Updated -

mobile_app
liveTv

हिट एण्ड रन मामला : विधायक पुत्र के जांच के बदले गए नमूने, सवालों में प्रयोगशाला

जयपुर। राजस्थान विधि विज्ञान प्रयोगशाला पर एक बार फिर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। मामला राजधानी के बहुचर्चित बीएमडब्ल्यू हिट एण्ड रन मामले से जुड़ा है। एफएसएल वैज्ञानिक डॉ. विनोद जैन पर मामले में आरोपी रहे विधायक पुत्र सिद्धार्थ महरिया के जांच नमूने बदलने का संगीन आरोप लगा है । 
दरअसल 1 जुलाई 2016 की रात को विधायक पुत्र सिद्धार्थ महरिया ने अपनी तेज रफ्तार से दौड़ती बीएमडब्ल्यू कार से अशोक नगर थाना इलाके में एक ऑटो रिक्शा और एक पीसीआर वैन को टक्कर मार दी थी। इस घटना में तीन लोगों की मौत हो गई थी और पांच अन्य घायल हो गए थे। आरोपी सिद्धार्थ पर शराब के नशे में होने के आरोप लगे थे। पुलिस द्वारा आरोपी सिद्वार्थ महेरिया की ब्रेथ एनलाइजर जांच में एल्कोहल की मात्रा 152 मिलीग्राम पाई गई थी जबकि सामान्य रूप से कार चलाते समय एल्कोहल की मात्रा 30 मिलीग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए। 
मामले की जांच के लिए पुलिस और एफएसएल ने जांच के नमूने लिए थे। लेकिन एफएसएल द्वारा इन नमूनों को बदलने का आरोप लगा था। जांच के बाद शास्त्री नगर थानाधिकारी महावीर प्रसाद ने एफएसएल वैज्ञानिक डॉ. विनोद जैन के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। मामले में विनोद जैन पर साक्ष्यों में हेराफेरी करने के आरोप लगाए गए है। जांच के लिए यह मामला एसीपी शास्त्री नगर जगमोहन शर्मा को सौंपा गया है।

पेशी पर लाए गए हिस्ट्रीशीटर पर अंधाधुंध फायरिंग, एक को भी गोली

चूरू । कोर्ट परिसर में दिनदहाड़े एक हिस्ट्रीशीटर पर आज फायरिंग करने का सनसीखेज मामला सामने आया है। घटना राजस्थान के चूरू जिले के राजगढ़ कोर्ट की है। यहां पर हथियार से लैस अज्ञात बदमाशों ने एक हिस्ट्रशीटर पर पेशी के दौरान ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में हिस्ट्रीशीटर गंभीर रूप से घायल हो गया। साथ ही इस अंधाधुंध फायरिंग में एक वकील भी घायल हो गया। 
जानकारी के मुताबिक हिस्ट्रीशीटर सुरेंद्र जैतपुरा को पेशी पर लाया गया था। इसी दौरान कुछ हथियार बंद बदमाश कोर्ट परिसर में आए और रिवॉल्वर से हिस्ट्रशीटर सुरेंद्र पुनिया पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। जैसे ही भारी भीड़ के बीच फायरिंग होने लगी तो कोर्ट में अफरा-तफरी मच गई और हडकंप मच गया। घटना में सुरेंद्र जैतपुरा गोली लगने से खून से लथपथ अचेत होकर गिर पडा। मौके पर मौजूद एक वकील रतन सिंह भी गोली लगने से घायल हो गया। 
सूचना मिलने पर जिला पुलिस अधीक्षक समेत पुलिस के आलाधिकारी मौके पर आए और मामले की जांच पड़ताल की। पुलिस ने कोर्ट में लगे सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले। सीसीटीवी फुटेज में सामने आया कि दो हथियार हवा में लहराते हुए नजर आ रहे हैं। हमलावर खाकी की वर्दी में नजर आ रहे थे। 
आपको बता दें कि इससे पहले भी साल 2000 में इसी कोर्ट में सुमेर फागेड़िया की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 
 

