Updated -

mobile_app
liveTv

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने भारतीय मीडिया को गलत ठहराया

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने भारतीय मीडिया को गलत ठहराया और कश्मीर मुद्दे को लेकर दिए बयान पर अपनी सफाई पेश की है। कुछ समय पहले ही अफरीदी ने कहा था कि कश्मीर को आजाद करना चाहिए। यह गौर करना चाहिए कि पाकिस्तान अपने चार प्रांतों को संभाल नहीं पा रहा है। अब उन्होंने अपनी सफाई सोशल मीडिया के जरिये दी है।पाकिस्तान के पूर्व स्टाइलिश ऑलराउंडर अफरीदी ने ट्वीट किया, 'मेरे बयान को भारतीय मीडिया ने गलत लिया। मैं अपने देश के लिए जुनूनी हूं और कश्मीरियों के संघर्षों की बहुत इज्जत करता हूं। मानवता को जीवित रहना चाहिए और उन्हें अपने अधिकार मिलना चाहिए।'उन्होंने एक और ट्वीट में अपनी बात पूरी करते हुए लिखा, 'मैंने क्लिप अधूरी और मुद्दे से बाहर की है क्योंकि इससे पहले जो कहा वो उसमें है ही नहीं। कश्मीर अनसुलझा विवाद है और क्रूर भारतीय कब्जे के तहत है। संयुक्त राष्ट्र संकल्प के अनुसार इसे हल किया जाना चाहिए। मेरे साथ हर पाकिस्तानी कश्मीरी स्वतंत्रता संघर्ष का समर्थन करता है। कश्मीर पाकिस्तान से संबंधित है।'पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने बुधवार को लंदन में मीडिया के सामने कहा था, 'कश्मीर को आजाद करना चाहिए। मानवता को जिंदा रहना चाहिए। लोगों को मौत नहीं मिलना चाहिए। पाकिस्तान को कश्मीर नहीं चाहिए। वह अपने चार प्रांत भी नहीं संभाल पा रहा है। बड़ी चीज है इंसानियत। वहां लोग मर रहे हैं, जो दर्दनाक है। किसी भी समुदाय के लोगों की मौत दर्दनाक है।'याद हो कि पाकिस्तान के नए वजीर-ए-आजम इमरान खान ने जम्मू-कश्मीर मुद्दे को जल्द सुलझाने की बात कही थी। वैसे, अफरीदी पहले भी कई बार जम्मू-कश्मीर से जुड़े मुद्दे पर बयान दे चुके हैं।

पिछले वर्ष भारत में संपन्न वर्ल्ड टी-20 के दौरान पूर्व कप्तान ने कहा था कि कश्मीर के लोगों ने आकर हमारी हौसला अफजाई की। मैं तहे दिल से उनका शुक्रिया अदा करता हूं। अफरीदी के इस बयान पर बवाल हुआ था। यही नहीं, अफरीदी ने कश्मीर की आजादी के संबंध में कई ट्वीट भी किए हैं। अब उनके इस बयान का क्या असर होगा, यह देखने वाली बात रहेगी।

देखिए, विराट कोहली और अनुष्का शर्मा की देहरादून ट्रिप

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार कप्तान विराट कोहली और बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा दिवाली से पहले देहरादून चले गए थे. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का 5 नवंबर को बर्थडे था, जिसे उन्होंने पत्नी अनुष्का संग देहरादून में सेलिब्रेट किया था. इस दौरान विराट कोहली और अनुष्का शर्मा आम्बुवाला स्थित अनंतधाम में पूजा अर्चना के लिए भी पहुंचें. मिली जानकारी के मुताबिक इस दौरान गुरु अनंत बाबा ने विरुष्का के लिए एक पूजा अर्चना की थी. तस्वीर में फोटो में विराट-अनुष्का के साथ आध्यात्मिक गुरु महाराज अनंत बाबा और फैमिली मेंबर नजर आ रहे हैं.

