• Tue. Sep 27th, 2022

टोक्यो ओलिंपिक में भारत का दम:साई प्रणीत 18 किमी दूर साइकिल से ट्रेनिंग करने जाते थे, 37 साल बाद वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज जीतकर रचा इतिहास

ByRameshwar Lal

Jun 26, 2021

37 साल बाद 2019 में बीसाई प्रणीत ने वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर इतिहास रचा था। प्रणीत से पहले प्रकाश पादुकोण ने 1983 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। प्रणीत सबसे बड़े टूर्नामेंट ओलिंपिक में अपना बेस्ट देना चाहते हैं। उनके अलावा बैडमिंटन में वुमन्स सिंगल्स में पीवी सिंधु भी टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं।

सिंधु रियो ओलिंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट हैं। इनके अलावा डबल्स में भारतीय जोड़ी सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी देश का प्रतिनिधित्व करेंगे।

प्रणीत ने कहा- यह मेरा पहला ओलिंपिक है। किसी भी खिलाड़ी के लिए यह सबसे बड़ा टूर्नामेंट होता है। मेरे लिए भी है। मैं अपना बेस्ट देना चाहता हूं। फिलहाल, मेरा पूरा फोकस फिटनेस पर है। स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) से ओलिंपिक की तैयारी के लिए हमें हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

18 किमी साइकिल चलाकर ट्रेनिंग के लिए जाते थे
प्रणीत का जन्म 10 अगस्त 1992 में हैदराबाद में हुआ था। उनके पिता प्राइवेट कंपनी में जॉब करते थे। प्रणीत रोजाना करीब 18 किमी साइकिल चलाकर ट्रेनिंग के लिए बैडमिंटन एकेडमी जाया करते थे। 4 घंटे ट्रेनिंग करने के बाद फिर वे स्कूल जाते थे। प्रणीत कहते हैं कि एकेडमी में आने के बाद उनके खेल को अलग दिशा मिली। वहां पर पूर्व खिलाड़ी गोपीचंद के मार्गदर्शन में उनके खेल में निखार आया।

प्रणीत कई ओलिंपिक मेडलिस्ट और वर्ल्ड चैंपियन को हरा चुके
प्रणीत ने 2013 की इंडोनेशिया सुपर प्रीमियर सीरीज में तौफीक हिदायत को 15-21, 21-12, 21-17 से हराकर तहलका मचा दिया था। 2004 एथेंस ओलिंपिक के गोल्ड मेडलिस्ट और इंडोनेशिया सुपर प्रीमियर सीरीज के 6 बार के विजेता तौफीक का यह फेयरवेल मैच था।