राजस्थान समेत तीन राज्यों में पहले ही लगा बैन


हरियाणा कैबिनेट ने लगाई फिल्म पर रोक
जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)।
संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को हरियाणा में रिलीज नहीं होगी। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि कैबिनेट मीटिंग में फिल्म पर रोक लगाने के फैसले को मंजूरी दी गई। फिल्म के विरोध में राजपूत करणी सेना ने राजस्थान के धौलपुर में रैली निकाली। राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश की सरकारें पहले ही रिलीज पर रोक लगा चुकी हैं। उत्तर प्रदेश और गोवा में पद्मावत दिखाए जाने पर स्थित अभी साफ नहीं है। दूसरी ओर, फिल्म मेकर्स ने रविवार को पद्मावत की ऑफिशियल रिलीज डेट का एलान किया था। बता दें कि पद्मावत पर पिछले काफी समय से विवाद हो रहा है। सेंसर बोर्ड इसे बिना किसी कट के रिलीज करने की बात कह चुका है। उधर, राजस्थान के धौलपुर में करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फिल्म के विरोध में रैली निकाली। यहां राजपूत करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने पद्मावत की रिलीज को लेकर कहा, मैंने बार-बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध करता हूं कि हमारी भावनाओं को समझा जाए। हम फिल्म पर पूरे देश में बैन के सिवाय कुछ नहीं चाहते। पद्मावत के मेकर्स भंसाली प्रोडक्शन और वायाकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने बताया था कि फिल्म को दुनियाभर में एक साथ 3 डी में रिलीज किया जाएगा। यह तीन भाषाओं हिंदी, तमिल और तेलुगु में रिलीज की जाएगी। क्या होगा नुकसान : हरियाणा, मध्य प्रदेश, गुजरात और राजस्थान बड़े राज्य हैं। यहां पर फिल्म के रिलीज न होने का सीधा असर फिल्म के कलेक्शन पर पड़ेगा।

कांग्रेस सिर्फ वोट पाने के लिए पत्थर लगाती है, हम काम करते हैं- राजे

बाड़मेर. पीएम मोदी के पचपरदा रिफाइनरी के कार्य का शुभारंभ करने यहां पहुंचे। इस मौके पर अपने संबोधन में कांग्रेस पर निशाना साधा। वसुंधरा राजे ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ वोट पाने के लिए पत्थर लगाती है। 

- वसुंधरा राजे ने कहा कि ये एक ऐतिहासिक मौका है।
- वसुंधरा राजे ने अपने संबोधन में कहा कि कांग्रेस सिर्फ वोट पाने के लिए पत्थर लगाती है।
- कांग्रेस ने जल्दबाजी में पचपरदा रिफाइनरी का फैसला लिया था, लेकिन उन्हें ये भी नहीं पता था कि किस जमीन पर प्रोजेक्ट लगाना है। हम पत्थर नहीं लगाते काम करते हैं।

रेगिस्तान की मिट्टी उगलेगी सोना

- इसके साथ राजे ने कहा कि जीतेगा तो सिर्फ विकास जीतेगा। उन्होंने कहा कि रेगिस्तान की मिट्टी सोना उगलेगी।
- हम सपने नहीं दिखाने। उन्हें सच करते हैं। इस प्रोजेक्ट से राजस्थान के हर बच्चे को मिलेगा रोजगार। ये एक आधुनिक प्लांट है।