विराट कोहली और अनुष्का शर्मा के इस खास ट्रिप की फोटो सोशल मीडिया फैनक्लब अकाउंट्स पर वायरल हो रही हैं. इस फोटो में अनुष्का शर्मा के आध्यात्मिक गुरु महाराज अनंत बाबा भी दिख रहे हैं. लोग इन फोटो पर जमकर कमेंट कर रहे हैं. फैन्स को ये तस्वीरें बेहद पसंद आ रही है. विराट कोहली और अनुष्का शर्मा की एक साथ फोटो के लिए फैन्स बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं अब दोनों की कई फोटो फैन्स को एक साथ देखने को मिली है.

वेस्टइंडीज के खिलाफ जारी टी-20 सीरीज में टीम इंडिया के स्टार कप्तान विराट कोहली को आराम दिया गया है. विराट कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ वनेड और टेस्ट सीरीज मेें शानदार प्रदर्शन किया और कई रिकॉर्ड अपने नाम किए.विराट ने 11 दिसंबर 2017 को अनुष्का शर्मा के साथ शादी की थी. बता दें कि विराट कोहली और अनुष्का शर्मा को जब भी समय मिलता है दोनों एक साथ समय गुजारते हैं.

हरमनप्रीत ने बना दिए ढेर सारे रिकॉर्ड, धौनी को भी छोड़ा पीछे

आइसीसी महिला टी-20 विश्व कप के अपने पहले मुकाबले में भारत ने न्यूजीलैंड को 34 रनों से शिकस्त दी। भारत की इस जीत में कप्तान हरमनप्रीत कौर (103) के तूफानी शतक और जेमिमा रोडिग्ज (59) के बेहतरीन अर्धशतक ने अहम भूमिका निभाई।

महिला क्रिकेट में भारत की तरफ से लगा पहला टी-20 शतक

कप्तान हरमनप्रीत ने पहले 50 रन 33 गेंदों में और अगले 50 रन मात्र 16 गेंदों में ही पूरे कर लिए। उन्होंने 51 गेंदों में अपनी इस तूफानी पारी के दौरान सात चौके लगाए। हरमनप्रीत का यह पहला टी-20 शतक है। वह भारत की ओर से टी-20 में शतक लगाने वाली पहली महिला भी बनी। उनसे पहले मिताली राज नाबाद 97 रन तक पहुंची थी।

हरमनप्रीत ने तोड़ा सबसे ज्यादा छक्कों का रिकॉर्ड (भारत)

हरमनप्रीत ने अपनी पारी में आठ छक्के लगाए और वह इसी के साथ एक पारी में सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाली भारत की पहली महिला क्रिकेटर बनीं। उन्होंने अपने ही पांच छक्कों के रिकॉर्ड को तोड़ा जो उन्होंने इस साल सितंबर में श्रीलंका के खिलाफ बनाया था। 

सानिया मिर्जा के बेटे की पहली झलक

टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने हाल ही में बेटे को जन्म दिया है. उनके पति और पाकिस्तान के क्रिकेट खिलाड़ी शोएब मलिक ने सोशल मीडिया पर ट्वीट के जरिए अपने पिता बनने की जानकारी साझा की. अब सोशल मीडिया पर सानिया मिर्जा की बेटे के साथ फोटो वायरल हो रही हैं. फोटो में सानिया अपने बेटे के साथ नजर आ रही हैं. उन्होंने अपने बेटे को गोद में लिया हुआ है. फोटो अस्पताल की हैं. सानिया बेटे को घर लेकर जा रही हैं.  बता दें कि सानिया ने अपने बेटे का नाम इजान मिर्जा मलिक रखा है. सानिया और शोएब का मानना है कि पहला नाम भगवान का तोहफा होता है और उनके लिए उनका बेटा भगवान का तोहफा है.पिता बने शोएब मलिक ने ट्वीट करके इस बात की घोषणा की. उन्होंने लिखा, "बहुत उत्सुकता के साथ बता रहा हूं, बेटा हुआ है. मेरी प्यारी सानिया बहुत अच्छी है और हमेशा की तरह स्ट्रॉन्ग है. खबरों के मुताबिक सानिया चाहती थीं कि डिलीवरी के बाद वह जल्द ही कोर्ट पर वापसी करें. उन्होंने कहा कि वह 2020 के टोक्यो ओलंपिक्स में खेलने का प्लान कर रही हैं.मालूम हो कि साल 2009 में सानिया ने अपने बचपन के दोस्त सोहराब मिर्जा से सगाई की थी, हालांकि दोनों की शादी नहीं हुई और फिर साल 2010 में सानिया ने पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से शादी कर ली. सानिया और शोएब ने टेनिस खिलाड़ी के प्रेग्नेंट होने की खबर 23 अप्रैल 2018 को सोशल मीडिया पर साझा की थी.

