• Tue. Sep 27th, 2022

राजस्थान के सियासी विवाद की दिल्ली तक गूंज:सचिन पायलट दिल्ली में रणनीति बनाने में जुटे, डोटासरा भी पहुंचे; आज वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात संभव

ByRameshwar Lal

Jun 12, 2021

पंजाब में उठे असंतोष पर तत्काल एक्शन लेने के बाद कांग्रेस हाईकमान पर अब राजस्थान में भी उसी तर्ज पर सचिन पायलट गुट की नाराजगी दूर करने का दबाव बनाया जा रहा है। राजस्थान के हालात को लेकर जयपुर से दिल्ली तक सियासी हलचल तेज हो गई है। कल शाम सचिन पायलट दिल्ली पहुंच चुके हैं। पायलट दिल्ली में आगे की रणनीति पर चर्चा कर रहे हैं। आज-कल में सचिन पायलट कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर सकते हैं। उधर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का खेमा भी लगातार पायलट ग्रुप पर निगाह रखे हुए हैं। दिल्ली एक बार फिर राजस्थान के सियासी विवाद का केंद्र बन गया है।

सचिन पायलट से कांग्रेस प्रभारी अजय माकन भी संपर्क में हैं। सचिन पायलट अब अपने 10 महीने पुराने मुद्दों पर तत्काल एक्शन की मांग कर रहे हैं, जिनमें उनके समर्थक विधायकों को मंत्री बनाने और राजनीतिक नियुक्तियों में भागीदारी के अलावा सरकार में काम करने में भी प्राथमिकता सहित कई मुद्दे शामिल हैं। पायलट गुट की शिकायत है कि गहलोत राज में उनके साथ ऐसा विपक्षी जैसा बर्ताव हो रहा है। सचिन पायलट खेमे की ताजा नाराजगी के बीच एक बार फिर दिल्ली में चर्चाएं तेज हैं। सचिन पायलट अपने शुभचिंतक कांग्रेस नेताओं से भी समर्थन जुटाकर अपने मुद्दों का हल करने की कवायद में जुट गए हैं।

पायलट के पीछे कांगेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी दिल्ली पहुंचे
सचिन पायलट के कल दिल्ली जाने के बाद आज सुबह कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी आज सुबह दिल्ली पहुंच गए हैं। डोटासरा ने कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और राजस्थान के सहप्रभारी रह चुके काजी निजामुद्दीन की मां के निधन पर संवेदना जताने के लिए आने की बात कही है। बताया जाता है कि डोटासरा प्रभारी अजय माकन से पूरे मसले पर चर्चा करेंगे।

पंजाब में विरोधी गुट की मांग पर तत्काल एक्शन को पायलट गुट ने मुद्दा बनाया
सचिन पायलट गुट की पिछले साल जुलाई में बगावत के बाद 11 अगस्त को बनाई गई सुलह कमेटी का फिलहाल कोई नतीजा नहीं निकला। पायलट गुट के विधायकों ने इसी को मुद्दा बनाया हुआ है। पायलट गुट के विधायक सवाल उठा रहे हैं कि जब पंजाब में 10 दिन में विरोधी धड़े को सुना जा सकता है, तो राजस्थान में 10 महीने बाद भी क्यों नहीं सुना जा रहा?

माकन का तर्क पंजाब की कमेटी की रिपोर्ट अभी इंप्लीमेंट नहीं
राजस्थान प्रभारी माकन पंजाब की कमेटी की रिपोर्ट लागू होने पर कल सवाल उठा चुके हैं। माकन से जब कल यह सवाल किया गया तो कहा-‘ क्या पंजाब की कमेटी की रिपोर्ट इंप्लीमेंट हो गई। माकन के इस तर्क को राजस्थान की कमेटी की ढिलाई को बचाने की कवायद बताया जा रहा है, दूसरी तरफ संकेत ये भी कि पंजाब की कमेटी का हश्र भी राजस्थान जैसा हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.