में गाजियाबाद के इंदिरापुरम क्षेत्र में एक आने वाले एक प्रोजेक्ट में फ्लैटों की बुकिंग के वास्ते 1.98 करोड़ रुपए दिए थे लेकिन यह प्रोजेक्ट कभी शुरू नहीं हुआ। गंभीर रूद्र बिल्डवेल रिएलिटी प्राइवेट लिमिटेड और एच आर इंफ्रासिटी प्राइवेट लिमिटेड के संयुक्त प्रोजेक्ट के निदेशक और ब्रांड एम्बेसेडर थे।

हाउसिंग परियोजना में अपार्टमेंट बुक करने के नाम पर जनता से 1.98 करोड़ रुपए ठगने के आरोप में 2016 में मामला दर्ज कराया गया था। मुख्य मेट्रोपॉलिटल मजिस्ट्रेट मनीष खुराना ने कहा, ‘इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि गौतम गंभीर इस मामले में लगातार पेश नहीं हो रहे हैं और यहां तक कि सुनवाई की अंतिम तारीख में छूट संबंधी अर्जी खारिज होने के बाद भी वह हाजिर नहीं हुए इसलिए आरोपी के खिलाफ 10 हजार रुपए का जमानती वारंट जारी किया जाता है।'  अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 24 जनवरी निर्धारित की है।

गौतम गंभीर ने भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे मैच खेले। गंभीर 2007 टी-20 विश्व कप टीम का हिस्सा थे और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में शीर्ष स्कोरर रहे थे। गंभीर ने 2011 विश्व कप के फाइनल में भी श्रीलंका के खिलाफ 97 रन की पारी खेली थी। भले ही इस मैच में गंभीर शतक लगाने से चूक गए थे, लेकिन उन्होंने वर्ल्ड कप भारत की झोली में डालने में अहम भूमिका निभाई थी।


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

कपिल देव ने कहा कोहली नहीं, ये हैं भारत के सबसे बड़े क्रिकेटर

हिंदी जगत के महामंच एजेंडा आजतक के '2019 वर्ल्ड कप की तैयारी' सत्र में मंगलवार को भारतीय क्रिकेट टीम के दो पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर और कपिल देव ने शिरकत की. इस दौरान कपिल देव ने महेंद्र सिंह धोनी की जमकर तारीफ की और उन्हें भारत का सबसे बड़ा क्रिकेटर बताया.

उल्लेखनीय है कि कपिल और धोनी दोनों ही वर्ल्ड कप चैंपियन कप्तान हैं. कपिल ने 1983 में पहली बार ऐतिहासिक लॉर्ड्स में वर्ल्ड कप ट्रॉफी उठाई थी, जबकि धोनी ने वानखेड़े स्टेडियम में मशहूर छक्के की मदद से भारत को 2011 का वर्ल्ड कप जिताया था.

मौजूदा दौर में कप्तान और बल्लेबाज के तौर पर विराट कोहली लगातार ऊंचाइयां छू रहे हैं, इसके बावजूद कपिल देव उन्हें भारत का बेहतरीन क्रिकेटर नहीं मानते.

जब कपिल देव से पूछा गया कि धोनी के बारे में वे क्या सोचते हैं, तो उन्होंने बिना किसी हिचकिचाहट के कहा, 'धोनी भारत के सबसे बड़े खिलाड़ी हैं. उन्होंने 90 टेस्ट खेले और फिर कहा कि चलो अब युवाओं को मौका दें. धोनी ने ऐसा ही किया, अपने देश को खुद से पहले रखने के लिए उन्हें सलाम है.'

उल्लेखनीय है कि धोनी ने 2014 में ऑस्ट्रेलियाई दौरे के बीच में ही अचानाक टेस्ट क्रिकेट से संन्याल लेने की घोषणा कर दी थी. इसके बाद जनवरी 2017 में उन्होंने सीमित ओवरों के प्रारूपों में भारत की कप्तानी से भी खुद को अलग कर लिया.

पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर से जब यह पूछा गया कि क्या वह मानते हैं कि भारतीय टीम विश्व कप जीतेगी, तो उन्होंने कहा कि हां जरूर. उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि लॉर्ड्स में होने वाले फाइनल में आखिरी ओवर की आखिरी गेंद हो धोनी बल्लेबाजी कर रहे हों और सामने से पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर गेंद डालें और जीत के लिए 6 रनों की दरकार हो. आमिर की अंदर आती हुई गेंद पर धोनी सिक्सर मारें और ठीक वैसा ही इशारा करें जैसा उन्होंने 2011 के विश्वकप फाइनल में किया था.