निगाहें महेंद्र सिंह धोनी और भुवनेश्‍वर कुमार पर, बना सकते हैं यह रिकॉर्ड...

भारत और वेस्‍टइंडीज (India vs West Indies) के बीच पांच वनडे मैचों (5th ODI)की सीरीज का आखिरी मैच तिरुवनंतपुरम में खेला जाएगा. सीरीज में भारतीय टीम इस समय 2-1 की बढ़त बनाए हुए है और यदि आज वह जीत हासिल करने में सफल रही तो सीरीज पर 3-1 के अंतर से कब्‍जा जमा लेगी. दूसरी ओर, मेहमान इंडीज की टीम के पास यह मैच एक तरह से प्रतिष्‍ठा बचाने का मौका होगा. जेसन होल्‍डर की टीम यदि इस मैच में जीती तो सीरीज को 2-2 से बराबर रख लेगी. इससे पहले इंडीज टीम को दो टेस्‍ट मैचों की सीरीज में 0-2 के अंतर से एकतरफा हार का सामना करना पड़ा था. भारतीय टीम के लिहाज से बात करें तो उसके दो खिलाड़ी पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS dhoni) और तेज गेंदबाज भुवनेश्‍वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) के प्रदर्शन पर सबकी निगाह टिकी होगी. यह दोनों खिलाड़ी मैच में अपने लिए निजी उपलब्धि हासिल कर सकती है.धोनी आज के मैच में एक रन बनाते ही भारत के लिए 10 हजार वनडे रन बनाने की उपलब्धि हासिल कर लेंगे. भारत की ओर से खेलते हुए उन्‍होंने भारत के लिए खेलते हुए अब तक 9999 रन बनाए हैं. यहां यह स्‍पष्‍ट करना जरूरी है कि धोनी वनडे क्रिकेट में 10 हजार रन पूरे कर चुके हैं. उनके खाते में 10, 173 रन हैं लेकिन इसमें से 174 रन उन्‍होंने वर्ष 2007 में अफ्रीका एकादश के खिलाफ एशियाई एकादश के लिए खेलते हुए तीन मैचों की सीरीज में बनाए थे. भारत के लिए खेलते हुए उन्‍होंने वनडे इंटरनेशनल में 9999 रन ही बनाए हैं.तेज गेंदबाज भुवनेश्‍वर कुमार के पास इस वनडे मैच में विकेटों का 'शतक' बनाने का मौका होगा. भुवनेश्‍वर कुमार ने अब तक 94 वनडे मैचों में 38.50 के औसत से 98 विकेट हासिल किए हैं. इस दौरान पारी में पांच विकेट लेने का कारनामा उन्‍होंने दो बार अंजाम दिया है. 42 रन देकर पांच विकेट भुवनेश्‍वर कुमार का वनडे में अब तक का सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन रहा है. भुवनेश्‍वर कुमार ने इसके अलावा टेस्‍ट में 63 और टी20 इंटरनेशनल में 29 विकेट हासिल किए हैं. टीम इंडिया के प्रशंसकों को उम्‍मीद होगी कि विराट ब्रिगेड न केवल इस मैच में जीत हासिल करेगी बल्कि धोनी और भुवनेश्‍वर भी यह खास उपलब्धि अपने नाम करने में कामयाब रहेंगे...

