Updated -

mobile_app
liveTv

मोदी सरकार ने अब तक कोई वादा पूरा नहीं किया : पित्रोदा

जयपुर। हम गांधीवादी विचारों के साथ आगे बढ़ें, राजीव गांधी ने आईटी और टेलीकॉम क्रांति लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाई, इस पूरे बदलाव में कांग्रेस का बड़ा योगदान दिया, कांग्रेस रोजगार सृजन करना जानती है, पिछले 5 साल में जनता से बहुत से वादे किए गए, लेकिन सरकार का रिकॉर्ड देखते हैं तो पता चलता है कोई वादा पूरा नहीं किया। यह बात शुक्रवार को यहां इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने कही। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को पंगु कर दिया गया है।पित्रोदा ने नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, अगर पेट्रोलियम की दरें मनमोहन सरकार के कार्यकाल के बराबर रहतीं तो मुश्किल होती, सौभाग्य से पेट्रोलियम की दरें कम हैं, पांच साल में नए रोजगार सृजन पर कुछ नहीं हुआ, उल्टे 50 लाख रोजगार कम हो गए।पित्रोदा ने एयर स्ट्राइक पर कहा, हमने सरकार से बालाकोट के बारे में पूछा तो हमें देशद्रोही कहा गया, एक वरिष्ठ नागरिक होने के नाते मेरा सवाल पूछने, सच जानने का अधिकार है, सच को छिपाया नहीं जा सकता। पित्रोदा की कहा, आज गरीबों का जीना बहुत मुश्किल है। पित्रोदा ने कांग्रेस की प्रस्तावित न्याय योजना का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, इस योजना का पैसा गरीब को मिलेगा तो यह पैसा बाजार में जाएगा, इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी, दुनियाभर में इस पर विचार किया जा रहा है, लेकिन किसी की हिम्मत नहीं हुई, राहुल गांधी ने इच्छाशक्ति दिखाई। 

पिकअप पलटने से सड़क पर गिरे लोग; पीछे से आए ट्रक ने तीन महिलाओं समेत 4 को रौंदा, मौत

कोटपूतली (जयपुर). जयपुर के कोटपूतली में एक पिकअप का टायर फटने से अनियंत्रित होकर पलट गई, इससे उसमें सवार लोग सड़क पर आ गिरे। इसी दौरान पीछे से आ रहे ट्रक ने तीन महिलाओं सहित चार लोगों को रौंद दिया, जिनकी मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पिकअप पलटने के कारण 22 लोग घायल हुए हैं। घटना शुक्रवार दोपहर की है। पुलिस के अनुसार, बानसूर तहसील में रायला गांव से दो दर्जन से अधिक महिला-पुरुष बीठलोदा गांव में किसी रिश्तेदार की गमी होने पर शोक व्यक्त करने गए थे। यहां से सभी वापस लौट रहे थे। कोटपूतली में शेखूपुर गांव के पास पिकअप सड़क पर गड्ढे में चली गई। इससे टायर फट गया और गाड़ी लहराती हुई सड़क पर पलट गई। जिससे उसमें सवार लोग ताश के पत्तों की तरह सड़क पर बिखर गए। तभी पीछे से आ रहे एक ट्रक चार लोगों को रौंद दिया। इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। हादसा इतना भीषण था कि शवों के चीथड़े सड़क पर बिखर कर चिपक गए। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को बीडीएम अस्पताल पहुंचाया गया। हादसे में लेखराम (60) पुत्र बहादुर गुर्जर, मूर्ति देवी पत्नी दयाराम गुर्जर, पप्पूड़ी पत्नी गौरी सहाय और एक अज्ञात महिला की मौत हो गई। कुछ घायलों की हालत नाजुक होने पर उन्हें जयपुर रेफर किया गया है।