राहुल का अमेठी दौरा : हनुमान मंदिर में टेका मत्था, ढाबे पर पी चाय

जयपुर टाइम्स
लखनऊ/अमेठी (एजेंसी)।
कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद सोमवार को राहुल गांधी लखनऊ हवाईअड्डे पर उतरने के बाद अमेठी के लिए रवाना हो गए। वह अमेठी के दो दिवसीय दौरे पर हैं। हवाईअड्डे पर कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। लखनऊ से सडक़ मार्ग से राहुल सीधे रायबरेली पहुंचे। यहां चुरवा में उनका जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान रायबरेली के चुरवा हनुमान मंदिर में राहुल गांधी ने पूजा-अर्चना की। इससे पहले हवाईअड्डे पर प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने गुलदस्तों से अपने नेता का स्वागत किया। सांसद प्रमोद तिवारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद, विधायक आराधना मिश्रा मोना, एमएलसी दीपक सिंह, पूर्व मंत्री रंजीत सिंह जूदेव, अम्मार रिजवी, सत्यदेव त्रिपाठी, बादशाह सिंह सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस नेताओं ने उनका स्वागत किया। 
राहुल गांधी हवाई जहाज से उतरने के बाद सीधे पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे। लोगों ने उनका स्वागत किया। राहुल भी गर्मजोशी से लोगों से मिले और हाथ मिलाया। इसके बाद वीवीआईपी लाउंज में कुछ देर रुकने के बाद अमेठी के लिए रवाना हो गए। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अमेठी के दो दिवसीय दौरे पर हैं। सुबह 10 बजे लखनऊ हवाईअड्डे पर उतरने के बाद वह सडक़ मार्ग से अमेठी के लिए रवाना हो गए। दौरे के दूसरे दिन मंगलवार को राहुल गांधी गेस्ट हाउस में सुबह नौ बजे से 10 बजे तक कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे। 
 

भावी पीढ़ी को गौरवशाली इतिहास की याद दिलाना जरूरी : राजे

जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं.)।
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि भावी पीढ़ी को देश के गौरवशाली इतिहास के बारे में जानकारी देना और उसे बार-बार याद दिलाना आवश्यक है। स्कूली बच्चे जब फोटो प्रदर्शनी जैसे आयोजन में भागीदारी करते हैं, तो उनको किताबों में दी गई जानकारी की समझ ताजा हो जाती है और वे अपने इतिहास पर गर्व करते हैं। राजे सोमवार को जयपुर सूचना केन्द्र में भारत के प्रथम गृहमंत्री स्व. सरदार वल्लभभाई पटेल के जीवन पर आधारित एक मोबाइल डिजिटल प्रदर्शनी ‘एक भारत: सरदार पटेल‘ का उद्घाटन कर रही थीं। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल का देश की स्वतंत्रता और एकीकरण में बहुत बड़ा योगदान रहा, जिसे हम ऐसी प्रदर्शनी के माध्यम से याद कर सकते हैं। उन्होंने विभिन्न ऑडियो-विजुअल एवं फोटो प्रदर्शनी को देखा तथा उनके बारे में विस्तार से जानकारी ली। राजस्थान सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से लगाई गई यह प्रदर्शनी भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय तथा राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र द्वारा तैयार की गई है। इसमें चित्रों, वीडियो, थ्रीडी एनिमेशन, वर्चुअल रियलिटी, ग्राफिक प्रोजेक्शन जैसे 20 प्रकार के इंटरेक्टिव माध्यमों से आजादी से पूर्व एवं आजादी के बाद के भारत तथा विभिन्न देसी रियासतों के एकीकरण की प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी गई है। सूचना केन्द्र, जयपुर में प्रदर्शनी 5 फरवरी, 2018 तक शनिवार और रविवार को अवकाश के दिन सहित सभी दिनों सुबह 10.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक खुली रहेगी। प्रदर्शनी के उद्घाटन के दौरान सांसद दुष्यंत सिंह, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख शासन सचिव संदीप वर्मा सहित केन्द्र एवं राज्य सरकार के विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे। 
 