2018-19: जानें कौन सी हैं नई टीमें और क्या हैं नए नियम

पूर्वोत्तर की डेब्यू कर रहीं सात टीमों सहित रेकॉर्ड कुल 37 टीमें आज से शुरू हो रहे रणजी ट्रोफी घरेलू क्रिकेट टूर्नमेंट में चुनौती पेश करेंगी। मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, मिजोरम, उत्तराखंड, सिक्किम, नगालैंड, मेघालय और पुडुचेरी को पहली बार टूर्नमेंट में जगह मिली है जबकि बिहार की वापसी हुई है। इन टीमों ने हाल में 50 ओवर के विजय हजारे ट्रोफी टूर्नमेंट में भी हिस्सा लिया था लेकिन लाल गेंद से खेलना इनके लिए बड़ी चुनौती होगी। इन नौ टीमों को प्लेट ग्रुप में रखा गया है जो एक-दूसरे के खिलाफ भिड़ेंगी। इनमें से अधिकांश टीमें हालांकि इस सत्र में अपने बाहरी खिलाड़ियों पर निर्भर हैं। 

ग्रुप ए सबसे कठिन 
ग्रुप ए को इस बार सबसे कठिन ग्रुप माना जा रहा है जिसमें 41 बार की चैंपियन मुंबई, कर्नाटक, महाराष्ट्र, सौराष्ट्र, रेलवे, छत्तीसगढ़, विदर्भ और गुजरात को रखा गया है। छत्तीसगढ़ को छोड़कर ग्रुप में शामिल सभी टीमें चैंपियन रह चुकी हैं। विदर्भ जहां मौजूदा चैंपियन है तो गुजरात ने उससे पहले 2017 में खिताब जीता था। ऐसे में इस ग्रुप में कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती हैं। 

दिग्गज दिखाएंगे दम 
इस बीच घरेलू स्तर के स्टार खिलाड़ी भी टूर्नामेंट में खेलते नजर आएंगे। टेस्ट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा के सौराष्ट्र की ओर से पहले मैच में छत्तीसगढ़ के खिलाफ खेलने की उम्मीद है जबकि स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और मुरली विजय को मध्य प्रदेश के खिलाफ पहले मैच के लिए तमिलनाडु की टीम में जगह दी गई है। हालांकि ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्ट मैचों की सीरीज और न्यू जीलैंड दौरे के लिए ए टीम का चयन पहले ही हो चुका है। ऐसे में टूर्नमेंट में अच्छे प्रदर्शन का इनाम मिलने की उम्मीद नहीं के बराबर है। 

नंबर गेम 
कुल टीमें 37: पुरानी टीमें-28, नई टीम-9 (जस्टिस लोढ़ा के फैसले के बाद) 
ग्रुप- 4 
फॉर्मेट- ग्रुप स्टेज तक होम ऐंड अवे स्तर पर मुकाबले होंगे। सभी टीमों को बराबर मुकाबले घरेलू और बाहरी मैदानों पर खेलने होंगे। नॉकआउट मुकाबले न्यूट्रल मैदानों पर खेले जाएंगे। 

बैटिंग या बोलिंग के लिए कोई पॉइंट्स नहीं होंगे। 

मणिपुर और सिक्किम के पास कोई घरेलू मैदान नहीं है। 

ग्रुप ए और बी (18 टीमें)- 9-9 टीमों के दो मजबूत ग्रुप। दोनों ग्रुप से पांच टीमें नॉकआउट्स में पहुंचेंगी। हर ग्रुप की सबसे निचली टीम ग्रुप सी में चली जाएगी। 