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

क्रिकेट की मंडी में ये खिलाड़ी रह गए खाली हाथ ,पढ़े खबर

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11 संस्करण लो चुके हैं। यह सबसे लोकप्रिय टी20 टूर्नामेंट है और हर कोई इसमें खेलने की चाहत रखता है। जयपुर में मंगलवार को आईपीएल-12 के लिए क्रिकेटर्स की नीलामी हुई। हालांकि इसमें कई खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सितारा हैसियत रखने के बावजूद बिक नहीं पाए। साथ ही कई उदीयमान भारतीयों खिलाडिय़ों को भी निराशा हाथ लगी।

ये है उन खिलाडिय़ों की सूची जो नीलामी में नाम होने के बावजूद नही बिक पाए :- 

विदेशी : 
एलेक्स हेल्स, ब्रेंडन मैकुलम, क्रिस वोक्स, क्रिस जॉर्डन, बेन मैक्डरमॉट, एडम जम्पा, खारी पियरे, फवाद अहमद, उस्मान ख्वाजा, हजरतुल्ला जजई, रीजा हेंड्रिक्स, शॉन मार्श, हाशिम अमला, जेम्स नीशाम, एंजेलो मैथ्यूज, कोरी एंडरसन, जेसन होल्डर, ल्यूक रोंची, मुश्फिकुर रहीम, कुशल परेरा, ग्लेन फिलिप्स, केन रिचर्डसन, मोर्न मोर्केल, डेल स्टेन, कैस अहमद, रिली रोसोऊ, डेनियल क्रिस्टियन, जेम्स पैटिनसन, लेविस ग्रेगरी, पैट्रिक ब्राउन, फेबियन एलन, सिकंदर रजा, लौरी इवांस, जेमी ओवरटन।
 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

FIH ने हॉकी के नियम बदले , जाने क्या है वो नियम

लुसाने (स्विट्जरलैंड)। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) के कार्यकारी बोर्ड ने कार्यकारी समिति द्वारा प्रस्तावित खेल के नियमों के बदलावों को मंजूरी दे दी है। एफआईएच ने मंगलवार को एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी। नियमों में बदलाव एक जनवरी 2019 से लागू होंगे। नए नियमों के मुताबिक, अभी से एफआईएच के तत्वाधान और इसके नियमों के अंतर्गत जहां भी मैच खेले जाएंगे, सभी चार क्वार्टर प्रारूप में खेले जाएंगे।

एफआईएच ने बयान जारी कर जानकारी दी है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी मैच चार क्वार्टर के होते हैं। इस बात को महसूस किया गया है कि खेल में एकरूपता जरूरी है और इसी कारण सभी स्तर पर मैच अब चार क्वार्टर के प्रारूप में खेले जाएंगे। अंतरराष्ट्रीय मैच में पेनल्टी कॉर्नर देने से पेनल्टी कॉर्नर लेने तक के बीच में घड़ी को रोका जाता था। अंतरराष्ट्रीय मैचों के अलावा जहां भी एफआईएच के नियमों के मुताबिक मैच होंगे उनमें भी यह नियम लागू होगा।

महासंघ के नए नियमों के मुताबिक जरूरत पडऩे पर गोलकीपर को हटाने की जरूरत नहीं होगी। कई बार टीम अतिरिक्त खिलाड़ी मैदान पर उतारने के लिए गोलकीपर को हटा देती थी, लेकिन अब उनके पास एक अन्य विकल्प होगा कि वह गोलकीपर को ही कुछ तय गीयरों के साथ मैदान पर उसकी सेवा ले सकती हैं।
 


Notice: Undefined index: author in /home/jaipurtimes/public_html/news-category.php on line 129

युनाइटेड क्लब ने इस कोच को किया बर्खास्त

मैनचेस्टर। इंग्लिश फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर युनाइटेड ने मंगलवार को अपने मुख्य कोच जोस मोरिन्हो को बर्खास्त कर दिया है। युनाइटेड की टीम इस सीजन खराब फॉर्म से गुजर रही है, जिसके कारण क्लब ने यह निर्णय लिया। समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, युनाइटेड 19 अंकों के साथ फिलहाल इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) की तालिका में छठे पायदान पर मौजूद है। रविवार को उसे लिवरपूल के खिलाफ 1-3 से करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। 

क्लब ने ट्वीट किया कि मैनचेस्टर युनाइटेड घोषणा करता है कि जोसे मोरिन्हो क्लब से अलग हो रहे हैं। पुर्तगाल के मोरिन्हो को 2016 में क्लब का मुख्य कोच नियुक्त किया गया था। पहले सीजन में यूरोपा लीग और लीग कप खिताब जीतने के बावजूद वह क्लब को ईपीएल खिताब का दावेदार नहीं बना पाए। क्लब ने कहा कि हम उन्हें मैनचेस्टर युनाइटेड में उनके कार्यकाल के लिए धन्यवाद देना चाहते हैं और भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हैं।