5 जातियों को आरक्षण को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

जयपुर। सुप्रीम कोर्ट ने गहलोत सरकार को राहत प्रदान करते हुए पांच प्रतिशत आरक्षण में दखल देने वाली अर्पील को खारिज कर दी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार ने गुर्जर सहित पांच जातियों को शैक्षणिक संस्थानों व सरकारी नौकरियों में पांच प्रतिशत आरक्षण दे दिया था। इस आरक्षण को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। इस पर सर्वोच्च न्यायालय ने दखल देने से इनकार कर दिया है। 


मिली जानकारी के अनुसार,फरवरी में गहलोत सरकार ने राजस्थान पिछड़ा वर्ग संशोधन अधिनियम 2019 के तहत गुर्जर, गाडिया लुहार, रायका-रेबारी, बंजारा और गड़रिया को अति पिछड़ा वर्ग को पांच प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया था। इसको लेकर सुपीम कोर्ट में याचिका लगी थी। याचिकाकर्ताओं का कहना था कि पचास प्रतिशत से अधिक आरक्षण नहीं दिया जा सकता है। यह असंवैधानिक है। सुपीम कोर्ट ने यह जवाब देते हुए कहा है कि यह याचिका हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश के खिलाफ है, इसलिए दखल नहीं देंगे।

जयपुर-दौसा-श्रीगंगानगर में हल्की बरसात, बीकानेर सहित 12 शहरों में आंधी-बारिश की चेतावनी

जयपुर। राजस्थान में बुधवार सुबह भी कई स्थानों पर बरसात हुई। प्रदेश में मंगलवार को मौसम फिर पलटा और कई शहरों में बारिश हुई थी। इसके बाद बुधवार को जयपुर, दौसा, लालसोट, श्रीगंगानगर व बीकानेर में हल्की बरसात हुई। वहीं आधिकांश स्थानों पर घने बादल छाए हुए हैं। हालांकि बीती रात तापमान में 2 से पांच डिग्री तक की बढ़ोतरी हुई है।
श्रीगंगानगर में जहां सोमवार रात तापमान 8.9 डिग्री रहा वहीं बीती रात न्यूनतम तापमान 13.3 डिग्री रहा। जयपुर में बीती रात तापमान करीब दो डिग्री की बढ़ोतरी के साथ 17.6 डिग्री रहा। बीती रात सबसे अधिक तापमान जोधपुर सिटी में 19.4 डिग्री रहा। सबसे कम तापमान माउंट आबू में 9.2 डिग्री रहा।
जयपुर में शहरवासियों की आंख सुबह बारिश की टिप-टिप की आवाज से खुली। यहां बीती रात से ही घने बादल छाए हुए थे। रात को भी बूंदाबांदी हुई। हालांकि इससे तापमान में गिरावट नहीं आई।मौसम विभाग के अनुसार जयपुर के आसमान में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे तथा हल्की बरसात होगी। 
मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में अलवर, भरतपुर, झंझुनूं, करौली, सवाईमाधोपुर, सीकर, बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जोधुपर व श्रीगंगानगर में आंधी-बारिश की चेतावनी जारी की गई है। 

उदयपुरवाटी कस्बा  व गुढा-गौडजी स्वैच्छिक रहा बंद 

पुलवामा में शहीद हुए लांबा हुए अग्नि को समर्पित

पुलवामा में शहीद हुए लांबा हुए अग्नि को समर्पित

जयपुर.

 

सत्य ही है ....

"वीर गति ब्रह्म गति " से बड़ी है। यह बात भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रदेश प्रवक्ता तथा आमेर विधायक डॉ सतीश पूनिया ने शाहपुरा के गोविन्दपुरा बासडी गांव के रोहिताश लांबा को पुष्प चक्र अर्पित करने के बाद कही।

CRPF के सिपाही रोहताश लांबा पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हो गए। उनका शनिवार को अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल, बाबूलाल नागर, पूर्व जिला परिषद सदस्य राजेंद्र परसवाल सहित अनेक जनप्रतिनिधि समाजसेवी व ग्रामीण मौजूद थे।