ग्रुप सी (10 टीमें) इस ग्रुप में मिडल लेवल की 10 टीमें हैं। इस ग्रुप की टॉप 2 टीमें नॉकआउट में जाएंगी और अगले सीजन के लिए ग्रुप ए या बी में प्रमोट कर दी जाएंगी। इस ग्रुप की निचली टीम ग्रुप डी में चली जाएगी। ग्रुप ए- बड़ौदा, छत्तीसगढ़, गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मुंबई, रेलवे, सौराष्ट्र, विदर्भ 
ग्रुप बी- आंध्र प्रदेश, बंगाल, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, हैदराबाद, केरल, मध्य प्रदेश, पंजाब, तमिलनाडु 

ग्रुप सी- असम, गोवा, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, ओडिशा, राजस्थान, सेना, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश 

प्लेट ग्रुप- अरुणाचल प्रदेश, बिहार, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, पडुचेरि, सिक्किम, उत्तराखंड 

पॉइंट सिस्टम- 3-1 पारी की बढ़त, 6-0 सीधी जीत पर, 7-0 बोनस अंक के साथ जीत पर। पहली पारी पूरी न होने पर 1-1 अंक। पारी की जीत पर बोनस अंक और 10 विकेट की जीत पर। 

प्लेट ग्रुप (9 टीमें)- नई 9 टीमों का सबसे कमजोर ग्रुप। इस ग्रुप में टॉप पर रहने वाली टीम नॉकआउट में जाएगी और अगले सीजन के लिए ग्रुप सी में प्रमोट कर दी जाएगी। 

ग्रुप- एक नवंबर से 10 जनवरी 
क्वॉर्टर फाइनल- 15 से 19 जनवरी 
सेमीफाइनल- 24 से 28 जनवरी 
फाइनल- 2-6 फरवरी 
50 से ज्यादा मैदानों पर होंगे मैच 

टी 20 सीरीज: पाकिस्तान ने ऑस्ट्रेलिया को  हरा दिया

पाकिस्तान ने तीन टी20 मैचों की सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच मेंऑस्ट्रेलिया को 33 रनों से हरा दिया। इसके साथ ही उसने सीरीज में ऑस्ट्रेलिया का सूपड़ा साफ कर दिया। यूएई के अपने इस दौरे पर ऑस्ट्रेलियाई टीम कोई भी मैच नहीं जीत पाई इससे पहले दो टेस्ट मैचों की सीरीज में उसे 1-0 से हार का सामना करना पड़ा था।रविवार को दुबई इंटरनैशनल स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। बाबर आजम और साहिबजादा फरहान ने टीम को टीम मजबूत शुरुआत दी। दोनों ने पहले विकेट के लिए 12.5 ओवरो में 93 रन जोड़ डाले। 

नाथन लायन ने इस साझेदारी का अंत किया। फरहान गेंद को अच्छी तरह टाइम नहीं कर पाए और लॉन्ग ऑफ पर ऐंड्रू टाई के हाथों कैच आउट हो गए। 

टाई ने इसके बाद 50 रन के निजी स्कोर पर आजम को बोल्ड कर कंगारू टीम को दूसरी कामयाबी दिलाई। आजम ने 40 गेंदों पर पांच चौकों और एक छक्का लगाया। 

जल्दी-जल्दी सलामी जोड़ी के आउट होने के बाद पाकिस्तानी टीम के रन बनाने की गति पर असर पड़ा। शोएब मलिक 18 रन बनाकर एडम जम्पा के शिकार बने और फिर आसिल अली चार के निजी स्कोर पर मिशेल मार्श की गेंद पर आरोन फिंच को विकेट दे बैठे। मोहम्मद हफीज इस बीच जमे रहे और उन्होंने 20 गेंदों पर तीन चौकों और एक छक्के की मदद से 32 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही सिर्फ 1 रन बनाकर फिंच फहीम अशरफ की गेंद पर मोहम्मद हफीज को कैच दे बैठे। 24 के ही स्कोर पर अगले ओवर में हफीज ने एलेक्स कैरी को 20 के स्कोर पर अशरफ के हाथों कैच करवा दिया। 

