• Wed. Jan 19th, 2022

युवा शक्ति का सर्जनात्मक पक्ष ही समाज और देश की ताकत: सांवरमल वर्मा

ByRameshwar Lal

Jan 14, 2022

प्रयास संस्थान की ओर से नगरश्री सभागार में हुआ विवेक, डिंपल, जय की काव्य-कृतियों का विमोचन

चूरू। किसी भी देश और समाज की सर्जनात्मक ताकत युवा शक्ति है। युवा शक्ति का विचार पक्ष अगर सकारात्मक होगा तो वह देश रचनात्मक होगा और नित्य प्रगति के सोपान तय करेगा। यह सामान्य-सा पहलू है और सर्वज्ञात है कि मनुष्य स्वयं ही अपने भाग्य का विधाता एवं निर्माता होता है, ऐसे में समस्त क्रियाकलाप ही उसके वर्तमान होते है।
उक्त विचार जिला कलक्टर सांवरमल वर्मा ने स्थानीय नगरश्री सभागार में प्रयास संस्थान की ओर से शुक्रवार को आयोजित पुस्तक विमोचन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किए। वर्मा ने कहा कि चूरू की भूमि उर्वरा है, रचनात्मक है और यह मेरा सौभाग्य है कि इस उर्वरा क्षमता के दर्शन और निखरे स्वरूप को मैं आज यहां के युवा कवियों में भी देख रहा हूं। युवापन से ही साहित्य की समझ और कृतियों का आना निस्संदेह साहित्य क्षेत्र में चूरू के लिए गर्व का विषय है।
समारोह में जिला कलक्टर सांवरमल वर्मा ने झारिया-चूरू के युवा कवि विवेक दीप के कविता संग्रह ‘बूंद-बूंद अनुराग’, भोजाण-राजगढ़ की युवा कवयित्री डिंपल राठौड़ की काव्यकृति ‘कहीं मेरा जिक्र न था’ और चूरू के जय वाधवानी की कविता पुस्तक ‘मुसाफिर! ठहर जा’ का विमोचन किया। विमोचित कृतियों पर साहित्यकार भंवरलाल महरिया, देवकरण जोशी दीपक, मोहन सोनी चक्र ने पत्रवाचन किए। कृति-विमोचन के बाद युवा कवियों ने अपनी बात रखते हुए कहा कि रचाव का यह मार्ग उनका अपना है और अभिव्यक्ति के तमाम रास्ते अभी उन्हें और तय करने है। जरूरत है कि अभिभावक और समाज युवा शक्ति को समर्थन और प्रोत्साहन दे।
समारोह की विशिष्ट अतिथि राजकीय लोहिया महाविद्यालय की हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. मंजु शर्मा ने कहा कि देखा, भोगा और महसूस किए गए को लिखने का कौशल युवा पीढ़ी में प्रगट करने का भाव जागना अंचल के लिए सुखद है। उन्होंने संतोष व्यक्त किया कि सोशल नेटवर्किंग और बदलते वातावरण के बीच से कुछ युवा निखर कर साहित्य में आ रहे हैं। समारोह अध्यक्ष और राजकीय दीनदयाल मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. महेश मोहन पुकार ने कहा कि साहित्य ही उम्मीद का वह पक्ष लिए है जो कि समाज की विद्रुपता, विसंगति और भेदभाव को बारीकी से अंकित कर सकता है। युवामन की अपनी प्राथमिकताएं होती हैं परंतु मानवीय पक्ष के हक में खड़ा होना सबसे पहली प्राथमिक होनी चाहिए।
प्रारंभ में प्रयास संस्थान के अध्यक्ष डॉ. दुलाराम सहारण ने स्वागत उद्बोधन दिया और कहा कि अपने तथा अपने संपर्कों के बूते पर स्वयं खड़े हुए ये युवा बानगी हैं कि आज भी जो कोई अपने रास्ते पर चल पड़ता है, उसके पथ के राही बनते चलते हैं। जरूरत भर है कि वह आगे आए। यह समय बदला है और बदले समय में घर से निकालकर प्रोत्साहन की राह दिखाने की पुनीत भावना निरंतर क्षय को प्राप्त हुई है। आज जब सभी हर किसी को सीढियों-भर इस्तेमाल करने पर आमादा हैं तब इन युवाओं का आगे आना सुखद है।
समारोह में वरिष्ठ नेता रियाजत अली खान, सुनील मेघवाल झारिया, जयसिंह पूनिया, ओमप्रकाश तंवर, नगरश्री सचिव श्यामसुंदर शर्मा, किशन वाधवानी, ओमसिंह राठौड़, केआर पाटवाल, अशोक डूडी गाजसर, उषाकंवर, मनराज कांटीवाल ने अतिथियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया। समारोह में पत्रकार नरेंद्र शर्मा, आशीष आशु, साहित्यकार राजेंद्र सिंह शेखावत, मोहनलाल अर्जुन, समाजसेवी अमर मोरानी, रविप्रकाश दाधीच, बेगराज खरींटा, दयापाल पूनिया, एडवोकेट रमेश सोनी, बुधमल सैनी, पूजा सैनी, नवीन माहिच की उल्लेखनीय उपस्थिति रही। धन्यवाद संस्थान सचिव कमल शर्मा ने दिया। संचालन साहित्यकार उम्मेद गोठवाल ने किया।

error: Content is protected !!