• Tue. Sep 27th, 2022

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम जयपुर में बनेगा

ByRameshwar Lal

Jul 3, 2021

मोटेरा के बाद देश का यह दूसरा बड़ा स्टेडियम होगा

गुजरात के अहमदाबाद में बने मोटेरा स्टेडियम के बाद अब राजस्थान क्रिकेट अकादमी (RCA) जयपुर में बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम बनाने जा रहा है। इस स्टेडियम के लिए जयपुर विकास प्राधिकरण (JDA) ने आज 40 हेक्टेयर जमीन आरसीए के नाम की है, जिसकी लीज डीड शुक्रवार को RCA अध्यक्ष वैभव गहलोत को JDA के कमिश्नर गौरव गाेयल ने सौंपी।

जयपुर शहर से करीब 30 K.M. दूर जयपुर-दिल्ली बाईपास पर चौंप में यह जमीन दी गई है। इस जमीन पर आरसीए इसी साल स्टेडियम बनाने की प्रक्रिया शुरू करने की योजना बना रहा है। स्टेडियम की डिजाइन का एक ड्राफ्ट भी आरसीए ने तैयार किया है। गहलोत ने बताया कि इस पूरे प्रोजेक्ट पर आरसीएस 300 करोड़ रुपए खर्च करके स्टेडियम और अन्य दूसरी सुविधाएं विकसित करेगा।

अहमदाबाद की क्षमता 1 लाख

अहमदाबाद में बना मोटेरा स्टेडियम की दर्शक क्षमता 1 लाख 10 हजार है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) की क्षमता एक लाख दर्शक है। ऐसे में मोटेरा दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम है। जयपुर में अगर ये स्टेडियम बनता है तो यह देश का दूसरा और दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम बन जाएगा।

एक क्रिकेट एकेडमी और दो प्रैक्टिस ग्राउंड भी बनेंगे

आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत ने बताया कि हम इस अन्तर्राष्ट्रीय स्टेडियम के प्रोजेक्ट का काम ढाई से तीन साल में पूरा करने का लक्ष्य है। यह देश का दूसरा एवं विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम होगा। इसमें 75 हजार दर्शकों के बैठने की क्षमता विकसित की जाएगी। स्टेडियम का निर्माण 2 फेज में कराया जाएगा। इस स्टेडियम में 11 क्रिकेट पिच, 2 प्रैक्टिस ग्राउंड, एक क्रिकेट एकेडमी के अलावा हॉस्टल, पार्किंग, स्पोट्‌र्स क्लब, होटल और जिम की आदि सुविधाएं होंगी, जो इंटरनेशनल लेवल की होगी।

9 साल से अटका है जमीन का मामला

जयपुर में आरसीए को जमीन देने का मामला पिछले 9 साल से अटका पड़ा था। अशोक गहलोत जब साल 2008-13 तक मुख्यमंत्री थे। तब यह जमीन देने की प्रक्रिया शुरू हुई थी। साल 2014 में जमीन का अलॉटमेंट भी हो गया था, लेकिन बाद में आरसीए में विवाद होने के बाद जमीन का अलॉटमेंट कैंसिल हो गया था। इसके बाद जब आरसीए में वैभव गहलोत अध्यक्ष बने। तब वापस जमीन लेने का प्रोसेस शुरू किया। आखिरकार आज जमीन अलॉट हो गई। यह जमीन डीएलसी रेट की 30 प्रतिशत कॉस्ट पर दी गई है।