Updated -

mobile_app
liveTv

‘राजस्थान का मतलब केवल इतिहास नहीं, अब आईटी से लिखा जा रहा सुनहरा भविष्य’

जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं.)। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि राजस्थान का मतलब केवल इतिहास नहीं है बल्कि आईटी और टेक्नोलॉजी के माध्यम से लिखा जा रहा सुनहरा भविष्य भी है। अब राजस्थान की पहचान आईटी के मॉडल स्टेट के रूप में बन चुकी है। ऊर्जा से भरपूर और डिजिटल तकनीक से लैस हमारे युवा प्रदेश के सुनहरे भविष्य की इबारत लिख रहे हैं। यह गर्व की बात है कि हमारे युवा राजस्थान के कोने-कोने से निकल कर प्रदेश का नाम रोशन कर रहे हैं।  
राजे ने यह बात बुधवार को जयपुर स्थित कॉमर्स कॉलेज में ’राजस्थान डिजिफेस्ट जयपुर-2018’ के समापन समारोह के दौरान मुख्यमंत्री सलाहकार परिषद के सदस्य मोहनदास पई के साथ संवाद के दौरान कही। उन्होंने कहा कि आईटी के माध्यम से लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ सकता है। आज के समय में डिजिटल तंत्र हमारे जीवन की हर गतिविधि में शामिल हैं। उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वे अपनी आकांक्षाओं के अनुरूप अपनी स्किल का विकास करें ताकि वे डिजिटल प्रतिस्पर्धा के युग में अपने को तैयार कर सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि तकनीक के इस युग में युवा ही बदलाव के वाहक हैं और ‘डिजिफेस्ट’ तथा ‘आईटी-डे’ जैसे आयोजनों में उन्हें अपनी प्रतिभा को निखारने और आत्मविश्वास को बढ़ाने का अवसर मिलता है। उन्होंने कहा कि यहां आयोजित किए गए ’टेकरश’ और ’ग्रीनाथॉन’ में युवाओं का भरपूर रूझान देखने को मिला है।     
पीपुल फस्र्ट की अवधारणा पर काम कर रही हमारी सरकार
राजे ने कहा है कि हमारी सरकार पीपुल फस्र्ट की अवधारणा पर काम कर रही है। हमारा प्रयास तकनीक का इस्तेमाल कर प्रदेश के सर्वांगीण विकास को गति देना है। उन्होंने कहा कि विकास में हर व्यक्ति की भागीदारी जरूरी है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2003 में जब हम सरकार में आए थे, तो राजस्थान में डिजिटल आधारभूत ढांचा नहीं के बराबर था और आईटी से संबंधित हर नवाचार के लिए हम दूसरे राज्यों की तरफ देखते थे, लेकिन आज राजस्थान आईटी के क्षेत्र में मॉडल स्टेट बन गया है और दूसरे राज्य हमारे नवाचारों को अपना रहे हैं। 
भामाशाह प्लेटफॉर्म पर अब तक 36 करोड़ ट्रांजेक्शन 
मुख्यमंत्री ने संवाद के दौरान कहा कि प्रदेश की भामाशाह योजना देश में प्रत्यक्ष लाभ हस्तान्तरण (डीबीटी) का सबसे व्यापक और सफल प्लेटफॉर्म है, जिससे 1.5 करोड़ परिवारों के माध्यम से 5.5 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं। भामाशाह प्लेटफॉर्म पर अब तक 36 करोड़ कैश और नॉन-कैश ट्रांजेक्शन हो चुके हैं। आज प्रदेश में 51 हजार से अधिक ई-मित्र केन्द्र संचालित हैं, इनसे नागरिक सेवाओं की डिलीवरी का कायापलट हुआ है। आज पूरे देश के एक चौथाई नागरिक सेवा केन्द्र राजस्थान में हैं।
