• Tue. Aug 9th, 2022

राजस्थान-सरकार सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय,सीकर

ByKhushbu Jain

Jul 10, 2021

सरकार द्वारा प्रायोजित योजनाओं में जरूरतमंद लोगों को ऋण सहायता उपलब्ध करायें – जिला कलेक्टरजिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक आयोजितवार्षिक साख योजना 2021-22 का किया विमोचन सीकर 9 जुलाई। जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय बैंकर्स समन्वय समिति की बैठक शुक्रवार को आयोजित की गई। जिला कलेक्टर ने बैठक में बैंकर्स को निर्देशित किया कि सरकार द्वारा प्रायोजित योजनाओं में जरूरतमंद लोगों को ऋण सहायता उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि बैंकों एवं सम्बन्धित सरकारी विभागों को आपस में बेहतर तालमेल बनाकर अधिक से अधिक जरूरतमंद लोगों को ऋण उपलब्ध करवायें ताकि वे अपना स्वरोजगार स्थापित कर समाज की मुख्यधारा से जुड़ सके।जिला कलेक्टर चतुर्वेदी ने बैंकिंग अधिकारियों से कहा कि लोगों को योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ मिले इसके लिए बैंक कर्मी समर्पित भाव से समन्वय के साथ कार्य करें। उन्होंने कहा कि बैंककर्मी विभिन्न योजनाओं के माध्यम से समय पर ऋ़ण स्वीकृत कर किसानों, पशुपालकों एवं युवा उद्यमियों के जीवन मेंं खुशहाली लाने का माध्यम बन सकते है। जिला कलेक्टर ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के लिए जिले में संचालित रथों के माध्यम से करने के साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए भी आमजन को मास्क का उपयोग करने, सामाजिक दूरी बनाये रखने के संबंध में जागरूक किये जाने के निर्देश दिये। बैठक में एम एल मीना, सहायक महाप्रबंधक, नाबार्ड ने र्वाषिक ऋण योजना 2020-21 की बैंक वार समीक्षा करते बताया कि जिले के विकास में सभी बैंक अपना योगदान पूर्णरूप से नहीं कर रहे हैं, जिसके लिए उन्हें उन्हें विशेष प्रयास करने होंगे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि जिले में प्राथमिकता क्षेत्र के अन्तर्गत सभी बैंकों द्वारा पशुपालन केसीसी, निर्यात शिक्षा, नवीकरणीय ऊर्जा, सामाजिक आधारभूत ढांचा, आदि क्षेत्रों में ऋण देने के लिए अभी तक विशेष प्रयास नहीं किये गए हैं, जिस पर ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि 31 मार्च 2021 की वित्तीय स्थिति में आठ सरकारी बैंकों यथा बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इण्डियन ओवरसीज बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया व यूको बैंक का ऋण जमा अनुपात 60 प्रतिशत से कम पाया गया, जो एक चिंता का विषय है क्योंकि सीकर जिले में सभी बैंकों का ऋण जमा अनुपात लगभग 84 प्रतिशत है। उन्होंने सभी बैंकों से कहा कि जिले में कृषि क्षेत्र विशेषकर किसान क्रेडिट कार्ड, कृषि आधारभूत ढांचा एवं कृषि से जुड़ी हुई संबंधित गतिविधियों जैसे पशुपालन, मूर्गीपालन, बकरी पालन, ज्यादा से ज्यादा ऋण देने की संभावनाएं हैं, इसलिए सभी बैंक इन क्षेत्रों में ज्यादा से ऋण देने का प्रयास करें ताकि किसानों की आय में बढ़ोतरी हो सकें। एम एल मीणा ने सभी बैंकों से केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार की विभिन्न लाभकारी योजनाओं जैसे राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड, मुद्रा, स्टैंड अप इंडिया, राजस्थान कृषि प्रसंस्करण योजना, इंदिरा महिला उद्यमी प्रोत्साहन योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना, आदि के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को विशेषकर गरीब, लघु व सीमांत किसानों और महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा लाभान्वित करें और जिले के विकास में अपनी भागीदारी दें। उन्होंने संभाव्यता युक्त ऋण योजना (पीएलपी) 2022-23 के संबंध में भी सभी बैंकों एवं सरकारी विभागों से विस्तार से चर्चा की साथ ही उन्होंने वित्तीय समावेशन निधि (एफआईएफ) से नार्बाड द्वारा बैंको को दी जाने वाली विभिन्न प्रकार की अनुदान सहायता के बारे में भी विस्तार से बताया।अग्रणी जिला प्रबंधक ताराचंद परिहार ने बैठक कार्यवाही विवरण प्रस्तुत करते हुए बैंकर्स से कहा कि वे वित्तिय साक्षरता के संबंध में बैंकों के आधारभूत उत्पादों की जानकारी ग्रामीणों को देवें। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना हैं जिसमें उद्यमियों को 10 करोड़ रूपये तक का ऋण मुहया करवाया जाता है। सभी बैकर्स योजना के क्रियान्वयन में प्राप्त आवेदनों को समयबद्धता के साथ ऋण स्वीकृत करवायें । उन्होंने बैंकर्स से स्टैण्ड अप इंडिया एवं मुद्रा योजना का डाटा प्रेषित करने,डेयरी किसान कार्ड, किसान के्रडिट कार्ड, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना एवं एनआरएलएम के लक्ष्यों को समय पर अर्जित करने के निर्देश दिये। पुस्तिका का विमोचन ः- जिला बैंकिंग समन्वय समिति की बैठक के दौरान पंजाब नेशनल बैंक द्वारा प्रकाशित वार्षिक साख योजना 2021-22 का विमोचन जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी, सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी पूरणमल, जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक डी.के शर्मा, डीडीएम नाबार्ड एम.एल मीना, एससी गर्ग क्षेत्रिय प्रबंधक बीआरकेजी ने किया । जिला कलेक्टर ने पुस्तक की सराहना करते हुए पुस्तक में दिए गए विवरण एवं योजनाओं से युवाओं को लाभांवित करने के निर्देश दिए। बैठक में जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक डी.के शर्मा, सहायक निदेशक उद्योग मंजुल लुहानी, प्रबंध निदेशक सी.सी बी, बैंक ऑफ बड़ोदा प्रबंधक के के.के वर्मा सहित विभिन्न बैंकों के प्रतिनिधियों, जिला समन्वयकों, विभागीय अधिकारियों ने हिस्सा लिया। —————————-

error: Content is protected !!