• Tue. Aug 9th, 2022

आषाढ़ सुदी दूज के अवसर पर रणुजा धाम रामदेवरा में लगा श्रद्धालुओं का तांता अनलॉक होने के बाद धार्मिक स्थलों को खोलने के बाद लोगों में खुशी की लहर प्रसाद विक्रेताओं का धंधा रहा लॉक प्रसाद विक्रेता व्यापारियों मैं छाइ निराशा

ByRameshwar Lal

Jul 13, 2021


जयपुर टाइम्स
रामदेवरा / जैसलमेर। देश के कोने कोने से आज आषाढ़ सुदी दूज के अवसर पर लोक देवता बाबा रामदेव जी के धार्मिक स्थल रामदेवरा पहुंच रहे हैं श्रद्धालु जिसमें हरियाणा पंजाब गुजरात महाराष्ट्र राजस्थान आदि कई राज्यों के श्रद्धालु आस्था के साथ पहुंच रहे हैं रामदेवरा गाइड लाइन के अनुसार सभी भक्तों को मंदिर समिति के अनुसार करवाए जा रहे हैं बाबा रामदेव समाधि के दर्शन बाहर से आने वाले हजारों श्रद्धालुओं ने बाबा रामदेव जी के समाधि के आगे शीश नवाया और देश में अमन चैन और खुशहाली की कामना की पुलिस प्रशासन की ओर से न्यूज़ के अवसर पर आला अधिकारियों ने बढ़ाया पुलिस जाब्ता । कोरोना गाइड लाइन की पालना करवाने के पूर्ण प्रयास । बाबा रामदेव जी के मुख्य गेट के आगे छोटी धजाए व प्रसाद मंदिर प्रशासन के लिए अव्यवस्था श्रद्धालुओं के पैरों में आने से धार्मिक भावना को पहुंचती हैं ठेस। जबकि कोरोना गार्डन के अंतर्गत किसी भी धार्मिक स्थल में प्रसाद बिल्कुल ले जाना वर्जित है परंतु रामदेवरा के मुख्य बाजार में करीब 300 दुकाने प्रसाद की है जो कोई दुकानदार आने वाले श्रद्धालुओं को प्रसाद थमा देते हैं जब श्रद्धालु मंदिर में प्रवेश करता है तो प्रसाद को वही रखवा दिया जाता है जिससे प्रसाद व धजाए यात्रियों के पैरों में आने से धार्मिक भावना को पहुंचती हैं । देश के कोने कोने में बाबा रामदेव जी की श्रद्धालु आस्था से जुड़े हुए हैं उन लोगों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है और श्रद्धालु बताते हैं कि हर दूज के दिन बाबा रामदेव जी के दर्शन करने रामदेवरा पहुंचते हैं परंतु कोरोना के चलते मंदिरों को पट बंद किए गए थे इसलिए अब धार्मिक स्थलों को अनलॉक किया गया है इसलिए अब बाबा रामदेव जी के दर्शनों का लाभ लेकर अमन चैन और खुशहाली की कामना करते हैं आषाढ़ सुदी दूज के अवसर पर धार्मिक स्थलों पर प्रसाद बेचने वाले दुकानदारों को आज भी लॉक समझा जाएगा क्योंकि धार्मिक स्थलों में प्रसाद चढ़ाना कोरोना का एक लाइन का उल्लंघन हो जाता है इसलिए रामदेवरा में प्रसाद विक्रेताओं की चेहरे मुरझाए हुए दिखाई दे रहे हैं वही दूसरी दुकानदारों की दुकानदारों के चेहरे कई महीनों बाद मुस्कान भरे दिखाई दे रहे हैं

error: Content is protected !!