• Wed. Aug 10th, 2022

सौम्या गुर्जर के पति पर निजी कंपनी से 276 करोड़ के पेमेंट के बदले कमीशन मांगने का आरोप

ByRameshwar Lal

Jun 11, 2021

जयपुर ग्रेटर नगर निगम आयुक्त से हाथापाई मामले में निलंबित हुई महापौर डॉ. सौम्या गुर्जर के पति राजाराम गुर्जर का वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में राजाराम गुर्जर जयपुर में सफाई का काम कर रही BVG कंपनी के प्रतिनिधि से 10 फीसदी कमीशन पर बात करते हुए दिख रहे हैं। इस वायरल वीडियो के आधार पर ACB ने केस दर्ज कर लिया है।

वायरल वीडियो में राजाराम और एक व्यक्ति जिसका चेहरा नहीं दिख रहा है। वह BVG कंपनी को 276 करोड़ रुपए के बकाया चल रहे भुगतान करने को लेकर 10 प्रतिशत कमीशन की पेशकश कर रहा है। यह वायरल वीडियो 20 अप्रैल 2021 को शाम करीब साढ़े 6 बजे का बताया जा रहा है। रिश्वत के लेनदेन की बातचीत का यह वीडियो सामने आने के बाद सियासी हलकों में भी खूब हलचल है। यह वीडियो ऐसे वक्त सामने आया है जब सुबह ही हाईकोर्ट में मेयर के निलंबित करने को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई होनी है।

कंपनी को लेकर ही हुआ था मेयर सौम्या गुर्जर और आयुक्त के बीच टकराव
जयपुर शहर में डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण करने वाली BVG कंपनी को हटाने को लेकर ही महापौर डॉ. सौम्या गुर्जर और नगर निगम ग्रेटर के कमिश्नर यज्ञमित्र सिंह देव के बीच टकराव हुआ था। महापौर और पार्षद जयपुर शहर में सफाई का काम इस कंपनी से छीनना चाहते थे। वहीं, कमिश्नर यज्ञमित्र सिंह देव ने अधरझूल में लटकाए रखा था। उन्होंने BVG कंपनी का टेंडर निरस्त नहीं किया। इससे महापौर और नगर निगम कमिश्नर के बीच टकराव पैदा कर दिया।

BVG कंपनी के बकाया भुगतान में रिश्वत के लेनदेन की डील
इस वीडियो में नगर निगम में रुका हुआ बकाया भुगतान को लेकर 10 फीसदी यानी 20 करोड़ रुपए की डील एक कमरे में हो रही है। यानी जिस तरह कंपनी को भुगतान होता जाएगा। उसका 10 प्रतिशत कमीशन राजाराम को मिलता जाएगा। हालांकि राजाराम यह बकाया भुगतान 6 महीने में पूरा दिलवाने की बात करते हुए नजर आ रहे है। उसके बदले एक मुश्त 10 करोड़ का चेक देने की बात BVG कंपनी के प्रतिनिधि सौम्या गुर्जर के पति राजाराम से कर रहे है।

इसी वीडियो में BVG कंपनी के प्रतिनिधि कहते हुए नजर आ रहे है कि जो पेनल्टी लगानी है वो लग जाएगी लेकिन 6 महीने में पूरा पेमेंट रिलीज करवा दीजिए। इसी बीच राजाराम डील में भुगतान का पैसा चेक के नाम से देने से इंकार कर देते है। इस वीडियो में निगम की समितियों, चेयरमेनों और पार्षदों को लेकर भी चर्चा हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!