• Tue. Aug 9th, 2022

वैक्सीनेशन पर रिसर्च में पॉजिटिव संकेत

ByRameshwar Lal

Jul 26, 2021

:वैक्सीन लगवाने के बाद लोग संक्रमित तो हुए, लेकिन 80% ने दूसरों में वायरस नहीं फैलाया

दुनियाभर में वैक्सीन को कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बड़ा हथियार माना जा रहा है। अब इजराइल से भी वैक्सीनेशन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है। यहां के स्वास्थ्य मंत्रालय की रिसर्च में सामने आया है कि वैक्सीन लगवाने के बाद कोरोना संक्रमित हुए 80% लोग दूसरों में वायरस नहीं फैलाते। इजराइली सरकार ने ये रिसर्च रेस्टोरेंट, जिम, इवेंट हॉल और म्यूजिक कंसर्ट में पहुंचे लोगों का सैंपल लेकर की है।

टाइम्स ऑफ इजराइल की रिपोर्ट के मुताबिक रिसर्च में सामने आया है कि वैक्सीन ले चुके 10% लोग एक व्यक्ति तक संक्रमण फैलाते हैं, जबकि 3% वैक्सीनेट लोग 2 या 3 लोगों तक वायरस पहुंचा देते हैं। बचे 7% लोगों को लेकर कुछ साफ डेटा सामने नहीं आया है। ये संक्रमण फैला भी सकते हैं और नहीं भी। हालांकि, रिपोर्ट में ये साफ नहीं किया गया है कि कितने लोगों पर ये रिसर्च की गई है।

इजराइल में ट्रैवलिंग के लिए ग्रीन पास जरूरी कर दिया गया है। बड़े-बड़े इवेंट्स में लोगों की भारी भीड़ देखकर ये फैसला लिया गया है। ये उन लोगों को मिलता है, जो वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके होते हैं। इजराइल में किसी बड़े कार्यक्रम में शामिल होने के लिए ग्रीन पास या 72 घंटे पहले कराए गए कोविड टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होती है। जल्द ही ग्रीन पास को स्पोर्ट्स इंवेट, रेस्टोरेंट, कॉन्फ्रेंस और टूरिस्ट अट्रेक्शन और पूजास्थलों में भी लागू करने का प्लान है।

इजराइल में अब तक सरकार की तरफ से फ्री टेस्ट कराने की सुविधा थी, लेकिन प्रधानमंत्री नेफ्टाली बेनेट कह चुके हैं कि अब वैक्सीन न लगवाने वाले लोगों को कोरोना टेस्ट खुद के खर्चे पर करवाना होगा। उन्होंने कहा है कि जो लोग वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, उनके लिए टैक्स भरने वालों के पैसे बर्बाद नहीं किए जाएंगे।

दरअसल, इजराइल के करीब 10 लाख लोगों ने वैक्सीन लगवाने से इनकार कर दिया है। सरकार का मानना है कि इन लोगों की वजह से देश में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है। यदि केस बढ़ते हैं तो पूरे इजराइल में चौथी बार लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।

error: Content is protected !!