• Fri. Oct 7th, 2022

बोर्ड के छात्रों को प्रमोट करने के लिए कमेटी का गठन,जिला और ब्लॉक स्तर पर राजनीतिक नियुक्तियां अगले सप्ताह से-डोटासरा

ByRameshwar Lal

Jun 15, 2021


जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं.)। प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और प्रदेश के शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि प्रदेश में दसवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों को प्रमोट करने के लिए सरकार की ओर से एक कमेटी का गठन किया गया है यह कमेटी बहुत जल्दी ही सरकार को रिपोर्ट पेश करने वाली है कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर छात्रों को प्रमोट किया जाएगा उन्होंने कहा कि छात्रों को प्रमोट करने का विषय बड़ा मुश्किल है इसलिए सरकार ने कमेटी का गठन किया है कमेटी गंभीरता से विभिन्न नेताओ की स्टडी कर रही है उन्होंने कहा कि कमेटी की ओर से परसेंटेज का फार्मूला की तैयार किया जा रहा है, गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि प्रदेश में अगले सप्ताह से ब्लॉक और जिला स्तर पर राजनीतिक नियुक्तियों का सिलसिला शुरू हो जाएगा उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार एक सतत प्रक्रिया है और इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी हाईकमान काफी गंभीर है एक अन्य सवाल के जवाब में डोटासरा ने कहा कि जिस विधायक ने फोन टैपिंग की बात कही है वे खुद यह कह रहे हैं किउनका फोन टेप नहीं हुआ तो फिर जिसका फोन टेप हुआ है उसके नाम बताने चाहिए डोटासरा ने कहा कि अगर किसी का फोन टेप हुआ है तो इसकी शिकायत सरकार से करनी चाहिए सरकार 2 दिन में ही पूरे मामले की जांच कर आवश्यक कार्यवाही करेगी लेकिन इस तरह से आरोप लगाना ठीक नहीं है, डोटासरा ने एक अन्य सवाल के जवाब में बताया कि प्रदेश कांग्रेश एकजुट है, छोटे-मोटे विवाद कांग्रेस पार्टी में ही नहीं बल्कि सभी राजनीतिक पार्टियों में चलते रहते हैं परिवार में कई बातों को लेकर विवाद भी हो जाते हैं लेकिन परिवार के सदस्य आपस में बैठकर विवाद को सुलझा भी लेते हैं, डोटासरा ने कहा कि कोरोना की अवधि में राजस्थान सरकार ने शानदार काम किया है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अगुवाई में देश में जो कोरोना का प्रबंधन हुआ उसकी तारीफ देश और दुनिया में हुई लेकिन अफसोस इस बात का है कि प्रदेश के 25 सांसद प्रदेश की जनता के लिए कुछ नहीं कर पाए प्रदेश की जनता ने दिल खोलकर बीजेपी के सांसदों को वोट दिया लेकिन उन्होंने संकट की घड़ी में प्रदेश की जनता को अकेला छोड़ दिया प्रदेश को वैक्सीन ऑक्सीजन दवाइयां इत्यादि उपलब्ध करवाने के लिए सांसदों ने केंद्र सरकार से बातचीत तक नहीं की और केंद्र सरकार राजस्थान के साथ हर चीज में सौतेला व्यवहार करती रही लेकिन इसके बावजूद भी प्रदेश में कोरोना का मैनेजमेंट पूरे देश में सबसे बढिय़ा रहा जिसकी हर जगह तारीफ हुई।