Updated -

mobile_app
liveTv

जियो और एयरटेल की टक्कर में मात्र 197 रुपये में यह कंपनी दे रही अनलिमिटेड डाटा और कालिंग

नई दिल्ली। जियो और एयरटेल में जहां टैरिफ वॉर थमने का नाम नहीं ले रही। वहीं, अब इन दोनों कंपनियों के टक्कर में सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी एम.टी.एन.एल. (MTNL) ने नया टैरिफ प्लान पेश किया है। माना जा रहा है की यह प्लान अभी मौजूद सभी प्लान्स को कड़ी टक्कर देगा। इस प्लान को 197 रुपये की कीमत में पेश किया गया है। बता दें की यह प्लान सिर्फ दिल्ली और मुंबई के यूजर्स के लिए उपलब्ध है।

197 रुपये के प्लान की डिटेल: कंपनी इस प्लान के अंतर्गत यूजर्स को हर रोज 2GB डाटा और अनलिमिटेड कालिंग की सुविधा दे रही है। इस प्लान की 28 दिनों की वैलिडिटी है। बता दें, इस प्लान में 4G स्पीड नहीं मिलेगी। इसमें 2G और 3G स्पीड में डाटा मिलेगा। डाटा के अलावा इसमें यूजर्स को अनलिमिटेड कालिंग की सुविधा भी मिलेगी। लेकिन इसमें भी एक शर्त है। यूजर्स इस प्लान के अंतर्गत सिर्फ अपने नेटवर्क पर ही अनलिमिटेड कालिंग कर पाएंगे। इस प्लान में सभी नेटवर्क पर फ्री कालिंग की सुविधा नहीं है।

रिलायंस जियो 198 रु. प्लान: जियो के 198 रुपये के रिचार्ज पर पहले यूजर्स को 1.5 जीबी 4जी डाटा मिलता था लेकिन कंपनी ने इस प्लान में बदलाव किया है। जियो अब 198 रुपये के प्लान पर यूजर्स को 2 जीबी 4जी डाटा दे रही है। 2जीबी सीमा पार होने के बाद यूजर्स को 64kbps की डाटा स्पीड मिलेगी। प्लान में अनलिमिटेड लोकल और एसटीडी कॉलिंग मिलेगी। इसके साथ प्लान में फ्री रोमिंग की सुविधा भी दी जा रही है। इस प्लान में यूजर्स को 100 एसएमएस रोज मिलेंगे। इसके अलावा यूजर्स को जियो एप का फ्री सब्सक्रिप्शन मिलेगा। प्लान की वैलिडिटी 28 दिनों की होगी।

एयरटेल 199 रु. प्लान: जियो से चल रहे टैरिफ वॉर के बीच एयरटेल ने अपने कई प्लान्स में बदलाव किए। एयरटेल के 199 रुपये के रिचार्ज पर यूजर को हर रोज 1.4 जीबी 4जी डाटा मिलेगा। इसके साथ 100 एसएमएस रोज मिलेंगे। प्लान में अनलिमिटेड लोकल और एसटीडी कॉलिंग मिलेगी। इसके साथ कंपनी फ्री रोमिंग की सुविधा भी यूजर्स को दे रही है। 149 रुपये के प्लान की वैलिडिटी 28 दिनों की होगी।

व्हॉट्सएप में होगा बड़ा बदलाव, तीन नए फीचर्स को कंपनी जल्द कर सकती है लॉन्च

 विश्व के सबसे लोकप्रिय मैसेंजिंग एप में से एक व्हॉट्सएप को भारत में करीब 200 मिलियन यूजर्स रोज इस्तेमाल करते हैं। फेसबुक स्वामित्व वाली कंपनी की लोकप्रियता न सिर्फ भारत में बल्कि पूरी दुनिया में है। छोटे व्यापारियों के लिए व्हॉट्सएप ने हाल ही में एक अलग एप लॉन्च किया है। इसके अलावा कंपनी ने यूपीआई पेमेंट फीचर को भी लॉन्च किया है। व्हॉट्सएप कई नए फीचर्स को अपने बीटा प्रोग्राम में टेस्ट कर रही है। गूगल प्ले स्टोर पर व्हॉट्सएप का बीटा वर्जन डाउनलोड करने के बाद यूजर इन फीचर्स को एक्सेस कर सकते हैं। जानतें हैं वो से नए फीचर्स हैं जिन्हें व्हॉट्सएप जल्द लॉन्च कर सकता है।