ई-गवर्नेंस के लिए दिए पुरस्कार
राजे ने स्टार्ट अप्स के लिए 500 करोड़ रूपये से स्थापित भामाशाह टैक्नो फंड से एक स्टार्ट अप एडूपल्स मीडिया प्रा.लि. के लिए मंजूर 20 लाख रुपए के ऋण की स्वीकृति का पत्र भी दिया। उन्होंने कोटा डिजिफेस्ट में शुरू किए गए चैलेंज फॉर चेंज इनीशिएटिव के तहत अमृत धारा वाटर प्रोजेक्ट लिमिटेड को एक करोड़ रुपए के अनुबंध का पत्र भी दिया। उन्होंने स्टार्ट अप उद्यमियों को गोल्ड क्यू-रेट कार्ड भी वितरित किए। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर हैकेथॉन सहित अन्य प्रतियोगिताओं के विजेताओं को अवार्ड प्रदान किए तथा ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले राज्य सरकार के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को राजस्थान ई-गवर्नेंस अवार्ड प्रदान किए।
मुख्यमंत्री ने चलाई ई-कार
प्रदर्शनी के अवलोकन से पहले मुख्यमंत्री ने नेशनल ई-मोबिलिटी प्रोग्राम के तहत लॉन्च की गई ई-कार स्वयं चलाकर कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने का संदेश दिया। 
उन्होंने वाहन का निरीक्षण कर इसके बारे में जानकारी भी ली।
स्टार्टअप और नवाचारों को सराहा 
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने जयपुर के कॉमर्स कॉलेज तथा जवाहर कला केन्द्र में आईटी और स्टार्टअप फेस्ट में आयोजित प्रौद्योगिकी प्रदर्शनियों का अवलोकन भी किया। उन्होंने यहां प्रदर्शित किए जा रहे राजस्थान सरकार के 100 से भी अधिक तकनीकी नवाचारों तथा 40 से अधिक नवाचारों को देखा और सराहना की। राजे ने कहा कि इन प्रदर्शनियों के माध्यम से जहां एक ओर युवाओं को आईटी के नवाचारों से रू-ब-रू होने का अवसर मिला है, वहीं जॉब फेयर के माध्यम से युवाओं को एक ही मंच पर रोजगार के अवसरों की जानकारी मिल रही है। इस आईटी एक्सपो में हैप्पी विलेज, हैप्पी सिटी, स्टार्टअप और फ्यूचर इज हियर प्रदर्शनियों के माध्यम से स्टार्टअप एवं नवाचारों के साथ ही आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तथा रोबोटिक्स के प्रयोगों की जानकारी दी जा रही है। 
राजे ने प्रदर्शनी के अवलोकन के दौरान इलेक्ट्रिकल इंस्पेक्टोरेट विभाग, औषधि नियंत्रण संगठन, मूल्यांकन विभाग के आईटी एप, डिजिटल विजिटर रजिस्टर, पीएचईडी के राजनीर, राजस्थान प्रोक्योरमेंट पोर्टल के राजपेमेंट, विभिन्न योजनाओं में पात्रता जांच के लिए स्वावलम्बन, राज्य सरकार के उपक्रमों के लिए राज-ईआरपी तथा सिटीजन एप्प एवं ट्रैफिक डाइवर्जन पोर्टल राजधरा का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया, खेल एवं युवा मामलात मंत्री गजेन्द्र सिंह खींवसर, महापौर अशोक लाहोटी, जिला प्रमुख मूलचंद मीणा, मुख्य सचिव निहालचंद गोयल, पुलिस महानिदेशक ओपी गल्होत्रा, जन प्रतिनिधि, अधिकारी, देश-विदेश से आए उद्यमी, नवोदित उद्यमी एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