इसके बाद शाहदाब खान 15 के स्कोर पर शादाब का शिकार बने। लिन ने मैक्ड्रमट के साथ मिलकर 36 रनों की साझेदारी की। 

मैकड्रमट इसी ओवर में तीसरा रन चुराने के चक्कर में 21 के निजी स्कोर पर रन आउट हो गए। ऑस्ट्रेलिया 62 रनों पर अपने चार विकेट खो बैठा था। 

ग्लेन मैक्सवेल एक बार फिर अपनी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं कर पाए और 4 रन बनाकर शादाब की गेंद पर शोएब मलिक को कैच दे बैठे। ऑस्ट्रेलिया 75 रनों पर पांच विकेट। 

शादाब ने इसके बाद ऑस्ट्रेलिया की आखिरी उम्मीद मार्श को आउट कर दिया। 

ऑस्ट्रेलियाई टीम झटकों से उबर नहीं पाई और आखिर पूरी टीम 117 रनों पर पविलियन पहुंच गई। 

पृथ्वी शॉ का ने किया कमाल, सचिन ने भी नही बनाया ऐसा रिकॉर्ड

नई दिल्ली। टीम इंडिया ने टेस्ट सीरीज में विंडीज को 2-0 (India defeated to West Indies by 2-0 in test) से धूल चटा दी. दोनों टेस्ट मैच भारत ने  तीन दिन के भीतर जीत लिए. जिस अंदाज में भारत ने राजकोट में पहला टेस्ट जीता था, उससे साफ हो गया था कि हैदराबाद टेस्ट (मैच रिपोर्ट) में क्या होने जा रहा है.  जीत से इतर क्रिकेटप्रेमियों की नजरें भारतीय क्रिकेट की नई सनसनी पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw grabbed Man of the series award) का लगातर  पीछा कर रही थीं. राजकोट में शतक, तो फिर हैदराबाद में 70 और नाबाद 33 की पारी. पृथ्वी शॉ बन गए मैन ऑफ द सीरीज. और इसी के साथ उन्होंने कर दिया वह  बड़ा कारनामा, जो सचिन तेंदुलकर जैसा दिग्गज बल्लेबाज भी नहीं कर सका. 

 
पृथ्वी शॉ ने 2 टेस्ट की 3 पारियों में 118.50 के औसत से 237 रन बनाए. और वह दोनों टीमों में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे. 1 शतक और 1 अर्धशतक  के साथ. जाहिर कि पृथ्वी को दूर-दूर तक मैन ऑफ द सीरीज के लिए कोई चुनौती देने वाला खिलाड़ी नहीं था. पृथ्वी ने ऐसा आगाज किया कि दुनिया भर में उनके खेल  की चर्चा हो रही है. 


खत्म हुई सीरीज में मैन ऑफ द सीरीज का पुरस्कार झटकने के साथ ही पृथ्वी दुनिया के सिर्फ दसवें ऐसे खिलाड़ी बन गए, जिन्होंने करियर की पहली ही सीरीज में मैन  ऑफ द सीरीज का खिताब अपनी झोली में डाला. चलिए तेजी से नजर दौड़ा लीजिए किस-किस खिलाड़ी ने कब यह कारनामा किया. 

खिलाड़ी                  बनाम                        साल
सौरव गांगुली             इंग्लैंड                    1996
जे. रुडोल्फ              बांग्लादेश                 2003
एस. क्लार्क              द. अफ्रीका               2006
ए. मेंडिस                    भारत                   2008
आर. अश्विन                विंडीज                   2011
वी. फिलांडर                ऑस्ट्रेलिया             2011
जे. पैटिंसन               न्यूजीलैंड                  2011
रोहित शर्मा               विंडीज                    2013
मेहिदी हसन             इंग्लैंड                      2016
पृथ्वी शॉ                   विंडीज                    2018        
 

टेस्ट सीरीज़ में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद विजय हजारे टूर्नामेंट में खेलेंगे पृथ्वी शॉ और रहाणे

