• Fri. Oct 7th, 2022

राजगढ तहसील में बने तीन आरएएस, आरएएस बने गौरव पूनियां, प्रभा पूनियां व ओमर्प्रकाश श्योराण को दी बधाईयां

ByRameshwar Lal

Jul 15, 2021


जयपुर टाइम्स
सादुलपुर(निसं.)। राजस्थान लोक सेवा आयोग अजमेर द्वारा बीते रोज घोषित आरएएस परीक्षा परिणाम में हमीरवास गांव की 2 प्रतिभाओं सहित तहसील के गांव चुबकिया ताल निवासी एवं हाल पोस्टेड होस्टल वार्डन छात्रावास अधीक्षक समाज छात्रावास के दिव्यांग श्रवण बाधित कोटे से ओमप्रकाश श्योराण ने आरएएस में परचम लहराया है। वहीं हमीरवास निवासी वर्तमान में अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक जिला चूरू के पद पर कार्यरत रमेश चंद्र पूनिया के पुत्र गौरव पूनिया व पुत्री प्रभा पूनिया ने आरपीएससी 2018 में अपना चयन करवाकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया है। गौरव पूनिया का राजस्थान भर में 167 में स्थान पर एवं प्रभा पूनिया ने 316 स्थान पर अपना सिलेक्शन करवा कर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया है। वहीं ग्रामीण अंचल की इन तीनों प्रतिभाओं ने आरएएस में अपना चयन करवाकर न केवल गांव का अपितु राजगढ़ तहसील का नाम रोशन किया। वहीं गांव की इन तीनों प्रतिभाओं का आरपीएससी में चयन होने पर सभी परिवार जनों एवं ग्राम वासियों ने खुशियां मनाई और सभी ने इनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए उन्हें अपना आशीर्वाद दिया। गौरतलब है कि रमेश चंद्र पूनिया की छोटी बेटी प्रतिभा पूनियां का आरएएस परीक्षा 2016 में आठवीं रैंक पर चयन हो चुका है जो वर्तमान में फतेहपुर में एसडीएम के पद पर कार्यरत हैं। आर पी एस सी में सिलेक्टेड गौरव पूनिया ने अपनी सफलता का श्रेय अपनी माता कमला देवी को दिया जो कि वर्तमान में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय हमीरवास में अध्यापिका के पद पर कार्यरत है। इसी क्रम में आरएएस में चयन हुए चुबकिया ताल निवासी ओमप्रकाश पुत्र जगमाल सिंह श्योराण कस दिव्यांग श्रवण बाधित कोटे से आरएएस बने हैं तथा श्योराण पेड़-पौधे लगाने के शौकिन है तथा मिलनसार एवं हंसमुख स्वभाव के हैं एवं वहीं ग्रामीण पृष्ठभूमि के है। वहीं ओमप्रकाश श्योराण के आरएएस बनने पर दिव्यांग कार्मिक मनोज पूनियां, जंगवीर सिंह, गजराज सिंह राठौड़, सज्जन पूनियां, पवन व चक्रघर शर्मा आदि ने उन्हें बधाईयां दी है। गौरतलब है कि गौरव पूनियां एमए भूगोल से है तथा सबसे बड़ी बहन एवं आरएएस बनी प्रभा पूनियां बीडीएस में डेन्टल डॉक्टर है तथा शादी सुदा है एवं प्रभा पूनियां के पति भी बाल रोग विशेषज्ञ है, जो चिड़ावा सरकारी होस्पीटल में हैं। प्रभा पूनियां के दो बेटियां होने के बाद भी तैयारी कर आरएएस बनी हैं। एडीपीसी समसा चूरू एवं जिला शिक्षा अधिकारी रमेश चन्द्र पूनियां की बड़ी बेटी है प्रभा पूनियां तथा प्रतिभा पूनियां बीच की है तथा फतेहपुर में एसडीएम के पद पर कार्यरत है। गौरव पूनियां सबसे छोटा है तथा गौरव पूनियां की रैंक 167वीं है। तथा प्रभा की आरएएस में 316वीं रैंक है। गौरव पूनियां ने हार्ड वर्क, समर्पण तथा सुनियोजित व्यूह रचानाकर बनाकर पढने की प्रेरणा युवाओं को दी है। पिता का गाईडेन्स व सपाना था तथा माता का त्याग व मेहनत, माता कमला देवी टीचर है। गौरव की खेल व साहित्य पढने में रूची है तथा विशेषकर कविताएं एवं उनके पिता रमेश चन्द्र पूनियां एडीपीसी चूरू हैं।