ऋण माफी - अब तक 1 लाख से अधिक किसानों को मिला लाभ


जयपुर टाइम्स
जयपुर। प्रदेश के सहकारिता विभाग के रजिस्ट्रार डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि प्रदेश में शुक्रवार को 358 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में आयोजित शिविरों में 35 हजार से अधिक किसानों को 140 करोड़ रुपये के ऋण माफी प्रमाण पत्रों का वितरण किया गया। उन्होंने कहा कि अब तक लगभग 1 लाख से अधिक किसानों के लगभग 500 करोड़ रुपये के ऋण माफी प्रमाण पत्र जारी हो चुके हैं।
आज यहां आयोजित होंगे 358 शिविर
रजिस्ट्रार ने बताया कि प्रदेश में 16 फरवरी को 358 शिविरों को आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि  गंगानगर जिले में 23 शिविर, पाली में 22, जयपुर में 21, बाड़मेर में 20, नागौर में 19, जोधपुर में 17, अलवर, भीलवाड़ा, सवाईमाधोपुर व हनुमानगढ़ में 16-16, झालावाड़ में 15, अजमेर में 15 तथा झुंझुनूं में 14 शिविरों को आयोजन किया जा रहा है। 
उन्होंने बताया कि इसी प्रकार सीकर में 12, भरतपुर व बीकानेर में 11-11, टोंक में 10, बारां, बूंदी, चूरू व सिरोही में 9-9, डूंगरपुर, जैसलमेर व कोटा में 8-8, दौसा में 5, धोलपुर, चित्तौडगढ, जालोर व उदयपुर में 4-4 व बांसवाड़ा में 3 शिविर आयोजित होंगे।

अब शहीदों के परिजनों को मिल सकेगी 50 लाख रुपये तक की नकद राशि 


पुलवामा आंतकी हमला 
जयपुर टाइम्स
जयपुर। मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरूवार को हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा की है और हमले में राजस्थान के पांच शहीदों को 50 लाख रुपये तक नकद सहायता राशि देने की घोषणा की है। इसके लिए राज्य सरकार ने शहीदों के परिजनों को देय सहायता एवं सुविधा पैकेज को संशोधित किया है। 
 गहलोत ने हमले में शहीद हुए बिनोल (राजसमंद) निवासी हैड कांस्टेबल  नारायण लाल गुर्जर, सुन्दरवाली (भरतपुर) निवासी कांस्टेबल  जीतराम, जैतपुर (धौलपुर) निवासी कांस्टेबल  भागीरथ सिंह, विनोद कलां (कोटा) निवासी कांस्टेबल  हेमराज मीणा एवं गोबिन्दपुरा, तहसील शाहपुरा (जयपुर) निवासी कांस्टेबल  रोहिताश लाम्बा की शहादत पर संवेदना व्यक्त की है। 
मुख्यमंत्री ने अपने संवेदना संदेश में कहा कि केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के बहादुर जवानों ने देश की रक्षा के लिए अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान दिया है। राज्य सरकार इस घड़ी में शहीदों के परिवारों के साथ खड़ी है। 
 गहलोत ने कहा कि युद्ध या अन्य ऑपरेशनों में शहीद सैनिक अथवा अद्र्धसैनिक बलों के कार्मिक के परिवार को देय सहायता राशि को हमने बढ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि अब शहीद का परिवार कुल 50 लाख रुपये नकद अथवा 25 लाख रुपये नकद के साथ इंदिरा गांधी नहर परियोजना क्षेत्र में 25 बीघा भूमि अथवा 25 लाख रुपये नकद के साथ राजस्थान आवासन मण्डल के एक आवास का विकल्प चुन सकता है। 
राज्य सरकार द्वारा पूर्व की भांति शहीद परिवार के एक आश्रित को सरकारी नौकरी, बच्चों को पढ़ाई के लिए छात्रवृत्ति तथा माता-पिता को 3 लाख रुपये की सावधि जमा भी देय होगी। इसके साथ ही, सहायता एवं सुविधा पैकेज में परिवार के सदस्य को कृषि भूमि पर 'आउट ऑफ टर्न आधार पर विद्युत कनेक्शन, शहीद की पत्नी एवं आश्रित बच्चों और शहीद के माता-पिता को राजस्थान रोड़वेज की डीलक्स एवं साधारण बसों में नि:शुल्क यात्रा के लिए पास सुविधा तथा एक विद्यालय, अस्पताल अथवा अन्य सार्वजनिक स्थान का नामकरण शहीद के नाम पर किए जाना भी शामिल है। 
 गहलोत ने ईश्वर से दिवंगत जवानों की आत्मा की शांति तथा शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। उन्होंने हमले में घायल हुए जवानों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कश्मीर के पुलवामा में हुआ वीभत्स आंतकी हमला एक कायरतापूर्ण कार्रवाई है, जिसकी भत्र्सना की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं से भारत की आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की प्रतिबद्धता कम नहीं होगी। 