भाजपा युवा मोर्चे की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक जयपुर में

जयपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा राजस्थान प्रदेश की प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक स्टेच्यू सर्किल स्थित होटल पार्क प्राइम में सम्पन हुई। बैठक में सम्बोधित करते हुए मोर्चे के राष्ट्रीय महामंत्री सौरभ चौधरी ने कहा की जयपुर में आयोजित होने वाली तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यसमिति में देशभर से पार्टी से जुडे युवा नेता राजनीतिक मसलों पर मंथन करेंगे।

आगामी चुनावों में विजय का शंखनांद करेंगे। मोर्चे के प्रदेशाध्यक्ष अशोक सैनी भादरा ने आगामी राष्ट्रीय कार्यसमिति की दृष्टि से जिम्मेदारी तय की। सैनी ने कहा कि प्रदेश की टीम को राष्ट्रीय नेताओ के स्वागत का शानदार अवसर मिला है। हम उन्हें अच्छे से निभाऐंगे।

मोर्चे के प्रदेश सह-प्रभारी वरूण श्योराण ने मोर्चे के पिछले कार्यक्रमों का वृत्त लिया। पिछले दिनों में हुआ बूथ चला यूथ, नव-मतदाता अभियान तथा सदस्यता अभियान से सफलता पर प्रदेश को बधाई दी। बैठक में प्रदेश प्रभारी निधिशेखर शर्मा, राष्ट्रीय मंत्री महेन्द्र सिंह शेखावत, मनोज बाटड़, जे.पी. यादव ने अपनी बात रखी। बैठक में आगामी अप्रैल माह में 6 से 8 अप्रैल 2018तक होने वाली राष्ट्रीय कार्यसमिति पर चर्चा हुई।

कैलादेवी मेला आज से होगा चालू 30 मार्च तक रहेगा

करौली। उत्तर भारत का प्रसिद्ध आस्था धाम कैलादेवी लक्खी मेला 14 मार्च बुधवार से प्रारंभ होकर 30 मार्च तक चलेगा। लक्खी मेले को देखते हुए पद यात्रियों का आना प्रारंभ हो गया है। सड़कें पदयात्रियों से अटी हुई नजर आ रही हैं। 

लागुरिया गीतो पर नाचते युवक और युवतियां और कैला माता के जयकारों के बीच पदयात्रियों के जत्थे आस्थाधाम केलादेवी देवी की ओर बढ़ रहे हैं। सैकड़ों किलोमीटर का रास्ता तय करने के बाद चेहरे पर थकान की शिकन की वजह मां के दर पहुंचने की ललक दिखाई दे रही है। तेज धूप के बावजूद पद यात्रियों के कदम थम नहीं रहे हैं । जिले के विभिन्न मार्गों पर इन दिनों दिन रात आस्था की कतार टूटती हुई नजर नहीं आ रही है।कैलामाता के लक्खी मेले में आने वाले लाखो श्रद्धालुओं की सुविधा एवं सुरक्षा की पूरी व्यवस्था के लिए जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा कर ली गई है।

अतिरिक्त जिला कलेक्टर राज नारायण शर्मा ने बताया की मेले के दौरान हिण्डौन से आने वाले पदयात्राओं के लिए पाचना पुल के आस पास सुरक्षा व्यवस्था कर दी गई है। आने वाले पदयात्रियों के लिए करौली से कैलादेवी तक विभिन्न स्थानों पर प्याऊ एवं भोजन के लिए भामाशाहोें द्वारा भण्डारे की व्यवस्था की गई है। भोजन व्यवस्था के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा खाद्य निरीक्षक को भी नियमित निरीक्षण के लिए पाबन्द किया गया। विधुत विभाग द्वारा निर्वाध रूप से चौबीसों घन्टे लाईट उपलब़्ध कराने के लिए कर्मचारियों को पाबन्द करा दिया गया है। मन्दिर ट्रस्ट द्वारा बस स्टैण्ड एवं पार्किंग स्थलों पर सीसीटीवी कैमरे एवं पेयजल की व्यवस्था के साथ- साथ शौचालयों का निर्माण भी कराया गया है। चिकित्सा विभाग द्वारा चौबीसों घन्टे चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए चिकित्सकों की राउण्ड बार नियुक्ति कर दी गई है। 

पुलिस प्रशासन द्वारा सुरक्षा व्यवस्था के लिए कैलादेवी मेला परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाये गये है। और लगभग 1250 से अधिक पुलिस कर्मी नियुक्त किये गए है जिनमें 6 कम्पनी आरएसी की भी लगाई है। मेला परिसर में कई स्थानों पर वाच टावर एवं ड्रॉन कैमरे भी लगाये है तथा जिले में 17 अस्थाई चौकी बनाई गई है । पांचना एवं कालीसिल पर गोताखोरों की नियुक्ति कर दी गई है। जिले के सूरौठ से कैलादेवी तक 17 पिकिटस लगाये गये है 4 जीप मोबाईल टीम एवं कैलादेवी परिसर के बाहरी ईलाकों में 13 मोटरसाईकिल मोबाईल पुलिस टीमों का लगाई गई है। मेले के दौरान श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मन्दिर परिसर में नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया गया है।कैलादेवी मेले के दर्शनार्थ श्रद्धालुओं का आना 3 दिन पूर्व से ही प्रारम्भ हो गया है। 