मुंबई। मुंबई की मजबूत टीम को विजय हजारे एकदिवसीय टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पृथ्वी शॉ और अजिंक्य रहाणे का साथ मिलेगा जो वेस्टइंडीज के साथ  टेस्ट श्रृंखला खत्म होने के बाद राज्य टीम से जुड़ेंगे।

सेमीफाइनल में मुंबई के लिए इन दोनों खिलाड़ियों के अलावा सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा भी खेलेंगे जो क्वार्टर फाइनल में बिहार के खिलाफ मैच में खेले थे। जिसमें  टीम ने नौ विकेट से जीत दर्ज की थी।

मुंबई के कोच और भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज अजित अगरकर ने भी पुष्ठि की कि राष्ट्रीय टीम से जुड़े तीनों खिलाड़ी राज्य की टीम के लिए खेलेंगे।

शॉ ने टूर्नामेंट का शुरूआती दौर खेला था लेकिन फिर उनका चयन टेस्ट टीम में हो गया। जहां पदार्पण करते हुए उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया और मैन ऑफ द सीरीज  रहे। विजय हजारे टूर्नामेंट के सेमीफाइनल 17 और 18 अक्टूबर को खेला जाएगा।
 

विजय हजारे ट्राफी में झारखण्ड की टीम की तरफ से नही खेलेंगे धोनी, चीफ सलेक्टर को किया नजरअंदाज

हैदराबाद। महेंद्र सिंह धोनी ने झारखंड के लिए विजय हजारे ट्रॉफी खेलने से इनकार कर दिया, जबकि मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने दो दिन पहले ही सार्वजनिक रूप से इसकी घोषणा की थी। गुरुवार को उन्होंने कहा था, "धोनी नॉक आउट के मुकाबले खेलेंगे।" धोनी के मना करने के बाद ऐसा लग रहा है कि चयनकर्ताओं और सीनियर खिलाड़ियों के बीच कोई बातचीत नहीं हो रही। इससे पहले करुण नायर और चयनकर्ताओं में संवादहीनता की खबरें आईं थीं।

झारखंड के कोच ने बताई धोनी के नहीं खेलने की बात
धोनी इस साल वनडे में एक भी अर्धशतक नहीं लगा सके हैं। उन्होंने इस दौरान 22 दिन (15 वनडे और सात टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच) ही अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। 15 वनडे में उन्होंने 28.13 की औसत से 225 रन ही बनाए हैं। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 42 रहा है। वहीं, टी-20 में 41 की औसत से 123 रन बनाए। इसमें एक अर्धशतक शामिल है।

धोनी के खराब फॉर्म के कारण उन्हें घरेलू टूर्नामेंट में खेलने को कहा गया। झारखंड को क्वार्टर फाइनल में महाराष्ट्र से खेलना है। झारखंड के मुख्य कोच राजीव कुमार ने कहा कि धोनी ने क्वॉर्टर फाइनल में नहीं खेलने का फैसला किया है।

राजीव कुमार ने कहा, "धोनी को ऐसा लगता है कि इस चरण में टीम से जुड़ना ठीक नहीं होगा। झारखंड बेहतरीन खेल दिखाते हुए उनकी अनुपस्थिति में क्वार्टर फाइनल तक पहुंचा है। वे टीम का संतुलन बिगड़ना नहीं चाहते।"

दूसरी ओर, यह सवाल उठाया जा रहा है कि क्या एमएसके प्रसाद ने घोषणा करने से पहले धोनी से बात की थी? बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, "मैं जानना चाहूंगा कि एमएसके प्रसाद कैसे धोनी से संपर्क करते हैं।"

 BCCI के सीईओ राहुल जौहरी पर लगे यौन शोषण  के आरोप, CoA ने मांगा जवाब

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जौहरी पर एक महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया। एक महिला पत्रकार हरनिद्ध कौर ने मी टू अभियान के तहत राहुल जौहरी पर नौकरी देने के बहाने उन्होंने मुझसे अनुचित व्यवहार किया। सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति (सीओए) ने इस मामले पर राहुल से एक सप्ताह के भीतर सफाई देने को कहा है। स्पष्टीकरण के आधार पर ही बीसीसीआई कार्रवाई का फैसला लेगा।