गुर्जर आंदोलन नौवें दिन समाप्त ,कर्नल बैंसला ने मसौदे पर हस्ताक्षर किए

 

जयपुर टाइम्स
मलारना डूंगर । गुर्जर सहित पांच जातियों को आरक्षण सम्बंधी विधेयक विधानसभा में पारित किए जाने के बाद भी राजस्थान में गुर्जरों का आंदोलन शनिवार को नौवें दिन पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह के मसौदे को पढने के बाद आन्दोलन स्थगित कर दिया गया।
मिली जानकारी के अनुसार गुर्जर आरक्षण बिल के संबंध में जयपुर में समझौता ड्राफ्ट तैयार किया गया है। इसे शनिवार सुबह ग्यारह बजे सवाईमाधोपुर भेजा गया। इस मसौदा पत्र को पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने गुर्जर आन्दोलन कर्मियों को सौंप दिया। 
इसके बाद गुर्जर आरक्षण समिति के पदाधिकारी ने गुर्जर समाज के आन्दोलनकारियों के सामने पढकऱ सुनाया। इसके बाद कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने मसौदे पर हस्ताक्षर कर दिए। इसके बाद मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने पुलवामा में आतंकी हमले पर शोक व्यक्त किया। 
इसके बाद मंत्री ने कहा कि इस आन्दोलन से आमजनता और गुर्जर आन्दोलकारी को कष्ट हुआ इसके लिए मैं माफी चाहूंगा। इसके बाद उन्होंने गुर्जर आन्दोलनकारियों को आरक्षण के लिए मुबारक बाद दी। गुर्जर आरक्षण समिति के संरक्षक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने सरकार का धन्यवाद दिया ।
बैंसला ने कहा कि आन्दोलन में जिन लोगों को कष्ट हुआ है, उसके लिए हम माफी चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जहां भी गुर्जर समाज के लोगों ने जाम लगा रखें हैं उनको खोलने के निर्देश दे दिए हैं।
ज्ञात्व्य रहे की 5 फीसदी आरक्षण को लेकर गुर्जर कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के नेतृत्व में विगत नौ दिनों से आंदोलन पर चल रहे थे। 
गुर्जर आरक्षण के चलते एक ओर जहां सरकार व प्रशासन परेशानी में नजर आ रहे थे वहीं दूसरी और इस आरक्षण आंदोलन के चलते आमजन को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था।
प्रदेश के कई हिस्सों में भयावह होते इस गुर्जर आंदोलन के कारण सरकारी व निजी सम्पत्तियों को भी नुकसान पहुंचा था। वहीं दूसरी और गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैसला का कहना था कि यदी सवर्णो को 10 फीसदी आरक्षण दिया जा सकता है तो गुर्जरों को पिछड़े वर्ग में 5 फीसदी आरक्षण क्यों नहीं दिया जा सकता हैं।

शासन सचिवालय में होगी स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर की स्थापना

