• Mon. Aug 8th, 2022

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायकों से बातचीत कर गुपचुप में मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड किया तैयार

ByRameshwar Lal

Jul 3, 2021

जयपुर टाइम्स
जयपुर (कासं.)। प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार की संभावना के चलते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस पार्टी के विधायकों से बातचीत कर राज्य मंत्रिमंडल के तमाम सदस्यों का रिपोर्ट कार्ड तैयार कर लिया है मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड के आधार पर ही अब मंत्रियों का आगामी भविष्य तैयार किया जाएगा रिपोर्ट कार्ड के आधार पर ही यह निर्णय लिया जाएगा कि किसे मंत्री पद से हटाना है या किसका विभाग बदलना है यह तमाम निर्णय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पार्टी हाईकमान से सलाह मशविरा करने के बाद ही तय करेंगे बताया गया है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस पार्टी के कई विधायकों से फोन से बातचीत करके मंत्रियों के कामकाज, कार्यशैली और बोलचाल व्यवहार के बारे में जानकारी हासिल की है विधायकों से विस्तार से बातचीत करने के बाद ही गहलोत ने मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया बताएं मंत्रिमंडल का विस्तार करने से पहले गहलोत पार्टी हाईकमान से भी बातचीत करेंगे उल्लेखनीय है कि नियम और कायदों के मुताबिक वर्तमान में राज्य सरकार सिर्फ 9 नए मंत्री बना सकती है क्योंकि नियम और कायदों के मुताबिक राज्य सरकार के लिए मंत्रियों की जो संख्या निर्धारित है उसमें मंत्रियों के 9 पद ही खाली हैं जबकि मंत्री पद हासिल करने के लिए एक तरफ जहां सचिन पायलट अपने समर्थक विधायकों को ज्यादा से ज्यादा मंत्री पद दिलाने के लिए जोरदार दबाव डाले हुए हैं तो दूसरी तरफ गत वर्ष संकट के समय सरकार का साथ देने वाले बसपा से कांग्रेस पार्टी में आए विधायक और कुछ निर्दलीय विधायक भी जोर शोर से मंत्री पद की दावेदारी कर रहे हैं सचिन पायलट अपने समर्थक आधा दर्जन विधायकों को मंत्री बनाना चाहते हैं इसलिए कांग्रेस हाईकमान और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समक्ष अब सबसे बड़ी समस्या यही आकर खड़ी हो गई है कि रिक्त पड़े मंत्रियों के 9 पद किस किसको दिए जाएं क्योंकि यहां एक अनार सौ बीमार वाली हालत पैदा हो गई है यही वजह है कि मंत्रिमंडल विस्तार की प्रक्रिया को दिनोंदिन आगे बढ़ाया जा रहा है जानकारों का कहना है कि हो सकता है मंत्रियों के रिक्त पद बढ़ाने के क्रम में उन मंत्रियों की छुट्टी कर दी जाए जिनका परफॉर्मेंस विगत ढाई साल में अच्छा नहीं रहा हो जिन का रिपोर्ट कार्ड खराब हो सकता है उनसे मंत्री पद छीना भी जा सकता है और नए लोगों को मौका दिया जा सकता है यही वजह है कि गहलोत ने मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड विधायकों से चर्चा करने के बाद तैयार किया बताएं सूत्रों के मुताबिक पार्टी हाईकमान और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर मंत्रिमंडल विस्तार करने का दबाव काफी आ गया है पार्टी हाईकमान भी चाहता है कि प्रदेश में अब मंत्रिमंडल का विस्तार कर देना चाहिए क्योंकि सरकार ने वर्तमान कार्यकाल में आधे से ज्यादा का सफर पूरा कर लिया है इसलिए सरकार के कामकाज को बेहतर ढंग से संपादित करने के लिए खाली पड़े मंत्रियों के पदों को भरना भी जरूरी है इसके अलावा अब सचिन पायलट को भी ज्यादा दिनों तक नाराज रखना पार्टी के हित के लिए ठीक नहीं होगा इसलिए मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर एक बार फिर से सरगर्मियां तेज हो गई है

error: Content is protected !!