नौकरी देने के बहाने किया अभद्र व्यवहार: ट्विटर पर हरनिद्ध ने लिखा, "जब राहुल डिस्कवरी चैनल के अधिकारी थे, तब मेरी मुलाकात उनसे हुई। वे मुझे कॉफी पर मिलने के लिए बुलाया करते थे। मेरे लिए यह मना करना मुश्किल हो गया था। इसके बाद एक बार वह मुझे नौकरी के लिए बात करने पर किसी जगह ले गए। उन्होंने इसे चयन का अंतिम दौर बताया था। मैं आज भी उस हादसे को भूल नहीं सकी हूं। उस दिन के बाद से ही मैं उस घटना के भार को उठा रही हूं और खुद को इसके लिए जिम्मेदार मान रही हूं।"

पाक की उम्मीदों पर उस्मान ख्वाजा ने फेरा पानी , पहला टेस्ट ड्रा

नई दिल्ली। सलामी बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा (141) की बेहतरीन शतकीय पारी के अलावा, ट्रेविस हेड (72) और कप्तान टिम पेन (नाबाद 61) की संघर्षपूर्ण पारियों के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने दुबई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए पहले टेस्ट मैच पाकिस्तान से जीत छीनते हुए मैच ड्रॉ करा दिया। पाकिस्तान ने चौथी पारी में ऑस्ट्रेलिया के सामने 462 रनों का विशाल लक्ष्य रखा था। 

ऑस्ट्रेलिया ने पांचवें और आखिरी दिन गुरुवार को अपनी दूसरी पारी में आठ विकेट पर 362 रन बनाते हुए मैच को ड्रॉ करा दिया। ऑस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत तीन विकेट के नुकसान पर 136 रनों के साथ की थी। लग रहा था कि पाकिस्तानी गेंदबाज पांचवें दिन ऑस्ट्रेलिया के बाकी के सात विकेट ले सीरीज में 1-0 की बढ़त ले लेंगे, लेकिन पहले दिन 50 के स्कोर पर नाबाद रहने वाले ख्वाजा और उनके साथ लौटने वाले हेड ने पाकिस्तानी गेंदबाजों की उम्मीद को खत्म कर दिया। 

इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 132 रनों की साझेदारी की। 175 गेंद खेलकर पांच चौके मारने वाले हेड 219 के कुल स्कोर पर मुहम्मद हफीज की गेंद पर एलबीडब्ल्यू करार दे दिए गए। पदार्पण कर रहे मार्नस लाबुसचांजे सिर्भ 13 रनों का योगदान देकर 252 के कुल स्कोर पर पवेलियन लौट लिए। यहां लगा कि ऑस्ट्रेलियाई टीम दम तोड़ देगी, लेकिन ख्वाजा को कप्तान का साथ मिला। दोनों ने मिलकर टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचा दिया।

इसी बीच यासिर शाह ने ख्वाजा को पवेलियन भेज पाकिस्तान की जीत की उम्मीदों को जिंदा किया। ख्वाजा 331 के कुल स्कोर पर ऑस्ट्रेलिया के छठे विकेट के रूप में आउट हुए। उन्होंने अपनी जुझारू पारी में 302 गेंदों का सामना करते हुए 11 चौकों की मदद से शतकीय पारी खेली।

मिशेल स्टार्क (1) भी 333 के कुल स्कोर पर आउट हो गए जिससे मैच में रोमांच आ गया लेकिन कप्तान पेन ने 34 गेंदों में नाबाद पांच रन बनाने वाले नाथन लॉयन की के साथ मिलकर पाकिस्तान को जीत के मुहाने से निराश होकर लौटने पर मजबूर किया। पेन ने अपनी नाबाद पारी में 194 गेंदें खेलीं और सिर्फ पांच चौके लगाए।