जयपुर । प्रदेश में आपदा की स्थिति में त्वरित प्रतिक्रिया हेतु सचिवालय परिसर स्थित लाइब्रेरी भवन में स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेन्टर की स्थापना की जाएगी। 
राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की 20वीं बैठक में यह जानकारी दी गई। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई इस, बैठक में बताया गया कि 9 जिलों की 58 तहसीलों के 5 हजार 555 गांवों के 16 लाख 94 हजार किसान अकाल से प्रभावित है। मुख्यमंत्री ने इन किसानों के खाते में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए सीधे ही कृषि आदान-अनुदान जमा कराने के निर्देश दिए है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की प्रतिकूल स्थितियों को देखते हुए राहत गतिविधियों के संचालन की अवधि 6 माह से बढ़ाकर 9 माह किए जाने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि केंद्र से मिलने वाली सहायता के लिए संबंधित केंद्रीय मंत्रालयों को पत्र लिखें ताकि समय पर सहायता उपलब्ध हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रभावित सभी 9 जिलों के कलेक्टर्स को एडवाइजरी जारी कर निर्देश दें कि वे आवश्यकतानुसार चारा, पानी एवं पशु शिविरों के संबंध में अपने-अपने जिले के प्रस्ताव बनाकर भेजें। इन प्रस्तावों पर आपदा प्रबंधन से जुड़े सभी विभाग शीघ्र कार्यवाही करें। उन्होंने चारा प्रबंधन पर विशेष जोर देते हुए कहा कि पशुपालकों को समय पर चारा उपलब्ध हो। इसके लिए चारा खरीद की पुख्ता व्यवस्थाएं की जाएं। गहलोत ने गौशाला अनुदान के संबंध में त्वरित कार्यवाही करने के निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि सूखाग्रस्त घोषित इन तहसीलों में स्थित गौशालाओं को जरूरत पडऩे पर पशु शिविर घोषित किए जाने के लिए संबंधित जिला कलेक्टर्स को अधिकृत किया गया है। 

बैठक में बताया गया कि सूखाग्रस्त 9 जिलों बाड़मेर, जैसलमेर, जालोर, जोधपुर, बीकानेर, हनुमानगढ़, नागौर, चूरू एवं पाली के प्रभावित किसानों में से करीब 8.50 लाख लघु एवं सीमान्त किसान हैं जिनकी फसलों का 33 से 100 प्रतिशत खराबा हुआ है। करीब 8 लाख बड़े किसान हैं, जिनका 50 से 100 प्रतिशत तक फसल खराबा हुआ है। 
अधिकारियों ने बताया कि आपदाग्रस्त क्षेत्रों में प्रभावित लोगों को सहायता राशि सीधे उनके खाते में मिल सके, इसके लिए आपदा प्रबंधन विभाग ने डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर का प्रभावी तंत्र विकसित किया जा रहा है। इसके माध्यम से प्रभावितों को राशि सीधे उनके खाते में मिलने के साथ ही एसएमएस से उन्हें इसकी जानकारी भी मिलेगी। बैठक में आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव आशुतोष एटी पेडणेकर ने विभिन्न बिन्दुओं पर प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जानकारी दी। इस अवसर पर स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल, आपदा प्रबन्धन मंत्री मास्टर भंवर लाल मेघवाल, ऊर्जा एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री बी.डी. कल्ला, कृषि एवं पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया, मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, अतिरिक्त मुख्य सचिव कृषि पी.के. गोयल, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य सहित विभिन्न विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रमुख शासन सचिव एवं शासन सचिव उपस्थित थे।
 