देसी-विदेशी पर्यटकों ने उड़ाई पतंगें

जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं.)।
मकर संक्रांति के अवसर पर देसी-विदेशी पर्यटकों ने शनिवार को सिटी पैलेस में ऐतिहासिक सर्वतोभद्र चौक की छत पर हर्षोल्लास उल्लास से पतंग महोत्सव मनाया गया। दो-दिवसीय इस महोत्सव के दूसरे दिन पूर्व महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह भी शामिल हुए। उन्होंने पिंकसिटी प्रेस क्लब के सदस्यों एवं परिजनों के साथ पतंग उड़ाई। इस उत्सव के दौरान राजस्थानी लोक गायकों ने पारंपरिक राजस्थानी गीतों की प्रस्तुति दी। इसके साथ ही पर्यटकों के लिए स्वर्गीय महाराजा सवाई रामसिंह द्वितीय (1835-1880 ई.) के समय की पतंग और चरखियां भी प्रदर्शन के लिए रखी गई थीं। इस अवसर पर पूर्व महाराजा सिंह ने कहा कि पतंग उड़ाना जयपुर की प्राचीन परंपरा और संस्कृति का हिस्सा है। इस परंपरा का बनाए रखना हमारा कर्तव्मय है, ताकि शहर में आने वाले पर्यटकों को हम भारतीय संस्कृति से रूबरू करा सकें। महाराजा सवाई मान सिंह द्वितीय म्यूजियम ट्रस्ट की ओर से पर्यटकों के लिए पतंगों के साथ पारंपरिक व्यंजनों, दाल के पकौड़े और तिल के लड्डूओं की व्यवस्था की गई थी।

मुंबई के पास डहाणू में नाव पलटी, 4 की मौत


मुंबई (एजेंसी)। पालघर जिले के डहाणू के पास समुद्र में एक नाव पलट गई। इसमें एक स्कूल के 40 बच्चे सवार थे। 4 स्टूडेंट्स की मौत हो गई। 32 को बचा लिया गया। बाकी की तलाश जारी है। बताया जा रहा है कि स्टूडेंट्स पिकनिक मनाने डहाणू गए थे। नाव का बैलेंस बिगडऩे से यह हादसा हुआ।

हादसे की वजह क्या थी
नाव कैसे पलटी इस बारे में लोकल एडमिनिस्ट्रेशन ने कोई पुष्टि नहीं की है। स्थानीय लोगों का कहना है कि नाव में कैपिस्टी से ज्यादा लोग सवार थे। इससे नाव का बैलेंस बिगड़ गया। यह भी कहा जा रहा है कि बच्चों ने लाइफ जैकेट भी नहीं पहनी थी।
मुंबई आने वाले जहाजों ने रास्ता बदला यह घटना सामने आने के बाद कोस्ट गार्ड्स ने मुंबई आने वाले जहाजों रास्ता बदल दिया। कोस्ट गार्ड्स ने एक शिप, एक हेलिकॉप्टर भी बचाव कार्य में लगाया। बताया जा रहा है कि इन्हें दमन से बुलाया गया है।
कहां है डहाणू
डहाणू कोंकण डिवीजन में महाराष्ट्र के पालघर जिले का एक गांव है। मुंबई से इसकी दूरी करीब 110 किमी है। यहां रिलायंस का सबसे बड़ा थर्मल पावर प्लांट और तारापुर एटामिक पावर स्टेशन है।
हादसा कब हुआ
हादसा शनिवार को करीब 11.30 बजे हुआ। डहाणू बीच से करीब 2 नॉटिकल मील दूर यह नाव पलटी।
किस स्कूल के बच्चे थे पालघर के के.एल. पोंडा हाईस्कूल के हैं। स्कूल के 40 बच्चे सवार थे

