• Fri. Aug 12th, 2022

चीनी साइंटिस्ट का मान ना- निर्दोष वैज्ञानिकों पर कीचड़ उछाल रही दुनिया; वुहान लैब को लेकर अफवाहें

ByRameshwar Lal

Jun 15, 2021

कोरोनावायरस की उत्पत्ति को लेकर दुनियाभर के निशाने पर आए चीन अब अपने बचाव में उतर आया है। कोरोना की उत्पत्ति को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा रही चीन की वुहान लैब के वैज्ञानिकों ने दुनिया के आरोपों को निराधार बताया है।

हाल में अमेरिका के 18 वैज्ञानिकों के समूह ने कोरोना की उत्पत्ति की गहराई से जांच करने की मांग रखी थी। इनका मानना है कि वायरस लैब से ही लीक हुआ है। ये सभी वैज्ञानिक सार्स परिवार के वायरस की गहन स्टडी करते रहे हैं। समूह का नेतृत्व कर रहे वायरोलॉजिस्ट जेसी ब्लूम के मुताबिक, यह स्टडी WHO की टीम के पहुंचने तक चल रही थी। इसलिए टीम को लैब की जांच नहीं करने दी गई। जांच का दिखावा जरूर किया गया।

अमेरिकी वैज्ञानिकों का दावा- वायरस चीन की लैब से ही निकला

चीन की टॉप वायरोलॉजिस्ट झेंगली ने न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए इंटरव्यू में कहा कि वुहान में उनकी लैब के बारे में लगाई जा रहीं अटकलों में जरा सी भी सच्चाई नहीं है। झेंगली वही वैज्ञानिक हैं, जिन पर वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में चमगादड़ पर लापरवाही से रिसर्च करने का आरोप लगाया गया था। कई विशेषज्ञों का मानना है कि इन्हीं की लापरवाही से पूरी दुनिया में कोरोना फैला।

अटकलों में जरा सी भी सच्चाई नहीं

चीन की ‘बैट वुमन’ के नाम से मशहूर वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी की डिप्टी डायरेक्टर शी झेंगली ने कहा है कि दुनिया निर्दोष वैज्ञानिकों पर बिना किसी आधार के कीचड़ उछाल रही है। वुहान लैब से कोरोनावायरस की उत्पत्ति का दावा निराधार है। मैं किसी ऐसी चीज के लिए सबूत कैसे पेश कर सकती हूं, जहां कोई सबूत है ही नहीं?हाल ही में अमेरिकी सीक्रेट एजेंसी की रिपोर्ट में दावा किया गया था कि वुहान लैब के कई वैज्ञानिक अक्टूबर-नवंबर 2019 में कोरोना संक्रमित पाए गए थे। अगर ये वैज्ञानिक शुरुआत में ही संक्रमित हुए थे, तो इससे वायरस के पैदा होने की जगह का पता लगाया जा सकता है। हालांकि, रिपोर्ट के बाद चीन ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इसे खारिज कर दिया था।

error: Content is protected !!