• Mon. Aug 8th, 2022

अमेरिका में डेल्टा वैरिएंट से नई लहर की आशंका:धीमे वैक्सीनेशन और डेल्टा वेरिएंट के डबल होते मामलों ने बाइडेन प्रशासन की नींद उड़ाई, मास्क पहनने पर दिया जा रहा जोर

ByRameshwar Lal

Jul 1, 2021

अमेरिका में तेजी से फैलते डेल्टा वैरिएंट और वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार ने बाइडेन प्रशासन की नींद उड़ा दी है। हर दो हफ्ते में डेल्टा वैरिएंट के मामले दोगुने हो रहे हैं। अब अमेरिका में नए केस में इस वैरिएंट की हिस्सेदारी 20% पहुंच गई है। काइसर फैमिली फाउंडेशन सर्वे के अनुसार, अमेरिका की 32% आबादी टीकाकरण के खिलाफ है। बाइडेन प्रशासन के एक अधिकारी बताते हैं कि वैक्सीनेशन की स्पीड बढ़ाने के लिए लगभग सभी 50 राज्य सरकारों द्वारा शुरू किए गए प्रोत्साहन प्रोग्राम जैसे नकद राशि, पुरस्कार, लॉटरी व्यवस्था पूरी तरह नाकाम रही है। ऐसे में बाइडेन प्रशासन ने नई लहर से बचने के लिए खास रणनीति बनाई है।

मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की वापसी पर विचार

एक हाई प्रोफाइल सूत्र ने बताया कि डेल्टा मामलों में वृद्धि से चिंतित बाइडेन सरकार ने मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम लागू करने की संभावना टटोलना शुरू कर दिया है। लॉस एंजिल्स और कैलिफोर्निया ने इनडोर स्थानों में सभी के लिए मास्क अनिवार्य कर दिया है। घर-घर वैक्सीनेशन अभियान शुरू किया गया है।

सार्वजनिक जगहों पर वैक्सीनेशन वालों को ही अनुमति पर विचार: संघीय सरकार और राज्य के स्वास्थ्य अधिकारी इस बात पर बहस कर रहे हैं कि रेस्त्रां से लेकर मूवी थिएटर और हर सार्वजनिक जगह पर टीकाकरण की सिफारिश कैसे लागू करें।
जीनोम सीक्वेंसिंग तय मानक से 30-50% बढ़ा दी गई है

बाइडेन प्रशासन ने टेस्टिंग, जीनोम सीक्वेंसिंग, रेंडम सैपलिंग, जेनोमिक इपिडेमियोलाजी सेंटर्स और नया बॉयोइनफॉर्मेटिक्स इंफ्रास्ट्रक्चर आदि के लिए करीब 12 हजार करोड़ रुपए का बजट जारी किया है। जीनोम सीक्वेंसिंग 30-50% बढ़ा दी है। सीडीसी ने बॉयोइनफॉर्मेटिक्स और हाई परफॉर्मेंस कंप्यूटिंग सपोर्ट के लिए विभिन्न लैब के साथ मिलियन डॉलर का करार किया है।

सीडीसी के अधिकारी जीनोम सीक्वेंसिंग की जरूरत पर बताते हैं कि जहां डेल्टा वैरिएंट तेजी से बढ़ रहा है और वैक्सीनेशन धीमा है, उन स्थानों पर सैंपलिंग बढ़ाकर इलाके की मैपिंग कर रहे हैं। यदि स्थिति खतरनाक है तो जीनोम सीक्वेंसिंग बढ़ाना अनिवार्य है। ताकि यह पता चल सके कि किस इलाके में कितना जोखिम है। साथ ही इससे नए म्यूटेशन का भी पता चल सकेगा।
भ्रांतियां दूर करने के लिए प्रचार पर 7500 करोड़ रुपए

टीकों को लेकर भ्रांतियां खत्म करने लिए करीब 7500 करोड़ रुपए का विज्ञापन अभियान शुरू किया है। 275 समूहों के साथ साझेदारी की है।
नए वैरिएंट के खिलाफ फाइजर का बूस्टर100 दिन में

फाइजर पहली बार इन नए वैरिएंट के खिलाफ नई वैक्सीन बनाने पर काम कर रही है। यह वैक्सीन अगले 100 दिन में आ सकती है। इसे बूस्टर शॉट कहा जा रहा है, जो दूसरी डोज लेने के 6-12 महीने के बीच लगेगी।

चिंता: अगस्त में योजना मुताबिक स्कूल खुले तो विस्फोट की आशंका

विशेषज्ञों ने जल्द नई लहर की चेतावनी दी है। तर्क यह है कि जो राज्य टीकाकरण में पिछड़े जैसे ओक्लाहामा, मिसौरी, मिसिसिपी, लुईसियाना, अल्बामा, अरकांसस और व्योमिंग में दो हफ्ते में नए केस 50% बढ़े हैं। 3-6 महीनों में भर्ती होने वाले 18-49 वर्ष के लोगों की संख्या दोगुनी हो गई है। अगस्त में स्कूल खुलने जा रहे हैं। ऐसे में यह विस्फोटक हो सकता है। एक डोज डेल्टा वेरिएंट पर कारगर नहीं है और अमेरिका में सिर्फ 46.4% आबादी को ही दोनों डोज लगी है।

error: Content is protected !!