ग्रुप कॉल और वीडियो चैट

व्हॉट्सएप की सबसे बड़ी कमियों में से एक इसका ग्रुप ऑडियो और वीडियो कॉल को स्पोर्ट नहीं करना है। यूजर्स व्हॉट्सएप ग्रप में वीडियो या ऑडियो कॉल का इस्तेमाल नहीं कर सकते। व्हॉट्सएप पर एक से ज्यादा यूजर्स को कॉल नहीं किया जा सकता है, लेकिन व्हॉट्सएप जल्द ही ग्रुप कॉलिंग फीचर ला सकता है। व्हॉट्सएप के बीटा वर्जन 2.18.39 में एक नया फीचर जोड़ा गया है, जहां ग्रुप में मौजूद सदस्यों के सामने फोन और वीडियो कॉल का बटन दिया गया है। इस फीचर की मदद से यूजर एक से ज्यादा सदस्य को ग्रुप कॉल के लिए इनवाइट कर सकते हैं। कितने यूजर्स को इनवाइट किया जा सकता है, इसकी अभी कोई जानकारी नहीं है।

 

अबाउट अस (about us) 

बीटा वर्जन 2.18.54 में देखा इस फीचर को देखा गया है। व्हॉट्सएप जल्द ही ‘अबाउट अस’ फीचर लॉन्च कर सकता है। इस फीचर की मदद से किसी भी व्हॉट्सएप ग्रुप में संबंधित जानकारी डाली जा सकती है। यूजर्स, ग्रुप में जाकर ‘अबाउट अस’ को एडिट कर सकते हैं। हालांकि ग्रुप की जानकारी को कोन बदल सकता है, इसका पूरा कंट्रोल ग्रुप एडमिन के पास होगा।

वॉयस टू वीडियो स्विच

इस फीचर को फिलहाल आईओएस यूजर्स के लिए शुरू किया गया है। इस फीचर में अब यूजर ऑडियो कॉल से वीडियो कॉल पर स्विच कर सकेंगे। इसके अलावा व्हॉट्सएप ने  मेंशन बटन भी जारी किया है। इस बटन की मदद से यूजर उन मैसेजस को आसानी से पढ़ सकते जिन्हे वो पढ़ नहीं पाए हों। बटन पर टैप करने के बाद यूज़र्स किसी ग्रुप में उन्हें टैग किया हुआ मेसेज पढ़ सकेंगे। ये फीचर अभी आईओएस यूजर्स के लिए उपलब्ध है लेकिन कंपनी जल्द इसे एंड्रॉयड यूजर्स के लिए शुरू कर सकती है।

लैपटॉप और पीसी की स्पीड का इन आसान तरीकों से लगाएं पता

 

पहला तरीका

  • सीपीयू की स्पीड चेक करने के लिए सबसे पहले अपने सिस्टम की Property में जाएं।
  • Property में जाने के लिए सबसे पहले My Computer पर माउस को ले जाएं और फिर राइट क्लिक करें। यहां आपको Property का विकल्प दिखाई देगा, इसपर क्लिक करें।
  • प्रॉपर्टी ऑप्शन में जानें के बाज General टैब पर क्लिक करें।
  • इस तरह आप अपने सिस्टम की स्पीड समेत कई जानकारियों को देख पाएंगे।

दूसरा तरीका

Device Manager को ओपन करने के लिए Start Button पर क्लिक करें।

  • RUN में जाकर ‘Devmgmt-msc’ टाइप करें और OK बटन पर क्लिक कर दें।
  • आपके सामने एक पैनल खुल जाएगा, जहां आप सीपीयू से जुड़ी कई जानकारी हासिल कर सकते हैं।

तीसरा तरीका

  • अपने सिस्टम में Start बटन पर क्लिक करें और सर्च बार में RUN लिख कर क्लिक करें।
  • RUN बार में 'Msinfo32’ टाइप करें और OK बटन पर क्लिक करें। आपके सामने एक नया सपोर्ट पैनल ओपन हो जाएगा। इसमें आप सीपीयू और प्रोसेसर स्पीड से जुड़ी कई जानकारियां पा सकते हैं।

MWC 2018: सैमसंग गैलेक्सी S9 और गैलेक्सी S9 प्लस में हैं ये 4 बड़े अंतर

नई दिल्ली(टेक डेस्क)। स्पेन की राजधानी बार्सिलोना में मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस 2018 की शुरुआत हो चुकी है। MWC 2018 में साउथ कोरियन कंपनी सैमसंग ने अपने दो बड़े स्मार्टफोन्स पर से पर्दा हटा दिया है। सैमसंग ने अपने सबसे बड़े प्रोडक्ट्स सैमसंग गैलेक्सी एस9 और सैमसंग गैलेक्सी एस9 प्लस को लॉन्च कर दिया है। कंपनी ने इन स्मार्टफोन्स को लेकर कई दावें किए हैं। ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं, कि सैमसंग गैलेक्सी एस9 और सैमसंग गैलेक्सी एस9 प्लस में क्या अंतर और समानताएं हैं।