घर में आग लगने से एक ही परिवार के 5 लोग जिंदा जले

जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं.)।
जयपुर के विद्याधर नगर में शनिवार सुबह एक घर में आग लगने से पांच लोग जिंदा जल गए। मरने वालों में दो लड़कियां, दो लडक़े और एक बुजुर्ग है। दोनों लड़कियां व बुजुर्ग की जलने से मौत हुई जबकि लडक़ों की दम घुटने से मौत हुई। आग से मकान भीतर से जल गया। लोगों का आरोप है कि फायर ब्रिगेड देरी से पहुंची। आग संजीव गर्ग के मकान नंबर 39 में लगी। विद्याधरनगर के सेक्टर नौ में आरएससीबी ऑफिस के पास एक दो मंजिल मकान में आग लग गई। हादसे के समय मकान में पांच लोग थे। इनमें दो लडक़े ऊपर की मंजिल पर तो दो लड़कियां और एक बुजुर्ग नीचे सो रहे थे। सुबह मकान में आग लग गई। मकान को जलता देख आस-पास के लोगों ने फायर ब्रिगेड व पुलिस को सूचना दी। थोड़ी देर में एक पीसीआर वैन वहां आई। पुलिस के एक जवान ने रस्सी के सहारे ऊपरी मंजिल से एक लडक़े को निकाला। इसके बाद उसने चद्दर में लपेट कर दूसरे लडक़े को निकाला। इसके बाद फायर ब्रिगेड पहुंच गई। फायर ब्रिगेड कर्मी घर में दाखिल हुए तब तक दोनों लड़कियों व बुजुर्ग की मौत हो चुकी थी।
सिलेंडर फटने से लगी आग
आग लगने का कारण अभी पता नहीं चला है पर माना जा रहा है कि आग सिलेंडर फटने से लगी। लोगों के अनुसार उन्होंने धमाके की आवाज सुनी थी। हालांकि यह जांच में ही स्पष्ट होगी कि आग कैसे लगी।
इनकी गई जानें
हादसे में संजीव गर्ग के पिता महेंद्र गर्ग (80), संजीव की दो बेटियों अपूर्वा और अर्पिता, संजीव के बेटे अनिमेश व संजीव के साले के बेटे शौर्य की जान चली गई।
लोगों में गुस्सा
    लोगों का आरोप है कि सूचना के एक घंटे बाद फायर ब्रिगेड पहुंची। फायर ब्रिगेड का ऑफिस यहां से महज 100 मीटर की दूरी पर है।
  इसके बाद भी उनके पास संसाधन सही नहीं थे। यहां आने के बाद उनकी लैडर नहीं खुली। इसके अलावा आग बुझाने के लिए पाइप भी छोटा था।
अगर दमकल समय से पहुंच जाती तो लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती थी।
संजीव गर्ग व उनकी पत्नी शहर से बाहर थे
घर के मालिक संजीव गर्ग व उनकी पत्नी आगरा गए हुए थे। हादसे की जानकारी मिलने पर वे जयपुर पहुंचे।

दादा के लिए ग्राउंड फ्लोर पर सोयी थी दोनों बहनें
स्थानीय लोगों ने बताया कि लोहे के व्यापारी महेन्द्र और उनके बेटे संजीव कई सालों से यहां रह रहे थे। संजीव की दो बेटियां अपूर्वा और अर्पिता अपने दादा का विशेष ख्याल रखती थीं। संजीव का बेटा अनिमेश और भांजा शौर्य भी बीती रात घर पर ही मौजूद था। संजीव और उनकी पत्नी किसी काम से आगरा गए थे। इस दौरान दादा की देखभाल के लिए ही दोनों पोतियां उनके रूम के साथ वाले रूम में ही सोती थीं। बीती रात भी दोनों पोतियां दादा को खाना खिलाने के बाद सोयी थीं। पोता अनिमेश और शौर्य पहली मंजिल पर सोए थे।