स्मार्ट एंड डिजीटल राजस्थान समिट एवं एक्सपो 2018 का शुभारंभ

जयपुर। राजस्थान को स्मार्ट एंड डिजीटल बनाने को लेकर बुधवार को गुलाबी नगरी के एक नीजी होटल में दो दिवसीय ‘स्मार्ट एंड डिजीटल राजस्थान समिट एवं एक्सपो 2018‘ का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का उद्घाटन मेयर अशोक लाहोटी ने किया। आपको बता दें कि ये समिट और एक्सपो 15 मार्च तक चलेगा। वहीं पहले दिन इस सेमिनार में 5 सेशन रखें गए हैं। पहले सीजन में स्मार्टर इन्फ्रास्ट्रचकर, दूसरे में स्मार्टर टेक्नोलॉजी और बाकी सभी सेशन में डजिटल इंडिया के विषय को लेकर चर्चा की जाएंगी। 
वहीं इस आयोजन के जरिए सरकार, स्मार्ट सिटी प्रतिनिधि, यूएलबी और निजी स्टेकहोल्डर्स को एक प्लेटफार्म पर लाया जायेगा, ताकि वे विभिन्न मुद्दों पर परस्पर चर्चा कर सकें और स्मार्ट सिटीज निर्माण के अभियान को आगे बढाने की रणनीति तैयार कर सकें।

राजस्थान में तीसरे मोर्चे की कोई गुंजाइश नहीं - डॉ किरोड़ी लाल मीणा

जयपुर । भाजपा की तरफ से राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल करने के बाद डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने एक बार फिर बयान दिया कि राज्यसभा में जाना उनकी कोई शर्त नहीं थी। 
विधानसभा में पत्रकारों से बातचीत में डॉ. मीणा ने कहा कि राजस्थान में तीसरे मोर्चे का गठन उन्होंने वर्ष 2013 में किया था और 134 सीटों पर चुनाव भी लड़ा था, इस दौरान सिर्फ 4 सीटें जीती थी। उन्होंने कहा कि लेकिन राजस्थान में तीसरे मोर्चे की कोई गुंजाइश नहीं है। उन्होंने कहा कि विधायक नवीन पिलानिया से वह बात करेंगे, साथ ही पार्टी से रूठे हुए भाजपा विधायक घनश्याम तिवाड़ी को भी मनाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि वह पार्टी के रूठे हुए कार्यकर्ताओं को पार्टी से जोड़ने का भी कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि पार्टी जो भी कहेगी या जिम्मेदारी देगी, उसे वह समर्पण की भावना से निभायेंगे।

राज्यसभा चुनाव के लिए BJP से भूपेंद्र यादव, किरोडी मीणा, मदन सैनी ने भरा पर्चा

जयपुर। राज्यसभा की तीन सीटों के लिए भाजपा उम्मीदवाराें ने सोमवार को नामांकन दाखिल कर दिया। इस मौके पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी मौजूद थीं। 

भारतीय जनता पार्टी ने पर्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद भूपेन्द्र यादव, भाजपा में शामिल हुए विधायक डॉ. किरोड़ीलाल मीणा और आरएसएस एवं भारतीय मजदूर संघ के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक मदनलाल सैनी को उम्मीदवार बनाया है। 

भाजपा के तीनों उम्मीदवार सोमवार को विधानसभा पहुंचे और नामांकन किया। तीनों उम्मीदवारों का जीतना तय है। आज राज्य सभा में नामांकन भरने की आखिरी तारीख है।कोई और दल की ओर से उम्मीदवार अभी तक नहीं पहुंचा है। ऐसे में निर्विरोध निर्वाचन तय है।