सैमसंग गैलक्सी S9/S9+ में ये है अतंर:

 

डिस्प्ले

 

  • सैमसंग गैलक्सी एस9: फोन में 5.8 इंच का क्वॉड एचडी प्लस सुपर एमोलेड स्क्रीन दिया गया है। फोन का एस्पेक्ट रेशियो 18.5:9 है। इसका पिक्सल प्रति इंच(पीपीआई) 531 है।
  • सैमसंग गैलक्सी एस9 प्लस: फोन में 6.2 इंच का क्वॉड एचडी प्लस कर्व्ड सुपर एमोलेड स्कीन लगा है। इसका भी एस्पेक्ट रेशियो 18.5:9 है। इसका पिक्सल प्रति इंच(पीपीआई) 568 है।
  • सैमसंग गैलक्सी एस9: फोन में 4 जीबी की रैम दी गई है। फोन 10एनएम 64 बिट ऑक्टा-कोर चिपसेट से लैस हैं। फोन में ऑक्टाकोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 प्रोसेसर पर रन करता है।
  • सैमसंग गैलक्सी एस9 प्लस: फोन में 6 जीबी की रैम दी गई है। फोन 10एनएम प्रोसेस के इस्तेमाल से ऑक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 प्रसेसर पर रन करता है।

MWC 2018: सैमसंग गैलेक्सी S9 और गैलेक्सी S9 प्लस में हैं ये 4 बड़े अंतर

नई दिल्ली(टेक डेस्क)। स्पेन की राजधानी बार्सिलोना में मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस 2018 की शुरुआत हो चुकी है। MWC 2018 में साउथ कोरियन कंपनी सैमसंग ने अपने दो बड़े स्मार्टफोन्स पर से पर्दा हटा दिया है। सैमसंग ने अपने सबसे बड़े प्रोडक्ट्स सैमसंग गैलेक्सी एस9 और सैमसंग गैलेक्सी एस9 प्लस को लॉन्च कर दिया है। कंपनी ने इन स्मार्टफोन्स को लेकर कई दावें किए हैं। ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं, कि सैमसंग गैलेक्सी एस9 और सैमसंग गैलेक्सी एस9 प्लस में क्या अंतर और समानताएं हैं।

सैमसंग गैलक्सी S9/S9+ में ये है अतंर:

 

डिस्प्ले

 

  • सैमसंग गैलक्सी एस9: फोन में 5.8 इंच का क्वॉड एचडी प्लस सुपर एमोलेड स्क्रीन दिया गया है। फोन का एस्पेक्ट रेशियो 18.5:9 है। इसका पिक्सल प्रति इंच(पीपीआई) 531 है।
  • सैमसंग गैलक्सी एस9 प्लस: फोन में 6.2 इंच का क्वॉड एचडी प्लस कर्व्ड सुपर एमोलेड स्कीन लगा है। इसका भी एस्पेक्ट रेशियो 18.5:9 है। इसका पिक्सल प्रति इंच(पीपीआई) 568 है।
  • सैमसंग गैलक्सी एस9: फोन में 4 जीबी की रैम दी गई है। फोन 10एनएम 64 बिट ऑक्टा-कोर चिपसेट से लैस हैं। फोन में ऑक्टाकोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 प्रोसेसर पर रन करता है।
  • सैमसंग गैलक्सी एस9 प्लस: फोन में 6 जीबी की रैम दी गई है। फोन 10एनएम प्रोसेस के इस्तेमाल से ऑक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 प्रसेसर पर रन करता है।

MWC: सोनी एक्सपीरिया XZ2 और XZ2 कॉम्पैक्ट में होगी 4k रिकॉर्डिंग,

नई दिल्ली(टेक डेस्क)। सोनी ने एक्सपीरिया XZ 2 और Xz 2 कॉम्पैक्ट फोन लॉन्च किए। दोनों फोन्स में से XZ2 की 5.7 इंच की बड़ी स्क्रीन है। लेकिन 5 इंच स्क्रीन के साथ भले ही कॉम्पैक्ट साइज में छोटा हो, पर इसकी स्पेसिफिकेशन्स लगभग समान है। इसी के साथ सोनी अपने फोन्स में वायरलेस चार्जिंग लेकर आ गया है। लेकिन यह भी XZ2 तक ही सीमित है।

