• Tue. Sep 27th, 2022

सीएम हाउस में विधायकों का जमावड़ा, कई विधायकों ने गहलोत से वीसी के माध्यम से की मुलाकात

ByRameshwar Lal

Jun 16, 2021


जयपुर (कासं.)। प्रदेश में मंत्रिमंडल के विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों की प्रक्रिया जल्द शुरू होने की खबरों के बीच मुख्यमंत्री आवास पर इन दोनों विधायकों का जमावड़ा देखने को मिल रहा है विगत दो-तीन दिन से कई विधायक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात कर अपनी बात कह चुके हैं मुलाकात के दौरान करीब करीब सभी विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रति अपनी आस्था और समर्थन जताया है लेकिन साथ में यह भी सुनने को मिला है कि मुलाकात करने वाले विधायक राजनीतिक नियुक्तियों में अपने चहेतों कि लगे हाथ सिफारिश भी गहलोत से कर रहे हैं इसके अलावा मंत्रिमंडल में भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने की गहलोत से अपील की है जानकारी के अनुसार मंगलवार को भी कांग्रेस पार्टी के कई विधायकों ने मुख्यमंत्री आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अशोक गहलोत से मुलाकात की है पूर्व सांसद बद्री जाखड़ ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंगलवार को गहलोत से मुलाकात की इसके अलावा कांग्रेस पार्टी के विधायक गिर्राज मीणा, कांति मीणा, लक्ष्मण मीणा, खिलाड़ी लाल बेरवा ने भी मंगलवार को अशोक गहलोत से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम हाउस में मुलाकात की उल्लेखनीय है कि प्रदेश में राजनीतिक नियुक्तियों का दौर शुरू हो चुका है, सोमवार को जिस तरह से 33 नगर निकायों में बड़ी संख्या में पार्षदों का मनोनयन राज्य सरकार की ओर से किया गया और अब जिस तरह से डोटासरा ने अगले सप्ताह जिला और ब्लॉक स्तर पर राजनीतिक नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू होने की बात कही है उसे देखते हुए कांग्रेस पार्टी के विधायक अपने चहेतों को राजनीतिक नियुक्तियों का तोहफा दिलाने के लिए व्यक्तिगत रूप से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास जाकर उनसे सिफारिश कर रहे हैं मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों का जो जमावड़ा जमा हुआ है उसके पीछे कारण यही बताया जा रहा है कि विधायक राजनीतिक नियुक्तियों में अपने चहेतों की सिफारिश लेकर गहलोत के पास पहुंच रहे हैं बताया गया है चिकित्सकों की सलाह के आधार पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अभी व्यक्तिगत रूप से किसी से फेस टू फेस मुलाकात नहीं कर रहे हैं चाहे मंत्री हो या विधायक गहलोत सभी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत कर रहे हैं गहलोत ने खुद भी कहा है कि आगामी एक-दो महीना वे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ही बातचीत करेंगे और सभी तरह के सरकारी कामकाज निपटाएंगे।