• Fri. Aug 12th, 2022

कोरोना की दोनों लहरों पर रिसर्च:रिपोर्ट में पहली लहर के मुकाबले दूसरी में कम पुरुष अस्पताल में भर्ती हुए , हॉस्पिटल में मौतें 3.1% बढ़ीं

ByRameshwar Lal

Jul 5, 2021

दोनों लहर के दौरान अस्पताल में भर्ती मरीजों की क्लिनिकल प्रोफाइल की रिसर्च के बाद सामने आई हैं। 

 इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR), ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) और नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (NCDC) के एक्सपर्ट्स ने की है।

कोरोना महामारी की पहली और दूसरी लहर ने भारत समेत दुनियाभर में भयंकर तबाही मचाई है। देश में पहली लहर के मुकाबले सेकेंड वेव में फरवरी से 11 मई तक बहुत कम पुरुष अस्पताल में भर्ती हुए थे। हालांकि, इस दौरान हॉस्पिटल में होने वाली मौतों का आंकड़ा 3.1% बढ़ गया था।

दूसरी लहर में युवा सबसे ज्यादा संक्रमित हुए

स्टडी के मुताबिक, पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर में युवा सबसे ज्यादा संक्रमित हुए हैं। हालांकि, दोनों ही लहर में अस्पताल में भर्ती होने वाले 70% संक्रमितों की उम्र 40 से ज्यादा थी। यह स्टडी सिर्फ इसलिए की गई ताकि लोगों को पहली और दूसरी लहर के बीच अंतर समझ आ सके। यह सारा डेटा नेशनल क्लिनिकल रजिस्ट्री से लिया गया। इस स्टडी में देशभर के 41 अस्पतालों को शामिल किया गया।

इस स्टडी में पहली लहर का डेटा 1 सितंबर से 31 जनवरी 2020 तक का लिया गया। जबकि दूसरी लहर का डेटा 1 फरवरी से 11 मई 2021 तक के बीच का लिया गया।

रिसर्च में सामने आया

  • दूसरी लहर में सभी उम्र के लोगों की मौतों का आंकड़ा बढ़ा है, सिर्फ 20 साल से कम उम्र के लोगों को छोड़कर
  • दूसरी लहर में 20 साल से कम और 20-39 की उम्र के बीच के लोग सबसे ज्यादा अस्पताल में एडमिट हुए।
  • दोनों ही लहर में संक्रमितों में सामान्य लक्षण बुखार ही था।
  • दूसरी लहर में सांस की दिक्कत सबसे ज्यादा सामने आई। ऑक्सीजन और मैकेनिकल वेंटिलेशन की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ी।
  • दूसरी लहर में वे युवा सबसे ज्यादा संक्रमित हुए, जिन्हें पहले से कोई बीमारी थी।
error: Content is protected !!