पति को पकड़ने घर आई पुलिस, बचाने के लिए कुत्ता छोड़ा तो मिली ये सजा

होशंगाबाद.धोखाधड़ी के आरोपी पति को पकड़ने के लिए पुलिस घर आई तो पत्नी ने पुलिसकर्मियों पर कुत्ता छोड़ दिया था। कुत्ते ने दो पुलिसकर्मियों को काटा। पति को बचाने के इस अनूठे मामले में शुक्रवार को न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी मयंक शुक्ला ने कुत्ते से पुलिसकर्मियों को कटवाने वाली महिला को एक साल की सजा सुनाई है। महिला के साथ पति को भी एक साल की सजा मिली है।

7 सितंबर 2015 को धोखाधड़ी के वारंटी दिनेश मंसोरिया को पकड़ने पुलिस आनंद नगर पहुंची तो पत्नी किरन मंसोरिया ने पुलिसकर्मियों पर अपना पालतू कुत्ता छाेड़ दिया। कुत्ते ने दो पुलिसकर्मी को काटा था। शुक्रवार को किरन और दिनेश मंसोरिया को सजा सुनाई गई।
सहायक जिला अभियोजन अधिकारी प्रमोद सिंह पटेल ने बताया 17 सितंबर 2015 को वारंटी दिनेश मंसोरिया को पकड़ने के लिए पुलिसकर्मी प्रधान आरक्षक गमलियश तिर्की, आरक्षक अंकित चंद्रशेखर चौरे,आशीष वॉरंटी दिनेश के घर आनंद नगर घर गए थे। घर का दरवाजा खटखटाया तो दिनेश बाहर निकलकर आया। पुलिस ने उसे पकड़कर थाने ले जाने का प्रयास किया। पति को बचाने दिनेश की पत्नी किरन मंसोरिया ने अपने पालतू कुत्ते को छोड़कर छू की आवाज लगाा दी और पुलिसकर्मियों पर दौड़ा दिया था। कुत्ते ने पुलिसकर्मी चंद्रशेखर व अंकित को काट लिया। दिनेश मंसोरिया ने पुलिस को धकेल दिया और घर में घुस गया। पुलिस को वापस आना पड़ा। पुलिसकर्मियों ने रिपोर्ट दर्ज कराई। महिला को तुरंत जमानत मिल गई। दिनेश को दूसरे मामले में गिरफ्तार किया था। शुक्रवार को पति-पत्नी को एक साल की सजा और 500 रुपए का अर्थदंड की सजा सुनाई।

आग लगने से एक ही परिवार के 5 लोग जिंदा जले, देरी से पहुंची फायर ब्रिगेड

जयपुर।जयपुर के विद्याधर नगर में शनिवार सुबह एक घर में आग लगने से पांच लोग जिंदा जल गए। मरने वालों में दो लड़कियां, दो लड़के और एक बुजुर्ग है। दोनों लड़कियां व बुजुर्ग की जलने से मौत हुई जबकि लड़कों की दम घुटने से मौत हुई। आग से मकान भीतर से जल गया। लोगाों का आरोप है कि फायर ब्रिगेड देरी से पहुंची। आग संजीव गर्ग के मकान नंबर 39 में लगी। 

 विद्याधरनगर के सेक्टर नौ में आरएससीबी ऑफिस के पास एक दो मंजिला मकान में आग लग गई। हादसे के समय मकान में पांच लोग थे। इनमें दो लड़के ऊपर की मंजिल पर तो दो लड़कियां और एक बुजुर्ग नीचे सो रहे थे।
- सुबह मकान में आग लग गई। मकान को जलता देख आस-पास के लोगों ने फायर ब्रिगेड व पुलिस को सूचना दी। थोड़ी देर में एक पीसीआर वैन वहां आई। पुलिस के एक जवान ने रस्सी के सहारे ऊपरी मंजिल से एक लड़के को निकाला। इसके बाद उसने चद्दर में लपेट कर दूसरे लड़के को निकाला।
- इसके बाद फायर ब्रिगेड पहुंच गई। फायर ब्रिगेड कर्मी घर में दाखिल हुए तब तक दोनों लड़कियों व बुजुर्ग की मौत हो चुकी थी।- पुलिस के जवान ने जब पहले लड़के को निकाला तब उसकी सांसें चल रही थीं। दोनों को अस्पताल ले जाने पर डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
- वहीं दोनों लड़कियों व बुजुर्ग की मौत पहले ही हो चुकी थी।