राष्ट्रीय विधायक सम्मेलन में शामिल होगा राजस्थान का प्रतिनिधिमंडल

12 साल तक की बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी को फांसी दी जा सकेगी

जयपुर। राज्य में 12 साल तक की बच्चियों से दुष्कर्म करने के आरोपी को फांसी की सजा तक दी जा सकेगी। शुक्रवार को राज्य विधानसभा में भारतीय दंड संहिता 1860 और दंड प्रक्रिया संहिता 1973 में राजस्थान संशोधन विधेयक 2018 को मंजूरी दे दी। गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने ये विधेयक पेश किया, जिसे सर्वसम्मित से पारित कर दिया गया। 

इस संशोधित कानून के तहत 12 साल तक की बच्चियों से दुष्कर्म या सामूहिक दुष्कर्म के आरोपियों को फांसी की सजा दी जा सकेगी। मध्य प्रदेश सरकार इस बिल को पारित कर चुकी है और इस लिहाज से राजस्थान अब देश का दूसरा राज्य बन गया है। गृह विभाग के अनुसार प्रदेश में बच्चियों के दुष्कर्म के हर साल औसतन 1300 से ज्यादा प्रकरण दर्ज हो रहे हैं। इनमें कम उम्र की बच्चियों की संख्या भी काफी है। गृह विभाग के अनुसार जनवरी, 2013 से दिसंबर, 2017 तक प्रदेश में बच्चियों से दुष्कर्म के 6519 प्रकरण दर्ज किए गए हैं। विधानसभा में पारित बिल मंजूरी के लिए राज्यपाल के यहां जाएगा, जहां से राष्ट्रपति की मंजूरी ली जाएगी।

अगले सत्र से मावली में नवीन महाविद्यालय खोला जाना प्रस्तावित- उच्च शिक्षा मंत्री

जयपुर। उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने शुक्रवार को विधानसभा में बताया कि राज्य सरकार ने हाल ही बजट में मावली में नवीन राजकीय महाविद्यालय खोले जाने की घोषणा की है, अगले सत्र से महाविद्यालय खोला जाना प्रस्तावित है।

माहेश्वरी प्रश्नकाल में इस संबंध में विधायकों द्वारा पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रही थीं। इससे पहले विधायक दलीचंद डांगी के मूल प्रश्न का जवाब देते हुए माहेश्वरी ने बताया कि वर्ष 2018-19 की बजट घोषणा के बिन्दु संख्या-103 के तहत उपखंड मावली जिला उदयपुर में नवीन राजकीय महाविद्यालय खोले जाने की घोषणा की गई है। बजट घोषणा की अनुपालना में शैक्षणिक सत्र 2018-19 से मावली में नवीन राजकीय महाविद्यालय प्रारम्भ किया जाना प्रस्तावित है।
 

पढ़ाई के क्षेत्र में देश में दूसरे नंबर पर आया राजस्थान

जयपुर। भारत सरकार द्वारा करवाए गए नेशनल अचीवमेंट सर्वे में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं विद्यालयों के बच्चों के सीखने के स्तर में राजस्थान देशभर में दूसरे स्थान पर रहा है।
शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने बताया कि भारत सरकार द्वारा सरकारी विद्यालयों में कक्षा 3, 5 एवं 8 में सीखने के स्तर की जांच के लिए देशभर के राज्यों का सर्वे करवाया गया था। नवम्बर 2017 में हुए इस नेशनल सर्वे के अंतर्गत देशभर में पढ़ाई के सीखने के स्तर का विश्लेषण किया गया। इसमें राजस्थान के बच्चों में सीखने के लेवल में अभूतपूर्व वृद्धि पाई गई।

देवनानी ने बताया कि नेशनल अचीवमेंट सर्वे में राजस्थान का स्थान 2015 में 15वां था। इस बार केंद्रीय मानव संसाधन विकास विकास मंत्रालय ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उसमे राजस्थान दूसरे स्थान पर रहा है। उन्होंने इसके लिए प्रदेशवासियों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि टीम एजुकेशन के प्रयासों से ही यह संभव हो सका है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में राजस्थान शिक्षा क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है।