कैमरा है खास:

दोनों फोन्स का कैमरा ना केवल एचडीआर वीडियो शूट करते हैं, साथ ही 4K रिजोल्यूशन क्वालिटी भी प्रदान करते हैं। इसी के साथ ये सुपर स्लो मोशन फुटेज भी शूट कर सकते हैं। इसी के साथ सोनी के फोन्स का रिजोल्यूशन 720p से फुल एचडी में आ गया है। सोनी ने कहा है की कंपनी ने क्वालकॉम के साथ पार्टनरशिप में कैमरा का डेवलप किया है। इससे लो लाइट में भी बेहतर पिक्चर्स ली जा सकेंगी। इसी के साथ 3D फेस मैपिंग फीचर को भी फ्रंट-बैक कैमरा में उपलब्ध करवाया गया है। इससे यूजर्स 3D सेल्फी बना पाएंगे।

लो बैटरी की परेशानी से निजात दिलाएंगे ये तरीके, घंटो बढ़ा सकते हैं बैकअप

क्या आप अपने फोन में लो बैटरी से परेशान हैं? क्या आपका दिन बार-बार फोन को चार्ज करने में ही बीतता है? अगर ऐसा है, तो हम आपको कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके इस्तेमाल से आप अपने फोन की बैटरी की तेज खपत को कम कर सकते हैं। इतना ही नहीं इन तरीकों की मदद से आप घंटों अपनी बैटरी बैकअप को बढ़ा सकते हैं। डालते हैं इन तरीकों पर एक नजर।

फोन को फुल चार्ज और फुल डिस्चार्ज होने से बचाएंआपके स्मार्टफोन में या तो लिथियम आयन बैटरी होगी या फिर लिथियम पॉलिमर बैटरी। इन दोनों ही बैटरी में एक बात ध्यान देना जरूरी है कि, फोन को न तो पूरा चार्ज करें और न ही पूरे तरह से डिस्चार्ज होने दें। फोन की बैटरी को कभी भी 100 फीसदी तक चार्ज न होने दें, इसके अलावा इस बात का भी ख्याल रखें कि आपके फोन की बैटरी 20 फीसदी से कम न हों। अगर आप अपने फोन की बैटरी को ज्यादा चार्ज या ज्यादा डिस्चार्ज होने दे रहे हैं, तो इसका मतलब आप अपने फोन की बैटरी को खराब कर रहे हैं।

भारत में लॉन्च हुआ माइक्रोसॉफ्ट सरफेस प्रो, दुनिया के सबसे पतले लैपटॉप से कितना है अगल

शैटरशील्ड डिस्प्ले के साथ लॉन्च हुआ Z2 फोर्स, एलजी V30 से मुकाबला

नई दिल्ली(टेक डेस्क)। मोटोरोला ने लगभग एक साल के बाद भारत में अपना फ्लैगशिप स्मार्टफोन मोटो Z2 फोर्स लॉन्च किया है। कंपनी ने फोन की कीमत 34999 रुपये रखी है। इस फोन की खासियतों में शैटरप्रूफ क्वाडएचडी डिस्प्ले, ड्यूल कैमरा और मोटो Mod सपोर्ट है। मोटो Z2 फोर्स सिर्फ एक वैरिएंट 6GB रैम और 64GB स्टोरेज में उपलब्ध होगा। भारत में मोटो इस फोन को एक कलर वैरिएंट सुपर ब्लैक में लाया है। यह फोन सेल के लिए उपलब्ध है। इस फोन की तुलना एलजी V30 जैसे स्मार्टफोन्स से की जाएगी।

फोन की दो बड़ी खासियतें इसका शैटरप्रूफ डिस्प्ले और मोटो मोड्स हैं। मोटो मोड्स फोन की एक्सेसरी है जिसे फोन के रियर पर लगा कर इस्तेमाल किया जा सकता है। मोटोरोला ने हाल ही में भारत में तीन मोटो मोड्स- जेबीएल साउंडबूसट 2, मोटो गेमपैड और मोटो टर्बोपावर पैक पेश किये थे।

बैटरी: उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए Z2 फोर्स में 2730 mAh की इंटरनल बैटरी दी गई है। मोटोरोला हर मोटो Z2 फोर्स के साथ 5999 रुपये का मोटो टर्बोपावर पैक बंडल करेगा। टर्बोपावर पैक 3490 mAh की बैटरी के साथ आता है।

5G सुपर स्पीड टेक्नोलॉजी की झलक विंटर ओलंपिक्स में

नई दिल्ली । 5G का इंतजार जल्द ही खत्म होने वाला है। 5G का अनुभव सबसे पहले साउथ कोरियाई लोग करने वाले हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि 5G - 5th जनरेशन वायरलेस नेटवर्क दुनियाभर में अपनी शुरआत विंटर ओलंपिक्स में करने वाला है। साउथ कोरिया का दुनिया को 5G दिखाने की यह पहली कोशिश है। पूरी दुनिया में 5G का पहली बार कमर्शियल इस्तेमाल किया जाएगा।

5G कैसे होगा खास?