सिलेंडर फटने से लगी आग
- आग लगने का कारण अभी पता नहीं चला है पर माना जा रहा है कि आग सिलेंडर फटने से लगी। लोगों के अनुसार उन्होंने धमाके की आवाज सुनी थी। हालांकि यह जांच में ही स्पष्ट होगी कि आग कैसे लगी।

- लोगों का आरोप है कि सूचना के एक घंटे बाद फायर ब्रिगेड पहुंची। फायर ब्रिगेड का ऑफिस यहां से महज 100 मीटर की दूरी पर है।

- इसके बाद भी उनके पास संसाधन सही नहीं थे। यहां आने के बाद उनकी लैडर नहीं खुली। इसके अलावा आग बुझाने के लिए पाइप भी छोटा था।

- अगर दमकल समय से पहुंच जाती तो लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती थी।

कांवटिया में होगा पोस्टमार्टम

- शव कांवटिया अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए गए हैं। वहीं पर शवोंका पोस्टमार्टम होगा।

इनकी गई जान

- हादसे में संजीव के पिता महेंद्र गर्ग (80), संजीव की दो बेटियों अपूर्वा और अर्पिता, संजीव के बेटे अनिमेश व संजीव के साले के बेटे शौर्य की जान चली गई।

संजीव गर्ग व उनकी पत्नी शहर से बाहर थे

- घर के मालिक संजीव गर्ग व उनकी पत्नी आगरा गए हुए थे। हादसे की जानकारी मिलने पर वे जयपुर पहुंचे।

करणी सेना: 'पद्मावत' रिलीज हुई तो कर्फ्यू जैसे होंगे हालात

देहरादून। राजपूत संगठन करणी सेना ने मंगलवार को एक बार फिर विवादास्पद फिल्म 'पद्मावत' के निर्माताओं को 25 जनवरी को फिल्म रिलीज करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी। सीबीएफसी ने कुछ कट लगाने और 'पद्मावती' को 'पद्मावत' नाम से रिलीज करने की अनुमति दे दी है। 'पद्मावत' भारत में 25 जनवरी को रिलीज होगी। हालांकि, राजस्थान में फिल्म रिलीज नहीं होगी।  संवाददाताओं को संबोधित करते हुए करणी सेना के राष्ट्रीय संयोजक लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा कि वह फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली को वित्तीय आधार पर नुकसान पहुचाएंगे और उनकी मांग अब फिल्म को प्रतिबंधित करने की है।उन्होंने प्रधानमंत्री और सेंसर बोर्ड से भी आग्रह किया कि वे उनके प्रदर्शनों के पीछे की 'भावनाओं' और 'मुद्दों की गंभीरता' को समझें। अगर फिल्म रिलीज होती है तो कर्फ्यू जैसे हालात हो जाएंगे। करणी सेना के संयोजक ने कहा कि फिल्म का निर्माण नोटबंदी के दौरान हुआ था। उन्होंने फिल्म में लगे पैसे के मामले की जांच की मांग की।  फिल्म में दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर मुख्य भूमिका में हैं।  कालवी ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें फिल्म का विरोध करने को लेकर पाकिस्तान से धमकी भरे फोन आ रहे हैं, जिसकी लोकेशन 'लाहौर के पास की है।' उन्होंने पूछा, "पाकिस्तान क्यों इस मामले में इतनी रुचि दिखा रहा है।" प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता से पहले कालवी ने अपने संगठन के पदाधिकारियों के साथ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात की और पहाड़ी राज्य में फिल्म पर प्रतिबंध की मांग की।