राजस्थान में बढ़ा स्वाइन फ्लू का खतरा, अब तक 48 की मौत

जयपुर । राजस्थान में स्वाइन फ्लू का खतरा बढ़ता जा रहा है। इस बीमारी से जनवरी महीने में अब तक 48 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1000 से ज्यादा लोग स्वाइन फ्लू के मरीज पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि स्वाइन फ्लू से जोधपुर और उदयपुर में दो-दो और बाड़मेर में एक व्यक्ति की मौत हुई है। इन आंकड़ों के बाद राज्य भर में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 48 हो गई है। सरकारी मशीनरी इस पर अंकुश लगाने में पूरी तरह से फेल साबित हो रही है। शनिवार को स्वाइन फ्लू से पीडि़त पांच और मरीजों की सांसें थम गई. वहीं स्वाइन फ्लू पॉजिटिव का आंकड़ा भी 1173 पर जा पहुंचा। शनिवार को जोधपुर में 2, उदयपुर में 2 और बाड़मेर में 1 स्वाइन फ्लू पीडि़त की मौत हो गई। वहीं 74 नए पॉजिटिव केस सामने आए। इनमें सर्वाधिक जयपुर में 29 और जोधपुर में 10 नए स्वाइन फ्लू पॉजिटिव केस नए केस सामने आए हैं। स्वाइन फ्लू से लगातार हो रही मौतों से आमजन अब खौफ में आ गया है अस्पतालों में मौसमी बीमारियों से पीडि़त लोगों कतारें लगी हुई हैं। मीडिया रिपोर्टस् के मुताबिक राज्य सरकार का कहना है कि बीमारी से निपटने के लिए अभियान चलाए जा रहे है। इसके साथ ही सभी सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों और कर्मचारियों की छुट्टी भी केंसल कर दी गई है।

क्या है स्वाइन फ्लू...
स्वाइन फ्लू एक संक्रामक बीमारी है, जो काफी तेजी और आसानी से फैलती है लेकिन इसका इलाज संभव है। अगर बीमारी के दौरान और बाद में कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो इसको गंभीर होने से बचाया जा सकता है। दरअसल ये एक संक्रमण है, जो इंफ्लूएंजा ए वायरस के कारण फैलता है। ये वायरस सूअरों में पाया जाता है। इंसानों में ये संक्रामक बीमारी काफी तेजी से फैलती है। अगर सावधानी न बरती जाए, तो ये काफी गंभीर भी हो सकती है। स्वाइन फ्लू का खतरा अधिकतर ठंड और बरसात में रहता है क्योंकि ये बीमारी नमी के चलते तेजी से फैलती है।

गर्मियों में पेयजल आपूर्ति के लिए करें एडवांस प्लानिंग-मुख्यमंत्री

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में आगामी गर्मी के मौसम में पेयजल की मांग के अनुसार आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए योजना बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर व्यक्ति को पीने के लिए स्वच्छ पानी की कमी नहीं हो। 
यह सुनिश्चित करने के लिए अधिकारी संवेदनशील रहकर एडवांस प्लानिंग के साथ काम करें। गहलोत मुख्यमंत्री कार्यालय में प्रदेश में पेयजल आपूर्ति की वर्तमान स्थिति और गर्मियों में आपूर्ति योजना के संबंध में समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने प्रदेशभर में आवश्यकतानुसार नये ट्यूबवेल और हैंडपम्प की खुदाई के लिए योजना तैयार कर उसका अनुमोदन समय से पहले ही करने के निर्देश दिए। 
उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों की मांग के आधार पर बिना किसी राजनैतिक भेदभाव के इसकी स्वीकृति दें। उन्होंने जिला कलक्टरों को भी पानी की आपूर्ति के लिए आकस्मिक निधि से जरूरत पडऩे पर तुरंत स्वीकृतियां जारी करने के निर्देश दिए। 
गहलोत ने जयपुर शहर के लिए आगामी वर्षों की पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था पर भी विमर्श किया और अधिकारियों को योजनाएं बनाने के लिए कहा। बैठक में बताया गया कि जयपुर में आगामी गर्मियों के लिए समुचित पानी की व्यवस्था की जा रही है। गांवों सहित सभी क्ष़ेत्रों के लिए नए ट्यूबवैल और हैंडपम्प खुदवाकर एवं बड़े रूप में रिपेयर करवाकर और टैंकरों आदि से पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। साथ ही क्षतिग्रस्त पाइपलाइनों को भी ठीक करवाया जा रहा है। इसके लिए समुचित राशि उपलब्ध है। 
बैठक में जलदाय एवं ऊर्जा मंत्री बी.डी. कल्ला, मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, प्रमुख शासन सचिव जलदाय विभाग संदीप वर्मा सहित जलदाय विभाग के मुख्य अभियंता शहरी, मुख्य अभियंता ग्रामीण एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।