5G टेक्नोलॉजी 2020 से पहले रोल-आउट नहीं होगी। विंटर गेम्स  में चलने वाली शटल बसों में कोई ड्राइवर नहीं हैं। साथ ही स्केटर्स की रियाल-टाइम 360 डिग्री फोटोज भी ली जाएंगी। 5th जनरेशन वायरलेस नेटवर्क को काफी तेजी से काम करने के लिए तैयार किया गया है। यानि की 4G के मुकाबले 5G 100 गुना फास्ट होगा। 10 गीगाबाइट प्रति सेकंड की स्पीड के साथ 5G एक पूरी हाई-डेफिनिशन मूवी को कुछ सेकंड्स में भेज सकता है। इसी के साथ 5G इंटरनेट ऑफ थिंग्स का रास्ता भी खोल देता है। इसके अंतर्गत रेफ्रिजरेटर्स से लेकर ट्रैफिक लाइट्स तक आपस में बात कर पाएंगे।

5G इनेबल करेगा अगले स्तर की टेक्नोलॉजी

कैलिफोर्निया आधारित इंटेल कॉर्पोरेशन के वाईस प्रेजिडेंट सैंड्रा ने कहा- टेक इंडस्ट्री इस टेक्नोलॉजी की नई क्षमताओं पर गौर कर रही है। 5G टेक्नोलॉजी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लेकर ड्रोन्स, सेल्फ-ड्राइविंग वाहन, रोबोट्सआदि के लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित होगी। दूसरे शब्दों में अगर 4G के साथ कम्प्यूटर्स बच्चों की तरह बातें कर सकते हैं तो 5G के साथ ये ग्रोन-अप्स की तरह बातें करेंगे। इसे मशीन का युग कहा जा सकता है। मशीनों का आविष्कार तो हो ही रहा है। 5G इन मशीनों को कंप्यूटिंग और कम्युनिकेशन के मामले में इनेबल कर देगा।

जीमेल को मिलेगा AMP का सपोर्ट, जानिए कैसे बदलेगा यूजर्स का अनुभव

नई दिल्ली। गूगल अब जीमेल के लिए एक्सेलरेटेड मोबाइल पेजेज यानि की AMP का डेवलपर प्रीव्यू लेकर आने वाला है। आपकी जानकारी के लिए बता दें, गूगल AMP पेजेज को नए आर्टिकल्स मोबाइल पर तुरंत लोड करने के लिए डिजाइन किया गया था। ईमेल के लिए AMP आने पर ईमेल का मॉडर्न इस्तेमाल किया जाने लगेगा। ये सब कैसे होगा, इससे यूजर्स को क्या फायदा होगा और AMP पेजेज का मतलब क्या है? जानते हैं इन सब के बारे में:

क्या होता है AMP

AMP खासतौर से मोबाइल के लिए डिजाइन किया जाता है। इसमें यूजर्स को ईमेल का बेहतर और नया अनुभव देने की क्षमता है। AMP की क्षमताएं पहले से भी अधिक बढ़ गई हैं और अब यह बढ़िया वेबपेजेज बनाने के सबसे बेहतरीन तरीकों में से एक हो गया है।

AMP एक ओपन सोर्स फ्रेमवर्क होता है। इसकी मदद से किसी भी पेज को मोबाईल फ्रेंडली पेज में बदला जा सकता है। मोबाइल फ्रेंडली पेज बनाए की जरुरत इसलिए है क्योंकि अधिकतर यूजर्स मोबाइल पर ही कंटेंट कंज्यूम करते हैं। AMP एक ऐसी एप्लीकेशन की तरह काम करता है जिसकी मदद से कसी भी वेब पेज को मोबाइल फ्रेंडली बनाया जा सकता है। इससे यूजर के मोबाइल पर वेब पेज जल्दी/फास्ट खुलते हैं। इससे लोड टाइम भी काम होता है। इससे यूजर्स को किसी पेज, वीडियो, ऑडियो, पीडीएफ आदि के लोड होने का अधिक इंतजार नहीं करना पड़ता क्योंकि AMP इसे लाइट बना देता है।